Full Site Search  
Mon Feb 27, 2017 14:39:39 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Filters:
Blog Posts by uks1955
Page#    724 Blog Entries  next>>
  
General Travel
0 Followers
131 views
Feb 22 2017 (05:46)  

uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Entry# 2173692            Tags   Past Edits
Can I carry 2 bottles of duty free wine from Delhi to Moradabad in 12040
  
Rail News
0 Followers
1031 views
Other News
Jan 30 2017 (18:25)   भारत में चलेगी ये ख़ास टैल्गो ट्रेन, दिल्ली-मुंबई पहुंचे 12 घंटे में

Jayashree ❖ Amita*^   35478 news posts
Entry# 2146147   News Entry# 292599         Tags   Past Edits
रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने सोमवार को कहा कि भारत की जरूरतों के अनुसार टैल्गो ट्रेनों में स्लीपर बर्थ लगाकर इन्हें चलाया जाएगा। 2016 में दिल्ली और मुंबई के बीच टैल्गो ट्रेनों का सफल परीक्षण किया जा चुका है। मनोज सिन्हा ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि इस ट्रेन को बनाने वाली स्पेन की कंपनी टैल्गो से कहा गया है कि वह स्थानीय जरूरतों के हिसाब से इनमें स्लीपर बर्थ लगाए। टैल्गो इस पर सहमत हो गई है।
रेल राज्य मंत्री ने बताया कि टैल्गो का परिचालन सबसे पहले दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता मार्गों पर शुरू किया जा सकता है। इससे दोनों रूटों पर यात्रा का समय घटकर 12 घंटे से भी कम रह जाएगा। पिछले साल हुए
...
more...
ट्रायल में यह ट्रेन 12 घंटे से कम समय में दिल्ली से मुंबई पहुंच गई थी। उस दौरान उसकी गति 130 किलोमीटर प्रतिघंटा रही थी।
उन्होंने कहा कि इस ट्रेन के संचालन के लिए 'हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन' का गठन किया गया है। कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक (सीएमडी) पद के लिए साक्षात्कार किए जा चुके हैं। जल्द ही सीएमडी के नाम की घोषणा की जाएगी।

9 posts are hidden.

  
1212 views
Jan 30 2017 (22:21)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2146147-10            Tags   Past Edits
Still dreaming , no doubt no restrictions for dreams but while in India 40 % of population still shits on railway tracks how is it possible . Watching towards new railway where nobody will be booked for ticket less .

4 posts are hidden.
  
General Travel
0 Followers
215 views
Jan 30 2017 (22:14)  

uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Entry# 2146210            Tags   Past Edits
Where are my imaginary train / dream trains
Not putting anything on forum.

  
211 views
Jan 30 2017 (22:20)
█▓▒░ Tushar Dhingra ░▒▓█^~   1609 blog posts   949 correct pred (69% accurate)
Re# 2146210-1            Tags   Past Edits
There is separate forum for imaginary trains
  
Rail News
0 Followers
939 views
IR Affairs
Jan 24 2017 (19:35)   ट्रेनों से हटेगी पैंट्री कार, कौन करेगा खाना सप्लाई, जानें

Saurabh   3032 news posts
Entry# 2138880   News Entry# 292135         Tags   Past Edits
केस 1: डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस (12436) से सफर कर रहे लखनऊ निवासी अनुराग उपाध्याय ने ट्रेन में घटिया खाने की शिकायत दर्ज कराई। बताया कि पानी जैसी दाल, सूखे व कड़े चावल और पापड़ जैसी रोटियां जो छूते ही टूट जाती हैं, खाने में दी गईं। उन्होंने इसकी फोटो रेलमंत्री को ट्वीट कर दी।
केस 2: लखनऊ से दिल्ली जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस (12003) में यात्रा करने वाले आर्किटेक्ट एसकेशर्मा ने नाश्ते में कीड़ा निकलने की शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने डीआरएम को लिखा कि लग्जरी ट्रेन होने के बावजूद शताब्दी में यात्रियों को गुणवत्तापूर्ण खाना नहीं परोसा जा रहा है।
राजधानी
...
more...
और शताब्दी एक्सप्रेस के ये दो मामले तो महज उदाहरण हैं। ट्रेनों में परोसे जाने वाले खाने की गुणवत्ता पर आए दिन सवाल उठते हैं। इन शिकायतों पर विराम लगाने व यात्रियों को शुद्ध खाना परोसने के लिए ट्रेनों से पैंट्री कार हटाने का फैसला किया गया है।
अब ट्रेनों में खाना सप्लाई करने की जिम्मेदारी भारतीय रेलवे खानपान व पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) को दी जाएगी। इसका खाका तैयार किया जा रहा है। खास बात यह कि खाने की गुणवत्ता रेलवे नहीं, बल्कि बाहरी एजेंसी जांचेगी।
ट्रेनों में खानपान के लिए नई कैटरिंग पॉलिसी बनाई गई है, जिसमें यात्रियों का खास ध्यान रखा गया है। नई योजना में आईआरसीटीसी को पूरी तरह से कैटरिंग का काम सौंपा गया है।
जबकि अभी रेलवे की ओर से ट्रेनों में कैटरिंग की व्यवस्था ठेकेदार संभालते हैं। आईआरसीटीसी के अधिकारियों ने बताया कि पैंट्री कार में खाना बनाने के बजाय बेस किचन बनाए जाएंगे।
--रेन में होगी खाना गर्म करने की व्यवस्था--
ये स्टेशन या उसके इर्दगिर्द ही होंगे। इस किचन में खाने के पैकेट बनाकर यात्रियों को दिए जाएंगे। इसे गर्म करने की व्यवस्था ट्रेन में होगी। मसलन, लखनऊ से दिल्ली के सफर में अगर यात्रियों को टूंडला में खाना परोसा जाना है तो वहां बेस किचन बनाया जाएगा।
आईआरसीटीसी सर्किल में झांसी से लेकर छपरा तक करीब ढाई सौ स्टेशन पड़ते हैं। इसमें से तकरीबन 40 से अधिक स्टेशनों पर बेस किचन तैयार किए जाएंगे। खास बात यह कि यात्रियों केलिए खाना पकाने का जिम्मा एक ठेकेदार संभालेगा तो डिस्ट्रीब्यूशन का काम दूसरी एजेंसी करेगी।
ऐसे में शिकायतों पर कार्रवाई करना आसान हो जाएगा। जबकि अभी ठोस कार्रवाई करने पर पैंट्री कार ठप पड़ने की आशंका रहती है। स्टेशन के आसपास बेस किचन में खाना बनेगा और इसकी क्वालिटी रेलवे नहीं, बल्कि बाहरी एजेंसी जांचेगी।
​हालांकि, अभी जो ड्राफ्ट तैयार किया गया है, उसके अनुसार रेलवे बोर्ड सदस्य, जोनल व डिवीजन स्तर पर जांच की बात कही जा रही है। पर, इसमें फेरबदल किया जा रहा है। इस बाबत अंतिम निर्णय होना बाकी है।
जिन ठेकेदारों को पैंट्री कार आवंटित की जाती है, वे अधिक मुनाफा कमाने के फेर में कम से कम स्टाफ में काम चलाने का प्रयास करते हैं। इसका सीधा असर खाने की गुणवत्ता पर पड़ता है।
मसलन, यदि ट्रेन में 1,000 या 12,00 यात्री हैं तो खाना बनाने व परोसने के लिए केवल 15 से 20 लोगों का स्टाफ रखा जाता है। इससे ट्रेन में खाना बनाने का काम लगातार चलता रहता है और गुणवत्ता प्रभावित होती है।
--अधिक दाम लेने पर होगी कार्रवाई--
ट्रेनों में जहां खाने की खराब गुणवत्ता यात्रियों केलिए मुसीबत बनी हुई है, वहीं चाय-बिस्कुट से लेकर खाने का अधिक दाम वसूलना एक बड़ी समस्या है। नई कैटरिंग पॉलिसी में इससे निपटने के इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं।
लेकिन अधिकारियों की मानें तो अधिक कीमत की शिकायत मिलने पर जिस एजेंसी को ट्रेनों में सप्लाई का ठेका दिया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
‘ट्रेनों में पैंट्री कार हटाई जा रही है। कैटरिंग की पूरी जिम्मेदारी अब आईआरसीटीसी को दी जाएगी। इसमें दो स्तर पर काम होगा। पहला, बेस किचन तैयार करवाए जाएंगे, जहां यात्रियों के लिए खाना पकाया जाएगा। इसका ठेका एक एजेंसी को मिलेगा। दूसरा, ट्रेनों में खाने के पैकेटों की सप्लाई का काम दूसरी एजेंसी को दिया जाएगा। गुणवत्ता की जांच बाहरी एजेंसी करेगी। इस पर अंतिम निर्णय होना बाकी है।’ -अश्विनी श्रीवास्तव, मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक आईआरसीटीसी

4 posts are hidden.

  
969 views
Jan 24 2017 (20:46)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2138880-5            Tags   Past Edits
राजधानी वाला स्टाफ़ तो शराब बेचने और सीटें बँटवाने में बिजी रहता है

2 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1740 views
New/Special TrainsNR/Northern  -  
Jan 18 2017 (12:08)   प्लेन से तेज चलती है ये ट्रेन, 70 मिनट में पहुंचेगी मुंबई से दिल्ली

☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆   5027 news posts
Entry# 2131230   News Entry# 291519         Tags   Past Edits
फिलहाल दिल्ली से मुंबई प्लेन से सफर करने में लगभग दो घंटे का समय लगता है। वहीं ट्रेन से सफर करने पर 15 घंटे से अधिक का समय लगता है। लेकिन आने वाले समय में दिल्ली से मुंबई तक का सफर आप मात्र 70 मिनट में पूरा करेंगे। ये कोई गप्प नहीं बल्कि हकीकत है। भारत सरकार दिल्ली, मुंबई समेत 6 शहरों के बीच हाइपरलूप ट्रेन चलाने का विचार रही है।
हाइपरलूप ट्रांसपोर्टेशन टेक्नोलॉजी ने भारत के सामने एक हायपर लूप ट्रेन का प्रस्ताव रखा है। अमेरिकी कंपनी हाइपरलूप वन के चेयरमैन एलन मस्क ने भारत सरकार को प्रस्ताव दिया है कि चेन्नई से बेंगलुरू के बीच ट्रैवल पॉड्स के जरिए 1200 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से लोग
...
more...
यात्रा कर सकेंगे।
हाल ही में कंपनी ने भारत में यह सुविधा शुरू करने में रुचि दिखाई है। अगर केंद्र सरकार इसकी मंजूरी देती है तो फ्यूचर में 6 शहरों के बीच ये ट्रेन दौड़ेगी। हाइपर लूप ट्रेन चेन्‍नई से बेंगलुरू, चेन्‍नई से मुंबई, पुणे से मुंबई, बेंगलुरू से तिरुवनंतपुरम तथा मुंबई से दिल्‍ली बीच चलाई जाएगी।
हाइपरलूप वन के सीईओ बिपॉप ग्रेस्टा इस संबंध में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मिले थे और भारत में एक पायलट परियोजना स्थापित करने का औपचारिक प्रस्ताव रखा था।
प्लेन से भी तेज चलने वाली यह ट्रेन 'हाइपरलूप ट्यूब' के भीतर कम दबाव वाले क्षेत्र में चलेगी। इस ट्रेन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह बुलेट ट्रेन से दोगुनी रफ्तार से चलेगी। यह ट्रेन चुंबकीय तकनीक से लैस ट्रैक पर चलेगी। यह ट्रेन वैक्यूम ट्यूब सिस्टम से गुजरने वाली कैप्सूल जैसी हाइपरलूप 750 मील (1224 किलोमीटर) प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है।

11 posts are hidden.

  
843 views
Jan 18 2017 (21:13)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2131230-12            Tags   Past Edits
अब और कितना मूर्ख बनाओगे ? एक भी स्कीम लागू नहीं ख़ाली हवाबाज़ी है , सुनने में अच्छा लगता है पर ज़मीनी हक़ीक़त कुछ और ही है ।

2 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1659 views
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  
Jan 03 2017 (19:02)   कानपुर में ट्रेन पलटने से बची,’ रेलमार्ग की ओएचई सप्लाई बंद करा ठप किया संचालन,‘रेल हादसों के लिए जीएम और डीआरएम जिम्मेदार’

☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆   5027 news posts
Entry# 2115025   News Entry# 290406         Tags   Past Edits
कानपुर में ट्रेन पलटने से बची
परेशानी
’ पांच सौ मीटर पहले एकाएक खड़ी हुई हावड़ा राजधानी, 39 ट्रेनें फंसी
‘रेल हादसों के लिए जीएम और डीआरएम जिम्मेदार’
नई दिल्ली ’ विशेष संवाददाता
नए
...
more...
संरक्षा उपकरणों की खरीद
रेलमंत्री ने कहा, 70 फीसदी हादसे मानवीय चूक से होते हैं, मानवीय निर्भरता कम करने के लिए आधुनिक तकनीक के उपकरण खरीदे जाएंगे।
ट्रेनों की टक्कर रोकने वाली त्रिनेत्र, टीकैस जैसी तकनीक का सफल परीक्षण हो चुका है। दिल्ली-हावड़ा रूट पर तकनीक लगाने का काम जल्द शुरू होगा।
कानपुर ’ प्रमुख संवाददातारूरा रेल खंड में सोमवार सुबह फिर बड़ा हादसा टल गया। सियादहह-अजमेर एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने के स्थान के पास ही चटकी पटरी से हावड़ा-दिल्ली एक्सप्रेस गुजर गई। एएसएम को पटरी टूटी होने की जानकारी मिली तो अप-डाउन लाइन की ओवर हेड इलेक्ट्रिक (ओएचई) सप्लाई बंद करा दी। इसकी वजह से टूटी पटरी से पांच सौ मीटर पहले दिल्ली जा रही 12305 हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस खड़ी हो गई। अचानक ट्रेन के पहिए थमने से यात्री दहशत में आ गए। वहीं, ओएचई सप्लाई बंद होने से 39 ट्रेनें जहां-तहां खड़ी हो गईं। अवध, महानंदा जैसी सुपरफास्ट ट्रेनें झीझक में रुक गईं। करीब लगभग डेढ़ घंटे बाद ट्रैक को दुरुस्त कर ट्रेनों का संचालन शुरू कराया गया। रेलवे अफसरों ने बताया कि मौसम की वजह से बार-बार पटरियां चटक रही हैं। इसके लिए लगातार पेट्रोलिंग कराई जा रही है। अभी तो रूरा स्टेशन के सेक्शन में 10 और 20 किलोमीटर प्रति घंटे का कॉशन लगा हुआ है। वैसे पटरी टूटने के मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं। पटरी टूटने के स्थान से हावड़ा-दिल्ली एक्सप्रेस गुजर जाने से गैप काफी बढ़ गया था। यदि 500 मीटर पहले ओएचई बंद होने से दिल्ली जाने वाली हावड़ा राजधानी गुजरती तो हादसा तय था।
नई दिल्ली । विशेष संवाददातारेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि रेल फ्रैर से होने वाल ट्रेन दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए निगरानी तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। रेल हादसे के लिए जनरल मैनेजर (जीएम) और डिविजन रेलवे मैनेजर (डीआरएम) को जवाबदेह बनाया जाएगा। इसके अलावा रोलिंग स्टॉक, नए ट्रैक, आधुनिक तकनीक की मदद से ट्रेन के सफर को सुरक्षित बनाया जाएगा। सुरेश प्रभु ने एक अनौपचारिक मुलाकात में पत्रकारों को बताया कि रेल संरक्षा को मजबूत किया जा रहा है। कानपुर ट्रेन हादसे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि रेल फ्रैर से होने वाले हादसों को रोका जाता सकता है। इसके लिए रेलवे ट्रैक की निगरानी और रख रखाव तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। गैंगमैन के सहारे इस काम को नहीं छोड़ जाता सकता है। नए संरक्षा उपकरणों की खरीदरेलमंत्री ने कहा, 70 फीसदी हादसे मानवीय चूक से होते हैं, मानवीय निर्भरता कम करने के लिए आधुनिक तकनीक के उपकरण खरीदे जाएंगे। ट्रेनों की टक्कर रोकने वाली त्रिनेत्र, टीकैस जैसी तकनीक का सफल परीक्षण हो चुका है। दिल्ली-हावड़ा रूट पर तकनीक लगाने का काम जल्द शुरू होगा।
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि रेल फ्रैर से होने वाल ट्रेन दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए निगरानी तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। रेल हादसे के लिए जनरल मैनेजर (जीएम) और डिविजन रेलवे मैनेजर (डीआरएम) को जवाबदेह बनाया जाएगा। इसके अलावा रोलिंग स्टॉक, नए ट्रैक, आधुनिक तकनीक की मदद से ट्रेन के सफर को सुरक्षित बनाया जाएगा। सुरेश प्रभु ने एक अनौपचारिक मुलाकात में पत्रकारों को बताया कि रेल संरक्षा को मजबूत किया जा रहा है। कानपुर ट्रेन हादसे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि रेल फ्रैर से होने वाले हादसों को रोका जाता सकता है। इसके लिए रेलवे ट्रैक की निगरानी और रख रखाव तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। गैंगमैन के सहारे इस काम को नहीं छोड़ जाता सकता है।

1 posts are hidden.

  
1005 views
Jan 03 2017 (19:17)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2115025-2            Tags   Past Edits
NCR people are very much proudy about this line .

21 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1284 views
Major Accidents/DisruptionsCR/Central  -  
Dec 28 2016 (13:42)   2 wheels of a goods wagon derailed at Roha at 1207 hrs on Panvel-Roha section. Rerailment work started. Inconvenience is regretted
Entry# 2108170   News Entry# 289838         Tags   Past Edits
2 wheels of a goods wagon derailed at Roha at 1207 hrs on Panvel-Roha section. Rerailment work started. Inconvenience is regretted

9 posts are hidden.

  
1699 views
Dec 28 2016 (15:55)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2108170-11            Tags   Past Edits
जब अयोग्य और रिश्वत की बदौलत आया स्टाफ़ रहेगा तो यही होगा ।

4 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
1706 views
Other NewsNR/Northern  -  
Dec 21 2016 (09:03)   मुरादाबाद रेल मंडल में बंद होंगे डीजल इंजन

shuk RAILWAY is my first crush   137 news posts
Entry# 2098844   News Entry# 289246         Tags   Past Edits
मुरादाबाद : मुरादाबाद रेल मंडल को डीजल इंजन लेस करने के लिए बोर्ड ने रेल मंत्रलय को अंतिम स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेजा है। इसकी स्वीकृति मिलने के बाद पांच वर्ष के अंतराल में मंडल के ट्रैक पर इलेक्टिक इंजन से सभी ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। मुरादाबाद रेल मंडल में लखनऊ-सहारनपुर, रोजा-सीतापुर और लक्सर-देहरादून रेल मार्ग पर इलेक्टिक इंजन से ट्रेनों का संचालन हो रहा है। बजट में मुरादाबाद-अलीगढ़, चन्दौसी-बरेली और गजरौला-बिजनौर-मोअज्जमपुर मार्ग पर विद्युतीकरण की स्वीकृति मिल चुकी है। हालांकि यह कार्य प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल तक के तहत किया जाएगा। मंडल रेल प्रशासन ने पूरे मंडल के विद्युतीकरण का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा था।

  
862 views
Dec 21 2016 (17:04)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2098844-1            Tags   Past Edits
Good news and good luck for future.

6 posts are hidden.
  
General Travel
0 Followers
461 views
Nov 02 2016 (05:58)  
 

uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Entry# 2044898            Tags   Past Edits
रेलवे की सुविधा express सत्तर प्रतिशत फ़ेल है , कारण यह है कि लोग चिल्लाते हैं कि सारी मुख्य गाड़ियों में सीट नही मिली , लेकिन जैसे ही बीस या तीस प्रतिशत पैसे ज़्यादा देने की बात आती है तब लोग पीछे हट जाते हैं । रेल वालों को किसी ने idea दिया कि राजधानी और शताब्दी पर डायनामिक fare लगा दो और नतीजा डोनो फ़ेल । अब कुछ नए विचार ढूँढो । रेल मंत्रालय के लोगों जिससे रेल पटरी से न उतरे । त्योहार का सीज़न भी बीत गया । घाटा वहीं का वहीं है।
  
रेलवे की फ्लेक्सी फेयर स्कीम पूरी तरह फ्लॉप साबित हुई है। शुरुआती दिनों में रेलवे को इसकी कामयाबी का भ्रम हुआ था। लेकिन जैसे-जैसे दिन बीते यात्रियों ने इस महंगे व जटिल विकल्प के बजाय दूसरी ट्रेनों और उड़ानों पर दांव लगाना शुरू कर दिया। फलस्वरूप बाद में इस योजना की कई ट्रेनें खाली चलने लगीं। ऐसे में स्कीम से 500 करोड़ की अतिरिक्त कमाई का रेलवे का मंसूबा पूरा होगा, इसमें संदेह है।1घटती आमदनी की त्योहारों के दौरान भरपायी के लिए रेलवे ने नौ सितंबर को फ्लेक्सी फेयर स्कीम लांच की थी। इसके तहत राजधानी, दूरंतो और शताब्दी ट्रेनों में हर 10 फीसद बुकिंग पर किराये में 10 फीसद वृद्धि के साथ अधिकतम डेढ़ गुना किराया लागू कर दिया गया था। तब इस पर सवाल उठा था। परंतु रेलवे बोर्ड ने इन्हें यह कहकर खारिज कर दिया था कि पहले दो दिनों में ही स्कीम से डेढ़ करोड़ रुपये से...
more...
अधिक की अतिरिक्त कमाई हुई है। 1तबसे डेढ़ महीना बीत चुका है। मगर रेलवे बोर्ड यह बताने से कतरा रहा है कि पहले एक महीने में स्कीम से कुल कितनी कमाई हुई है। बहाना होता है कि अभी आंकड़े तैयार हो रहे हैं। जबकि हकीकत यह है कि रेलवे में आंकड़े रोजाना अपडेट होते हैं। हर 10 दिन का ब्योरा सार्वजनिक किया जाता है। परंतु अफसर त्योहारी मांग के चुनिंदा 20 दिनों में घटते आंकड़ों के बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं।बहरहाल, सितंबर तथा अक्टूबर के 10 दिनों के आंकड़े हकीकत को बयान कर रहे हैं। इनसे पता चलता है कि यात्री और माल यातायात-दोनों मोर्चो पर रेलवे की हालत खस्ता है। खासकर यात्री मोर्चे पर हालात बेहद चिंताजनक हैं। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अक्टूबर के पहले 10 दिनों में यात्रियों की कुल संख्या 23.34 करोड़ से घटकर 21.87 करोड़ रह गई है। यात्रियों से होने वाली आमदनी 1220.44 करोड़ रुपये से घटकर 1179.68 करोड़ रुपये रह गई है। 1आमदनी में यह कमी खासकर लंबी दूरी की ट्रेनों और उनमें भी फस्र्ट और सेकंड एसी की बुकिंग घटने के कारण हुई है। उक्त 10 दिनों में लंबी दूरी की ट्रेनों से आमदनी में 7.48 फीसद, जबकि फस्र्ट और सेकंड एसी से आमदनी में क्रमश: 18.18 फीसद और 16.04 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है।

3 posts are hidden.

  
850 views
Oct 29 2016 (16:58)
uks1955   1113 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2038758-4            Tags   Past Edits
रेलवे के बुद्धिजीवियों की मूर्खता का एक बड़ा नमूना है यह फलेक्सी स्कीम । मैंने पिछले महीने ही कहा था कि ये लोग रेल से उसके पैसेंजर को दूर कर देंगे ।

  
757 views
Oct 29 2016 (18:05)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 2038758-5            Tags   Past Edits
Sabhi log iske (Flexi,Suvidha etc etc) ke khilaph, hee bolte hain
Par jisko (IR) samajhna chayie woh yeh kyon nahin samajhte hain??
Page#    724 Blog Entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site