Full Site Search  
Wed May 24, 2017 17:16:04 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;

BMU/Bamhrauli
بمهرولي     बम्हरौली

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: n/a
Number of Halting Trains: 5
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
National Highway 2, Allahabad
State: Uttar Pradesh
Elevation: 102 m above sea level
Zone: NCR/North Central
Division: Allahabad
No Recent News for BMU/Bamhrauli
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

SFG/SubedarGanj 6 km     MRE/Manauri 8 km     ALD/Allahabad Junction 9 km     ALY/Allahabad City 11 km     SYWN/Saiyid Sarawan 13 km     PRG/Prayag Junction 15 km     DRGJ/Daraganj 15 km     PYG/Prayag Ghat 16 km     NYN/Naini Junction 17 km     COI/Chheoki Junction (Allahabad) 19 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  
Mar 16 2017 (06:35)  टूटे रेल ट्रैक से पहले ही रुक जाएगी ट्रेन (epaper.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNCR/North Central  -  

News Entry# 296422     
   Tags   Past Edits
Mar 16 2017 (06:35)
Station Tag: Bharwari/BRE added by Expecting WAP5 GZB With Sapt Kranti😍😊/1421836

Mar 16 2017 (06:35)
Station Tag: Bamhrauli/BMU added by Expecting WAP5 GZB With Sapt Kranti😍😊/1421836

Posted by: Waiting For Extension Of TATA ROU JAT Upto SVDK😊^~  491 news posts
जागरण विशेष
बमरौली- भरवारी के बीच लगा सिस्टम
प्रमोद यादव ’इलाहाबाद1रेलवे में सबसे ज्यादा हादसे ट्रैक फ्रैक्चर की वजह से होते हैं और भारी जानमाल की क्षति का सबब बनते हैं। इससे निपटने के लिए कई जुगत किए गए, लेकिन वह कारगर नहीं रहे। उम्मीद की एक और किरण जगी है अब अल्ट्रासोनिक किरणों से। इन किरणों के कारण ट्रैक में फ्रैक्चर की जानकारी पहले मिल जाएगी। अल्ट्रासोनिक ब्रोकेन रेल डिटक्शन सिस्टम तकनीक का ट्रायल उत्तर मध्य रेलवे और उत्तर रेलवे के 25-25 किलोमीटर में हो रहा है। दो साल तक इसके परिणाम
...
more...
को देखा जाएगा। यदि ट्रायल सफल रहा तो यह देशभर में लागू होगा।1वर्ष 2013 में रिसर्च डिजाइन एंड स्टैंडर्ड (आरडीएसओ) लखनऊ ने रेलवे बोर्ड को सलाह दी थी कि ट्रैक में फ्रैक्चर का पता लगाने के लिए अल्ट्रासोनिक किरणों का इस्तेमाल किया जाय। बोर्ड की सहमति मिली तो आरडीएसओ ने इस पर काम शुरू किया। दो साल के भीतर अल्ट्रासोनिक ब्रोकेन रेल डिटक्शन सिस्टम तैयार कर लिया गया। 1ट्रायल के तौर पर उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) में इस यंत्र को इलाहाबाद से कानपुर के बीच बम्हरौली से भरवारी तक 25 किलोमीटर लंबी अप लाइन में लगाया गया है। उत्तर रेलवे में लश्कर से सहारनपुर के बीच यही सिस्टम लगा है। 1कैसे काम करेगा यंत्र: 25 किमी पटरी का वेल्डिंग से जुड़ी होना अनिवार्य है। इसमें अल्ट्रासोनिक किरणों दौड़ती हैं। रेल फ्रैक्चर होते ही किरणों का क्रम टूटते ही अलार्म बज जाएगा। एनसीआर के पीआरओ अमित मालवीय ने बताया कि ट्रैक के टूटते ही नजदीकी स्टेशन पर अलार्म बजेगा। इससे ट्रेन को टूटी पटरी से गुजरने से रोका जा सकेगा।
Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site