Full Site Search  
Mon May 29, 2017 20:53:28 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search

CNPR/Chainpur
     चैनपुर

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: n/a
Number of Halting Trains: 10
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Chain Pur, Chainpur
State: Jharkhand
Elevation: 409 m above sea level
Zone: ECR/East Central
Division: Dhanbad
No Recent News for CNPR/Chainpur
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

KMHT/Karmahat 5 km     JGBR/Jogeshwar Bihar 5 km     DIWR/Digwar Halt 8 km     RRME/Ranchi Road 12 km     DNEA/Danea 13 km     ARGD/Arigada 18 km     BRKA/Barkakana Junction 20 km     DMBR/Dumri Bihar 24 km     RMT/Ramgarh Cantt. 25 km     SDWAR/Sidhwar 26 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  
May 11 2017 (18:27)  बदलेगी गोमो-बरवाडीह के कई स्टेशनों की तस्वीर (m.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyECR/East Central  -  

News Entry# 302162     
   Tags   Past Edits
May 11 2017 (18:30)
Station Tag: Patratu/PTRU added by Miss You Dad/567740

May 11 2017 (18:30)
Station Tag: Arigada/ARGD added by Miss You Dad/567740

May 11 2017 (18:30)
Station Tag: Ranchi Road/RRME added by Miss You Dad/567740

May 11 2017 (18:27)
Station Tag: Dumri Bihar/DMBR added by Miss You Dad/567740

May 11 2017 (18:27)
Station Tag: Chainpur/CNPR added by Miss You Dad/567740

May 11 2017 (18:27)
Station Tag: Bhurkunda/BHKD added by Miss You Dad/567740

Posted by: Miss You Dad*^~  6 news posts
राकेश पांडेय, भुरकुंडा : आज से करीब 100 साल पहले गोमो-बरवाडीह रेल खंड में रेल लाइन बिछाने को ले काम शुरू हुआ था। इसी रेलखंड पर कोयलांचल का हृदयस्थली भुरकुंडा रेलवे स्टेशन भी आता है। रेल लाइन निर्माण के बाद करीब 1928 के आसपास भुरकुंडा स्टेशन रूट से परिचालन शुरू हुआ। लेकिन इतने साल बीत जाने के बाद भी रेल खंड पर पतरातू-भुरकुंडा होते हुए बोकारो जिला स्थित डुमरी-बिहार स्टेशन तक ¨सगल लाइन ही रहा। अब नब्बे साल बीतने के बाद 2017 में रेल लाइन का दोहरीकरण का कार्य जोर-शोर से शुरू हुआ है। जानकारी के अनुसार डुमरी-बिहार, दनिया, चैनपुर, करमाहाट, रांची रोड, अरगडा, बरकाकाना, भुरकुंडा व पतरातू रेलवे स्टेशन तक रेल लाइन का दोहरीकरण किया जा रहा है। इसे लेकर जिस कंपनी को ठेका मिला है, उनके द्वारा चैनगडा, बलकुदरा, चैनपुर आदि कई जगहों पर कैंप लगाकर काम शुरू हो चुका है। बताया जाता है कि डेढ साल में इस...
more...
दोहरीकरण लक्ष्य को पूरा कर लेना है। गौरतलब रहे कि ¨सगल लाइन होने के कारण इन स्टेशनों के बीच घंटो-घंटो तक गाड़ियों का परिचालन बाधित हो जाता था। कोई भी ट्रेन या मालगाड़ी को किसी एक स्टेशन पर रोककर तब तक नहीं भेजा जाता था जब तक कि दूसरी ट्रेन उस ¨सगल लाइन से पार न हो जाए। उसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ता था। बताते चलें कि इस रूट पर लगभग दो दर्जन एक्सप्रेस, पैसेंजर ट्रेनों के साथ-साथ काफी संख्या में मालगाड़ी ट्रेनों का आवागमन होते रहता है। साथ ही करोड़ो रूपये रेवन्यु की प्राप्ति रेलवे प्रबंधन व सरकार को मिलता है।
ससमय हो जाएगा रेल परिचालन
इस रूट के दोहरीकरण से काफी हद तक ट्रेनों का परिचालन ससमय हो जाएगा। चाहे वह एक्सप्रेस हो या पैसेंजर ट्रेनें उनके विलंब होने के समय में कमी होगी। बताते चलें कि इस रूट पर कई पैसेंजर ट्रेनों के अलावा शक्तिपुंज, झारखंड स्वर्ण जयंती, हावड़ा-भोपाल, हावड़ा-अजमेर शरीफ सहित राजधानी व महत्वूपर्ण ट्रेनों का परिचालन होता है। साथ ही साथ रेल लाइन के दोहरीकरण से लोगों को प्लेटफार्म पर भी सुविधा मिलेगी।
कई स्टेशनों का प्लेटफार्म होगा हाई
रेल लाइन दोहरीकरण से एक फायदा यह भी होगा कि भुरकुंडा रेलवे स्टेशन सहित वैसे कई स्टेशन जहां हाई प्लेटफार्म नहीं है इसकी सुविधा भी भविष्य में मिलेगी। मालूम हो कि भुरकुंडा स्टेशन में अभी प्लेटफार्म नहीं के बराबर है। हाई प्लेटफार्म होने से यात्रियों को ट्रेन से चढ़ने-उतरने में काफी सुविधा मिलेगी।
लाइन दोहरीकरण से यात्रियों को मिलेगा लाभ : बख्शी
भुरकुंडा रेलवे स्टेशन मास्टर पीके बख्शी का कहना है कि इस रूट में रेल लाइन के दोहरीकरण से यात्रियों को काफी लाभ मिलेगा। ट्रेनों का परिचालन समान रूप से होगा। साथ ही आने वाले समय में और भी कई ट्रेनों का परिचालन शुरू होने की संभावना रहेगी। यह काफी हर्ष का विषय है कि इतने सालों बाद इस रूट का दोहरीकरण हो रहा है।
Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site