Full Site Search  
Sun Jun 25, 2017 09:16:13 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;
Platform Pic;

DLN/Dildarnagar Junction (4 PFs)
دلدارنگر جنکشن     दिलदारनगर जंक्शन

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 4
Number of Halting Trains: 52
Number of Originating Trains: 4
Number of Terminating Trains: 4
Jn. Pt. MGS / TRG / BXR, Tel: 05497-245005, Dildarnagar
State: Uttar Pradesh
Elevation: 71 m above sea level
Zone: ECR/East Central
Division: Danapur
No Recent News for DLN/Dildarnagar Junction
Nearby Stations in the News

Rating: 2.8/5 (8 votes)
cleanliness - average (1)
porters/escalators - good (1)
food - good (1)
transportation - average (1)
lodging - poor (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - poor (1)
safety - average (1)

Nearby Stations

USK/Usia Khas 4 km     SAHA/Sarahula Halt 6 km     DRV/Darauli 7 km     BWH/Bhadaura 8 km     NXR/Nagsar 10 km     KKRH/Karahia 12 km     ZNA/Zamania 14 km     GMR/Gahmar 16 km     TRG/Tarighat 19 km     BHCL/Bahora Chandil 19 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 33 News Items  next>>
Apr 21 2017 (10:18)  तीन घंटे तक थमा रहा ट्रेनों का पहिया (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsECR/East Central  -  

News Entry# 300339     
   Tags   Past Edits
Apr 21 2017 (10:18)
Station Tag: Dildarnagar Junction/DLN added by Saurabh*^~/15807

Posted by: Saurabh*^~  3091 news posts
जागरण संवाददाता, दिलदारनगर (गाजीपुर) : स्थानीय स्टेशन के प्लेटफार्म तीन से चार अप लूप लाइन को जोड़ने के लिए बने फुट ओवर ब्रिज को क्रेन के सहयोग से ऊपर चढ़ाने का कार्य गुरुवार को किया गया। इस दौरान सुबह 8.50 से 11.50 बजे तक मेगा ब्लॉक लगने से तीन घंटे तक ट्रेनों का पहिया थम गया। बक्सर से लेकर भदौरा स्टेशन तक ट्रेनें घंटों खड़ी रहीं। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कार्य समाप्त होने पर अप लाइन की पहली ट्रेन दोपहर 12 बजे विभूति एक्सप्रेस पहुंची तो यात्रियों ने राहत की सांस ली।
प्लेटफार्म तीन से चार अप लूप लाइन को जोड़ने के लिए फुट ओवरब्रिज निर्माण की मांग रेल यात्रियों सहित क्षेत्रीय जनता द्वारा रेल राज्य मंत्री
...
more...
मनोज सिन्हा से की गयी थी। मंत्री के आदेश पर दानापुर मंडल ने बीते वर्ष मार्च से ही इसका निर्माण कार्य शुरू करा दिया था।
गुरुवार को ओवरब्रिज को क्रेन के सहयोग से प्लेटफॉर्म तीन और चार के बीच रखा गया। इस दौरान इंजीनियरिंग विभाग द्वारा दानापुर नियंत्रण कक्ष से कार्य होने को लेकर तीन घंटे का मेगा ब्लॉक लिया गया। जमानियां, मुगलसराय,वाराणसी, लखनऊ, कानपुर जाने वाले यात्री प्लेटफॉर्म पर बैठकर ट्रेन का इंतजार करते रहे। वहीं लोकल यात्रियों को भी परेशानी ङोलनी पड़ी। इस मौके पर मौके पर सहायक मंडल अभियंता बक्सर शशि कुमार,कार्य निरीक्षक पीके सिंह एवं कर्मचारी मौजूद थे।
मेगा ब्लॉक में ये ट्रेनें फंसी-
स्थानीय स्टेशन के अप लाइन में फुट ओवरब्रिज को क्रेन के सहयोग से ऊपर चढ़ाने के कार्य को लेकर विभूति एक्सप्रेस, सीमांचल एक्सप्रेस, पंजाब मेल, फरक्का एक्सप्रेस,पटना मुगलसराय मेमो पैसेंजर ट्रेन बक्सर से भदौरा स्टेशन के बीच घंटों खड़ी रही। भूख और प्यास से यात्री बिलबिला गए।दिलदारनगर स्टेशन पर अप लाइन में क्रेन के सहारे उठता फुट ओवरब्रिज ’ जागरण’>>ओवरब्रिज का कार्य होने से लगा मेगा ब्लाक1’>>बक्सर से भदौरा स्टेशन तक खड़ी रहीं ट्रेनें
Apr 16 2017 (20:36)  22 घंटे विलंब से पहुंची गरीब रथ एक्सप्रेस (m.jagran.com)
back to top
Other NewsECR/East Central  -  

News Entry# 299784     
   Tags   Past Edits
Apr 16 2017 (20:36)
Station Tag: Dildarnagar Junction/DLN added by Proud CMSian~/1427404

Apr 16 2017 (20:36)
Station Tag: Zamania/ZNA added by Proud CMSian~/1427404

Apr 16 2017 (20:36)
Train Tag: Magadh Express/12402 added by Proud CMSian~/1427404

Apr 16 2017 (20:36)
Train Tag: Upasana Express/12328 added by Proud CMSian~/1427404

Apr 16 2017 (20:36)
Train Tag: Brahmaputra Mail/14055 added by Proud CMSian~/1427404

Posted by: Tushar Shandilya~  436 news posts
जागरण संवाददाता, जमानियां (गाजीपुर) : गर्मी के दिनों में भी ट्रेनों के लेट चलने का सिलसिला बदस्तूर जारी है जबकि ठंड के मौसम में कोहरे के कारण यह स्थिति थी। परिचालन विभाग के अधिकारी भी गर्मी के दिनों में ट्रेनों के लेट से चलने को लेकर कोई ठोस जवाब नहीं दे पा रहे है। इसके पीछे उनका तर्क यह है कि ट्रेन अपने शुरुआती स्टेशन से ही देरी से चल रही हैं। जिसके कारण आगे और लेट हो जा रही हैं। इससे यात्रियों को परेशानी हो रही है। अप और डाउन लाइन में जमानियां, दिलदारनगर, भदौरा एवं गहमर स्टेशन पर रुकने वाली ट्रेनें घंटो देर से रविवार को भी पहुंची। स्टेशन पर घंटों बैठकर यात्रियों को ट्रेन का इंतजार करना पड़ा। डाउन लाइन में दिल्ली सियालदह सात घंटे, ब्रहमपुत्र मेल पांच, उपासना एक्सप्रेस एवं मगध तीन, फरक्का एक्सप्रेस दो, पंजाब मेल एक घंटे देरी से पहुंची। वहीं अप में गरीब रथ...
more...
22 घंटे, सियालदह वाराणसी दो, उपासना तीन,बक्सर मुगलसराय ईएमयू पैसेंजर एक घंटे विलंब से पहुंची। जनसंपर्क अधिकारी आरके ¨सह ने बताया कि ट्रेनों के लेट चलने के बारे में परिचालन विभाग के अधिकारियों से वार्ता कर इसमें सुधार किया जाएगा।
Mar 06 2017 (19:10)  In tehsil of ‘battered’ roads, a ‘tram’ that’s really a train (timesofindia.indiatimes.com)
back to top
Commentary/Human InterestNR/Northern  -  

News Entry# 295540     
   Tags   Past Edits
Mar 06 2017 (19:11)
Station Tag: Tarighat/TRG added by karbang/50057

Mar 06 2017 (19:11)
Station Tag: Dildarnagar Junction/DLN added by karbang/50057

Posted by: karbang~  170 news posts
ZAMANIYA, Ghazipur: A five-coach train has been plying in just one tehsil in Ghazipur district, Zamaniya, across the Ganges from Ghazipur city where Lord Cornwallis, twice Governor-General of Bengal, lies interred. It covers 18 km of track that runs alongside prominent markets, residential settlements and an important road, since before most residents can remember.
Train No.53643 (the Dildarnagar junction to Tarighat passenger) starts its fi rst leg at 8.15am and ends its last service at 6.50pm, after shuttling six times within Zamaniya tehsil. Apart from stopping at four listed stops, the train also halts at half a dozen more places.
In
...
more...
the assembly constituency that elected SP leader Om Prakash Singh as MLA for six times, the popularity of the train has never dwindled, due largely to the poor road conditions.
Harish Tiwari, 18, an intermediate student, said, "It (train) is the lifeline for people in Zamaniya. The roads are so battered, we avoid using motor vehicles unless it's really needed," says Harish, who will vote for the fi rst time on March 8.
Permitted to run at 40 kmph, the train doesn't even cover 20 km in an hour. At fi ve places, where roads leading to residential settlements intersect the tracks, the crossing is unmanned. "I have spent 23 years in service with railways. I can confi dently say no other train operates in UP this way," said deputy station master at Dildarnagar junction, AK Mishra.
Zamaniya resident Mohd Karim Raza Khan, a retired government school principal, says the train is "equivalent to the Kolkata tram". For thousands of people, it used to be the only mode of transport to Ghazipur city, the tehsil, court and other important establishments for up to three decades after Independence
Nov 12 2016 (20:23)  दानापुर मंडल रेल प्रशासन की उदासीनता के कारण जर्जर रेल पटरियों पर दौड़ती हैं ट्रेनें (epaper.jagran.com)
back to top
IR AffairsECR/East Central  -  

News Entry# 285541     
   Tags   Past Edits
Nov 12 2016 (8:23PM)
Station Tag: Ghazipur City/GCT added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Nov 12 2016 (8:23PM)
Station Tag: Dildarnagar Junction/DLN added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5898 news posts
16ठंड में आए दिन चटकतीं हैं रेल पटरियां
बदली जाएंगी रेल पटरियां1मुगलसराय बक्सर रेलखंड की जर्जर रेल पटरियों को जल्द बदला जाएगा। इसके लिए नया रेल गिराने का कार्य शुरू हो गया है। कमजोर पटरियों की निगरानी के लिए की-मैनों की ड्यूटी लगाकर पेट्रोलिंग कराई जाती है। ठंड में तापमान में गिरावट के कारण पटरियां चटक जाती हैं। इसके लिए विभाग द्वारा ठोस कदम उठाया जाता है।1-एके पांडेय, दानापुर मंडल के मंडल अभियंता तृतीय। 13
Click here to enlarge image
दिलदारनगर
...
more...
(गाजीपुर) : दानापुर मंडल रेल प्रशासन की उदासीनता के कारण ट्रेनों के संचालन में रेलवे के संरक्षा व सुरक्षा का दावा यात्री हित में पूरी तरह से खोखला साबित हो रहा है। दिल्ली-हावड़ा मेन रूट के पटना-मुगलसराय रेलखंड पर आए दिन रेल पटरी चटकने की घटना से यात्री असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। रेल पथ विभाग जर्जर पटरी पर ही राजधानी, पूर्वा सहित कई मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों को दौड़ा रहा है जो विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है।1तीन माह पूर्व पटना मुगलसराय रेल खंड पर 130 किमी की गति से ट्रेनें दौड़ाने के लिए मुख्य संरक्षा आयुक्त पटना से मुगलसराय तक रेलवे ट्रैक का निरीक्षण किए थे। स्पीड से दौडने वाली ट्रेनों को इस रेलवे ट्रैक के लिए परफेक्ट होने का संकेत भी विभागीय उच्चधिकारियों को दिए थे। इसके बाद विभागीय अधिकारियों द्वारा जगह-जगह छोटे और बड़े पुलों पर रेल पटरियों को बदलकर काशन खत्म करने की दिशा में तेजी से कार्य किया जा रहा है। रेल पथ विभाग के अधिकारियों की मानें तो इस रेल खंड की रेल पटरियों पर मौजूद समय में 90 किमी की रफ्तार से ट्रेनों के चलने के लिए परफेक्ट माना जा रहा है। फिर भी हाजीपुर और दानापुर मंडल के अधिकारियों द्वारा लाखों रेल यात्रियों की जिंदगी से खेलते हुए जर्जर रेल पटरी पर 110 व 120 की रफ्तार में ट्रेनों को दौड़ाया जा रहा है। उक्त रेल खंड दिल्ली हावड़ा मेन रेलखंड होने के कारण इस रूट पर प्रतिदिन राजधानी सहित दर्जनों मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें दौड़ती रहती हैं। आए दिन मुगलसराय व बक्सर रेलखंड के अप और डाउन लाइन में कहीं न कहीं पटरी चटकने की घटना होती रहती है। वहीं, चटकी पटरी से ही ट्रेनें गुजर जाती हैं। चटकी पटरी को विभाग दुरुस्त कर पुन: ट्रेनों को काशन के माध्यम से चलाने लगता है। इसके बाद उसी पटरी के चटके हुए स्थान पर वेलिं्डग कर पूरे रफ्तार में ट्रेनों को चलाया जाता है जो सुरक्षा के लिहाज से ठीक नहीं है।1वर्ष 1996 में बिछे रेल पटरी पर दौड़ रही हैं ट्रेनें : मुगलसराय बक्सर रेल खंड पर वर्ष 1996 में विभाग द्वारा बिछाई गई 52 किलो की रेल पटरी पर ही ट्रेनों का संचालन हो रहा है। रेल पथ विभाग द्वारा 20 साल बाद रेल पटरी को बदल दिया जाता है। रेल खंड पर कुछ जगहों पर ही 52 की जगह 60 किलो की रेल पटरी ही विभाग द्वारा बिछाई गई है। कई जगहों पर तो रेल पटरी घिस गयी है। फिर भी विभाग द्वारा उन्हें बदलना मुनासिब नहीं समझा जा रहा है। इस समय हर जगह 60 किलो की रेल पटरी ही होनी चाहिए।1160 किमी की रफ्तार से ट्रेन चलाने का दावा : गतिमान एक्सप्रेस की कामयाबी के बाद रेल मंत्रलय अब अति व्यस्त रूट की सूची में शुमार दिल्ली-हावड़ा रेल खंड पर 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाने का दावा कर रहा है। मुगलसराय बक्सर रेल खंड पर जगह-जगह जर्जर रेल पटरियां दुर्घटना को दावत दे रही हैं। ऐसे में 160 किमी की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाना किसी खतरे से खाली नहीं है। अगर समय रहते पटरियों को बदलने का कार्य पूरा हो जाए तो ट्रेनों के रफ्तार को भी बढ़ाया जा सकता है।16जर्जर रेल पटरियों पर दौड़ती हैं ट्रेनें16ठंड में आए दिन चटकतीं हैं रेल पटरियां
Oct 24 2016 (04:10)  रेल फाटक को बिना लॉक किए होता है ट्रेनों का संचालन (www.jagran.com)
News Entry# 283846     
   Tags   Past Edits
Oct 24 2016 (4:10AM)
Station Tag: Dildarnagar Junction/DLN added by Subhash/746156

Posted by: Subhash  1035 news posts
दिलदारनगर (गाजीपुर) : रेलवे द्वारा संरक्षा और सुरक्षा का दावा पूरी तरह से खोखला साबित हो रहा है। उसिया गांव स्थित इंजीनिय¨रग विभाग के नान इंटरलॉ¨कग रेल फाटक के बूम का लॉक महीनों से खराब हो गया है। फाटक को बिना लॉक किए ही ट्रेनों का संचालन किया जाता है, जो दुर्घटना को दावत दे रहा है। शिकायत के बाद भी विभाग के अधिकारी ध्यान नहीं देते हैं।
पूर्व मध्य रेलवे दानापुर मंडल के मुगलसराय बक्सर रेल खंड पर स्थित उसिया खास हाल्ट के इंजीनिय¨रग विभाग का नान इंटलॉ¨कग रेल फाटक के बूम का लॉक खराब हो गया है। गेटमैन द्वारा फाटक को बिना लॉक किए ही ट्रेनों का संचालन कराया जाता है। ऐसे में हमेशा दुर्घटना का अंदेशा बना रहती है।
...
more...
दिल्ली हावड़ा मेन लाइन होने के कारण इस रूट पर हमेशा ट्रेनों के आने जाने का सिलसिला लगा रहता है। फाटक लॉक नहीं होने की स्थिति में साइकिल व मोटरसाइकिल सवार फाटक को उठा कर निकल जाते हैं। उसिया हाल्ट पर केवल पैसेंजर ट्रेनों का ठहराव ही होता है फिर भी मेल व एक्सप्रेस के गुजरने के समय फाटक बंद किया जाता है। समय रहते अगर फाटक के बूम का लाक ठीक नहीं किया गया तो कभी भी हादसा हो सकता है। गेटमैन धर्मेंद्र ने बताया कि फाटक के बूम का लॉक खराब होने की शिकायत विभाग के उच्चाधिकारियों से की गई है।
Page#    Showing 1 to 20 of 33 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.