Full Site Search  
Mon Jun 26, 2017 04:00:01 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Night Pic; Front Entrance - Outside; Large Station Board;
Large Station Board;

FZR/Firozpur Cantt. Junction (6 PFs)
ਫ਼ਿਰੋਜ਼ਪੁਰ ਛਾਉਣੀ. ਜੰਕਸ਼ਨ     फिरोज़पुर छावनी

Track: Construction - Single-Line Electrification

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 6
Number of Halting Trains: 10
Number of Originating Trains: 29
Number of Terminating Trains: 29
Station Road Near Mittal Chowk, Firozpur Cantt 152001
State: Punjab
Elevation: 198 m above sea level
Zone: NR/Northern
Division: Firozpur
1 Travel Tips
No Recent News for FZR/Firozpur Cantt. Junction
Nearby Stations in the News

Rating: 4.1/5 (48 votes)
cleanliness - excellent (6)
porters/escalators - good (6)
food - good (6)
transportation - good (6)
lodging - good (6)
railfanning - good (6)
sightseeing - excellent (6)
safety - good (6)

Nearby Stations

FZP/Firozpur City 3 km     SWX/Saidanwala 9 km     HSW/Husainiwala 9 km     KBU/Kasu Begu 11 km     MFM/Mahalam 11 km     KIQ/Khai Phemeki 12 km     DDK/Dhindsa 14 km     TSS/Talli Saidasahu 17 km     PHS/Ferozeshah 18 km     GHA/Golehwala 19 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 62 News Items  next>>
Jun 16 2017 (21:54)  राजधानी व शताब्दी एक्सप्रेस में खाना लेने की बाध्यता खत्म, घट जाएगा किराया (m.jagran.com)
back to top
New Facilities/Technology

News Entry# 305586     
   Tags   Past Edits
Jun 16 2017 (21:54)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Tushar Shandilya~/1427404

Posted by: Tushar Shandilya~  467 news posts
फिरोजपुर, [प्रदीप कुमार सिंह]। अब राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस में भारी किराया देने के बाद भी खाना लेने की बाध्यता खत्म हो गई। रेलवे के नए नियम के अनुसार अगर कोई यात्री खाना नहीं लेना चाहता है तो उसका किराया कम हो जाएगा। यात्री आइआरसीटीसी की ऑनलाइन ई-कैटरिंग से अपना मनपंसद खाना बुक कर सहजता से मंगवा सकते हैं। इसके लिए एप जारी कर दिया गया है।
रेलवे ने राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में 15 जून से खाने को वैकल्पिक रखने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। इसके तहत यात्री चाहें तो खाने के लिए मना कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें पैसा भी नहीं देने होगा। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आइआरसीटीसी) पोर्टल पर टिकट बुक कराने
...
more...
के दौरान पूछा जाएगा कि अाप यात्रा के दौरान खाना लेना चाहते हैं या नहीं। खाना नहीं लेने पर टिकट की कीमत कम हो जाएगी।
काउंटर से टिकट बुकिंग के दौरान भी यात्री खाना लेने के लिए मना कर सकते हैं। इसका मतलब किराये में लगभग 250 से 300 रुपये की कमी हो जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों के खाने के विकल्प को न चुनने से आइआरसीटी पर मौजूद ई-कैटरिंग और अन्य फोन सर्विसेज का उपयोग बढ़ेगा। इसके तहत थर्ड पार्टी वेंडर खाना सप्लाई करेंगे।
फिरोजपुर मंडल रेलवे के वाणिज्यक अधिकारी रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि मंडल के विभिन्न हिस्सों से एक राजधानी व पांच शताब्दी चलती हैं। दो शताब्दी ट्रेनें रोजाना चलती हैं, जबकि तीन शताब्दी सप्ताह में दो बार चलती हैं। उन्होंने बताया कि काउंटर पर टिकट बुक कराने पर यह जिम्मेदारी बुङ्क्षकग अधिकारी की होगी और वह यात्रियों से खाने का विकल्प चुनने के लिए पूछे।
तेजस की वैकल्पिक को यात्रियों ने सराहा
भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम पर कैटरिंग की अनिवार्यता समाप्त करने का दबाव बन रहा था। आइआरसीटीसी ने तेजस एक्सप्रेस में कैटरिंग को वैकल्पिक बना दिया, जिसे यात्रियों ने बहुत सराहा। इसी तर्ज पर निजामुद्दीन-मुंबई अगस्त क्रांति, राजधानी एक्सप्रेस और पुणे-सिकंदराबाद शताब्दी एक्सप्रेस में सिस्टम को लागू किया गया जो सफल रहा। अब यह विकल्प 15 जून से देश की सभी शताब्दी व राजधानी ट्रेनों में लागू कर दिया गया है।
Jun 15 2017 (10:50)  फर्जी ड्यूटी करते पकड़े गए टीटीई, रेलवे की विजिलेंस टीम ने किया बेनकाब (m.jagran.com)
back to top
IR AffairsNR/Northern  -  

News Entry# 305423     
   Tags   Past Edits
Jun 15 2017 (10:50)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Tushar Shandilya~/1427404

Jun 15 2017 (10:50)
Train Tag: Jammu Tawi - Ahmedabad Express/19224 added by Tushar Shandilya~/1427404

Posted by: Tushar Shandilya~  467 news posts
जेएनएन, फिरोजपुर। दिल्ली से पहुंची रेलवे के विजिलेंस टीम ने फिरोजपुर में तीन टीटीई पकड़े हैं। ये तीनों ट्रेन के साथ नहीं जाकर फिरोजपुर में ही आराम कर रहे थे। इस दौरान इन लोगों पर दिल्ली से आई विजिलेंस टीम की नजर पड़ी और कार्रवाई की गई।
जानकारी के मुताबिक दिल्ली से पहुंची विजिलेंस टीम ने ताबड़तोड़ छापेमारी के बाद लापरवाही मिलने पर कार्रवाई की। टीम ने तीन टीटीई को डयूटी में अनियमितता और गैरजिम्मेदाराना व्यवहार के चलते पकड़ा। ये तीनों टीटीई ट्रेन के साथ जाने की फर्जी ड्यूटी कर रहे थे। जबकि वास्तव में ये तीनों ट्रेन के साथ गए ही नहीं।
बताया
...
more...
जा रहा है कि जम्मू से अहमदाबाद जाने वाले ट्रेन नंबर 19224 के साथ टीटी आरपी सिंह, राज कुमार और चमकौर सिंह को जम्मू से चलना था। लेकिन यह तीनों ट्रेन में थे ही नहीं। विजिलेंस की टीम कपूरथला के पास इस ट्रेन में चढ़ी और ट्रेन में सिर्फ एक ही टीटीई पाया गया। बाद में पूरी ट्रेन की छानबीन करने के पर पता चला कि अन्य तीन टीटीई ट्रेन में मौजूद ही नहीं है। ऐसे में जब ट्रेन मंगलवार शाम करीब साढ़े सात बजे फिरोजपुर रेलवे स्टेशन पर रुकी तो तीनों टीटी वहां विजिलेंस के हाथ चढ़ गए।
Jun 07 2017 (00:20)  ओवरलोड कोयला लदे रैक को रेलवे ने वापस लौटाया 16155784 (www.jagran.com)
back to top
Crime/AccidentsNR/Northern  -  

News Entry# 304528     
   Tags   Past Edits
Jun 07 2017 (00:20)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by SHIVKUMAR/210603

Posted by: SHIVKUMAR  215 news posts
पिपरवार : बचरा साइडिंग कर्मियों की लापरवाही की वजह से ओवरलोडिंग के आरोप में निजी कंपनी जीवीके पावर साहिब, फिरोजपुर का कोयला लदा एक रैक रेलवे ने वापस कर दिया। सोमवार रात सवा आठ बजे बचरा साइडिंग पहुंचने पर उक्त एचएल रैक को कैरिंग कैपिसिटी के मुताबिक मशीनों की सहायता से खाली किया गया। विभागीय जानकारी के अनुसार उक्त रैक चार जून को बचरा साइडिंग से लोड लेकर दोपहर साढे़ तीन बजे पंजाब के लिए रवाना हुआ था। मैक्लुस्कीगंज में वजन होने पर रैक में 5512.50 टन कोयला पाया गया। रैक के 58 में से 57 वैगनों में कैरिंग कैपिसिटी से 683 टन अधिक कोयला होने की जानकारी मिली। वर्षो से एक ही प्रकृति के कार्य करने में अभ्यस्त साइडिंग कर्मियों की इस लापरवाही ने कई सवाल खडे़ कर दिए हैं। इस मामले को लोग विभागीय मिलीभगत से निजी कंपनी को लाभ पहुंचाने का प्रयास बता रहे हैं। विभागीय जानकारी के...
more...
अनुसार 28 मई व पाच जून को पहले भी उक्त कंपनी को दो रैक कोयला भेजा जा चुका है। अब रेलवे सीसीएल पर भारी भरकम जुर्माना लगा सकती है। सीसीएल सीकेएस के सीसीएल सचिव एसके चौधरी ने इस मामले में घोटाले की बू आने की बात करते हुए प्रबंधन से मामले की विस्तृत जाच की माग की है। साथ ही उन्होंने दोषी लोगों को चिन्हित कर कार्रवाई की जरूरत बताई है। बचरा साइडिंग मैनेजर विशप नाथ से इस संबंध में पूछने पर उन्होंने इसे मानवीय भूल बताया। कहा कि रेलवे से सीसी प्लस 6 के अंतर्गत रैक लोड करने का कोई निर्देश नहीं मिला था, जिसके कारण गलती हो गई।
----------
कोयला चोरी रोकने के लिए आरसीएम साइडिंग में महिला होमगार्ड की तैनाती
क्षेत्र की आरसीएम साइडिंग में कोयला चोरी के रोकथाम के लिए सीसीएल प्रबंधन ने महिला होमगार्ड को तैनात किया है। सुबह-शाम जब ग्रामीण महिलाएं कोयला ले जाने आतीं हैं, उस वक्त महिला होमगार्ड सीआइएसएफ सुरक्षा बलों के साथ कार्रवाई करेंगी। इस संबंध में एरिया सुरक्षा पदाधिकारी कैप्टन एमके सिंह ने बताया कि महिला होमगार्ड कोयला चोरी करने वालीं महिलाओं को भगाने के अलावा उन्हें पकड़ कर कानूनी कार्रवाई भी करेंगी। फिलहाल साइडिंग में 20 महिला होमगार्ड दिया गया है। जरूरत पड़ने पर इनकी संख्या बढ़ाई भी जा सकती है
May 31 2017 (19:57)  105 Years of Punjab Mail (www.cr.indianrailways.gov.in)
back to top
IR AffairsCR/Central  -  IR Press Release  

News Entry# 304040     
   Tags   Past Edits
May 31 2017 (19:57)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Amey Ambre~/16020

May 31 2017 (19:57)
Station Tag: Mumbai Chhatrapati Shivaji Terminus/CSTM added by Amey Ambre~/16020

May 31 2017 (19:57)
Train Tag: Punjab Mail/12138 added by Amey Ambre~/16020

May 31 2017 (19:57)
Train Tag: Punjab Mail/12137 added by Amey Ambre~/16020

Posted by: Amey Ambre~  1942 news posts
The origins of the Bombay to Peshawar Punjab Mail are rather unclear. Based o­n a Cost Estimate paper circa 1911 and a complaint by an irate passenger circa October 12, 1912 about the 'late arrival of the train by a few minutes at Delhi', it has been more or less inferred that the Punjab Mail made her maiden run out of Ballard Pier Mole station o­n 1 June 1912.
Punjab Mail is over 16 years older than the more glamorous Frontier Mail. Ballard Pier Mole station was actually a hub for GIPR services. The Punjab Mail, or Punjab Limited as she was then called, finally steamed out o­n 1 June 1912. To begin with, there were the P & O steamers bringing
...
more...
in the mail, and the Officers of the Raj, along with their wives, o­n their first posting in Colonial India. The steamer voyage between Southampton and Bombay lasted thirteen days. As the British officials held combined tickets both for their voyage to Bombay, as well as their inland journey by train to their place of posting, they would, after disembarking, simply board o­ne of the trains bound for either Madras, Calcutta or Delhi. Of the trains, the most prestigious was the Punjab Mail, or Punjab Limited as she was then called.
The Punjab Limited used to run o­n fixed mail days from Bombay's Ballard Pier Mole station all the way to Peshawar, via the GIP route, covering the 2,496 km in about 47 hrs.
The train comprised of six cars: three for passengers, and three for postal goods and mail. The three passenger carrying cars had a capacity of 96 passengers o­nly. The sparkling cars were all corridor cars, and were made up of first class, dual berth compartments. Catering as they were to the upper class gentry, the cars were pretty well appointed, offering lavatories, bathrooms, a restaurant car, and a compartment for luggage and the servants of the white sahibs.
During the pre-partition period, the Punjab Limited was the fastest train in British India. The Punjab Limited's route ran over GIP track for the large part, and passed through Itarsi, Agra, Delhi, Amritsar and Lahore, before terminating at Peshawar Cantonment.
The train started originating and terminating at Bombay VT (now Chhatrapati Shivaji Terminus Mumbai)from 1914. The train then loosely came to be known as the Punjab Mail, rather than Punjab Limited, and became a daily service.
From a service meant primarily for the upper class white sahibs, the Punjab Mail soon started catering to the lower classes too. Third class cars started appearing o­n the Punjab Mail by the mid 1930s. In 1914, the GIP route from Bombay to Delhi was some 1,541 km. which the train used to cover in 29 hr. 30 min.
In the early 1920s, this transit time was further reduced to 27 hr. 10 min., despite as many as eighteen intermediate stops. In 1972, the trainsit time was again pushed up to 29 hr. In 2011, the Punjab Mail has as many as 55 intermediate stops. The Punjab Mail got an air-conditioned car in 1945.
After electrification of the Thull Ghats, the train has been electric hauled from Bombay VT to Manmad, from whence WP class steam engines took over. The train was WP hauled from Manmad all the way till Ferozepore. In 1968, the train was dieselized upto Jhansi, and its loading increased from 12 to 15 cars. Dieselization was later extended from Jhansi till New Delhi, then by 1976, o­nwards till Ferozepore. The number of cars was increased to 18, with two cars getting added o­n at Jhansi. In the late 1970/early1980s, WCAM/1 dual current locomotive to run the Punjab Mail on electric traction right upto Bhusaval, with the changeover from dc to ac traction at Igatpuri.
The Punjab Mail takes 34 hrs. to cover the 1,930 km between Mumbai and Firozpur Cantonment. The train is electric hauled. The restaurant car has been replaced by a pantry car.
It has o­ne AC First Class cum AC2 Tier, o­ne AC2 Tier, Five AC3 Tier, 10 Sleeper Class, o­ne pantry car, 3 general second class coaches and two general second class cum guard’s brake vans.
Apr 26 2017 (06:00)  जुर्माने से खजाना भर रहा रेलवे, फिरोजपुर मंडल में हो रही रिकॉर्ड वसूली (m.jagran.com)
back to top
Other NewsNR/Northern  -  

News Entry# 300789     
   Tags   Past Edits
Apr 26 2017 (06:00)
Station Tag: Firozpur Cantt. Junction/FZR added by Proud CMSian~/1427404

Posted by: Tushar Shandilya~  467 news posts
पंजाब»फिरोजपुर
blank
जुर्माने से खजाना भर रहा रेलवे, फिरोजपुर मंडल में हो रही रिकॉर्ड वसूली
Tue, 25 Apr 2017 06:39 PM (IST)

जेएनएन,
...
more...
फिरोजपुर। फिरोजपुर रेलवे मंडल हर महीने औसतन एक करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना वसूल रहा है। यह जुर्माना बिना टिकट या उचित टिकट न होने की स्थिति में यात्रा करने वाले लोगों वसूला गया है। वर्ष 2016-17 में रेलवे मंडल ने कुल 2,55,118 केस बनाकर 12.11 करोड़ रुपये वसूले हैं।
फिरोजपुर रेलवे मंडल के डीसीएम रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि गत वित्तीय वर्ष के अंतिम दो महीनों में बिना टिकट व उचित टिकट न रखने वाले 18,707 यात्रियों को यात्रा करते हुए पकड़ा गया था। इस दौरान उनसे 82 लाख 35 हजार रुपये की वसूली हुई थी। जबकि मार्च में 21,526 लोगों को बिना टिकट व उचित टिकट न होने पर पकड़ा गया। उनसे 1 करोड़ 91 लाख रुपये जुर्माना के रूप में वसूले गए।
मार्च महीने में 488 टीटीई ने यह लक्ष्य हासिल किया। गत वित्तीय वर्ष में जो कुल केस बनाए गए उनमें 72,742 यात्री बिना टिकट और 1,57,590 यात्री ऐसे पकड़े गए जिनके पास उचित टिकट नहीं था। ये यात्री जनरल टिकट पर स्लीपर क्लास या फिर स्लीपर क्लास के टिकट पर एसी में यात्रा करते हुए पाए गए। इसके अलावा 24,786 लोग ऐसे पकड़े गए जो कि निर्धारित वजन से ज्यादा का समान बिना बुकिंग ले जा रहे थे। इन सभी यात्रियों से रेलवे ने जुर्माने के तौर पर कुल 12.11 करोड़ रुपये वसूले ।
डीसीएम के मुताबिक 2017-18 के वित्तीय वर्ष में बिना टिकट यात्रियों पर अंकुश लगाने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। इस क्रम में सभी टीटीई को प्रति माह बिना टिकट यात्रियों को पकड़कर राजस्व एकत्र करने का लक्ष्य भी दिया जाएगा। जो टीटीई दिए गए लक्ष्य को नहीं हासिल कर पाएगा, उसके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। वहीं जो टीटीई लक्ष्य को हासिल करेगा उसे विभाग द्वारा प्रोत्साहित भी किया जाएगा।
Page#    Showing 1 to 20 of 62 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.