Full Site Search  
Tue Jun 27, 2017 11:00:38 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Platform Pic; Small Station Board;
no description available
no description available

BAQ/Ganj Basoda (4 PFs)
گنج باسودا     गंज बासौदा

Track: Triple Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 4
Number of Halting Trains: 55
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Ganj Basoda, District Vidisha
State: Madhya Pradesh
Elevation: 417 m above sea level
Zone: WCR/West Central
Division: Bhopal
No Recent News for BAQ/Ganj Basoda
Nearby Stations in the News

Rating: 4.2/5 (40 votes)
cleanliness - excellent (5)
porters/escalators - excellent (5)
food - good (5)
transportation - excellent (5)
lodging - good (5)
railfanning - good (5)
sightseeing - good (5)
safety - good (5)

Nearby Stations

RKDI/Raukheri 3 km     RKRI/Rao Khedi 3 km     PAI/Pabai 9 km     BET/Bareth 10 km     CLHT/Chulheta 14 km     GLG/GulabGanj 18 km     KAH/Kalhar 19 km     SUMR/Sumer 26 km     MABA/Mandi Bamora 28 km     SORI/Sorai 34 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 3 of 3 News Items  
Feb 11 2016 (11:46)  जबलपुर से दमोह का सफर 4 नहीं 1 घंटे में होगा तय (naidunia.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestWCR/West Central  -  

News Entry# 256880   Blog Entry# 1735954     
   Tags   Past Edits
Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Vidisha/BHS added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Ganj Basoda/BAQ added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Guna Junction/GUNA added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Biyavra Rajgarh/BRRG added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Indore Junction BG/INDB added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Khajuraho/KURJ added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Banda/BNDA added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Udaipura/UDPR added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Gadarwara/GAR added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Chhindwara Junction/CWA added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Lalitpur/LAR added by DJ™/90319

Feb 11 2016 (11:46AM)
Station Tag: Saugor/SGO added by DJ™/90319

Posted by: DJ™^~  546 news posts
जबलपुर से दमोह जाने के लिए आने वाले दिनों में ट्रेन से महज 1 घंटे का सफर तय करना होगा। अभी 4 घंटे का वक्त लगता है। दरअसल, जबलपुर से दमोह तक सीधी रेल लाइन बिछाने का सर्वे पूरा हो गया है। यह रेल लाइन दमोह से आगे पन्ना तक जाएगी। तकरीबन 246 किमी की इस रेल लाइन को बनाने रेल बजट में स्वीकृति मिल सकती है। प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेज दिया गया है। अभी जबलपुर से दमोह तक का सफर बस से महज 1.30 में पूरा हो जाता है, जबकि पैसेंजर से इतना ही सफर तय करने में 4 घंटे का वक्त लगता है। ऐसा इसलिए क्योंकि दमोह जाने वाले यात्रियों को बाया कटनी जाना होता है और इस प्रकार यह दूरी 212 किमी हो जाती है। लेकिन इस रेल लाइन के बन जाने के बाद जबलपुर से कटनी तक का 90 किमी का अतिरिक्त फेरा उन्हें नहीं लगाना...
more...
होगा। यात्री नई रेल लाइन से जबलपुर से सीधे दमोह जा सकेंगे जिसकी दूरी तकरीबन 90 किमी होगी।
14 की जगह 12 घंटे में पहुंचेंगे दिल्ली
जबलपुर से दमोह के लिए नई रेल लाइन शुरू होने से सबसे ज्यादा फायदा दिल्ली जाने वालों को होगा। जबलपुर से दिल्ली तक 905 किमी का सफर तय करने में तकरीबन 14 घंटे लगते हैं, लेकिन इस लाइन से यह सफर 11 से 12 घंटे का हो जाएगा।
ऐसे होता है नई लाइन का सर्वे
पश्चिम मध्य रेलवे के ट्रैक एक्सपर्ट के मुताबिक नई रेल लाइन को बिछाने से पहले सर्वे होता है। इस काम में जिस रास्ते से लाइन ले जाना है, वहां की जमीन, जंगल और पहाड़ यानी पूरी भौगोलिक स्थिति का अध्ययन किया जाता है। इस बीच सीलिंग की जाने वाली जमीन और उसके दाम पर भी रिपोर्ट तैयार होती है। सबसे महत्वपूर्ण है कि रेल लाइन बिछाने में कुल खर्च कितना आएगा।
सभी 4 नई लाइन का सर्वे पूरा
1.जबलपुर-दमोह-पन्ना रेल लाइन
- तकरीबन 246 किमी लंबी रेल लाइन
- 2010-11 में शुरू किया था सर्वे का काम
2. जबलपुर-उदयपुरा-सागर रेल लाइन
- तकरीबन 268 किमी लंबी रेल लाइन
- 2011-12 में शुरू हुआ था सर्वे
3. गुना-अरोन-सिरोंज-गंजबासौदा-विदिशा रेल लाइन
- तकरीबन 120 किमी लंबी रेल लाइन
- 2010-11 में शुरू किया था सर्वे
4. बियावरा-राजगढ़-बीना रेल लाइन
- तकरीबन 147 किमी लंबी रेल लाइन
- 2010-11 में शुरू हुआ था सर्वे
इन नई लाइन पर अभी चल रहा सर्वे
1. जबलपुर-इंदौर, 450 किमी की नई लाइन
- जनवरी 2016 तक इसका सर्वे पूरा होना था, अभी 75 प्रतिशत ही हुआ
2. छिंदवाड़ा-गाडरवारा-उदयपुरा-सागर-बांदा- खजुराहो, 450 किमी नई लाइन
- 30 जून 2016 तक सर्वे होना है, अभी महज 5 प्रतिशत ही हुआ
3. सागर-बंदरी-ललितपुर, 110 किमी नई लाइन
- 30 अगस्त 2016 तक सर्वे होना है, अभी 25 प्रतिशत ही हुआ
4. इंदौर-बैतूल, 250 किमी नई रेल लाइन
- 30 सितंबर 2016 तक सर्वे होना है, अभी 5 प्रतिशत ही हुआ
वर्जन
पश्चिम मध्य रेलवे ने 4 नई रेल लाइन का सर्वे लगभग पूरा कर लिया है। इन्हें स्वीकृति के लिए रेलवे बोर्ड के पास भेज गया है। रेल बजट में इन लाइन को बनाने बजट स्वीकृत हो सकता है।
सुरेंद्र यादव, सीपीआरओ, पमरे, जबलपुर

12 posts - Thu Feb 11, 2016 - are hidden. Click to open.

9834 views
Feb 13 2016 (12:07)
REH RULZZZ~   165 blog posts
Re# 1735954-13            Tags   Past Edits
may be 40 years lg jaye

10021 views
Feb 13 2016 (12:11)
DJ™^~   15487 blog posts   185444 correct pred (77% accurate)
Re# 1735954-14            Tags   Past Edits
Haha .. ET-ALD electrification work, JBP-NIR GC me hi time nikal jayega fir shayad iss project ke baare me soche IR

9220 views
Feb 13 2016 (22:28)
Poll on Fares in Indian Railways entry 2332591^~   82803 blog posts   5299 correct pred (78% accurate)
Re# 1735954-15            Tags   Past Edits
ET - ALD me to bahut time lag gaya...
Nov 20 2014 (07:15)  रेलकर्मी की सतर्कता से बरेठ रेलवे स्‍टेशन के पास टला हादसा (naidunia.jagran.com)
back to top
Crime/AccidentsWCR/West Central  -  

News Entry# 201823     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: SMILER~  105 news posts
गंजबासौदा । मंगलवार की सुबह एक रेलकर्मी की सतर्कता से समीपस्थ रेलवे स्टेशन बरेठ के पास एक बड़ा हादसा टल गया। इस स्टेशन से मर्दाखेड़ी रेलवे गेट के बीच डाउन ट्रैक के एक क्रास ओवर पर पटरी का करीब एक फीट का हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था। जिसकी सूचना रेलकर्मी ने तुरंत स्टेशन मास्टर को दी और उन्होंने इस ट्रैक पर आ रही ट्रेन को सूचना देकर पहले ही स्र्कवा दिया। जिसके बाद कई घंटों तक क्रास ओवर की मरम्मत का काम चलता रहा और दोपहर बाद इस ट्रैक से रेल यातायात सामान्य हो सका। इस दौरान ट्रेनों को कॉशन देकर धीमी रफ्तार से दूसरे ट्रैक से निकाला गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार निकटस्थ रेलवे स्टेशन बरेठ के गैंगमैन नाहर सिंह सुबह
...
more...
करीब साढ़े छह बजे रेलवे ट्रैक का निरीक्षण करते हुए मर्दाखेड़ी रेलवे फाटक से स्टेशन की ओर आ रहे थे। तभी उन्हें फाटक से कुछ दूर डाउन ट्रेक के क्रास ओवर पर लगी रेलवे पटरी क्षतिग्रस्त नजर आई। जब उन्होंने गौर से देखा तो पटरी का करीब एक फीट का हिस्सा टूटा हुआ था। इसी ट्रेक से कुछ ही देर में एक तेज रफ्तार ट्रेन लखनऊ एक्सप्रेस गुजरने वाली थी।
समय पर दी सूचना
गैंगमेन ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इसकी सूचना तुरंत स्टेशन मास्टर मोतीलाल सिमेले को दी। जिन्होंने बिना देर किए भोपाल से चलकर बीना की ओर जाने के लिए इसी डाउन ट्रैक पर आ रही लखनऊ एक्सप्रेस के चालक और गार्ड को ट्रेन रोकने के निर्देश दे दिए। समय पर मिली सूचना से एक बड़ा हादसा टल गया और ट्रेन घटना स्थल से कुछ मीटर पहले मर्दाखेड़ी रेलवे फाटक पर खड़ी कर दी गई।
ट्रेन हो सकती थी दुर्घटनाग्रस्त
उधर गैंगमेन नाहर सिंह की सतर्कता और त्वरित कार्रवाई से एक बड़ा रेल हादसा टल गया। यदि क्षतिग्रस्त लाइन की सूचना मिलने में थोड़ी भी देर हो जाती तो उसी समय इस ट्रैक से गुजरने वाली तेज रफ्तार सवारी ट्रेन दुर्घटनाग्रस्त हो सकती थी। जिससे भारी नुकसान के साथ रेल यातायात भी कई घंटों के लिए प्रभ्ाावित हो सकता था।
धीमी गति से निकाली ट्रेनें
बाद में इस ट्रेन को कॉशन देकर काफी धीमी गति से दूसरे ट्रेक से गंतव्य की ओर रवाना करवाया गया। बाद में मौके पर पहुंचे तकनीशियनों और रेलकर्मियों ने क्रास ओवर की क्षतिग्रस्त लाइन को बदलने का काम श्ाुस्र् कर दिया। इस दौरान इस क्रास ओवर से गुजरने वाली सभी ट्रेनों को कॉशन देकर धीमी रफ्तार से निकाला गया। करीब साढ़े बारह बजे तक चले ट्रैक एवं क्रास ओवर की मरम्मत एवं सुधार कार्य के बाद रेल यातायात सामान्य हो सका।
Mar 17 2014 (06:25)  डिस्प्ले होने लगीं जानकारी (www.bhaskar.com)
back to top
Commentary/Human InterestWCR/West Central  -  

News Entry# 171499     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: 4πu¶am*^~  4392 news posts
गंजबासौदा रेलवे स्टेशन के यात्री प्रतीक्षालय में रेलवे द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए लगाया गया सीटीआई ((कोंप्रीहेंसिव ट्रेन इनफार्मेशन)) डिस्पले सिस्टम प्रारंभ हो गया है। इसे मुंबई स्थित नेशनल इंक्वायरी सेंटर से कनेक्टिविटी मिल गई है। इससे यात्रियों को सभी ट्रेनों के आने जाने की अपडेट जानकारी के साथ कोच नंबर, उनकी स्थिति आदि की जानकारी मिलने लगी है।
पिछले छह दिनों से सिस्टम पर सिर्फ घडिय़ां ही नजर आ रही थी। अब यह सिस्टम सीधे एनटीईआर ((नेशनल ट्रेन इंक्वायरी सिस्टम)) मुंबई से जुड़ गया है। उसका कोड नंबर मुंबई से संपर्क में आ गया है। वर्तमान में यह सिस्टम भोपाल- बीना जैसे बड़े स्टेशनों पर भी नहीं है। भोपाल संभाग में सबसे पहले यह सिस्टम पिछले महीने जबलपुर जीएम के
...
more...
निरीक्षण के दौरान गुना और अशोकनगर में लगाया गया था। उसके बाद इसे गंजबासौदा रेलवे स्टेशन पर लगाया गया है। गुना और अशोकनगर में सिस्टम सफलता पूर्वक कार्य कर रहा है।
हुए हैं दस लाख रुपए खर्च: एलईडी डिस्प्ले स्क्रीन सहित पूरे सिस्टम को लगाने में करीब दस लाख रुपए से ज्यादा खर्च हुए हैं। सिस्टम का डिस्प्ले बोर्ड आठ फीट लंबा और दो फीट चौड़ा है। यह चौबीसों घंटे काम करता है। सिर्फ उस दौरान काम नहीं करता जब सर्वर डाउन रहता है। इसके साथ ही इसकी हर जानकारी प्रत्ये पांच मिनिट में अपने आप अपडेट होती रहती है।
इंक्वायरी की जरुरत नहीं: इस सिस्टम से प्लेटफार्म पर कोच की स्थिति डिस्प्ले बोर्ड पर देखने मिल रही है। कोच को खोजने के लिए प्लेटफार्म पर दौड़धूप नहीं करना पड़ती है। गाड़ी आने पर यात्रियों सीधे कोच तक पहुंचने में आसानी हो रही है।
अत्याधुनिक सिस्टम लगा है: वर्तमान में ट्रेन जानकारी के लिए डिस्प्ले बोर्ड लगाया है। यह अत्याधुनिक है। यह सिस्टम बड़ी स्टेशनों पर भी नहीं लगे हैं। पूरे भोपाल संभाग में गंजबासौदा तीसरा रेलवे स्टेशन है जहां इसे सात दिन पहले लगाया गया है। गुना और अशोकनगर में चार सप्ताह पूर्व लगाया जा चुका है और काम भी सफलता पूर्वक कर रहा है।
Page#    Showing 1 to 3 of 3 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.