Full Site Search  
Tue Jan 17, 2017 12:20:29 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search

GTK/Ghutku (1 PFs)
घुटकू     घुटकू

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 1
Number of Halting Trains: 12
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Bilaspur
State: Chhattisgarh
Elevation: 287 m above sea level
Zone: SECR/South East Central
Division: Bilaspur
No Recent News for GTK/Ghutku
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

USL/Uslapur 7 km     KLTR/Kalmitar 8 km     BSP/Bilaspur Junction 16 km     KGB/Kargi Road 16 km     GTW/Gatora 22 km     DPH/Dadhapara 23 km     SLKR/Salkaroad 24 km     CHBT/Chakarbhatha 26 km     JRMG/Jairamnagar 30 km     BYL/Belha 32 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  
Sep 22 2016 (11:18)  Traffic jam on Saraighat Bridge (www.assamtribune.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNFR/Northeast Frontier  -  

News Entry# 280864   Blog Entry# 2001117     
   Tags   Past Edits
Sep 22 2016 (11:18AM)
Station Tag: Guwahati/GHY added by Optimus Primé~/1329476

Sep 22 2016 (11:18AM)
Station Tag: Ghutku/GTK added by Optimus Primé~/1329476

Posted by: Pratap 😀😀 KJM WDP4D 40387 😀😀 प्रताप  366 news posts
JALUKBARI, Sept 21 - Office-goers had a harrowing experience during the peak hours on Wednesday morning as the Saraighat Bridge (NH-37) witnessed a major traffic jam.
Commuters were caught in an irritating traffic congestion near Amingaon in the morning hours. Traffic was stuck at either end of the Saraighat Bridge. Additional traffic police personnel had to be deputed to regulate the traffic. The traffic jam was on till the filing of this report.

1177 views
Sep 24 2016 (18:42)
Pratap 😀😀 KJM WDP4D 40387 😀😀 प्रताप   4204 blog posts   1596 correct pred (73% accurate)
Re# 2001117-1            Tags   Past Edits
SS of Newspaper
Sep 08 2015 (18:11)  अमरकंटक एक्सप्रेस से हो रही थी सागौन की तस्करी (naidunia.jagran.com)
back to top
Crime/AccidentsSECR/South East Central  -  

News Entry# 240525     
   Tags   Past Edits
Sep 08 2015 (6:11PM)
Station Tag: Belgahna/BIG added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Station Tag: Kargi Road/KGB added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Station Tag: Uslapur/USL added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Station Tag: Ghutku/GTK added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Train Tag: Amarkantak SF Express/12853 added by DJ™/90319

Sep 08 2015 (6:11PM)
Train Tag: Amarkantak SF Express/12854 added by DJ™/90319

Posted by: DJ™  546 news posts
बिलासपुर(निप्र)। ट्रेनों में अवैध वनोपज की तस्करी थम नहीं रही है। सोमवार सुबह आरपीएफ की क्राइम ब्रांच ने भोपाल- दुर्ग अमरकंटक एक्सप्रेस के जनरल कोच से 18 सागौन चिरान जब्त किया है। हमेशा की तरह तस्कर पकड़ में नहीं आए। जब्ती के बाद वनोपज को वन विभाग के सुपुर्द कर दिया गया है।
क्राइम ब्रांच स्टॉफ ने अवैध वनोपज पेट्रोलिंग के दौरान पकड़ा। इसी ट्रेन से स्टॉफ लौट रहा था। इस दौरान जनरल कोच का मुआयना किया गया तो सीट के नीचे भारी मात्रा में चिरान पड़े थे। इस पर तस्कर को रंगे हाथ पकड़ने उसका इंतजार किया गया, लेकिन वे ज्यादा चालाक निकले। ट्रेन के बिलासपुर पहंचने के बाद भी वनोपज को उतारने कोई नहीं आया।
बाद
...
more...
में इसकी सूचना वन विभाग को दी गई और कागजी कार्रवाई के बाद वनोपज को विभाग के सुपुर्द कर दिया गया। तस्करों के पकड़ में नहीं आने को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। इसमें अधिकारियों की मिलीभगत से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। मालूम हो कि सालभर पहले वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त बी रामा कृष्णा ने तस्करों को पकड़ने अभियान चलाने का फरमान जारी किया था, लेकिन कर्मचारियों की उदासीनता के चलते आरोपी पकड़ में नहीं आ रहे हैं।
बेलगहना में कटाई
बेलगहना के जंगल अवैध कटाई का सबसे प्रमुख केंद्र है। यहां वन विभाग की नाकामी के कारण ही कटाई को अंजाम देने में तस्कर सफल हो पाते हैं। रेल प्रशासन इस पर ट्रेन में ही अंकुश लगा सकता है। क्योंकि तस्कर कटाई के बाद सीधे वनोपज को लेकर बेलगहना रेलवे स्टेशन पहुंचते हैं। यहां भी जांच नहीं होने के कारण तस्कर आसानी से सागौन या अन्य वनोपज को आसानी से ट्रेन में चढ़ा लेते हैं।
इन ठिकानों में गिराया जाता है
घुटकू स्टेशन
उसलापुर स्टेशन का आउटर
जोनल स्टेशन का यार्ड
करगीरोड स्टेशन का आउटर
Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site