Full Site Search  
Mon Feb 27, 2017 00:46:00 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;

KNLS/Kanalus Junction (3 PFs)
કાનાલુસ જંક્શન     कानालुस जंक्शन

Track: Single Diesel-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 10
Number of Originating Trains: 1
Number of Terminating Trains: 1
Jamnagar
State: Gujarat
Elevation: 36 m above sea level
Zone: WR/Western
Division: Rajkot
No Recent News for KNLS/Kanalus Junction
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

PPLI/Pipli 5 km     MDPR/Modpur 11 km     SIKA/Sikka 15 km     LKBL/Lakhabawal 15 km     LPJ/Lalpur Jam 18 km     SYQ/Sinhan 20 km     JAM/Jamnagar 26 km     KMBL/Khambhalia 28 km     GOP/Gop Jam 35 km     VQD/Viramdad 35 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  
अहमदाबाद. �गुजरात के पोरबंदर-वांसजालिया और कानालुस-द्वारका- ओखा सेक्सनोंं की रेलवे ने जीरो टॉयलेट डिस्चार्ज के तौर पर पहचान की है।इसके मद्देनजर रेलवे इन संभागों से गुजरने वाली ट्रेनों के कोचों में पर्यावरण अनुकूल \'जीरो डिस्चार्ज टॉयलेट सिस्टमÓ लगाकर टॉयलेट डिस्चार्ज किया जाएगा। रेलवे �ने \'स्वच्छ भारत मिशनÓ के तहत यह कदम उठाया है।रेलवे यह प्रक्रिया महात्मा गांधी के जन्म दिवस दो अक्टूबर तक पूरा कर लेगा। जहां पोरबंदर महात्मा गांधी की जन्म स्थली है, जिनको स्वच्छता काफी पसंद थी तो द्वारका और ओखा भगवान कृष्ण की कर्मस्थली हैं, �जो सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है।�
रेलवे सूत्रों के अनुसार रेल पटरियों पर खुले में शौच नहीं हो इसके लिए रेल कोचों में बायो टॉयलेट �जारी किएहैं।बायो टोयलेट में विशेष तौर पर बैक्टीरिया विकसित
...
more...
होते हैं, जिससे वेस्ट (शौच) खत्म हो जाता है।और केवल थोड़ा पानी ही �(डिस्चार्ज)निकलता है। � रेलवे ने �इस वर्ष मार्च तक ट्रेनों में 17 हजार �से ज्यादा बायो टॉयलेट लगाएथे। देखा जाए तो एक कोच में चार \'जीरो डिस्चार्ज टॉयलेट सिस्टम लगाने में तीन लाखरुपएलगते हैं। इसके अलावा यात्रियों की आसानी के लिए �स्लीपर और वातानुकूलित कोचों में मौजूदा सीढिय़ों को भी बदला जाएगा। �हालांकि एसी-1 कोचों में सीढिय़ों को बदला जा चुका है और अन्य कोचों के लिए अलग से डिजाइन तैयार की जा रही है।फिलहाल स्लीपर व वातानुकूलित कोचों में सीढिय़ों की डिजाइन तैयार करने की जिम्मेदारी एनआईडी को सौंपा गया है।
Page#    Showing 1 to 1 of 1 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site