Full Site Search  
Mon Jan 23, 2017 18:04:02 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search

CNB/Kanpur Central (10 PFs)
کانپور سینٹرل     कानपुर सेंट्रल

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 10
Number of Halting Trains: 299
Number of Originating Trains: 44
Number of Terminating Trains: 44
Ghantaghar/Cantt. , KANPUR-208 001
State: Uttar Pradesh
Elevation: 129 m above sea level
Zone: NCR/North Central
Division: Allahabad
37 Travel Tips
CNB/Kanpur Central is in Recent News
Nearby Stations in the News

Rating: 3.4/5 (332 votes)
cleanliness - average (46)
porters/escalators - good (41)
food - average (41)
transportation - good (42)
lodging - good (39)
railfanning - good (42)
sightseeing - good (39)
safety - good (42)

Nearby Stations

CPA/Kanpur Anwarganj 2 km     CPNL/Kanpur C Panel 4 km     CPB/Kanpur Bridge Left Bank 4 km     GOY/Govindpuri Junction 4 km     CNBI/Chandari 4 km     RPO/Rawatpur 7 km     HLIN/Holding Line 10 km     MGW/Magarwara 11 km     CHK/Chakeri 11 km     KAP/Kalianpur 12 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 881 News Items  next>>
Today (02:56)  North Central Railway working on pilot project to avert train accidents (www.railnews.in)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 291938     
   Tags   Past Edits
Jan 23 2017 (02:56)
Station Tag: Kalpi/KPI added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Jan 23 2017 (02:56)
Station Tag: Kallal/KAL added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Jan 23 2017 (02:56)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Jan 23 2017 (02:56)
Station Tag: Allahabad Junction/ALD added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Jan 23 2017 (02:56)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Jan 23 2017 (02:56)
Train Tag: Indore - Rajendranagar Express (via Sultanpur)/19313 added by हमारी भूल कमल का फूल~/1171967

Posted by: हमारी भूल कमल का फूल~  12 news posts
Allahabad: In order to overcome the problem of rail fractures during winters to prevent train accidents, North Central Railways is working on a pilot project at Bamrauli station under Divisional Railway Manager (DRM) of Allahabad.
“At present patrol-man is able to cover only 1 km of rail line for checking rail fractures. However, line rail monitoring system would locate the fracture in a span of 25 km,” GM Arun Kumar Saxena said.
The system would help in reducing accidents as rail fractures would be found earlier, he said, adding he carried out an
...
more...
inspection from Rundhi station to Mathura junction to check for security, punctuality and passenger amenities.
The work of the fourth line between Rundhi and Palwal would be completed by March end, he said.
“Fourth line, when completed, would not only reduce traffic congestion but would pave way for separate corridor for Kota as well as for Jhansi,” Saxena said.
He said third line between Mathura and Jhansi has been given a green signal and funds have also been made available for Rail Vikas Nigam Limited.
He said two lifts and an escalator have been introduced. Wi-fi facility has been launched at Mathura junction station and remodelling of the yard there is in progress.
“The efforts are on to connect platform 7 and 8 side of the area of the yard with the main yard,” he concluded.
He also took note of the suggestion that Chapra Express and Jaipur Express between Lucknow and Mathura junction should be run on different days instead of the same day as it would also boost revenue.
“Since it falls in other railways, a suggestion for changing timing and days of the aforesaid trains would be sent to the GM concerned,” he said.
DRM Agra Prabhas Kumar said technical knowledge is being given to employees for the new system.
“Gyan Sagar has been introduced for uplifting knowledge of technical and non-technical staff,” he said.
Jan 18 2017 (21:18)  इंदौर-पटना ट्रेन दुर्घटना में बड़ा खुलासा, ISI ने इस तरह लिखी 164 लोगों के मौत की दास्तान (www.prabhatkhabar.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 291566     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Rura/RURA added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Ghorasahan/GRH added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Raxaul Junction/RXL added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Adapur/ADX added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Chauradano/CAO added by विश्व नाथ*^/31233

Jan 18 2017 (21:18)
Station Tag: Bapudham Motihari/BMKI added by विश्व नाथ*^/31233

Posted by: विश्व नाथ*^  3552 news posts
पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ ने कानपुर रेल हादसे की साजिश रची थी. यह खुलासा नेपाल व मोतिहारी पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पकड़े गये आइएसआइ एजेंट मोती पासवान ने किया है. मंगलवार को आइएसआइ के कुल छह एजेंटों को गिरफ्तार किया गया. इनमें तीन को नेपाल व तीन को मोतिहारी पुलिस ने पकड़ा. गिरफ्तार एजेंटों में एक आदापुर बखरी के मोती पासवान ने खुलासा किया है कि कानपुर में ट्रैक का फिश प्लेट खोल कर ट्रेन को दुर्घटनाग्रस्त कराया गया था. फिश प्लेट उसने खुद खोला था. कुछ और भी साथ थे. इसके लिए नेपाल के ब्रजकिशोर गिरि ने उसे आदेश दिया था. ब्रजकिशोर दुबई में बैठे समसूल होदा से गाइड होता है. इस खुलासे के बाद एटीएस व रॉ के अधिकारी मोतिहारी के लिए रवाना हो चुके हैं. बुधवार को वे मोतिहारी पहुंचेंगे.21 नवंबर, 2016 की आधी रात...
more...
को कानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस बेपटरी हो गयी थी, जिससे 164 यात्री मारे गये थे.आइएसआइ के एजेंटों ने ही घोड़ासहन में ट्रैक पर आइइडी लगाया था. गिरफ्तार एंजेटों का आका नेपाल का समसूल होदा है. फिलहाल वह दुबई में छुपा हुआ है. पूर्वी चंपारण के एसपी जितेंद्र राणा ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि समसुल का साथी ब्रजकिशोर गिरि उर्फ बाबा को नेपाल पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार किया. उसकी गिरफ्तारी के बाद नेपाल पुलिस ने शंभु उर्फ लड्डू व मुजाहिद्दीन अंसारी को पकड़ा. नेपाल पुलिस की जानकारी पर मोतिहारी पुलिस ने रक्सौल गम्हरिया से उमाशंकर पटेल, आदापुर झिटकहिया के मुकेश यादव व आदापुर बखरी के मोती पासवान को गिरफ्तार किया है. समसुल होदा के इशारे पर काम करनेवाले गजेंद्र शर्मा व राकेश यादव की तलाश में छापेमारी की जा रही है. दोनों आदापुर बखरी के हैं.

एसपी के अनुसार, समसुल होदा आइएसआइ के इशारे पर भारत में हमला करने के फिराक में था. इसके लिए उसने नेपाल व उसके सीमावर्ती इलाकों के युवाओं को संगठन से जोड़ने की जिम्मेवारी नेपाल के ब्रजकिशोर गिरि को सौंपी. इस दौरान घोड़ासहन में ट्रैक को उड़ाने के लिए उसने लक्ष्मीपुर पोखरिया के दीपक राम व अरुण कुमार को तीन लाख रुपये का लालच दिया. दोनों ने ट्रैक पर आइइडी तो लगाया, लेकिन उसे ब्लास्ट नहीं करा पाये. घटना के बाद दोनों नेपाल गये.

जुबैर व शफीक ने फोटो देख मोती को पहचाना था

मोतिहारी. पाक आतंकी संगठन के लिए जुबैर व शफीक भी काम करते हैं. दिल्ली में एटीएस ने कुछ दिन पहले दोनों को गिरफ्तार किया था. उनके मोबाइल में मोती पासवान का फोटो था. पूछताछ में दोनों ने फोटो दिखा कहा कि इसी ने कानपुर में ट्रैक का फिश प्लेट खोला था. इस खुलासे के बाद जांच एजेंसियों के कान खड़े हुए. मोतिहारी व नेपाल पुलिस से संपर्क किया गया.
Jan 18 2017 (14:19)  Indian Railways hires expert to fix Kanpur-Lucknow stretch (www.dailymail.co.uk)
back to top
Other News

News Entry# 291531     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (14:48)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ©▶⭐Indian Railways⭐◀©^~/600614

Jan 18 2017 (14:48)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ©▶⭐Indian Railways⭐◀©^~/600614

Posted by: Jayashree ❖ Amita*^  35181 news posts
Investigations have found damaged tracks that led to three derailments in less than two months in the same section
Police have hinted that Pakistan's intelligence agency ISI may have instigated a November crash that claimed 150 lives.
The Indian Railways has brought in international experts to fix its Kanpur-Lucknow stretch that has witnessed a clutch of train wrecks, even as police hinted on Tuesday that Pakistan's intelligence agency ISI may have instigated a November crash that claimed about 150 lives.
Initial
...
more...
investigations have found damaged tracks that led to three derailments in less than two months in the same section.
A six-member team of experts from South Korea began probing the incidents on Tuesday and will inspect the spot on Wednesday.
As experts are hired to look at the Kanpur-Lucknow stretch, Police have hinted that Pakistan's intelligence agency ISI may have instigated a November crash that claimed about 150 lives
Last week, Japanese experts conducted a similar inspection of the site where the Indore-Patna express train went off the rails on November 20.
Railway experts from Italy will meet Indian Railways officials next month while the railway ministry is also in talks with French experts to carry out a probe.
'The South Korean delegation met top railway ministry officials where they were briefed about the facts related to the accident.
'Korean experts will carry out ultrasonic flaw detection test on the Kanpur-Lucknow section on Wednesday,' a senior railway ministry official told Mail Today.
India's extensive rail network runs 12,000 trains a day and the full-length track could circle the globe over one and a half times.
More than 23 million passengers travel on it every day on journeys that extend from one end of the country to another.
Indian officials inspect the wreckage following a train derailment in Kanpur, Uttar Pradesh state, on December 28, 2016
But the network has a poor safety record, with thousands of people dying in accidents every year, including in train derailments and collisions.
While an initial probe by the railways have hinted sabotage, experts are also examining if the derailments were caused by a track fracture.
The railway ministry has already sought a CBI inquiry into the crashes after an internal probe report said the fishplate was missing from the tracks at the site of the November 20 derailment.
'During track-patrolling, trackmen Sanjeev Kumar and Ramraj found 50 elastic rail clips and three pairs of fishplates removed from the railway track between Kalyanpur and Mandhana railway stations of Farrukhabad-Kanpur Anwarganj section.
'Many cuts by a hacksaw were also found on the track,' the report said. The country recorded 27,581 railway deaths in 2014, the most recent year for which figures are available, with most victims falling from, or being struck by, moving trains.
Sources said the railway ministry will allocate Rs 2,000 crore for track maintenance and safety in the upcoming budget.
An official said the Railways plans to procure ultrasonic-flaw detection machines for minute scanning of the tracks.
The machine, being used in countries such as Japan, Spain and China, employs ultrasonic waves to detect if there is any fracture or physical obstruction on the tracks.
The Indian Railways spends over Rs 55,000 crore annually on safety, but its share on track maintenance has been abysmally low.
Sources said the organisation allocated merely Rs 60 crore for safety of tracks in 2012-13 and Rs 287 crore in the next fiscal year.
In 2014-15, no money was earmarked for this purpose.
However, the Narendra Modi government increased the expenditure on track safety to Rs 1,200 crore in 2015-16 and Rs 1,508 crore in 2016- 17.
The Railways has nearly 1.3 lakh kilometres of tracks across the country.
Jan 18 2017 (11:47)  रेल हादसे की जांच में जुटे दक्षिण कोरियाई विशेषज्ञ (epaper.jagran.com)
back to top
IR AffairsNCR/North Central  -  

News Entry# 291510     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (11:47)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~  4748 news posts
संवाद सूत्र, कानपुर देहात : कानपुर के आसपास हो रहे रेल हादसों की विदेशी विशेषज्ञों ने भी जांच शुरू कर दी है। दक्षिण कोरिया से आई सात सदस्यीय विशेषज्ञों की टीम मंगलवार को रूरा पहुंची। टीम ने पिछले वर्ष के अंत में स्टेशन के निकट हुई सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस (12987) दुर्घटना के स्थल का गहन निरीक्षण किया। एक घंटे तक बंद कमरे में अफसरों से जानकारी ली, फिर रेलवे ट्रैक, पैनल बोर्ड व ऑटोमेटिक सिग्नल प्रणाली, ट्रैक चेंजर व रूट चार्ट का बारीकी से निरीक्षण किया। टीम ने दुर्घटना स्थल की ड्राइंग एवं स्थलीय स्थिति का अवलोकन किया। स्थानीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा कर अनुरक्षण आदि के विषय में जानकारी प्राप्त की। टीम पुखरायां में भी जांच करेगी। 1पुखरायां व रूरा में हुए हादसों को रेल मंत्रलय ने बेहद गंभीरता से लिया है। हादसों के कारणों की पड़ताल के लिए दक्षिण कोरिया सहित कई देशों से संपर्क कर रोकथाम का प्रयास...
more...
शुरू किया है। हादसों को रोकने के लिए विदेशी तकनीक का इस्तेमाल करने का फैसला किया गया है। इसके तहत करीब 11 बजे कोरिया के क्वांग व उनके सहायक जीओ जुंग की अगुवाई वाली सात सदस्यीय टीम ने रेलवे अफसरों के साथ रूरा स्टेशन के एक कक्ष में बातचीत की। अब तक की छानबीन में उभरे तथ्यों की जानकारी हासिल की। टीम ने स्टेशन के पैनल बोर्ड, ऑटोमेटिक सिग्नल प्रणाली, रूरा स्टेशन के अप व डाउन के रेल ट्रैक चेंजर चेक किया और घटनास्थल पर जाकर पटरियों की गुणवत्ता भी परखी। रेलवे विभाग के ईडी वीपी अग्रवाल ने बताया कि कोरियाई टीम पुखरायां में हुए रेल हादसे के कारणों की भी पड़ताल करेगी। टीम अपनी रिपोर्ट रेल मंत्रलय को सौंपेगी, जिसके अनुरूप भविष्य में आवश्यकतानुसार तकनीकी सुधार किए जा सकेंगे। निरीक्षण के दौरान कार्यकारी निदेशक रेलवे बोर्ड बीपी अवस्थी, उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य ट्रैक इंजीनियर सीपी गुप्ता,इलाहाबाद मण्डल के वरिष्ठ मण्डल इंजीनियर (समन्वय) एसके गुप्ता, सीनियर डीएनसी सुनील कुमार गुप्ता, सीडीईएम मो. शमीम, एईएन आशीष वर्मा, सीटीई सीपी गुप्ता आदि मौजूद रहे।संवाद सूत्र, कानपुर देहात : कानपुर के आसपास हो रहे रेल हादसों की विदेशी विशेषज्ञों ने भी जांच शुरू कर दी है। दक्षिण कोरिया से आई सात सदस्यीय विशेषज्ञों की टीम मंगलवार को रूरा पहुंची। टीम ने पिछले वर्ष के अंत में स्टेशन के निकट हुई सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस (12987) दुर्घटना के स्थल का गहन निरीक्षण किया। एक घंटे तक बंद कमरे में अफसरों से जानकारी ली, फिर रेलवे ट्रैक, पैनल बोर्ड व ऑटोमेटिक सिग्नल प्रणाली, ट्रैक चेंजर व रूट चार्ट का बारीकी से निरीक्षण किया। टीम ने दुर्घटना स्थल की ड्राइंग एवं स्थलीय स्थिति का अवलोकन किया। स्थानीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा कर अनुरक्षण आदि के विषय में जानकारी प्राप्त की। टीम पुखरायां में भी जांच करेगी। 1पुखरायां व रूरा में हुए हादसों को रेल मंत्रलय ने बेहद गंभीरता से लिया है। हादसों के कारणों की पड़ताल के लिए दक्षिण कोरिया सहित कई देशों से संपर्क कर रोकथाम का प्रयास शुरू किया है। हादसों को रोकने के लिए विदेशी तकनीक का इस्तेमाल करने का फैसला किया गया है। इसके तहत करीब 11 बजे कोरिया के क्वांग व उनके सहायक जीओ जुंग की अगुवाई वाली सात सदस्यीय टीम ने रेलवे अफसरों के साथ रूरा स्टेशन के एक कक्ष में बातचीत की। अब तक की छानबीन में उभरे तथ्यों की जानकारी हासिल की। टीम ने स्टेशन के पैनल बोर्ड, ऑटोमेटिक सिग्नल प्रणाली, रूरा स्टेशन के अप व डाउन के रेल ट्रैक चेंजर चेक किया और घटनास्थल पर जाकर पटरियों की गुणवत्ता भी परखी। रेलवे विभाग के ईडी वीपी अग्रवाल ने बताया कि कोरियाई टीम पुखरायां में हुए रेल हादसे के कारणों की भी पड़ताल करेगी। टीम अपनी रिपोर्ट रेल मंत्रलय को सौंपेगी, जिसके अनुरूप भविष्य में आवश्यकतानुसार तकनीकी सुधार किए जा सकेंगे। निरीक्षण के दौरान कार्यकारी निदेशक रेलवे बोर्ड बीपी अवस्थी, उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य ट्रैक इंजीनियर सीपी गुप्ता,इलाहाबाद मण्डल के वरिष्ठ मण्डल इंजीनियर (समन्वय) एसके गुप्ता, सीनियर डीएनसी सुनील कुमार गुप्ता, सीडीईएम मो. शमीम, एईएन आशीष वर्मा, सीटीई सीपी गुप्ता आदि मौजूद रहे।
Jan 18 2017 (09:27)  कानपुर ट्रेन हादसों के पीछे आईएसआई ट्रैक में बम लगाते समय आ पहुंची थी ट्रेन (epaper.livehindustan.com)
back to top
Crime/AccidentsNCR/North Central  -  

News Entry# 291492     
   Tags   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.

Posted by: Aditya Immortal ©~  217 news posts
कानपुर ट्रेन हादसों के पीछे आईएसआई
पुखरायां और रूरा में बम धमाके से ट्रेन बेपटरी की
पटना/लखनऊ हिन्दुस्तान टीमकानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस व सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस हादसों के पीछे पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ था। नेपाल और सउदी अरब में बैठे एजेंटों की मदद से इसे अंजाम दिया। मोतिहारी से तीन युवकों की गिरफ्तारी के बाद यह सनसनीखेज खुलासा हुआ है। लखनऊ से भी गई टीम:लखनऊ से एटीएस की दस सदस्यीय टीम एसपी के नेतृत्व मेंमोतिहारी भेजी गई है। बिहार एटीएस, एनआईए, रॉ समेत कई एजेंसियां मामले की जांच में जुटी हैं।
...
more...
अहम खुलासे:पूर्वी चंपारण के एसपी जितेन्द्र राणा ने मंगलवार को बताया कि भारत-नेपाल सीमा से हाल में पकड़े गए मोती पासवान से कई अहम जानकारियां हाथ लगी हैं। दोनों ट्रेन हादसे कानपुर के पास पुखरायां और रूरा में हुए थे। इनमें मोती सक्रिय रूप से शामिल था। जितेंद्र राणा ने बताया कि घोड़ासहन में पिछले साल 1 अक्तूबर को रेल ट्रैक पर बम मिला था। इसकी जांच के दौरान पुलिस ने मोती पासवान, मुकेश और उमाशंकर को गिरफ्तार किया है। मोती ने पुलिस को बताया कि घोड़ासहन में ट्रैक उड़ाने के लिए नेपाल के बृजकिशोर गिरी को 20 लाख रुपये दिए गए थे। दुबई में बैठे आईएसआई एजेंट शमशुल होदा ने पूरी योजना बनाई थी। मगर यह योजना सफल नहीं हुई। इसके बाद मोती को कानपुर में बम प्लांट करने के लिए बुलाया गया।
शमशुल : दुबई में बैठा मास्टरमाइंडमोती पासवान : बम ‘प्लांट’ कियाजियाउर-जुबैर : मोती के साथीबृजकिशोर गिरि : घोड़ासहन में बम लगाने की जिम्मेदारी इसे मिली थीमुजाहिदीन व शंभू : बृजकिशोर के साथी
20 नंवबर को कानपुर से 57 किमी दूर पुखरायां में सुबह 3 बजे इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हुई थी। इसमें 153 की मौत जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल थे। वहीं, 28 दिसंबर को हुए रूरा हादसे में किसी की मौत नहीं हुई थी।
पुखरायां में आतंकियों ने पूरी ट्रेन उड़ाने की साजिश रची थी। मोतिहारी पुलिस की पूछताछ के दौरान पकड़े गए आरोपी ने यह खुलासा किया है। बिहार मोतिहारी के एसपी जितेंद्र राणा ने बताया कि मोती पासवान हत्या, लूट समेत कई अन्य संगीन धाराओं में जेल जा चुका है। उसके तार नक्सलियों से भी जुड़े हैं। नक्सली घटना में भी वह जेल जा चुका है। पूछताछ में मोती ने बताया कि उसका संपर्क जब नेपाल के बृजकिशोर से हुआ तो वहां से ट्रेन उड़ाने का काम उसे सौंपा गया। जिसके बाद उसने सौदा तय किया और कानपुर आ गया। मोती के मुताबिक बृज किशोर ने उसे पूरी ट्रेन उड़ाने को कहा था लेकिन जब वह बम प्लांट कर रहा था तो उसके पास समय की कमी थी। इसके चलते वह पूरे बम नहीं लगा सका। हादसे में डेढ़ सौ से अधिक जानें गईं। फिर भी सैकड़ों जानें बच गईं।इसलिए कम हुई थी सौदे की रकम: एक अक्तूबर को पूर्वी चम्पारण के घोड़ासहन में ट्रेन उड़ाने के लिए मोती ने बीस लाख रुपए का सौदा किया था लेकिन वारदात को अंजाम देने से पहले ही पुलिस ने साजिश को नाकाम कर दिया था। पुलिस सूत्रों की माने तो इसी वजह से पुखरायां रेल हादसे के लिए मोती को सिर्फ दो लाख दिए गए थे। कानपुर में ट्रैक उड़ाने के लिए दिए 2 लाख रुपये : दुबई में बैठे आईएसआई एजेंट शमशुल होदा ने कानपुर में रेल ट्रैक क्षतिग्रस्त करने के लिए मोती पासवान को दो लाख रुपये दिए। कानपुर में कामयाब होने के बाद मोती इंदौर और दिल्ली गया। वहां से वह नेपाल चला गया। एसपी के मुताबिक मोती ने कानपुर हादसों के मामले में दिल्ली से गिरफ्तार जियाउर और जुबैर की तस्वीर देख उनकी पहचान की है। दोनों उसके साथ कानपुर की घटना में शामिल थे। वहीं, उसके तीन साथी बृजकिशोर गिरी, मुजाहिदीन अंसारी और शंभू गिरि को भी नेपाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
कई सवालों के जवाब ढूंढने में जुटीं खुफिया एजेंसियां
कानपुर। शहर में नक्सलियों से कौन-कौन जुड़ा है? आतंकियों के एजेंट कौन हैं? इन सभी ने कहां ठिकाने बनाए हैं? और इनके मकसद और इरादे क्या हैं? पुखरायां रेल हादसे में आतंकी साजिश का खुलासा होने के बाद खुफिया एजेंसियों ने इन सवालों के जवाब ढूंढ़ने में जुट गए हैं। खासकर कानपुर के आउटर इलाकों पर जांच टीमों की नजर हैं। विभागीय अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। वहीं सेंट्रल स्टेशन सहित अन्य भीड़भाड़ इलाकों में पुलिस व जीआरपी को सतर्क रहने को कहा गया है। एटीएस एसएसपी के मुताबिक आतंकियों ने कानपुर को ही हादसे के लिए क्यों चुना और इसके लिए बिहार से मोती को क्यों भेजा गया है। एसएसपी की माने तो कहीं न कहीं शहर का कोई न कोई नक्सलियों व आतंकियों से जुड़ा हुआ है। जिसकी शह पर मोती पासवान शहर पहुंचा।
रूरा (कानपुर देहात)। रेल हादसों से हलकान रेल मंत्रलय ने दक्षिण कोरिया के रेलवे विशेषज्ञों से मदद मांगी है। मंगलवार को दक्षिण कोरिया का एक दल 28 दिसंबर को हुए अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस हादसे की जांच के लिए रूरा पहुंचा। विशेषज्ञों ने दुर्घटनास्थल पर बारीकी से पड़ताल की। रेलवे ट्रैक से लेकर परिचालन, कंट्रोल और सिग्नल प्रणाली तक की गहनता से जांच की। कोरिया की टीम ने ट्रैक के मेंटीनेंस पर सवाल उठाते हुए इसमें सुधार की जरूरत बताई। विशेषज्ञ दल के मुखिया कवांग ने रेल मंत्रलय को एक हफ्ते में रिपोर्ट सौंपने की बात कही है। रूरा स्टेशन के पास हुए ट्रेन हादसे की जांच के लिए मंगलवार को दक्षिण कोरिया के विशेषज्ञ इंजीनियर कवांग और हियो ज्यूंग के नेतृत्व में छह सदस्यीय टीम दुर्घटनास्थल पर पहुंची। रेलवे ट्रैक का अल्ट्रासोनिक फ्रैक्चर डिटेक्सन टेस्ट के साथ टीम ने क्षतिग्रस्त डिब्बों की फोटोग्राफी की। टीम ने कंट्रोलिंग प्रणाली को परखा। कवांग व ज्यूंग ने बताया कि रेलवे ट्रैक, कंट्रोलिंग की गहनता से जांच की गई है।
Jan 18 2017 (08:02)  कानपुर में आइएसआइ ने कराया था रेल हादसा! (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 291478     
   Tags   Past Edits
Jan 18 2017 (08:02)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Pp*^~/36064

Jan 18 2017 (08:02)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by Pp*^~/36064

Jan 18 2017 (08:02)
Station Tag: Ghorasahan/GRH added by Pp*^~/36064

Posted by: Pp*^~  5969 news posts
उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए रेल हादसे व पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन स्टेशन के पास इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आइईडी) लगाने की साजिश पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ ने रची थी। यह खुलासा मंगलवार को मोतिहारी पुलिस के हत्थे चढ़े तीन शातिर बदमाशों में शामिल आदापुर निवासी मोती पासवान ने पुलिस के समक्ष किया। उसने बताया कि कानपुर में 21 नवंबर 2016 को हुए रेल हादसे की साजिश आइएसआइ ने ही की थी। इसमें में मैं भी शामिल था। मेरे साथ कानपुर में कई अन्य भी थे, जिनमें दिल्ली में पकड़े गए बदमाश जुबैर व जियायुल शामिल थे। एसपी जितेन्द्र राणा के समक्ष उसने उन दोनों की तस्वीरों से पहचान की। मोती ने बताया कि कानपुर से पहले पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन स्टेशन के पास रेल ट्रैक व चलती ट्रेन को उड़ाने की साजिश भी उसी संगठन ने रची थी। इसके लिए नेपाल में गिरफ्तार ब्रजकिशोर गिरी ने आदापुर निवासी अरुण व...
more...
दीपक राम को तीन लाख रुपये दिए थे। लेकिन, इन्होंने आइईडी लगाने के बाद भी रिमोट का बटन नहीं दबाया। इस कारण वह विस्फोट नहीं हो सका। इस कारण नेपाल बुलाकर ब्रजकिशोर ने अरुण व दीपक की हत्या कर शव फेंक दिया। देखें पेज 3 भी।’>>पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन में भी आइईडी लगाने में था आइएसआइ का हाथ1’>>रिमोट नहीं दबाने वाले लोगों की नेपाल में बुलाकर कर दी गई हत्या 1पकड़े गए लोग नेपाल के ब्रजकिशोर गिरी के माध्यम से आइएसआइ के लिए काम कर रहे थे। इस कड़ी में मोती पासवान कानपुर में रेल हादसे को अंजाम देने के लिए गया था। 1जितेंद्र राणा, एसपी, मोतिहारी, पूच.’2009मोतिहारी पुलिस के हत्थे चढ़े तीन शातिर बदमाशों में शामिल आदापुर के मोती पासवान ने किया खुलासा1’2009कहा-दिल्ली में गिरफ्तार जुबैर व जियायुल भी थे कानपुर में मेरे साथ1’2009घोड़ासहन में रेल ट्रैक उड़ाने के लिए नेपाल में गिरफ्तार ब्रजकिशोर गिरी ने अरुण व दीपक राम को दिए थे तीन लाख रुपये, विस्फोट नहीं होने के बाद नेपाल बुलाया और कर दी हत्या
Jan 17 2017 (22:16)  कानपुर ट्रेन हादसे के पीछे सामने आया आईएसआई का कनेक्शन, दुबई से भेजा गया था मोटा पैसा! (hindi.news18.com)
back to top
Crime/AccidentsNCR/North Central  -  

News Entry# 291470     
   Tags   Past Edits
Jan 17 2017 (22:16)
Station Tag: Indore Junction BG/INDB added by Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~/541803

Jan 17 2017 (22:16)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~/541803

Jan 17 2017 (22:16)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~/541803

Jan 17 2017 (22:16)
Station Tag: Pokhrayan/PHN added by Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~/541803

Jan 17 2017 (22:16)
Train Tag: Indore - Rajendranagar Express (via Sultanpur)/19313 added by Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~/541803

Posted by: Give LHB Rake to 12155 12156 Bhopal Exp~  27 news posts
पिछले साल नवंबर के महीने में कानपुर में हुए भीषण ट्रेन हादसे के बारे में बिहार पुलिस ने सनसनीख़ेज़ खुलासा किया है. बिहार पुलिस के मुताबिक कानपुर रेल हादसा असल में आतंकी साज़िश थी, जिसे पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने अंजाम दिया था.
बिहार पुलिस ने मोतिहारी जिले से मोती पासवान नाम के एक शख़्स को गिरफ़्तार किया है. पुलिस के मुताबिक मोती ने कबूल किया है कि उसी ने कानपुर में रेल पटरी को बम धमाके से उड़ाया था. इसके लिए आईएसआई ने उसको नेपाल के रास्ते मोटी रकम भेजी थी. दिल्ली में भी दो आरोपियों को इस मामले में गिरफ़्तार किया गया है. कानपुर के पुखरायां में हुए ट्रेन हादसे में 150 लोग मारे गए थे.
बिहार
...
more...
की पूर्वी चंपारण पुलिस के खुलासे के बाद अब यह सवाल उठने लगे हैं कि क्या पटना-इंदौर ट्रेन और अजमेर-सियालदह ट्रेन हादसे के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ था ? चंपारण पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है कि दुबई में बैठे शमसुल होदा ने अपने लोगों के जरिये इन घटनाओं को अंजाम दिया था.
दरअसल, बिहार की पुलिस पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन में एक अक्टूबर 2016 को रेल पटरी पर मिले बम के मामले की जांच कर रही थी. जांच के दौरान इस मामले में मोती पासवान नामक व्यक्ति की संलिप्तता सामने आयी. मोती से जब पूछताछ हुई तो ये सनसनीखेज खुलासा हुआ. दुबई में बैठे नेपाली कारोबारी शमसुल होदा ने ये साजिश रची थी. उसने नेपाल के अपराधी ब्रजकिशोर गिरी के जरिये पैसा भिजवाया. इसी पैसे से अपराधियों ने रेल पटरियों पर बम लगाया.
bihar1
पूर्वी चंपारण के एसपी जितेंद्र राणा ( etv pic)
पुलिस ने मोती पासवान से पूछताछ के आधार पर दिल्ली से दो और अपराधियों को धर दबोचा है. हालांकि मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए मोतिहारी पुलिस ज्यादा कुछ बोलने से परहेज कर रही है.
जिले के एसपी जितेंद्र राणा ने कहा कि उमाशंकर पटेल, मोती पासवान, मुकेश यादव को रक्सौल के विभिन्न क्षेत्रों से गिरफ्तार किया गया था. इन तीनों से पूछताछ आधार पर दो लड़के अरुण राम और दीपक राम की नेपाल में हत्या के मामले का खुलासा किया गया.
एसपी ने बताया कि पूछताछ के दौरान मोती पासवान ने खुलासा किया है कि पटना-इंदौर रेल हादसे में उसका हाथ था. नेपाल में बैठे ब्रजकिशोर गिरी ने इसके लिए फंडिंग की थी. नेपाल में ब्रजकिशोर गिरी, मुजाहिर अंसारी, शंभु उर्फ चंडू, गजेद्र शर्मा और राकेश यादव को गिरफ्तार किया गया है. इस मामले की जांच की जा रही है.
अरुण राम और दीपक राम की हत्या
पुलिस के अनुसार पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन में रेलवे ट्रैक के पास बम ब्लास्ट होने के पहले खुलासा होने के कारण अरुण राम और दीपक राम की नेपाल में हत्या कर दी थी. जिनका शव नेपाल के जंगल से 20 अक्टूबर को मिला था. इन दोनों को घोड़ासहन में बम रखने के लिए तीन लाख रुपये दिये गये थे.
कौन है मोती पासवान?
मोती पासवान पूर्व चंपारण के आदापुर थाना के बखरी गांव का रहने वाला है. अरुण राम और दीपक राम भी इसी गांव के रहने वाले थे. बखरी गांव भारत-नेपाल बॉर्डर पर नेपाल बॉर्डर से सटा हुआ गांव है.
मोती पासवान के खिलाफ पूर्वी चंपारण, शिवहर और सीतमाढ़ी में 14 के करीब लूट और हत्या के मामले दर्ज हैं.
कौन है शमसुल होदा?
शमसुल होदा नेपाल का रहनेवाला है और दुबई में बिजनेस करता है. सूत्रों के अनुसार होदा का पाकिस्तान के आईएसआई और दाउद इब्राहिम से भी संबंध है. पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन और कानपुर में इंदौर-पटना रेल एक्सप्रेस के पीछे नेपाली के शमसुल होदा का हाथ है जो ब्रजकिशोर गिरी के जरिए अंजाम देता था.
गौरतलब है कि भारत-नेपार बॉर्डर से ही आतंकवादी यासिन भटकल को गिरफ्तार किया था. 20 नंवबर 2016 को कानपुर के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हुई थी. इसमें 153 लोगों की मौत हुई थी और 200 से ज्यादा लोग घायल थे.
बीते दिनों कानपुर में हुई ट्रेन दुर्घटनाओं में आइएसआइ की संलिप्तता थी। आइएसअाइ ने बिहार के घाड़ासहन में भी ट्रेन को उड़ाने की साजिश रची थी, जो नाकाम रही। यह सनसनीखेज खुलासा बिहार पुलिस ने मंगलवार को किया।बिहार पुलिस के इस खुलासे के बाद उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम बिहार के मोतिहारी पहुंच चुकी है। यह टीम गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ करेगी।उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए रेल हादसों व पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन स्टेशन के पास इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आइईडी) लगाने की साजिश के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ थी। बीते दिन मोतिहारी पुलिस के हत्थे चढ़े तीन शातिर अपराधियों ने यह स्वीकर किया।बताते चलें कि इंदौर से पटना जा रही ट्रेन इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस पिछले साल 20 नवंबर में दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। इसमें 142 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद कानपुर में ही रूरा के पास अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी।
गिरफ्तार
...
more...
अपराधियों में शामिल मोती पासवान ने बताया कि दुबई के अप्रवासी नेपाली कारोबारी शमशुल होदा ने उसे ट्रेन को दुर्घटनाग्रस्त करने की जिम्मेवारी सौंपी थी। घोड़ासान में 01 अक्तूबर को ट्रेन दुर्घटना के टल जाने पर के बाद उसने कानपुर में इंदौर-पटना तथा अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस को उड़ाने की जिम्मेवारी दी थी। मोती के अनुसार शमशुल आइएसआइ के लिए काम करता है। उसके नेटवर्क में कई बड़े आतंकवादी भी हैं।
ट्रेन हादसा : जब बूढ़ी मां की छड़ी ने बचा ली पूरे परिवार की जान...जानिए
मोती पासवान ने बताया कि कानपुर में 20 नवंबर 2016 को हुए रेल हादसे की साजिश आइएसआइ ने रची थी। उसे अंजाम देने में उसके साथ ऑर भी लोग थे। उनमें से दो जुबैर व जियायुल दिल्ली में पकड़े जा चुके हैं। पूर्वी चंपारण के एसपी जितेन्द्र राणा के समक्ष उसने दोनों की तस्वीर देखकर पहचान की।
मोती ने बताया कि कानपुर से पहले पूर्वी चंपारण जिले के घोड़ासहन स्टेशन के पास रेल ट्रैक व चलती ट्रेन को उड़ाने की साजिश भी आइएसआइ ने रची थी। इसके लिए नेपाल में गिरफ्तार ब्रजकिशोर गिरी ने आदापुर निवासी अरुण व दीपक राम को तीन लाख रुपये दिए थे।
अजमेर-सियालदह एक्स. दुर्घटनाग्रस्त, हेल्पलाइन नंबर जारी
मोती के अनुसार अरुण व दीपक राम ने आइईडी लगाने के बाद भी रिमोट का बटन नहीं दबाया। इस कारण विस्फोट नहीं हो सका और विध्वंसात्मक कार्रवाई की साजिश नाकाम हो गई थी। मोती ने साफ किया कि घटना को अंजाम नहीं देने के कारण नेपाल बुलाकर ब्रजकिशोर ने अरुण व दीपक की हत्या कर शव को फेंक दिया था।
दाउद की भी संलिप्तता से इंकार नहीं
पूर्वी चंपारण के एसपी जितेंद्र राणा ने पकड़े गए मोती पासवान, उमाशंकर प्रसाद व मुकेश यादव के बारे में बताया कि उनके आइएसआइ से लिंक के प्रमाण मिले हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो की टीम सभी से पूछताछ कर चुकी है। रॉ व एनआइए को इस आशय की सूचना भेजी गई है। एसपी ने इस साजिश के पीछे दाउद इब्राहिम का हाथ होने की आशंका से भी इंकार नहीं किया।
एसपी ने बताया कि इस सिलसिले में तीन लोग नेपाल में भी गिरफ्तार किए गए हैं। उनमें नेपाल के कलेया निवासी ब्रजकिशोर गिरी, शंभू उर्फ लड्डू और मोजाहिर अंसारी शामिल हैं। नेपाल पुलिस से जो जानकारी आई है, उसमें बताया गया है कि आइएसआइ ने बिहार में विध्वंसात्मक कार्रवाई का जिम्मा ब्रजकिशोर गिरी को दे रखा था और उसे इसके लिए 30 लाख रुपये भी दिए गए थे।
रेल राज्यमंत्री ने कहा, पूछताछ जारी
रेलवे राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि मोतीहारी से गिरफ्तार अपराधियों का पुखरायां ट्रेन हादसे में भी हाथ था। उनसे पूछताछ की जा रही है।
Jan 17 2017 (00:21)  पुराना प्लेटफार्म तोड़ बिछाना होगा नया ट्रैक (www.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNCR/North Central  -  

News Entry# 291388   Blog Entry# 2131801     
   Tags   Past Edits
Jan 17 2017 (00:21)
Station Tag: Govindpuri Junction/GOY added by Prakhar*^~/622971

Jan 17 2017 (00:21)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Prakhar*^~/622971

Posted by: Prakhar*^~  220 news posts
जागरण संवाददाता, कानपुर : गोविंदपुरी स्टेशन को टर्मिनल बनाने के लिए सबसे पहले पुराने प्लेटफार्म को तोड़कर नया रेलवे ट्रैक बिछाना होगा। नया ट्रैक बिछेगा तो सिग्नल आदि को हटाने के साथ कई अन्य काम भी करने होंगे। जब युद्धस्तर पर काम होगा तभी सीआरबी की घोषणा के मुताबिक जून माह तक गोविंदपुरी स्टेशन टर्मिनल बनने लायक हो सकेगा।
.
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष (सीआरबी) एके मित्तल जून तक गोविंदपुरी स्टेशन को टर्मिनल बनाने का लक्ष्य निर्धारित कर गए हैं। इसके लिए कड़ी मशक्कत करनी होगी। गोविंदपुरी अभी कामर्शियल स्टेशन है, आपरेटिंग स्टाफ
...
more...
यहां नहीं बैठता है। केवल टिकट वितरण और रिजर्वेशन का ही काम होता है। स्टेशन मास्टर से लेकर अन्य स्टाफ की तैनाती करनी होगी।
.
..तो गोविंदपुरी से चलेगी श्रमशक्ति
रेलवे सूत्र बताते हैं कि टर्मिनल बनने पर गोविंदपुरी से ही श्रमशक्ति को चलाने का मसौदा तैयार कर लिया गया है। इसके अलावा कुछ और ट्रेनें दी जा सकती हैं। लगभग आधा दर्जन ट्रेनों के ठहराव वाले गोविंदपुरी स्टेशन पर अभी ट्रेनों का चयन नहीं किया गया है पर श्रमशक्ति तय है।
.
यह है व्यवस्था
पुराना प्लेटफार्म है छोटा : पुराना प्लेटफार्म पांच-छह बोगियों वाला ही है। इस पर 22-24 बोगी की ट्रेन खड़ी नहीं हो सकती। इससे सटा एक प्लेटफार्म बनकर तैयार है जो 26 बोगी ट्रेन के लिए उपयुक्त है।
बिल्डिंग है तैयार : गोविंदपुरी स्टेशन पर बिल्डिंग बनकर तैयार है। रेलवे कर्मी बताते हैं कि इसके बनने तक छह साल में पांच-छह ठेकेदार छोड़कर भाग चुके हैं। समय के साथ लागत बढ़ गई थी।
प्रतीक्षालय में टिकट वितरण : बिल्डिंग में स्थित महिला प्रतीक्षालय में टिकट वितरण व कैश का काम होता है। यहां चीफ बुकिंग सुपरवाइजर हरीप्रकाश बैठते हैं। कैश का काम होने की वजह से इसमें ग्रिल लगवा दी गई है। वहीं पुरुष प्रतीक्षालय में टिकट वितरण होता है।

2 posts - Wed Jan 18, 2017 - are hidden. Click to open.

288 views
Jan 19 2017 (06:44)
Prakhar*^~   4164 blog posts   412 correct pred (82% accurate)
Re# 2131801-3            Tags   Past Edits
Bht purana proposal. Kaam bht slow hai.
.
Lets see kab tak hota.
.
Haan scope and promising future hai
Jan 17 2017 (00:20)  बिठूर रेल लाइन पर अंडरपास बनना शुरू (www.jagran.com)
back to top
New Facilities/Technology

News Entry# 291387   Blog Entry# 2129886     
   Tags   Past Edits
Jan 17 2017 (00:20)
Station Tag: Brahmavart/BRT added by Prakhar*^~/622971

Jan 17 2017 (00:20)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Prakhar*^~/622971

Posted by: Prakhar*^~  220 news posts
बिठूर रेल लाइन पर अंडरपास बनना शुरू
.
बिठूर : रेलवे के नक्शे पर आने को बेताब बिठूर के लिए मंधना से रेलवे लाइन बिछाने का काम तेजी से चल रहा है। एक ओर जहां आमान परिवर्तन का काम चालू है, वहीं रविवार को इस रूट पर मोहम्मदपुर स्टेशन के निकट अंडरपास बनाए जाने का काम शुरू हो गया है। जिससे ग्रामीणों में खुशी है। बिठूर रेलवे लाइन पर साढ़े आठ किमी. ट्रैक बिछाने का काम चल रहा है। अ‌र्द्धनिर्मित मोहम्मदपुर स्टेशन से सटे मैनावती मार्ग के पास रविवार से सात सौ मीटर
...
more...
अंडरपास बनाने का काम शुरू कर दिया गया। ग्रामीणों का कहना है कि जल्द ही वह लोग रेल सेवा का लाभ ले सकेंगे। स्टेशन बनने के बाद ट्रेनें रुकेंगी और अंडरपास से आवागमन आसान हो जाएगा।

987 views
Jan 17 2017 (09:08)
AkashNER~   207 blog posts   52 correct pred (64% accurate)
Re# 2129886-1            Tags   Past Edits
That is some great news. Good to know that GC held it's pace over the time period and soon the rail connectivity would be there upto Brahmavart.
Page#    Showing 1 to 20 of 881 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site