Full Site Search  
Mon Apr 24, 2017 20:50:05 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;
Medium; Night Pic; Platform Pic; Large Station Board;

CNB/Kanpur Central (10 PFs)
کانپور سینٹرل     कानपुर सेंट्रल

Track: Quadruple Electric-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 10
Number of Halting Trains: 329
Number of Originating Trains: 44
Number of Terminating Trains: 44
Ghantaghar/Cantt. , KANPUR-208 001
State: Uttar Pradesh
Elevation: 129 m above sea level
Zone: NCR/North Central
Division: Allahabad
37 Travel Tips
CNB/Kanpur Central is in Recent News
Nearby Stations in the News

Rating: 3.4/5 (340 votes)
cleanliness - average (47)
porters/escalators - good (42)
food - average (42)
transportation - good (43)
lodging - good (40)
railfanning - good (43)
sightseeing - good (40)
safety - good (43)

Nearby Stations

CPA/Kanpur Anwarganj 2 km     CPNL/Kanpur C Panel 4 km     CPB/Kanpur Bridge Left Bank 4 km     GOY/Govindpuri Junction 4 km     CNBI/Chandari 4 km     RPO/Rawatpur 7 km     MGW/Magarwara 11 km     CHK/Chakeri 11 km     PNK/Panki 12 km     HLIN/Holding Line 12 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 936 News Items  next>>
Today (07:26)  चटकी पटरी से निकल गई मालगाड़ी (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 300579     
   Tags   Past Edits
Apr 24 2017 (07:26)
Station Tag: Jhinjhak/JJK added by मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~/1421836

Apr 24 2017 (07:26)
Station Tag: Ambiapur/AAP added by मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~/1421836

Apr 24 2017 (07:26)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~/1421836

Posted by: मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~  257 news posts
अंबियापुर के पास चटकी पटरी ’ जागरणअंबियापुर के पास चटकी पटरी ’ जागरणसंवाद सहयोगी, झींझक (कानपुर देहात) : 1दिल्ली हावड़ा रेल लाइन के अंबियापुर स्टेशन के पास अप ट्रैक में चटकी पटरी से मालगाड़ी निकल गई। मेट ने पटरी चटकी देख सूचना स्टेशन मास्टर अंबियापुर को दी। पटरी की मरम्मत कर धीमी गति से ट्रेनें निकाली गईं। बाद में एक घंटे 40 मिनट का ब्लाक लेकर पटरी बदली गई। 1रविवार सुबह 7:30 बजे कानपुर से गाजियाबाद जा रही मालगाड़ी अंबियापुर स्टेशन पार कर रायपुर केबिन से निकली। वहां से निकल रहे मेट की नजर खंभा नंबर 1073/23 -25 के बीच चटकी पटरी पर पड़ी। 1मेट ने अंबियापुर स्टेशन मास्टर को सूचना दी तो उन्होंने पीडब्ल्यूआई स्टाफ को अवगत कराया। इसके बाद चटकी पटरी को क्लैंप व फिस प्लेट लगाकर ठीक किया गया। पटरी दुरुस्त कर पटना-कोटा एक्सप्रेस, कानपुर-टूंडला पैसेंजर, युवा एक्सप्रेस, दीवाना एक्सप्रेस समेत कई गाड़ियां धीमी गति से निकाली गईं।...
more...
1दोपहर 12:20 बजे से 2 बजे तक ब्लाक लेकर चटकी पटरी को बदला गया। यातायात निरीक्षक कानपुर वीके शर्मा ने बताया अंबियापुर रेलवे स्टेशन के पास पटरी चटकने के कारण सुबह 7:30 बजे से 12:20 बजे तक 20 किमी प्रति घंटा की गति से ट्रेनों को निकाला गया। पटरी चटकने के एक घंटे तक अप लाइन पर कोई ट्रेन नहीं थी, जिससे ट्रेनें विलंबित नहीं हुईं। पीडब्ल्यूआई झींझक उमेश चंद्र चौहान ने बताया कि एक घंटा 40 मिनट का ब्लाक लेकर चटकी पटरी बदली गई।
Yesterday (17:13)  यात्री सुविधा समिति ने जंक्शन की सुविधाओं का देखा हाल,मनकापुर से कानुपर तक मेमू ट्रेनों का संचालन कराने की मांग (epaper.jagran.com)
back to top
Other NewsNER/North Eastern  -  

News Entry# 300538   Blog Entry# 2247724     
   Tags   Past Edits
Apr 23 2017 (17:13)
Station Tag: Mankapur Junction/MUR added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 23 2017 (17:13)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
Click here to enlarge image
संसू, गोंडा: शनिवार को रेलवे बोर्ड की रेल यात्री सुविधा समिति के सदस्य रामानंद त्रिपाठी, प्रभुनाथ चौहान, सुधीर मिश्र व मनीषा चटर्जी ने गोंडा जंक्शन पर यात्रियों की सुविधाओं की जांच की। करीब तीन घंटे तक समिति ने प्लेटफार्म से लेकर आरक्षण दफ्तर तक का कोना-कोना देखा। 1समिति के सदस्यों ने प्लेटफार्म पर यात्रियों से बात की। उन्हें मिल रही सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। साथ ही पेयजल व अन्य प्रबंधों का हाल देखा। इसके बाद टीम ने सरकुलेटिंग एरिया के साथ ही आरक्षण दफ्तर पहुंचकर सुविधाओं को देखा। यहां पर पेयजल की सुविधा बढ़ाने की मांग उठी। समिति ने साइकिल स्टैंड से लेकर खानपान स्टाल की भी जानकारी ली। इस दौरान पूवरेत्तर रेलवे परामर्शदात्री समिति
...
more...
के सदस्य पंकज कुमार श्रीवास्तव ने इलाहाबाद तक ट्रेन चलाने, ट्रेनों में हो रही अवैध वेंडरिंग पर रोक लगाने, स्टेशनों पर क्षतिग्रस्त यात्री प्रतीक्षालय को निर्मित कराने, हैंडपंप लगवाने तथा मनकापुर से कानुपर तक मेमू ट्रेनों का संचालन कराने की मांग की है। इधर पूवरेत्तर रेलवे श्रमिक संघ के केंद्रीय संगठन मंत्री भागवंत गुप्ता, राकेश कुमार श्रीवास्तव, सीबी यादव, शोभाराम वर्मा, केके पटेल सहित अन्य ने समिति के सदस्यों को ज्ञापन सौंपा। समस्याओं के निराकरण की मांग की गई। निरीक्षण के दौरान जंक्शन पर विशेष प्रबंध किए गए थे। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी खुद मानीटरिंग कर रहे थे। 1छाई रहीं समस्याएं1’गोंडा जंक्शन रेलवे स्टेशन से रेलवे कॉलोनी के लिए फुट ओवर ब्रिज बनाया जाए। 1’रेलवे कॉलोनी के आवास काफी जर्जर हो चुके हैं, उनकी मरम्मत कराई जाए। 1’रेलवे परिक्षेत्र में चहारदीवारी की व्यवस्था की जाय, जिससे बाहरी व्यक्तियों का प्रवेश न हो। 1’वा¨शग पिट न होने के कारण गोंडा से डायरेक्ट ट्रेनों का संचालन नहीं हो रहा है। 1’डीजल शेड में कार्यरत टेक्नीशियनों को वर्दी देने का प्रबंध किया जाए। ताकि पहचान हो सके।संसू, गोंडा: शनिवार को रेलवे बोर्ड की रेल यात्री सुविधा समिति के सदस्य रामानंद त्रिपाठी, प्रभुनाथ चौहान, सुधीर मिश्र व मनीषा चटर्जी ने गोंडा जंक्शन पर यात्रियों की सुविधाओं की जांच की। करीब तीन घंटे तक समिति ने प्लेटफार्म से लेकर आरक्षण दफ्तर तक का कोना-कोना देखा। 1समिति के सदस्यों ने प्लेटफार्म पर यात्रियों से बात की। उन्हें मिल रही सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। साथ ही पेयजल व अन्य प्रबंधों का हाल देखा। इसके बाद टीम ने सरकुलेटिंग एरिया के साथ ही आरक्षण दफ्तर पहुंचकर सुविधाओं को देखा। यहां पर पेयजल की सुविधा बढ़ाने की मांग उठी। समिति ने साइकिल स्टैंड से लेकर खानपान स्टाल की भी जानकारी ली। इस दौरान पूवरेत्तर रेलवे परामर्शदात्री समिति के सदस्य पंकज कुमार श्रीवास्तव ने इलाहाबाद तक ट्रेन चलाने, ट्रेनों में हो रही अवैध वेंडरिंग पर रोक लगाने, स्टेशनों पर क्षतिग्रस्त यात्री प्रतीक्षालय को निर्मित कराने, हैंडपंप लगवाने तथा मनकापुर से कानुपर तक मेमू ट्रेनों का संचालन कराने की मांग की है।

837 views
Yesterday (20:46)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   12918 blog posts   3042 correct pred (65% accurate)
Re# 2247724-1            Tags   Past Edits
Mankapur-CNB Memu..
GD-ALD INtercity....

589 views
Yesterday (23:03)
Gonda   404 blog posts   26 correct pred (70% accurate)
Re# 2247724-2            Tags   Past Edits
Ald to gd ice must necessary hai ....
Apr 21 2017 (09:00)  प्रभुजी! बुलेट ट्रेन बाद में पहले पीने का पानी तो उपलब्ध करा दीजिए (www.patrika.com)
News Entry# 300287   Blog Entry# 2244190     
   Tags   Past Edits
Apr 21 2017 (09:00)
Station Tag: Bhaupur/BPU added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Apr 21 2017 (09:00)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Posted by: ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~  427 news posts
कानपुर देहात. पारा 42 डिग्री तक पहुंच गया है। लोग गर्मी से बिलबिला रहे हैं। खासकर उन रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की परेशानी खासी बढ़ जाती है, जहां ना तो पीने के लिए साफ पानी है और ना ही छाया की व्यवस्था या कोई वृक्ष। ऐसे हालात में यात्रियों को स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार करना बेहद भारी पड रहा है। ऐसा ही कुछ हाल भाऊपुर रेलवे स्टेशन का है।
जिले का भाऊपुर रेलवे स्टेशन पर रोजाना यात्रियों के आवागमन होने के बावजूद सुविधाओं का टोटा है। धूप से बचने के लिए प्लेटफार्म पर छाया नहीं है, तो पीने के लिए पानी का इंतजाम न होने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
रेलवे
...
more...
अधिकारियों की लापरवाही से खराब नलों की मरम्मत न होने व टंकी का निर्माण न कराये जाने से स्टेशन पर पेयजल संकट गहराता जा रहा है। प्लेटफार्म पर सिर्फ एक हैंडपंप चालू है। स्टेशन पर ट्रेन रुकते ही यात्री उतरकर भागते हुए पानी लेने आते हैं। लेकिन नल एक और यात्री सैकड़ों होते हैं, ट्रेन को भी जाने की जल्दी होती है। ऐसे में कइयों को बिना पानी के ही वापस ट्रेन पकड़नी पड़ती है।
कई गांव के यात्री यहां से करते हैं यात्रा
दिल्ली हावडा रेल लाइन पर भाऊपुर स्टेशन पर फफूंद, कानपुर, शिकोहाबाद, टूंडला, आगरा जाने वाली करीब आधा दर्जन ट्रेनों का ठहराव है। इसके चलते इस स्टेशन से रंजीतपुर, आंट, हरिकिशनपुर, बलुआपुर, भाऊपुर समेत करीब 100 से अधिक गांव के लोग ट्रेन पकड़कर यात्रा करते हैं। ट्रेन लेट होने पर लोगों को प्लेटफार्म पर इंतजार करना पड़ता है, वहीं सिर्फ एक हैंडपम्प सही होने के चलते यात्रियों को समस्याओं से जूझना पड़ता है। ट्रेन आने पर अफरा-तफरी का माहौल बन जाता है।
पानी के लिए लगती है लंबी-लबी लाइन
भाऊपुर के दिनेश सिंह कहते है कि यात्रियों की प्यास बुझाने के लिए प्लेटफार्म पर एक ही हैंडपम्प है। ट्रेन रुकते पानी लेने के लिए मारामारी मच जाती है। अधिकांश यात्रियों को पानी भी नहीं मिल पाता है और ट्रेन चल देती है। अधिकारी इस समस्या पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं, जिससे यहां रेल यात्रियों की मुश्किलें और बढ़ती जा रही हैं। रेलयात्री नीरज तिवारी का कहना है कि भाऊपुर रेलवे स्टेशन से आस पास के गांव के लोगों का आवागमन है। यात्रियों को शुद्ध पेयजल के लिये एक पानी की टंकी बनाई जानी चाहिए, ताकि यात्रियों को पानी के लिए भटकना न पड़े। एक हैंडपम्प पर पानी के लिए यात्रियों को लाइन लगानी पड़ती है, फिर भी उन्हें साफ-स्वच्छ पानी नहीं मिल पाता है।
खराब पड़े हैंडपंप ही ठीक करा दें अफसर
रेलयात्री धर्मेंद्र यादव ने बताया कि यहां 8 हैंडपम्प खराब है। अगर अफसर वही ठीक करा दें तो स्टेशन पर पानी की समस्या दूर हो सकती है। कई बार अधिकारियों को इस समस्या से अवगत कराया जा चुका है, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वहीं, यात्री राजकुमार मिश्रा का कहना है कि गर्मी आने पर स्टेशन पर पेयजल की समस्या और विकराल हो जाती है। जल्दबाजी में लोगों को स्टेशन से हटकर कस्बे में जाकर या दुकानों से कीमत चुकाकर पानी खरीदना पड़ता है।
स्टेशन मास्टर बोले- अधिकारियों को लिखा है पत्र
स्टेशन मास्टर मनबोध यादव ने बताया कि टिकट व एमएसटी वाले 190 दैनिक यात्रियों के अतिरिक्त प्रतिदिन बड़ी तादाद में यात्रियों का आवागमन रहता है। गर्मी में पानी की दिक्कत बड़ी समस्या है। हैंडपम्प ठीक कराने के लिए उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा जा चुका है।

13 posts - Fri Apr 21, 2017 - are hidden. Click to open.

3 posts - Sat Apr 22, 2017 - are hidden. Click to open.

213 views
Apr 22 2017 (10:24)
ranjitg370   2343 blog posts   1141 correct pred (74% accurate)
Re# 2244190-18            Tags   Past Edits
Hum to chahte ke railways employees apna kaam thikse kare. Sab Railways Office mein biometric attendance machine lagana chahiye. Sab Railways Offices mein CCTV camera lagana chahiye. duty par thik time se aaye aur apne time se ghar jaye. apna kaam jimmedari se khud kare. Office mein work time gupshup na kare aur logon ke prati imaandaari se kaam kare. Logon par apna service ka roub na dikhaye. Jisse jo kaam diya hai woh kaam jimmedari se kare. Yaad rakho railways employees agar 12 lakh hai to india ki aam janta 130 crores hai. Isliye sudhar jaao aur apni duty thikse karo aur apni marzi chalana band karo thikse aur time se kaam karo.

228 views
Apr 22 2017 (10:30)
screen name~   658 blog posts   155 correct pred (71% accurate)
Re# 2244190-19            Tags   Past Edits
1 compliments
Shukriya
Apke isi tarah k utkrisht 14000 blogs poore hone per congratulations

204 views
Apr 22 2017 (10:46)
Proud atheist~   4221 blog posts   37 correct pred (63% accurate)
Re# 2244190-20            Tags   Past Edits
Baat karna seekho pehle..'.aapki sarkar' SE aap ka kya Matlab hai haan ?? Sarkar chahe kisi bhi party ki ho wo Sab ki hi hoti hai.

278 views
Apr 22 2017 (10:49)
ranjitg370   2343 blog posts   1141 correct pred (74% accurate)
Re# 2244190-21            Tags   Past Edits
Haan lekin log aise hote hai jo kisi ek sarkaar ko koshte hai.

292 views
Apr 22 2017 (10:54)
screen name~   658 blog posts   155 correct pred (71% accurate)
Re# 2244190-22            Tags   Past Edits
Agree sir LAST 2-3 YEARS se garam paani se dhyaan hata k chilled RO waale paani pe jyada dhyaan diya ja raha h

286 views
Apr 22 2017 (11:02)
Proud atheist~   4221 blog posts   37 correct pred (63% accurate)
Re# 2244190-23            Tags   Past Edits
Kaam hi aise kar rahi hai Rail ministry to log to bolenge hi..

293 views
Apr 22 2017 (11:06)
ranjitg370   2343 blog posts   1141 correct pred (74% accurate)
Re# 2244190-24            Tags   Past Edits
Aap bihar se aap to jalenge hi kyunki aapko bihar ka RM chahiye isliye aap to bolo mat

246 views
Apr 22 2017 (11:13)
Proud atheist~   4221 blog posts   37 correct pred (63% accurate)
Re# 2244190-25            Tags   Past Edits
Jalna to human nature hai Bhai..:) Aur waise Bihar ke Neta ko Rail minister ban NE SE kitne din tak koi rok sakta hai. Aaj Na sahi 2 saal baad hi sahi Bihar ka to RAil minister to banega hi..

307 views
Apr 22 2017 (11:25)
Proud atheist~   4221 blog posts   37 correct pred (63% accurate)
Re# 2244190-26            Tags   Past Edits
Railway Ministry: 8 Achievements That Really Aren't By Manoj K | Bengaluru | 25 Jul 2015 22:57 pm

This report has been updated to incorporate the Union railway ministry's response. Please read the full response at the end of this report
During the one year of Prime Minister Narendra Modi’s term, the Ministry of Railways has claimed several “new
...
more...
beginnings” and “key reforms”. Among its achievements: More rail track (1,375 km) electrified in one year than ever before; earnings increased 12%; more bio-toilets were installed; and a feasibility report received from Japan for the Mumbai-Ahmedabad bullet train during 2014-15.

Fact Checker took a look at the claims and the reality.
1. 12% RISE IN EARNINGS DUE TO “KEY REFORMS”: EARNINGS LOWER THAN PREVIOUS TWO YEARS
Claim: An increase of 12.2% increase in earnings during 2014-15 due to “key reforms in Railways”.
Reality: The 12% increase in earnings during 2014-15 compared with 2013-14 is lower than 19% and 12.9%, respectively, during each of the previous two financial years, 2012-13 and 2013-14.

Year Actual Earning (In Rs crore) % Increase in Earnings Compared To Previous Year
2007-08 73,467
2008-09 81,659 11.2%
2009-10 89,230 9.3%
2010-11 96,681 8.4%
2011-12 104,154 7.7%
2012-13 123,901 19%
2013-14 (Provisional) 139,838 12.9%
2014-15 157,881 12.2%
Source: Rajya Sabha, Lok Sabha, Report to People
2. WORLD BANK LOAN FOR EASTERN DEDICATED FREIGHT CORRIDOR: APPROVED BY THE PREVIOUS GOVERNMENT
Claim: Agreement signed for $1.1-billion loan from the World Bank for the Eastern Dedicated Freight (EDF) corridor.
Reality: The $1.1-billion loan from the World Bank for EDF corridor-II was approved on April 22, 2014, before Modi’s term began.

Year Railway Lines Electrified [Route Kilometres (RKM)] Increase In Electrification Of Railway Lines As Compared To The Previous Year [Route Kilometres (RKM)]
2007-08 502 -
2008-09 797 295
2009-10 1117 320
2010-11 975 -142
2011-12 1165 190
2012-13 1317 152
2013-14 1350 33
2014-15 1375 25
Source: Rajya Sabha, Lok Sabha, Railways Performance Report Card, Explanatory Memorandum on Railway Budget for 2015
3. RECORD ELECTRIFICATION OF RAIL TRACK: IT HAPPENS EVERY YEAR
Claim: 1,375 km of railway electrification completed during 2014-15, termed best-ever for Indian Railways.
Reality: Electrification data reveal such records are set almost every year. The increase in electrification between 2013-2014 and 2014-15 in terms of “route kilometres” is the least when compared to consecutive years over the past eight years (barring 2010-11).
Railway Ministry: 8 achievements that really arent
4. BIO-TOILETS, A KEY ACHIEVEMENT: YES, SINCE 2009
Claim: Bio-toilets have been stated as key achievements by Railways for 2014-15.
Reality: Bio-toilets, which treat human waste instead of letting it on to the tracks, were first installed in 2009: 11,777 bio-toilets have been installed in 4,356 passenger coaches till June 30, 2014.
Year Journey of Mumbai-Ahmedabad Bullet Train Feasibility Studies
2002 A Memorandum of Understanding has been signed by the Ministry of Railways and the Spanish Railways (RENFE) for undertaking a feasibility study for a High-Speed Train between Mumbai and Ahmedabad.
The proposal has been sent to Ministry of Finance for further processing. Ministry of Finance has further forwarded the proposal to Spanish Embassy in New Delhi. A study was undertaken by Japan International Cooperation Agency (JICA) in 1987 for Railway Improvement Plan of Transport Capacity and Train Speed on the Delhi Kanpur section.
Total investment was put at around Rs 2,200 crore (in 1987 prices) for laying a new high-speed corridor between Delhi and Kanpur. This study is about 15 years old. The traffic figures now indicate that Mumbai-Ahmedabad is the heaviest corridor. It is considered worthwhile to undertake a fresh study.
The decision about its funding will be taken up once the feasibility of the project is established. It will be offered to prospective investors through the Build, Own, & Operate route or a Public-Private Partnership, based on the feasibility established.
2004 A Techno-economic Feasibility Study for running High-Speed Train between Mumbai and Ahmedabad has been initiated. The proposal will be considered on receipt of the report.
2005 Ministry of Railways had posed High-Speed Rail-Link Project between Mumbai–Ahmedabad under Development Study Programme of Japanese Technical Cooperation Programme for the year 2005-06, through the Ministry of Finance.
Government has subsequently communicated to Japanese authorities that the feasibility study on the project may not be taken in view of the change of priority of the project.
Feb 2006 The high-speed train project is no longer a priority of the Government of India. Ministry of Railways has got the Feasibility Study for the high-speed Rail-link project between Mumbai and Ahmedabad done through Rail India Technical and Engineering Services (RITES) Ltd.
The estimated cost of the project was Rs 20, 352 crore. The rate of return was found to be very low.
July 2006 There was no proposal before Government to commence bullet trains in the country
2007 During the budget speech for 2007-08, it was announced that Ministry of Railways will conduct pre-feasibility studies for the construction of high-speed passenger corridors for running high-speed trains at speeds of 300-350 km per hour? one each in the Northern, Western, Southern and Eastern regions of the country. Pre-feasibility studies shall be undertaken.
It is expected that the pre-feasibility study shall take about two years. As per the budget speech, the proposal is to do pre-feasibility studies for running high-speed trains at a speed of 300– 350 kmph.
2010 Minister of Railways announced in the budget speech for 2010-11 that Railways will undertake construction of high-speed rail corridors in India. Railways have identified six corridors and as these projects require large investments, they will be taken up through the Public-Private Partnership route.
Railways have proposed to set up a National High-Speed Rail Authority for planning, standard setting, implementing and monitoring these projects.
2011 A pre-feasibility study for a high-speed rail corridor between Pune-Mumbai-Ahmedabad has been conducted. The report is under examination by Railways and the State Governments of Gujarat and Maharashtra.
Not possible to give any commitment for time schedule regarding introduction of High Speed trains on Indian Railway track. However, the proposal will be considered further, on receipt of reports.
May 2012 The present status of the pre-feasibility studies for High Speed Rail project Pune–Mumbai/Ahmedabad: “The prefeasibility study has been completed.”
Dec 2012 The status of Pune-Mumbai-Ahmedabad (650 km) corridor, where prefeasibility studies has been completed, is: The final report submitted by the consultant has been accepted by the Ministry of Railways.
The construction cost is estimated to be Rs 49,076 crore, and cost of rolling stock is Rs 6,783 crore (both at 2009 prices). The Internal Rate of Return (IRR) comes to 11.4%.
Feb 2014 Pune-Mumbai-Ahmedabad corridor pre-feasibility study has been completed and the final report submitted by the consultant has been accepted by the Ministry of Railways.
For the Mumbai-Ahmedabad High Speed Rail corridor, a joint feasibility study is being done by JICA which is co-financed by the Ministry of Railways and Government of Japan. The study started in December 2013 and will take 18 months for completion.
July 2014 As a part of the Diamond Quadrilateral High-Speed Rail Project on the Mumbai-Ahmedabad sector, two pre-feasibility studies have been completed, and, two studies, one a joint feasibility study and another, a business development study is in progress, as under:
(i) A joint feasibility study for Mumbai-Ahmedabad High Speed Corridor, co-financed by India and Japan, which started in December 2013, will be completed in 18 months.
(ii) A Business Development Study is being undertaken by French Railways (SNCF) which will be completed in 2014.
Feb 2015 For Mumbai-Ahmedabad sector, two studies, one a joint feasibility study, co-financed by India and Japan and another business-development study by French Railway (SNCF) have been undertaken. JICA submitted a first interim report in July 2014 and a second interim report in November 2014. SNCF has submitted the report in September 2014.
A provision of Rs 100 crore has been made in this budget for a high-speed project from RVNL/HSRC (High Speed Rail Corridor).
Source: Rajya Sabha
5. HELPLINE IS LAUNCHED: IT WAS READY FOR LAUNCH BEFORE UPA QUIT
Claim: Launching of a security helpline for passengers.
Reality: The plan was first approved for 2010-11 and just before the previous government finished its term, the ground work, including finalising the nodal railway zone (Northern Railway), executing agency, budget (Rs 5.2 crore) and signing an agreement with the telecom ministry, had been done.
6. STUDY DONE FOR MUMBAI-AHMEDABAD BULLET TRAIN: SERIES OF SUCH STUDIES OVER 13 YEARS
Claim: Feasibility report from Japan on the Mumbai-Ahmedabad bullet train.
Reality: Parliament data show a series of feasibility (or pre-feasibility) studies between 2002 and 2015. (See adjoining box)

Financial Year No. of Stations identified as Adarsh Stations No. of Stations developed as Adarsh Stations
2009-10 378 373
2010-11 201 132
2011-12 401 148
2012-13 278 131
2013-14 70 76
2014-15 0 108
Source: Lok Sabha, Rajya Sabha

7. 108 ADARSH (IDEAL) STATIONS: ROUTINE SINCE 2009
Claim: Passenger facilities improved at 108 stations under the Adarsh-stations scheme.
Reality: This is a routine affair, since the Adarsh-stations scheme kicked off in 2009 (to provide drinking water, toilets, catering services, waiting rooms and dormitories, especially for female passengers, better signage).
Year Status of Lumding-Silchar Broad Gauge Conversion
2000 Conversion of Lumding-Silchar section of N.F. Railway from metre-gauge into broad-gauge, Final location survey for diversions in the Gnat section to suit the requirement of BG and preparation of land acquisition plan and papers has been taken up.
The paper alignment for entire length and staking of the alignment has been completed in 150 km. Earthwork and bridges are now in progress between Lumding and silchar in 90 km length (40 km from Lumding end and 50 km from Silchar end).
40% of the earthwork and 50 minor bridges in this 90 km length have been completed. Work of Silchar-Jiribam gauge conversion is being carried out as a material modification of this work. Expenditure incurred upto March 2000 is Rs 79.8 crore and an outlay of Rs 40 crore has been provided in Budget 2000-01.
2003 Earthwork and bridge works are in progress. An expenditure of about Rs 115 crore has been incurred on this project up to Mar 31, 2002. An outlay of Rs 70 crore has been provided for 2002-03.
2004 The gauge conversion of Lumding-Silchar-Jiribam is in progress. On Lumding-Silchar section, land acquisition for 342 hectare out of total 368 hectare has already been completed. Earthwork to the tune of 196 lakh cubic metres out of total 292 lakh cure and 181 bridges out of total 379 bridges have already been completed.
Work on one tunnel is in progress and tenders for 18 tunnels are under finalisation. The anticipated cost of the project is Rs 1496 crore. An amount of Rs 265 crore has been spent on this project up to Mar 31, 2004 and an outlay of Rs 70 crore has been proposed in Budget 2004-05.
No target of completion has yet been fixed. The completion of the project would depend upon availability of resources. In the past, efforts were made to get additional funds from Non-Lapsable Central Pool of Resources.
However, it had not been feasible to allocate additional funds for Railway projects from this pool due to other, pressing demands of various states. Ministry of Development of North Eastern Region (DoNER) have advised that funds through Non-Lapsable Central Pool are provided only to those projects which are submitted by the North Eastern States in their priority list. Normally these projects do not include central sectors such as Railways.
2006 Lumding-Silchar conversion work adversely affected in hill section after the militant attack on Railway staff. In the militant attack on October 6, 2006, 12 persons including 11 Railway personnel were killed and two vehicles were damaged.
2008 The target for completion of Lumding-Silchar has been fixed as March 2011.
2009 Lumding-Silchar-Jiribam gauge conversion project: Overall physical progress is about 45%. The progress is adversely affected due to law & order problems in the region.
Cost of the project has increased due to various reasons including price escalation, change in scope of work, standard of construction etc. The anticipated cost as per budget, 2009-10 is Rs 2,500 crore. The project is targeted for completion by March 2012.

2013 Lumding-Silchar gauge-conversion project is in an advanced stage of execution. Overall progress of the project is 85%. Project is targeted for completion by March 2015, subject to availability of funds
Source: Rajya Sabha
8. MEGHALAYA GETS A RAIL LINE: WORK HAS BEEN ON FOR 19 YEARS
Claim: Lumding-Silchar broad gauge section inaugurated, Meghalaya comes on the rail map.
Reality: Gauge conversion work of Lumding-Silchar section started in 1996-97. There was often no money to continue the line or law-and-order problems delayed work. The target date was extended several times over the past few years. (See adjoining box)
Railways clarifies

The ministry of railways has stated that this report “indulges in meaningless hair-splitting” and does not reflect “the correct perspective”.

In a detailed note, the ministry has said that the increase of 12.2 per cent in earnings in 2014-15 is correct, but the growth has been due to better freight policies and system improvements. In 2013-14, the growth was on account of multiple fare hikes and tariff rationalisation, while in 2014-15, the four per cent growth in freight loading and 5.2 per cent growth in net tonnes per kilometer (NTKM) contributed to overall freight earnings. Moreover, the yields in passenger and freight earnings went up to 22 per cent and 8 per cent, respectively, in 2014-15, compared to 11 per cent and 6 per cent in the previous year.

With regard to the report’s claim that the $1.1-billion loan from the World Bank for the eastern dedicated freight corridor was approved on April 22, 2014, the Railways has clarified that the agreement for the loan was signed on December 11, 2014, and the final approvals for signing the loan and the guarantee agreement were received from the department of economic affairs on November 30, 2014. “The formal signing of the agreement has its own significance as it then paves the way for actual execution,” the note from the ministry of railways states.

On electrification of railway tracks, the clarification has noted that the achievement of 1,375 route-kilometres of electrification was more than the target of 1,350 kilometres fixed for 2014-15 and the target for 2015-16 has been enhanced to 1,600 kilometres. Similarly, the pace of fitting bio-toilets in trains picked up in 2014-15, the railways note states, while adding that the number of bio-toilets it fitted in trains between July 2014 and June 2015 was equal to what was fitted in the previous four years taken together. Also, the security helpline for passengers was indeed launched in 2014-15 though it was being planned for a long time.

On bullet trains, the ministry of railways has stated that both the interim and final reports on the feasibility study by Japan for bullet trains on the Mumbai-Ahmedabad corridor have been received. China is to undertake the feasibility study of introducing bullet trains on the New Delhi-Chennai corridor, it notes. Compared to the earlier pre- feasibility studies, the current study completed in July 2015 is a feasibility study having all the features of a detailed project report, including alignments, location of stations, depots, comparison of high-speed rail technology and completion cost estimates.

Referring to the report’s point on improving passenger facilities at 108 stations under the Adarsh Stations Scheme in 2014-15, the ministry note points out that the number of such stations is 10 more than those completed in the previous year.

The railways ministry has also stated that the Lumding-Silchar broad gauge section was indeed inaugurated in 2014-15, bringing Meghalaya on the rail map. An enhancement in the funds outlay from ~620 crore to ~889 crore during the course of the year helped complete the project within the target as the railways overcame the challenges of security issues, adverse weather and difficult geological conditions

The report was originally published in IndiaSpend (www.indiaspend.org) and reprinted in Business Standard with its permission. When contacted, Indiaspend said the railways’ clarifications have emphasised the points its report had made and the railways’ claims, as the government’s own tweets showed, were put forward as its key reforms.
Link:- click here

173 views
Apr 22 2017 (11:49)
Abhishek Kumar   10266 blog posts   8088 correct pred (77% accurate)
Re# 2244190-27            Tags   Past Edits
Blog Entry Archived.
Derailed
Apr 21 2017 (06:35)  ट्रेन के गंदे किचन में मिलीं अधपकी रोटी (epaper.jagran.com)
back to top
IR AffairsNCR/North Central  -  

News Entry# 300262     
   Tags   Past Edits
Apr 21 2017 (06:35)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by दुर्ग निज़ामुद्दीन हमसफ़र एक्सप्रेस 22 अप्रैल से😍😘^~/1421836

Apr 21 2017 (06:35)
Train Tag: Kalka Mail/12312 added by दुर्ग निज़ामुद्दीन हमसफ़र एक्सप्रेस 22 अप्रैल से😍😘^~/1421836

Posted by: मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~  257 news posts
जागरण संवाददाता, कानपुर : रेल यात्रियों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ और जेब हल्की करने का खेल कालका मेल में सामने आया। ट्रेन में 15 का पानी 20 में और 20 की लस्सी 30 रुपये में बेची जा रही थी। सेंट्रल पर हुई जांच में किचन गंदगी से पटा मिला, जिसमें अधपकी रोटी मिलीं। स्टेशन निदेशक ने आइआरसीटीसी अधिकारियों से पेंट्रीकार संचालक पर पचास हजार रुपये का जुर्माना लगाने को कहा है। 1 सेंट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर गुरुवार दोपहर में कालका मेल आयी तो स्टेशन निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार, रेल सलाहकार समिति के सदस्य बीडी राय व सीआइटी दिवाकर तिवारी ने छापा मारा। पेंट्रीकार कें किचन में भीषण गंदगी मिली। अधिकारियों के सामने ही वेंडर धुलाई करने में जुट गए। बीडी राय ने बताया भोजनयान में खराब अंडाकरी और अधपकी रोटी मिली। अधिकारियों ने सफर कर रहे यात्रियों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि 15 की जगह 20 रुपये...
more...
की पानी की बोतल दी गई है। 20 रुपये वाली लस्सी 30 रुपये में बेची जा रही थी। सादा भोजन 120 रुपये, नानवेज भोजन 140 रुपये में मिलता है पर यात्रियों से मनमाने दाम वसूले गए। 1पेंट्रीकार में मिले बिना टिकट यात्री : भोजनयान में यात्रियों को भी ढोया जा रहा था। चौंकाने वाली बात यह रही कि पेंट्रीकार में कई बिना टिकट यात्री मिले, जिनसे जुर्माना वसूला गया। 1भीषण गर्मी में खराब खाना1लंबी दूरी के यात्रियों की मजबूरी रहती है कि ट्रेन के पेंट्रीकार से ही वे भोजन लेते हैं। सुबह का बना भोजन दोपहर तक खराब होने लगा था। बासी सब्जी यात्रियों को परोसी जा रही थी। रोटी भी अधपकी थीं। 1जागरण संवाददाता, कानपुर : रेल यात्रियों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ और जेब हल्की करने का खेल कालका मेल में सामने आया। ट्रेन में 15 का पानी 20 में और 20 की लस्सी 30 रुपये में बेची जा रही थी। सेंट्रल पर हुई जांच में किचन गंदगी से पटा मिला, जिसमें अधपकी रोटी मिलीं। स्टेशन निदेशक ने आइआरसीटीसी अधिकारियों से पेंट्रीकार संचालक पर पचास हजार रुपये का जुर्माना लगाने को कहा है। 1 सेंट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर गुरुवार दोपहर में कालका मेल आयी तो स्टेशन निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार, रेल सलाहकार समिति के सदस्य बीडी राय व सीआइटी दिवाकर तिवारी ने छापा मारा। पेंट्रीकार कें किचन में भीषण गंदगी मिली। अधिकारियों के सामने ही वेंडर धुलाई करने में जुट गए। बीडी राय ने बताया भोजनयान में खराब अंडाकरी और अधपकी रोटी मिली। अधिकारियों ने सफर कर रहे यात्रियों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि 15 की जगह 20 रुपये की पानी की बोतल दी गई है। 20 रुपये वाली लस्सी 30 रुपये में बेची जा रही थी। सादा भोजन 120 रुपये, नानवेज भोजन 140 रुपये में मिलता है पर यात्रियों से मनमाने दाम वसूले गए। 1पेंट्रीकार में मिले बिना टिकट यात्री : भोजनयान में यात्रियों को भी ढोया जा रहा था। चौंकाने वाली बात यह रही कि पेंट्रीकार में कई बिना टिकट यात्री मिले, जिनसे जुर्माना वसूला गया। 1भीषण गर्मी में खराब खाना1लंबी दूरी के यात्रियों की मजबूरी रहती है कि ट्रेन के पेंट्रीकार से ही वे भोजन लेते हैं। सुबह का बना भोजन दोपहर तक खराब होने लगा था। बासी सब्जी यात्रियों को परोसी जा रही थी। रोटी भी अधपकी थीं। 1कालका एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में गुरुवार को निरीक्षण करते रेलवे अधिकारी ’ जागरणगर्मी में यात्रियों को खराब भोजन न मिले इसलिए दस दिनों तक जांच का अभियान चलाया जाएगा। ट्रेनों की पेंट्रीकार की जांच की जाएगी। कालका मेल में आइआरसीटीसी ने पेंट्रीकार का ठेका दिया है, जिसमें अनियमितता मिली है। आइआरसीटीसी से 50 हजार रुपये जुर्माना लगाने को कहा गया है। 1डा. जितेन्द्र कुमार, स्टेशन निदेशक
Apr 20 2017 (09:00)  कानपुर रूट पर बड़ा रेल हादसा टला,ट्रैक की हो रही थी मरम्मत, लोको पायलट को नहीं दिया गया कॉशन (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 300146     
   Tags   Past Edits
Apr 20 2017 (09:00)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 20 2017 (09:00)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 20 2017 (09:00)
Train Tag: Utsarg Express/18192 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
असुरक्षित रेल
Click here to enlarge image
जासं, उन्नाव : छपरा से फरुखाबाद जा रही उत्सर्ग एक्सप्रेस बुधवार को कुसुंभी-अजगैन के बीच अप ट्रैक पर दुर्घटनाग्रस्त होने से बची। सुबह करीब नौ बजे ट्रेन के कुसुंभी हाल्ट स्टेशन पार करते ही ट्रेन के लोको पायलट ने ट्रैक पर काम होते देखा और उसे झटके महसूस हुए तो उसने तत्काल इमरजेंसी ब्रेक लगा दी। पटरी के ज्वाइंट खुले देखे तो उसके होश उड़ गए। यदि ट्रेन को समय रहते नहीं रोका जाता तो बड़ी जन हानि होती। अब अधिकारी घटना को रेल फ्रैक्चर से
...
more...
जोड़ रहे हैं, जबकि रेल परिचालन और रेल पथ विभाग में समन्वय न होना साफ दिख रहा है। ट्रेन रुकते ही डरे यात्री बोगियों से कूद पड़े। कुछ को चोटें आई हैं। आतंकी घटना की आशंका के चलते जीआरपी एसपी विनय कुमार घटनास्थल पहुंचे और पड़ताल की।1कानपुर-लखनऊ रूट के डाउन ट्रैक पर 12 जनवरी को मालगाड़ी छमक नाली के पास पटरी से उतर गई थी। इसके बाद से उत्तर रेलवे डाउन के साथ अप ट्रैक पर मरम्मत कार्य करा रहा है। बुधवार को जैतीपुर-अजगैन के मध्य कुसुंभी हाल्ट रेलवे स्टेशन के पास ट्रैक मरम्मत का काम सुबह आठ बजे से चल रहा था। इसको लेकर अप लाइन की ट्रेनों को कॉशन देना जरूरी नहीं समझा गया, जिस कारण उत्सर्ग एक्सप्रेस जैतीपुर से रनथ्रू पास हुई। ट्रेन ने कुसुंभी हाल्ट पार ही किया था कि झटके लगे। बिना देर किए उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी और हादसा टल गया।’>>ट्रैक की हो रही थी मरम्मत, लोको पायलट को नहीं दिया गया कॉशन1’>>रेल परिचालन और रेल पथ विभाग में समन्वय न होने से हो रही घटनाएं
Apr 20 2017 (04:45)  ट्रेनों की चाल सुधारने में जुटे रेलवे अफसर (epaper.jagran.com)
back to top
IR AffairsNCR/North Central  -  

News Entry# 300120     
   Tags   Past Edits
Apr 20 2017 (04:45)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by दुर्ग निज़ामुद्दीन हमसफ़र एक्सप्रेस 22 अप्रैल से😍😘/1421836

Apr 20 2017 (04:45)
Train Tag: Ghazipur City - Mumbai Bandra (T.) Inaugural Special/09042 added by दुर्ग निज़ामुद्दीन हमसफ़र एक्सप्रेस 22 अप्रैल से😍😘/1421836

Posted by: मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~  257 news posts
कानपुर : ट्रेनों की लेटलतीफी को लेकर रेलमंत्री सुरेश प्रभु के तेवर देख रेलवे अफसर सकते में हैं। ट्रेनों की चाल नहीं सुधरी तो गाज गिरनी तय है। सेंट्रल स्टेशन पर तय समय से एक मिनट अधिक भी ट्रेन को नहीं रोके जाने का निर्देश जारी किया जा चुका है। स्टेशन निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार ने मंगलवार को बैठक लेकर निर्देश दिया कि किसी भी कीमत में निर्धारित समय से एक मिनट भी ज्यादा ट्रेन खड़ी न हो। स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी से हर आठ घंटे में रिपोर्ट भी मांगी जा रही है। स्टेशन पर ट्रेन के आने के बाद उसे निर्धारित समय से ज्यादा नहीं रोका जा रहा। सिग्नल होते चलाने की उद्घोषणा की जा रही है। कंट्रोल रूम में रात दस बजे से सुबह 7 बजे तक वरिष्ठ अधिकारी की तैनाती के निर्देश दिए । 1गाजीपुर-बांद्रा के बीच चलेगी साप्ताहिक एक्सप्रेस : कानपुर वासियों को मुंबई जाने के लिए...
more...
एक और ट्रेन की सुविधा मिली है। गाजीपुर सिटी से बांद्रा टर्मिनल के बीच साप्ताहिक ट्रेन शुरू की जा रही है जो कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर भी रुकेगी। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ ने जानकारी दी। 1लखनऊ-कानपुर रूट बाधित रहने से ट्रेनें लेट, यात्री परेशान : लखनऊ-कानपुर रेल मार्ग पर कुसुम्भी-अजगैन के बीच अप ट्रैक पर सुबह 9 बजे उत्सर्ग एक्सप्रेस हादसे का शिकार होने से बच गई। इसके बाद अप रूट बाधित हो गया। कानपुर की ओर आ रही ट्रेनों को जहां का तहां रोक दिया गया। इससे सेंट्रल स्टेशन पर आधा दर्जन ट्रेनें देरी से पहुंचीं।कानपुर : ट्रेनों की लेटलतीफी को लेकर रेलमंत्री सुरेश प्रभु के तेवर देख रेलवे अफसर सकते में हैं। ट्रेनों की चाल नहीं सुधरी तो गाज गिरनी तय है। सेंट्रल स्टेशन पर तय समय से एक मिनट अधिक भी ट्रेन को नहीं रोके जाने का निर्देश जारी किया जा चुका है। स्टेशन निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार ने मंगलवार को बैठक लेकर निर्देश दिया कि किसी भी कीमत में निर्धारित समय से एक मिनट भी ज्यादा ट्रेन खड़ी न हो। स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी से हर आठ घंटे में रिपोर्ट भी मांगी जा रही है। स्टेशन पर ट्रेन के आने के बाद उसे निर्धारित समय से ज्यादा नहीं रोका जा रहा। सिग्नल होते चलाने की उद्घोषणा की जा रही है। कंट्रोल रूम में रात दस बजे से सुबह 7 बजे तक वरिष्ठ अधिकारी की तैनाती के निर्देश दिए । 1गाजीपुर-बांद्रा के बीच चलेगी साप्ताहिक एक्सप्रेस : कानपुर वासियों को मुंबई जाने के लिए एक और ट्रेन की सुविधा मिली है। गाजीपुर सिटी से बांद्रा टर्मिनल के बीच साप्ताहिक ट्रेन शुरू की जा रही है जो कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर भी रुकेगी। उत्तर रेलवे के सीपीआरओ ने जानकारी दी। 1लखनऊ-कानपुर रूट बाधित रहने से ट्रेनें लेट, यात्री परेशान : लखनऊ-कानपुर रेल मार्ग पर कुसुम्भी-अजगैन के बीच अप ट्रैक पर सुबह 9 बजे उत्सर्ग एक्सप्रेस हादसे का शिकार होने से बच गई। इसके बाद अप रूट बाधित हो गया। कानपुर की ओर आ रही ट्रेनों को जहां का तहां रोक दिया गया। इससे सेंट्रल स्टेशन पर आधा दर्जन ट्रेनें देरी से पहुंचीं।
Apr 19 2017 (05:10)  शताब्दी के जेनरेटर से धुआं, यात्रियों में हड़कंप (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 300033     
   Tags   Past Edits
Apr 19 2017 (05:10)
Station Tag: Pata/PATA added by 23rd April Is A Special Day For Railfans😍😘/1421836

Apr 19 2017 (05:10)
Station Tag: Magarwara/MGW added by 23rd April Is A Special Day For Railfans😍😘/1421836

Apr 19 2017 (05:10)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by 23rd April Is A Special Day For Railfans😍😘/1421836

Apr 19 2017 (05:10)
Train Tag: Lichchavi Express/14006 added by 23rd April Is A Special Day For Railfans😍😘/1421836

Apr 19 2017 (05:10)
Train Tag: Lucknow Jn - New Delhi Swarn Shatabdi Express/12003 added by 23rd April Is A Special Day For Railfans😍😘/1421836

Posted by: मेरे हमसफ़र मेरे हमसफ़र मेरे पास आ मेरे पास आ😊^~  257 news posts
जागरण संवाददाता, कानपुर : लखनऊ से दिल्ली जा रही शताब्दी एक्सप्रेस से धुआं निकलता देख यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई। रेलमंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई। सेंट्रल स्टेशन पर ट्रेन की जांच की गई। यात्रियों को बताया गया कि जेनरेटर यान से धुआं निकल रहा है। घबराने की कोई बात नहीं है। इस चक्कर में शताब्दी एक्सप्रेस दस मिनट तक स्टेशन पर ही खड़ी रही। 1हुआ यह कि मगरवारा के पास किसी यात्री ने ट्रेन से धुआं निकलता देखा और बात फैल गई। ट्वीट कर रेलमंत्री को जानकारी दी गई। स्टेशन पर सूचना आते ही स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के अलावा मैकेनिकल व अन्य टीम पहुंच गई। ट्रेन के आने पर जांच की गई तो देखा गया कि जेनरेटर यान से निकल रहे धुआं को देख गलतफहमी हुई है। यात्रियों को समझाकर ट्रेन को रवाना किया गया। 1लिच्छवी का इंजन फेल, दर्जन भर ट्रेनें फंसीं : दिल्ली...
more...
से सीतामढ़ी (बिहार) जा रही लिच्छवी एक्सप्रेस का इंजन सोमवार रात पाता स्टेशन के पास फेल हो गया। इससे दिल्ली-हावड़ा रूट बाधित हो गया और दर्जन भर से ज्यादा ट्रेनें फंसी रहीं। एक घंटे बाद दूसरा इंजन लगाकर ट्रेन को रवाना किया गया। उसके बाद अन्य ट्रेनें चलीं। इस चक्कर में सभी यात्रियों का परेशानी हुई। 1दिल्ली से आ रही लिच्छवी एक्सप्रेस का इंजन रात करीब 12 बजे फफूंद और अछल्दा के बीच फेल हो गया। इसके बाद पीछे से आ रही सभी ट्रेनों को ट्रैक क्लीयर न होने के कारण रोक दिया गया। दूसरा इंजन लगाकर एक घंटे बाद ट्रेन को रवाना किया जा सका। इस चक्कर में ऊंचाहार, प्रयागराज, पूर्वा, शिवगंगा और मगध एक्सप्रेस समेत दर्जनभर ट्रेनें प्रभावित हुईं।जागरण संवाददाता, कानपुर : लखनऊ से दिल्ली जा रही शताब्दी एक्सप्रेस से धुआं निकलता देख यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई। रेलमंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई। सेंट्रल स्टेशन पर ट्रेन की जांच की गई। यात्रियों को बताया गया कि जेनरेटर यान से धुआं निकल रहा है। घबराने की कोई बात नहीं है। इस चक्कर में शताब्दी एक्सप्रेस दस मिनट तक स्टेशन पर ही खड़ी रही। 1हुआ यह कि मगरवारा के पास किसी यात्री ने ट्रेन से धुआं निकलता देखा और बात फैल गई। ट्वीट कर रेलमंत्री को जानकारी दी गई। स्टेशन पर सूचना आते ही स्टेशन अधीक्षक आरपीएन त्रिवेदी के अलावा मैकेनिकल व अन्य टीम पहुंच गई। ट्रेन के आने पर जांच की गई तो देखा गया कि जेनरेटर यान से निकल रहे धुआं को देख गलतफहमी हुई है। यात्रियों को समझाकर ट्रेन को रवाना किया गया। 1लिच्छवी का इंजन फेल, दर्जन भर ट्रेनें फंसीं : दिल्ली से सीतामढ़ी (बिहार) जा रही लिच्छवी एक्सप्रेस का इंजन सोमवार रात पाता स्टेशन के पास फेल हो गया। इससे दिल्ली-हावड़ा रूट बाधित हो गया और दर्जन भर से ज्यादा ट्रेनें फंसी रहीं। एक घंटे बाद दूसरा इंजन लगाकर ट्रेन को रवाना किया गया। उसके बाद अन्य ट्रेनें चलीं। इस चक्कर में सभी यात्रियों का परेशानी हुई। 1दिल्ली से आ रही लिच्छवी एक्सप्रेस का इंजन रात करीब 12 बजे फफूंद और अछल्दा के बीच फेल हो गया। इसके बाद पीछे से आ रही सभी ट्रेनों को ट्रैक क्लीयर न होने के कारण रोक दिया गया। दूसरा इंजन लगाकर एक घंटे बाद ट्रेन को रवाना किया जा सका। इस चक्कर में ऊंचाहार, प्रयागराज, पूर्वा, शिवगंगा और मगध एक्सप्रेस समेत दर्जनभर ट्रेनें प्रभावित हुईं।
Apr 18 2017 (20:42)  चारबाग रेलवे स्टेशन में बनेंगे दो नए प्लेटफार्म,कानपुर रेल रूट चार लेन का होगा (epaper.livehindustan.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNR/Northern  -  

News Entry# 300018   Blog Entry# 2241298     
   Tags   Past Edits
Apr 18 2017 (20:42)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 18 2017 (20:42)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 18 2017 (20:42)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
चारबाग रेलवे स्टेशन में बनेंगे दो नए प्लेटफार्म
कानपुर रेल रूट चार लेन का होगा
राज्यरानी एक्सप्रेस रद्द, ट्रेनों की लेटलतीफी जारी
चारबाग रेलवे स्टेशन पर जून से दो नए प्लेटफार्म बनाए जाएंगे, सब वे का विस्तार किया जाएगा और ट्रेन संचालन के लिए नया इलेक्ट्रानिक रूट रिले सिस्टम लगाया जाएगा। रेलवे बोर्ड ने यार्ड रिमॉडलिंग का नक्शा पास कर दिया है। डीआरएम एके
...
more...
लाहोटी के मुताबिक यार्ड रिमॉडलिंग से हजारों यात्रियों को ट्रेनों की लेटलतीफी से छुटकारा मिल जाएगा। चारबाग रेलवे स्टेशन की यार्ड रिमॉडलिंग 1972 में की गई थी। इसके बाद लगातार ट्रेनों की संख्या बढ़ती चली गई। अब चारबाग स्टेशन से 287 ट्रेनों का संचालन किया जाता है। करीब एक लाख यात्री रोजाना स्टेशन आते-जाते हैं। ट्रेनों और यात्रियों की संख्या में लगातार बढ़ती गई लेकिन स्टेशन का दायरा नहीं बढ़ा। इसकी वजह से ट्रेनों को प्लेटफार्म खाली होने के इंतजार में घंटों आउटर पर खड़ा रहना पड़ता है। रेलवे पिछले 6 सालों से यार्ड रिमॉडलिंग का प्रस्ताव बना कर रेलवे बोर्ड को भेज रहा था लेकिन प्रस्ताव का ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है। डीआरएम एके लाहोटी ने रेलवे बोर्ड से लगातार यार्ड रिमॉडलिंग को लेकर पैरवी की। नतीजा ये हुआ कि रेलवे ने यार्ड रिमॉडलिंग और नए इलेक्ट्रानिक रूट रिले सिस्टम को बनाए जाने के लिए 110 करोड़ रुपये का बजट पास कर दिया।प्लेटफार्म नम्बर एक पर बनेगी आरआरआई बिलिं्डग : डीआरएम ने बताया कि नई इलेक्ट्रनिक रूट रिले सिस्टम की बिलिं्डग को प्लेटफार्म नम्बर एक पर पार्सल घर के आगे बनाया जाएगा। यहां पर लगा ट्रेनों को संचालित करने वाला आरआरआई 25 साल पुराना है। प्लेटफार्म एक बना सब वे प्लेटफार्म चार तक ही जाता है। दो प्लेटफार्म बनने से प्लेटफार्म की संख्या 11 हो जाएगी। ऐसे में सबवे का विस्तार भी किया जाएगा।
लखनऊ कार्यालय संवाददाता
लखनऊ-कानपुर और लखनऊ बाराबंकी रेलमार्ग अभी डबल लाइन है। इसमें लखनऊ कानपुर रेलमार्ग सबसे व्यस्त है। ऐसे में दिल्ली व जम्मू से आने वाली ट्रेनों को प्लेटफार्म व ट्रेनों के लोड की वजह से घंटों आउटर पर खड़ा रहना पड़ता है। ट्रेन लेट होने से यात्रियों की परेशानी बढ़ जाती है। यार्ड रिमॉडलिंग के साथ लखनऊ-कानपुर व बाराबंकी रेलमार्ग को चार लाइन किया जाएगा। इससे यात्रियों को बढ़ी राहत मिलेगी।
रेलवे ने सोमवार को भी मेरठ जाने वाली राज्यरानी एक्सप्रेस का संचालन नहीं किया जबकि मंगलवार को मेरठ से आने वाली राज्यरानी भी निरस्त रहेगी। वहीं, सोमवार को लखनऊ-कानपुर के बीच चलने वाली तीन मेमू निरस्त रही। जम्मू से आने वाली बेगमपुरा एक्सप्रेस 8 घंटे देरी से लखनऊ पहुंची। इसके अलावा सदभावना एक्सप्रेस भी 6 घंटे लेट रही। वहीं, सरयू यमुना एक्सप्रेस 6 घंटे, कोटा पटना एक्सप्रेस 7 घंटे, भोपाल प्रतापगढ़ एक्सप्रेस 4 घंटे, गरीब रथ 6 घंटे, मुम्बई जनसाधारण एक्सप्रेस 9 घंटे और अर्चना एक्सप्रेस घंटे देरी से लखनऊ पहुंची

5 posts - Tue Apr 18, 2017 - are hidden. Click to open.

890 views
Apr 19 2017 (00:49)
©The Dark Lord™~   6589 blog posts
Re# 2241298-6            Tags   Past Edits
2 platform se kuch nahi hoga, 26 coach rake ko accommodate karne layak kum se kum 4 new platform banega tab kuch hoga.

615 views
Apr 19 2017 (11:02)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   12918 blog posts   3042 correct pred (65% accurate)
Re# 2241298-7            Tags   Past Edits
Lko nr h isay jiyada umeed na karo....2 pf bana de kafi hai 2 4 saal may....😉
Apr 16 2017 (21:12)  कानपुर के पास दुर्घटनाग्रस्त होने से बची ऊधमपुर एक्स. (epaper.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 299789     
   Tags   Past Edits
Apr 16 2017 (21:12)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 16 2017 (21:12)
Train Tag: Kanpur - Udhampur Express/14155 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
कानपुर के पास दुर्घटनाग्रस्त होने से बची ऊधमपुर एक्स.
Click here to enlarge image
कानपुर प्रमुख संवाददाताकानपुर से उधमपुर जा रही उधमपुर एक्सप्रेस (14155) भाऊपुर और मैथा रेलवे स्टेशन के बीच शनिवार शाम 6.05 बजे दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई। ट्रेन के कोचों से आवाज आने पर यात्रियों हल्ला मचाना शुरू किया तो चालक ने गाड़ी रोक दी। साढ़े तीन घंटे बाद करीब 10 बजे में कोच की ब्रेक असंबेली दुरुस्त कर गाड़ी रवाना की गई। इससे एक दर्जन ट्रेने जहां-तहां रोकनी पड़ीं।कानपुर सेंट्रल स्टेशन से शनिवार शाम तय समय 6:05 बजे ट्रेन
...
more...
रवाना की गई। भाऊपुर स्टेशन क्रॉस करते ही ट्रेन के एस-5 कोच से खड़खड़ाहट की आवाज आने लगी। इसपर कोच में सवार यात्री हल्ला मचाने लगे। गार्ड ने बाहर से देखा तो कोचों के गेट पर खड़े यात्री ट्रेन रोकने का इशारा कर रहे थे। गार्ड ने वॉकी-टॉकी से ट्रेन चालक को तुरंत गाड़ी रोकने को कहा। ट्रेन भाऊपुर और मैथा स्टेशन के बीच रोक दी गई। चालक ने उतरकर कोचों की जांच की तो पता चला एस-5 कोच की ब्रेक असेंबली टूट गई है। चालक ने रेलवे कंट्रोल रूम को तुरंत सूचना दी। टूटी ब्रेक असेंबली दुरुस्त कर ट्रेन रवाना किया गया।
रामपुर ट्रेन हादसे में घायल यात्री को ले जाते पुलिसकर्मी ’ हिन्दुस्तान
Apr 16 2017 (21:09)  देश का पहला वेब बेस्ड रेल चालक ट्रेनिंग सेंटर शुरू (epaper.livehindustan.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNCR/North Central  -  

News Entry# 299787     
   Tags   Past Edits
Apr 16 2017 (21:09)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5492 news posts
सहूलियत
’ प्रोजेक्टर के जरिए पढ़ाई के साथ ही चालक ट्रेन चलाने की बारीकियां सीख सकेंगे
’ ट्रेन संबंधी तब्दीलियां स्वत: माड्यूल में हो जाएंगी शामिल चालक होते रहेंगे अपडेट
कानपुर प्रमुख संवाददाताट्रेन चालकों को अब बेहद अत्याधुनिक तरीके से प्रशिक्षित करने और दुनिया भर में ट्रेन संचालन में हो रही तब्दीलियों की बारीकियां समझने के लिए शनिवार को वेब आधारित रेल चालक ट्रेनिंग सेंटर
...
more...
फजलगंज में शुरू किया गया। उद्घाटन उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक एमसी चौहान और डीआरएम एसके पंकज ने किया।अब चालक प्रोजेक्टर के जरिए पढ़ाई के साथ ही ट्रेन चलाने की बारीकियां सीख सकेंगे। रेलवे इंजीनियरों का दावा है कि नया ट्रेनिंग सेंटर चालकों को ट्रेन संचालन में पारंगत बनाएगा। अब ऑडियो, वीडियो के जरिए चालकों को ट्रेंड किया जाएगा। वचरुअल क्लास में चालकों को ट्रेन की स्पीड, दुर्घटना के प्वाइंट, आउटर पर बरती जाने वाली सावधानियां, सर्दी के दिनों में होने वाले रेल फ्रेक्चर से जुड़ी जानकारी दी जाएगी। वीडियो के जरिए उन्हें ट्रेन संचालन के दौरान होने वाली मानवीय चूक के प्रति भी सावधान किया जाएगा। इंजीनियरों ने बताया कि इंटरनेट यानि वेब आधारित होने के कारण इस ट्रेनिंग सेंटर की अहमियत बढ़ जाती है। यहां लोको पायलट वह सब भी जान सकेगा जो दुनिया भर में दौड़ रही रेलों में हो रहा है। संचालन से लेकर संरक्षा तक समझना ज्यादा आसान होगा। यह ट्रेनिंग सेंटर एक नए तरह के बेहद दक्ष चालकों को तैयार करेगा। फजलगंज स्थित इलेक्ट्रिक ट्रेनिंग सेंटर में उद्घाटन के मौके पर मुख्य विद्युत इंजीनियर आलोक गुप्त, मुख्य लोको इंजीनियर अनुपम सिंघल, ट्रेनिंग सेंटर के प्राचार्य सुरेश कुमार मौजूद रहे।
Page#    Showing 1 to 20 of 936 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site