Full Site Search  
Tue Jun 27, 2017 14:28:39 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;

KLD/Khalilabad (3 PFs)
خلیلآباد     खलीलाबाद

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 75
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
MDR 81E, Khalilabad- 272175
State: Uttar Pradesh
Elevation: 83 m above sea level
Zone: NER/North Eastern
Division: Lucknow NER
No Recent News for KLD/Khalilabad
Nearby Stations in the News

Rating: 4.3/5 (13 votes)
cleanliness - excellent (2)
porters/escalators - good (2)
food - good (1)
transportation - excellent (2)
lodging - average (1)
railfanning - excellent (2)
sightseeing - excellent (1)
safety - good (2)

Nearby Stations

CRV/Chureb 8 km     MHH/Maghar 9 km     SIPR/Sihapar Halt 12 km     MND/Munderwa 15 km     SWA/Sahjanwa 17 km     ORW/Orwara 22 km     JTB/Jagatbela 23 km     BST/Basti 29 km     DMG/Domingarh 30 km     GKPE/Gorakhpur East Lobby 34 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 45 News Items  next>>
May 16 2017 (22:39)  मुम्बई से फ्लाइट से गोरखपुर आता है ट्रेन का तत्काल टिकट (www.livehindustan.com)
back to top
Crime/AccidentsNER/North Eastern  -  

News Entry# 302629     
   Tags   Past Edits
May 16 2017 (22:39)
Station Tag: Khalilabad/KLD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

May 16 2017 (22:39)
Station Tag: Basti/BST added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

May 16 2017 (22:39)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

May 16 2017 (22:39)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

May 16 2017 (22:39)
Train Tag: Avadh Express/19038 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5913 news posts
ट्रेन : अवध एक्सप्रेस
यात्रा की तिथि : 10 मई
वातानुकूलित कोच में बैठकर गोरखपुर से बांद्रा की यात्रा कर रहे एक यात्री के टिकट ने चौंका दिया। टिकट तत्काल कोटे से बुक था। टिकट मुम्बई से बना था। गोरखपुर से मुंबई की यात्रा पूरी करने में 36 घंटे लगते हैं तो ट्रेन छूटने से महज एक दिन पहले आरक्षित तत्काल टिकट गोरखपुर कैसे पहुंच गया? इसका जवाब भी है। तत्काल टिकट बुक कराने और उसे पहुंचाने का एक रैकेट है। रैकेट में शामिल लोग मुंबई में तत्काल टिकट बुक कराते हैं और
...
more...
हवाई जहाज से जगह-जगह पहुंचाते हैं।
यात्री का आरक्षित टिकट और उसकी यात्रा की तिथि देखकर हतप्रभ टीटीई ने यह जान और मान लिया कि तत्काल आरक्षण में खेल चल रहा है लेकिन मन मसोसकर वह चुप रहा। कानूनन वह यात्री को रोक सकता था न ही उसके खिलाफ कोई कार्रवाई कर सकता था। टीटीई के चेहरे के बदलते भाव को यात्री ने भांप लिया और विजयी मुस्कान के साथ बैठा रहा।
35 सेकेंड में बर्थ खत्म
तत्काल टिकट के लिए गुरुवार की सुबह धर्मशाला स्थित आरक्षण केन्द्र पर आए देवेंद्र ने विंडो पर लगी लाइन में दूसरे नम्बर पर थे। इस भरोसे के साथ कि मुंबई का तत्काल टिकट उन्हें मिल जाएगा। 11 बजे तत्काल के लिए विंडो खुला। पहले यात्री को कन्फर्म बर्थ मिल गई लेकिन महज 35 सेकेंड में ही तत्काल के सभी बर्थ बुक हो गए और देवेंद्र को मायूसी हाथ लगी। देवेंद्र आक्रोशित होकर भला-बुरा कहते लौट गया। लगातार तीन दिन तक लाइन लगाने के बाद भी उसे टिकट नहीं मिला। उसके सामने दिक्कत कन्फर्म टिकट की है।
ऐसे होता है तत्काल का खेल
मुम्बई में पीआरएस (यात्री आरक्षण प्रणाली) 30 सेकेण्ड पहले ही खुल जाता है। वहां सक्रिय एजेंट मुम्बई और आसपास के सैकड़ों काउंटरों पर सुबह से ही जमे रहते हैं। तत्काल के लिए विंडो खुलते ही गोरखपुर से मुम्बई या अन्य सम्बंधित स्टेशनों से मुम्बई तक का टिकट बुक करा लेते हैं। आरक्षित टिकटों को फ्लाइट से लखनऊ भेज देते हैं। लखनऊ के उनके एजेंट सड़क मार्ग से अलग-अलग स्टेशनों पर जहां से डिमांड गई है वहां टिकट वितरित करते चले जाते हैं। उदाहरण के लिए अगर 12 मई को किसी यात्री को कुशीनगर एक्सप्रेस से मुम्बई तक यात्रा करनी है तो उसका टिकट 11 मई को मुम्बई में बुक हो जाएगा और उसी दिन फ्लाइट से लखनऊ और वहां सड़क मार्ग से यात्री के पास पहुंच जाएगा।
दो बार पकड़ा जा चुका है रैकेट
पूर्वोत्तर रेलवे की विजलेंस टीम तीन साल में दो बार इस तरह के रैकेट को पकड़ चुकी है लेकिन कोई प्रभावी कदम न उठाए जाने से यह खेल बदस्तूर जारी है। तत्काल टिकट बुकिंग के दुरुपयोग को रोकने के लिए उसी स्टेशन या आसपास के स्टेशनों से ही तत्काल की टिकट बुक होना चाहिए जहां से यात्रा करनी हो। संभव है इससे कुछ हद तक रोक लग सके।
एक टिकट के एक से डेढ़ हजार
गोरखपुर, खलीलाबाद, बस्ती और गोण्डा से मुम्बई जाने वाले यात्रियों की तत्काल कोटे की टिकट मुम्बई से फ्लाइट से आती है। गोरखपुर से मुम्बई तक सक्रिय दलाल यात्री से तत्काल बर्थ के लिए 1000 से 1500 रुपये वसूलते हैं। गर्मी में गोरखपुर व आसपास के क्षेत्रों से रोजाना अलग ट्रेनों की 200 से 250 टिकट मुम्बई से बुक होकर आता है।
आईडी कर देते हैं मेल
करीब-करीब हर स्टेशन पर सक्रिय एजेंट यात्रियों से सम्पर्क कर उन्हें कन्फर्म बर्थ दिलाने का वादा करते हैं। सहमति मिलने पर अग्रिम एडवांस और आईडी की फोटोकॉपी लेकर मुम्बई के एजेंट को मेल कर देते हैं।
मुम्बई जाने वाली लगभग सभी ट्रेनों में खासकर स्लीपर क्लास में जो यात्री तत्काल टिकट पर यात्रा करते हैं उनमें से 50 फीसदी टिकट मुम्बई पीआरएस से बने होते हैं। चूंकि इन पर कार्रवाई का प्रावधान नहीं है इसलिए ये बच जाते हैं। ऐसे मामले पहले भी पकड़े जा चुके हैं।
एसएम पाण्डेय, टीटीई, लखनऊ मण्डल
Apr 05 2017 (21:17)  खलीलाबाद-बांसी बहराइच नई रेल लाइन का सर्वे पूरा पूवरेत्तर रेलवे प्रशासन ने तैयार की डीपीआर (epaper.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNER/North Eastern  -  

News Entry# 298653     
   Tags   Past Edits
Apr 05 2017 (21:17)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 05 2017 (21:17)
Station Tag: Bansipur/BSQP added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 05 2017 (21:17)
Station Tag: Bahraich/BRK added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 05 2017 (21:17)
Station Tag: Khalilabad/KLD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5913 news posts
बौद्ध परिपथ से जुड़ेंगे कुशीनगर और कपिलवस्तु1 रेल मंत्रलय ने बौद्ध रेल परिपथ बनाने की कवायद भी तेज कर दी है। इसके तहत पहले कुशीनगर और कपिलवस्तु को रेल लाइन से जोड़ा जाएगा। गोरखपुर-पड़रौना से कुशीनगर को रेल लाइन से जोड़ने के लिए रेलवे मंत्रलय ने हरी झंडी दे दी है। धन भी स्वीकृत हो चुका है। कपिलवस्तु को बस्ती रूट से जोड़ा जाएगा। इसके सर्वे रिपोर्ट पर भी मंथन चल रहा है। इसके बाद कुशीनगर से कपिलवस्तु तक रेल लाइन बिछ जाएगी। भारत में पड़ने वाले क्षेत्र को लेकर काम आगे बढ़ रहा है। कुछ क्षेत्र पड़ोसी मुल्क में है। नेपाल सरकार से हरी झंडी मिलने का इंतजार है। नेपाल की सहमति मिलते ही 300 किमी की परिधि में पड़ने वाला पूर्वाचल का यह पिछड़ा क्षेत्र भी बौद्ध परिपथ के दायरे में आ जाएगा। बौद्ध रेल परिपथ पूरा हो जाने से क्षेत्रीय जनता की परेशानियां तो दूर होंगी ही, पर्यटन...
more...
को भी बढ़ावा मिलेगा। देश- विदेश से पहुंचने वाले श्रद्धालु गोरखपुर से सीधे कुशीनगर और कपिलवस्तु पहुंचेंगे।
सौगात
सहजनवां-दोहरीघाट के बाद अब पूर्वाचल के इस पिछड़े क्षेत्र में आवागमन होगा आसान, तरक्की का खुलेगा नया द्वार।
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, गोरखपुर : सहजनवां- दोहरीघाट (70 किमी) के बाद अब खलीलाबाद-बखिरा-बांसी-भिंगा- बहराइच (210 किमी) क्षेत्र में भी ट्रेनों की छुक-छुक सुनाई देगी। इस पिछड़े क्षेत्र में भी रेल लाइन बिछाई जाएगी। इसके लिए लोकेशन सर्वे कार्य पूरा हो चुका है। पूवरेत्तर रेलवे प्रशासन ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर लिया है। रेलवे बोर्ड की हरी झंडी मिलते ही रेल लाइन निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 1उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार आने के बाद नई रेल लाइन निर्माण का मार्ग भी प्रशस्त हो गया है। जानकारों का कहना है कि रेलवे को राज्य सरकार से भूमि अधिग्रहण करने में पूरा सहयोग मिलेगा। 24 मार्च को ही पूवरेत्तर रेलवे के तत्कालीन महाप्रबंधक राजीव मिश्र ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सहजनवां से दोहरीघाट के बीच रेल लाइन बिछाने का कार्य जल्द शुरू कराने का आश्वासन दिया था। इस क्षेत्र में 70 किमी रेल लाइन बिछाने के लिए रेल मंत्रलय ने पहले ही 743.55 करोड़ रुपये स्वीकृत कर दिया गया है। हालांकि, एक किमी रेल लाइन बिछाने में रेलवे को लगभग 20 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ते हैं। वहीं अब खलीलाबाद-बांसी-भिंगा- बहराइच तक सर्वे कार्य पूरा हो जाने के बाद नई रेल लाइन निर्माण को भी बल मिल गया है। रेल लाइन बिछ जाने से इस पिछड़े क्षेत्रों में भी विकास को गति मिलेगी। 1घुघली-महराजगंज क्षेत्र का भी लोकेशन सर्वे पूरा1अति पिछड़े क्षेत्र घुघली को आनंदनगर से जोड़ने की भी तैयारी चल रही है। इसके लिए महराजगंज होते हुए लोकेशन सर्वे पूरा कर लिया गया है। 1 इस क्षेत्र में रेल लाइन बिछ जाने से यहां के लोगों को भी सहूलियत मिलेगी। आवागमन की सुविधा तो मिलेगी ही रोजगार का भी सृजन होगा।
Mar 29 2017 (14:17)  खलीलाबाद में रेलवे ट्रैक के पास बम विस्फोट (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNER/North Eastern  -  

News Entry# 297996     
   Tags   Past Edits
Mar 29 2017 (14:17)
Station Tag: Khalilabad/KLD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5913 news posts
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, संतकबीर नगर : खलीलाबाद रेलवे स्टेशन से करीब छह सौ मीटर की दूरी पर रेलवे ट्रैक के पास बम विस्फोट होने से दहशत फैल गई। बम फटने से रेलवे ट्रैक के निकट कूड़ा बीन रहे नेपाली युवक का हाथ बुरी तरह झुलस गया। घायल युवक राजू पुत्र प्रेम बहादुर को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए गोरखपुर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। घटनास्थल पर पहुंचे बम निरोधक दस्ते ने वहां मिले तीन जिंदा बमों को निष्क्रिय किया। बस्ती रेंज के डीआइजी लक्ष्मीनारायण सहित कई आला अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण किया। 1नेपाली युवक राजू मंगलवार की सुबह कूड़ा बीनने के दौरान रेलवे ट्रैक के निकट पहुंचा। वहीं पर उसकी नजर एक पॉलीथीन बैग पर
...
more...
पड़ी। उसने पॉलीथीन उठाकर उसमें रखे सामान को देखना शुरू किया। उसमें उसे चार गोले दिखाई पड़े। पीतल या अन्य कोई धातु होने की जांच करने के लिए राजू ने एक गोला निकाला और पत्थर से उसे तोड़ने का प्रयास किया। इसी दौरान जोरदार धमाके के साथ वह फट गया। 1आतंकी साजिश नहीं : डीआइजी 13।जागरण संवाददाता, संतकबीर नगर : खलीलाबाद रेलवे स्टेशन से करीब छह सौ मीटर की दूरी पर रेलवे ट्रैक के पास बम विस्फोट होने से दहशत फैल गई। बम फटने से रेलवे ट्रैक के निकट कूड़ा बीन रहे नेपाली युवक का हाथ बुरी तरह झुलस गया। घायल युवक राजू पुत्र प्रेम बहादुर को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए गोरखपुर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। घटनास्थल पर पहुंचे बम निरोधक दस्ते ने वहां मिले तीन जिंदा बमों को निष्क्रिय किया। बस्ती रेंज के डीआइजी लक्ष्मीनारायण सहित कई आला अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण किया। 1नेपाली युवक राजू मंगलवार की सुबह कूड़ा बीनने के दौरान रेलवे ट्रैक के निकट पहुंचा। वहीं पर उसकी नजर एक पॉलीथीन बैग पर पड़ी। उसने पॉलीथीन उठाकर उसमें रखे सामान को देखना शुरू किया। उसमें उसे चार गोले दिखाई पड़े। पीतल या अन्य कोई धातु होने की जांच करने के लिए राजू ने एक गोला निकाला और पत्थर से उसे तोड़ने का प्रयास किया। इसी दौरान जोरदार धमाके के साथ वह फट गया। 1आतंकी साजिश नहीं : डीआइजी 13।बम विस्फोट से घायल युवक ’ जागरण
Mar 24 2017 (20:56)  गौतम-गाजी की धरती को जोड़ेगी रेल लाइन (epaper.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNER/North Eastern  -  

News Entry# 297489     
   Tags   Past Edits
Mar 24 2017 (20:56)
Station Tag: Khalilabad/KLD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 24 2017 (20:56)
Station Tag: Balrampur/BLP added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 24 2017 (20:56)
Station Tag: Jharkhandi/JKNI added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 24 2017 (20:56)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 24 2017 (20:56)
Station Tag: Bahraich/BRK added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5913 news posts
Click here to enlarge image
मुकेश कुमार ’ श्रवस्ती1अब वह दिन दूर नहीं जब महात्मा बुद्ध की तपोस्थली श्रवस्ती से होते हुए ट्रेन दौड़ेगी। रेल लाइन बिछाने के लिए सर्वे कार्य पूरा हो जाने से यहां के लोगों की दशकों पुरानी साध पूरी होने की आस जग गई है। नई बिछाई जाने वाली रेललाइन की लंबाई 80 किलोमीटर होगी और उस पर कुल दस स्टेशन बनाए जाएंगे। 1श्रवस्ती जिला मुख्यालय को जेल से जोड़ने की मांग को लेकर श्रवस्ती को रेल से जोड़ो संघर्ष समिति का गठन कर यहां की अवाम ने पंकजदेव मिश्र व दिवाकर शुक्ल की अगुवाई में आंदोलन छेड़ा। आंदोलन की गूंज नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरने के रूप में सुनाई दी। लोकसभा में भी यह मामला सांसद
...
more...
दद्दन मिश्र ने उठाया। इसके चलते केंद्र की भाजपा सरकार ने 2015 के रेल बजट में यहां लाइन बिछाने का एलान किया। गत वर्ष बलरामपुर में बड़ी लाइन का उद्घाटन करने आए रेल मंत्री सुरेश प्रभु के सामने भी संघर्ष समिति ने यह मसला उठाया। इसके बाद सर्वे कार्य में तेजी आयी। सर्वे कार्य पूरा कर रिपोर्ट रेल मंत्रलय को भेज दी गई है। इसके तहत 80 किलोमीटर लंबे मार्ग पर कुल दस स्टेशन बनाए जाएंगे। बहराइच जिले में अजतापुर, श्रवस्ती में धुसवा, बरदेहरा, हरिहरपुररानी, भिनगा, विशुनापुर रामनगर, मुजेहनिया, इकौना, श्रवस्ती व हसुआडोल शामिल हैं। इसके बाद रेल लाइन को बलरामपुर जिले के झारखंडी रेलवे स्टेशन से जोड़ दिया जाएगा। इस रेल मार्ग पर राप्ती नदी पर दो बड़े पुल बनाए जाएंगे। पूवरेत्तर रेलवे की निर्माण इकाई के मुताबिक पिलर लगाने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। पिलर लगाने का कार्य पूरा होते ही मुआवजा वितरण कर भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। 1संघर्ष समिति ने जताया आभार 1रेल लाइन बिछाने के लिए आंदोलन की अगुआई करने वाले संयोजन पंकज मिश्र ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु, सांसद दद्दन मिश्र के अलावा संघर्ष में सुभाष त्रिपाठी, अनुपमा जायसवाल आदि नेताओं के साथ यहां की अवाम का समर्थन मिला होता तो रेललाइन बिछाने की उम्मीदों को पंख न लगते। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रमन सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता अरुण पांडेय ने प्रधानमंत्री व रेलमंत्री का आभार जताया है।
Mar 20 2017 (10:18)  गोरखपुर को मिल सकती है मंडल की सौगात हमसफर चलवाने में कामयाब रहे योगी, इलाहाबाद इंटरसिटी व दूरंतो को मिलेगा बल (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 296914   Blog Entry# 2203676     
   Tags   Past Edits
Mar 20 2017 (10:18)
Station Tag: Khalilabad/KLD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 20 2017 (10:18)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 20 2017 (10:18)
Station Tag: Bahraich/BRK added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 20 2017 (10:18)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5913 news posts
सुविधाओं के लिए करते रहे संघर्ष
गोरखपुर को मिल सकती है मंडल की सौगात
हमसफर चलवाने में कामयाब रहे योगी, इलाहाबाद इंटरसिटी व दूरंतो
Click here to enlarge image
प्रेम नारायण द्विवेदी ’ गोरखपुर1गोरखपुर की
...
more...
पहचान गोरक्षनाथ मंदिर के अलावा पूवरेत्तर रेलवे के रूप में भी होती है। आज यहां इलेक्टिक इंजनों से गाड़ियां फर्राटा भर रही हैं। स्टेशन पर वाई-फाई की निश्शुल्क सुविधा है। लोग स्वचालित सीढ़ी और लिफ्ट से प्लेटफार्म तक पहुंच रहे हैं। यही नहीं उत्तरी द्वार ने लोगों की राह को और आसान बना दिया है। 1पूर्वांचल के लोगों को मिल रही रेल की इन सुविधाओं में योगी आदित्यनाथ की भूमिका महत्वपूर्ण रही है। वह शुरू से ही नई रेल लाइन, ट्रेन और यात्री सुविधाओं के लिए संघर्ष करते रहे हैं। दिल्ली और कोलकाता के लिए तेज गाड़ियों की मांग तो वह हर मंच से करते आ रहे हैं। विपक्ष में बैठने के बावजूद सांसद के रूप में वह लगातार यात्री सुविधाओं पर चर्चा करते रहे। केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद उनकी मांगों को बल मिला। रेल मंत्रलय ने उनके प्रस्तावों को गंभीरता से लिया। इसके चलते वह गोरखधाम सुपरफास्ट एक्सप्रेस के बाद गोरखपुर से देश की पहली हमसफर ट्रेन को चलवाने में कामयाब भी रहे। इसके बाद भी वह लगातार पाटलीपुत्र होते हुए गोरखपुर से कोलकाता के बीच सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन, गोरखपुर से बस्ती और अयोध्या होते हुए इलाहाबाद तक इंटरसिटी ट्रेन चलाने की मांग करते रहे हैं। अभी पिछले माह ही उन्होंने गोरखपुर से दूरंतो ट्रेनों की मांग की हैं। वह गोरखपुर होते हुए राजधानी एक्सप्रेस चलाने की मांग करते रहे हैं। एक साप्ताहिक वातानुकूलित एक्सप्रेस ट्रेन नई दिल्ली से नाहरलागून के बीच चल रही है। उसे जल्द ही नियमित कर दिया जाएगा। उनके संघर्षो की देन है कि पूवरेत्तर रेलवे विकास के पथ पर सरपट दौड़ पड़ा है। 1सहजनवां से दोहरीघाट तक बिछेगी रेल लाइन: नई रेल लाइन बिछाने में राज्य सरकार की भूमिका अहम होती है। ऐसे में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बन जाने से सहजनवां से दोहरीघाट तक रेल लाइन बिछाने में रेल मंत्रलय को कठिनाई नहीं होगी। भूमि अधिग्रहण में सहूलियत मिलेगी। यही नहीं पडरौना से कुशीनगर, घुघली से महराजगंज होते हुए आनंदनगर, बस्ती से कपिलवस्तु और खलीलाबाद से बहराइच क्षेत्र में नई रेल लाइन बिछाना आसान होगा। पूर्वाचल में पड़ने वाला बौद्ध परिपथ के निर्माण में कोई बाधा नहीं आएगी।1गोरखपुर से नेपाल तक दौड़ सकती है रेल: नाथ संप्रदाय की प्रमुख शाखाएं पड़ोसी मुल्क नेपाल में भी हैं। नेपाल के विभिन्न शहर और कस्बों में श्रद्धालु रहते हैं। मकर संक्रांति पर्व पर गोरक्षनाथ मंदिर में उनकी उपस्थित देखने लायक होती है। ऐसे में नेपाल को रेल लाइन से जोड़ने में भी मुख्यमंत्री अहम भूमिका निभा सकते हैं। रेलमंत्री ने काठमांडू तक रेल लाइन बिछाने के लिए प्रस्ताव तैयार किया है, लेकिन अभी तक नेपाल सरकार ने उसपर मुहर नहीं लगाई है।सांसद के रूप में योगी आदित्यनाथ हमेशा से ही गोरखपुर को पूवरेत्तर रेलवे का चौथा मंडल बनाने की मांग उठाते रहे हैं। उनके मुख्यमंत्री बन जाने से इस मांग को बल मिलेगा। गोरखपुर में रेलवे का मुख्यालय तो है, लेकिन मंडल कार्यालय नहीं है। गोरखपुर स्टेशन लखनऊ मंडल में आता है, जिसका मुख्यालय लखनऊ में है। ऐसे में रेलकर्मियों को परेशानी होती है। योगी समय-समय पर रेल कर्मचारियों की समस्याओं की भी आवाज उठाते रहे हैं।

12 posts - Mon Mar 20, 2017 - are hidden. Click to open.

3 posts - Tue Mar 21, 2017 - are hidden. Click to open.

1 posts - Thu Mar 23, 2017 - are hidden. Click to open.

2875 views
Mar 24 2017 (09:33)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   13977 blog posts   3058 correct pred (65% accurate)
Re# 2203676-17            Tags   Past Edits
HQ h gkp...possible nahi...aur zone Gkp karke kya fark pad jayega....masala news h
Page#    Showing 1 to 20 of 45 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.