Full Site Search  
Sun Apr 30, 2017 08:52:28 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;

KKN/Khirkiya (2 PFs)
     खिरकिया

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 22
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
SH 15
State: Madhya Pradesh
Elevation: 281 m above sea level
Zone: WCR/West Central
Division: Bhopal
No Recent News for KKN/Khirkiya
Nearby Stations in the News

Rating: 4.8/5 (8 votes)
cleanliness - excellent (1)
porters/escalators - excellent (1)
food - excellent (1)
transportation - excellent (1)
lodging - good (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - excellent (1)
safety - excellent (1)

Nearby Stations

KRO/Kurawan 6 km     DRHI/Dagarhkeri 11 km     BRI/Bhiringi 13 km     MUO/Masangaon 18 km     BRUD/Barud 21 km     PAL/Palasner 24 km     HD/Harda 31 km     CAER/Chhanera 31 km     CRK/Charkhera 38 km     CKKD/Charkheda Khurd 39 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 6 of 6 News Items  
पटरी से उतरे थे डिब्बे
गौरतलब है कि ट्रैक बह जाने से कामयनी एक्सप्रेस और जनता एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतर गए थे, जिससे २९ लोगों की जान चली गई थी और ४५ लोग घायल हुए थे रिपोर्ट के मुताबिक... रिपोर्ट में बताया गया है कि तथ्य, मौजूदा स्थिति और घटना स्थल से जुड़े सभी बिंदुओं की जांच करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया है जांच में सामने आया है कि माचक नदी में उस रात तेज बहाव आया था, जिससे अप और डाउन लाइन के नीचे की गिट्टी और मिट्टी बह गई नदी में पानी का बहाव इतना तेज था कि नदी पर बने सड़क पुल के ऊपर तक यह पानी पहुंच गया
पमरे
...
more...
को मिली रिपोर्ट
पश्चिम मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी सुरेन्द्र यादव के मुताबिक इस रिपोर्ट को रेल मंत्रालय के समक्ष पेश कर दिया गया है उन्हें यह जानकारी रेल संरक्षा आयुक्त दक्षिण मध्य वृत्त, भारत सरकार नागरिक उड्डयन मंत्रालय के कार्यालय से उपलब्ध हुई है
हरदा के खिरकिया और भिरिंगी स्टेशन के बीच ४ अगस्त की रात तकरीबन ११.२२ पर हुई रेल दुर्घटना की जांच रिपोर्ट सामने आ गई है घटना की जांच कर रहे रेल संरक्षा आयुक्त दिनेश कुमार सिंह इसकी जांच कर रहे थे उन्होंने अपनी इस रिपोर्ट में रेल दुर्घटना की वजह बारिश के पानी का तेज बहाव बताया है, जिससे रेलवे ट्रैक की गिट्टी और मिट्टी बह जाने से ट्रैक क्षतिग्रस्त हो गया उस रात बारिश के पानी का बहाव इतना तेज था कि तकरीबन २७० मीटर के रेलवे का तटबंध बह गया
Aug 11 2015 (09:19)  हरदा जिले में माचक नदी ने रेल से पहले गांवों में मचाई थी तबाही (naidunia.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsWCR/West Central  -  

News Entry# 237355     
   Tags   Past Edits
Aug 11 2015 (9:19AM)
Station Tag: Khirkiya/KKN added by Parshwa/132859

Aug 11 2015 (9:19AM)
Station Tag: Harda/HD added by Parshwa/132859

Posted by: xxx  148 news posts
जिले में काली माचक नदी ने रेल हादसे से पहले दर्जनों गांवों में तबाही मचाई थी। जिसके कारण करोड़ों का नुकसान हुआ है। मंगलवार को खिरकिया ब्लॉक में करीब 6 घंटे में औसतन 11 इंच बारिश हो गई। भारी बारिश के कारण काली माचक नदी ऐसी बिफरी कि फिर उसके सामने जो भी आया उसे तबाह करते हुए आगे निकल गई। जिले में कई खेतों में लगी सोयाबीन की फसल भी खराब हो गई, वहीं बिजली की लाईन गिरने से कई गांवों की विद्युत सप्लाई अभी भी बंद है। प्रशासन द्वारा सर्वे कराना शुरू कर दिया है।
ग्रामीणों के अनुसार उन्‍होंने पहली बार माचक नदी के कारण इतनी तबाही देखी है। माचक नदी में बाढ़ तो हर साल आती है, लेकिन यातायात
...
more...
को छोड़कर जनजीवन पर उसका ज्यादा असर नही पड़ता। मंगलवार रात भारी बारिश के कारण काली माचक नदी ने एक दर्जन से ज्यादा गांवों को अपनी चपेट में लिया। कहीं पर कम तो कहीं ज्यादा नुकसान देखने को मिला। कुछ लोगों का तो वर्षों की मेहनत से बना आशियाना और गृहस्थी ही तबाह हो गई।
इन गांवों को लिया अपनी चपेट में
11 इंच बारिश के बाद काली माचक नदी का तेजी से जलस्तर बढ़ा। नदी का पाट संकरा और कम गहरा होने के कारण पानी को बहने के लिए पर्याप्त जगह नही मिली और नदी का बैक वॉटर गांव में घुसने लगा। जिसके कारण हरदा के गांव अमरापुरा, रोलगांव, डगावाशंकर, दुलिया सहित खिरकिया के भटपुरा, खुटवाल, महेंद्रगांव, कालकुंड, धौलपुर और मांदला को अपनी चपेट में ले लिया।
5 साल पहले ही दी थी चेतावनी
जिले के आपदा प्रबंधन में नदी को लेकर वर्ष 2010 में ही बाढ़ को लेकर संभावित चेतावनी दी गई थी। यह बात और है कि इस नदी में कभी इतनी भयावह स्थिति नही बनी, लेकिन आपदा प्रबंधन के अधिकारियों ने पांच साल पहले ही काली माचक नदी में बांढ़ का खतरा बताया था। इसके अलावा अजनाल, टिमरन, गंजाल, हंडली और सयानी नदी में भी बाढ़ और उससे होने वाली तबाही के बारे में लिखा गया था। बावजूद इसके प्रशासन के सारे प्रयास विफल रहे और बिफराई नदी अपना काम करके चली गई।
कहीं घर गिरे, तो कहीं पड़े खाने के लाले
रेल दुर्घटना स्थल से एक किमी दूर और काली माचक नदी के मुहाने पर बसा गांव मांदला। जब आप इस गांव की सड़क से गुजरेंगे तो घर के बाहर बिखरा सामान, सड़क किनारे गिरी दीवारें बारिश के तीन दिन बाद भी तबाही का मंजर खुद बयां कर देती है। सरकारी आंकड़े भले ही कुछ कहते हों, लेकिन स्टेट हाइवे से गुजरने वाले लोगों की आंखे इस मंजर को देखकर थम जाती है। सड़क किनारे बसे शरीफ ख्ाां, युसूफ खां और नरेंद्र विश्वकर्मा जैसे अन्य ग्रामीणों के सम्पूर्ण मकान बह गए।
दूसरे के घर में घूसा पानी
अतिवृष्टि के दौरान काली माचक नदी का पानी इतनी तेजी से बह रहा था कि वह मांदला में दीपक जैन के घर में घूसा और उनकी दीवार में एक होल करते हुए सुधीर जैन के मकान में के अंदर चला गया। सागरमल जैन, अजय जैन, अकबर खान जैसे कई लोगों का बाढ़ में बस कुछ बह गया। स्थिति यह है कि लोगों के पास पहनने को कपड़े नही है और खाने को खाना नही है। प्रशासन द्वारा बाढ़ प्रभावितों को चिन्हित कर राशन और राहत सामग्री का वितरण किया जा रहा है।
बस तन के कपड़े बचे
जिले में आई भीषण बाढ़ के कारण लोगों के घर, गृहस्थी का सामान बह गया। रौद्र रूप में आई बाढ़ ने ऐसी तबाही मचाई कि कई लोगों के कच्चे और पक्के मकान बह गए। हालत यह थे कि लोग अपने घरों में ताला लगाकर जान बचाकर भाग निकले। दुलिया गांव के लोगों ने बताया कि उनके गांव में पहली बार माचक नदी का रौद्र रूप इस प्रकार देखने को मिला। गांव के खेमराज पिता लखनलाल ने बताया कि उसके मकान में मां, पत्नि और बच्चों के साथ रहती था।
बाढ़ का पानी देखते ही घर छोड़कर गांव में सुरक्षित स्थान पर पहुंचे। खेमराज के मुताबिक उसका सम्पूर्ण मकान बह गया, बस एक गोदरेज अलमारी बची और एक मोटर साईकल दबकर बर्बाद हो गई। ऐसे हालात सिर्फ एक दो लोगों के नहीं बल्कि गई लोगों के हैं। गांव के राजनारायण गौर ने बताया कि बसोड़ मोहल्ला और खेड़ी मोहल्ला में करीब सवा सौ परिवार प्रभावित हुए हैं। गांव के लोगों द्वारा सामुहिक रूप से सभी की मदद की जा रही है।
इनका कहना
जिले में करीब 2 हजार परिवार बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। सर्वे का कार्य चल रहा है। सर्वे के बाद गांव में मुनादी कराई जाएगी और प्रभावितों की सूची गांव में चस्पा की जाएगी।
- रजनीश श्रीवास्तव, कलेक्टर
Aug 05 2015 (11:18)  MP train accident: 24 killed, 25 injured in twin Indian Railways train derailments (www.financialexpress.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsWCR/West Central  -  

News Entry# 236520     
   Tags   Past Edits
Aug 05 2015 (11:18AM)
Station Tag: Harda/HD added by The Train Man/248735

Aug 05 2015 (11:18AM)
Station Tag: Khirkiya/KKN added by The Train Man/248735

Posted by: Karthik Iyer^~  605 news posts
At least 24 passengers, including 10 women and five children, were killed and 25 others injured when 12 coaches of two Indian Railways trains from Mumbai derailed in Harda in Madhya Pradesh and plunged into a swollen Machak river.
“Twenty four bodies, including nine men, 10 women and five children, have been recovered so far from the mishap site between Khirkiya and Harda, about 160 km from Bhopal,” Madhya Pradesh government spokesman Anupam Rajan said.
The toll in the MP train accident could go further up, he said.
Over
...
more...
250 passengers have been rescued, an Indian Railways official said.
Seven coaches of Kamayani Express, running from Mumbai to Varanasi, and five bogies plus the engine of the Mumbai-Jabalpur Janata Express derailed at 11 pm last night, West Central Railway PRO Piyush Mathur said.
“Seven bogies of Kamayani Express and engine plus three coaches of Janata Express were derailed between Khirkiya and Bhirangi stations near Harda,” Mathur said.
“Nearly 25 passengers suffered injuries,” he said.
Search and rescue operations have been intensified, Divisional Commercial Railway Manager (DCRM) Brajendra Kumar said.
The accident relief train has reached the spot and several passengers have been brought to the nearby Harda station.
Railway Ministry has ordered an inquiry into the twin derailments and announced a compensation of Rs 2 lakhs to the next of the kin of the deceased, Rs 50,000 to grievously injured and 25,000 to those who sustained minor injuries.
Railways Minister Suresh Prabhu said all efforts are underway to rescue the passengers and top officials have been rushed to the site.
Indian Railways orders inquiry into twin train mishaps
Railways today ordered an inquiry into the twin train derailments in Harda in Madhya Pradesh which have left 24 passengers dead and ordered compensation for the families of the victims.
Commissioner Railway Safety (central zone) will conduct an inquiry into the accidents, Railway Spokesperson Anil Saxena said.
He said though prime facie flash floods caused the derailment of these two trains, the real cause will be ascertained after the submission of the inquiry report.
The official said just eight minutes before the accident, two trains had crossed that section and drivers of these trains did not detect any problem.
Railway Minister Suresh Prabhu expressed grief over the death of passengers in the twin train accidents and extended his deep condolences to the bereaved families.
Railways have also announced ex-gratia of Rs two lakh for the next of the kin of passengers who died in the mishaps, Rs 50,000 for those grievously injured and Rs 25,000 for passengers with minor injuries.
At least 24 passengers, including 10 women and five children, were killed and 25 others injured when 12 coaches of two trains from Mumbai derailed in Harda in Madhya Pradesh and plunged into a swollen Machak river.
Aug 05 2015 (08:01)  रात 1:45 बजे रेल मंत्री का ट्वीट, राहत ट्रेनें रवाना एमपी में दो ट्रेनों के 8 डिब्बे नदी में गिरे (epaper.bhaskar.com)
News Entry# 236433     
   Tags   Past Edits
Aug 05 2015 (8:01AM)
Station Tag: Varanasi Junction/BSB added by Pp**/36064

Aug 05 2015 (8:01AM)
Station Tag: Lokmanya Tilak Terminus/LTT added by Pp**/36064

Aug 05 2015 (8:01AM)
Station Tag: Patna Junction/PNBE added by Pp**/36064

Aug 05 2015 (8:01AM)
Station Tag: Khirkiya/KKN added by Pp**/36064

Aug 05 2015 (8:01AM)
Station Tag: Harda/HD added by Pp**/36064

Aug 05 2015 (8:01AM)
Train Tag: Kamayani Express/11071 added by Pp**/36064

Posted by: Pp*^~  5969 news posts
हादसेके बाद भोपाल और जबलपुर से होते हुए मुंबई जाने वाली सभी ट्रेनें अलग-अलग स्टेशनों पर फंस गई हैं। दिल्ली-मुंबई और हावड़ा-मुंबई ट्रेक जाम हैं। कई ट्रेनों को खंडवा, भोपाल, इटारसी में रोक दिया गया है। रेल सूत्रों के मुताबिक हादसे की वजह छोटे पुल पर बाढ़ का पानी भरा होना बताया गया है। इसकी वजह से ट्रेक के नीचे की मिट्‌टी बह गई। राहतमें जुटे लोगों ने बताया कि सुबह होते ही भयावह तस्वीर सामने सकती है। मध्यप्रदेशके हरदा के पास मंगलवार रात भीषण रेल हादसा हो गया। मुंबई से वाराणसी जा रही कामायनी एक्सप्रेस के 5 डिब्बे रात 11.10 बजे हरदा के पास काली माचक नदी में गिर गए।
भोपाल डीआरएम के मुताबिक थोड़ी ही देर बाद इसी पुल पर
...
more...
पटना से मुंबई जा रही जनता एक्सप्रेस के भी तीन डिब्बे नदी में गिर गए। हादसे की सूचना करीब 12.30 बजे तक इटारसी स्टेशन पहुंची। 400 से ज्यादा यात्रियों के प्रभावित होने की आशंका जताई गई है। हालांकि सुबह 4.00 बजे तक यह साफ नहीं हो सका कि कितने लोगों की जान गई है। दूसरी ओर समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक जनता एक्स. से निकलने की कोशिश में दो लोगों की करंट लगने से मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही हरदा, भोपाल, खंडवा, पटना स्टेशनों पर हड़कंप मच गया। इटारसी, जबलपुर भुसावल से राहत ट्रेनें रवाना की गईं। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट कर बताया कि बारिश और अंधेरे की वजह से राहत में मुश्किलें रही हैं। कुछ यात्रियों ने भास्कर को बताया कि रात होने की वजह से खिड़कियां, दरवाजे बंद थे। ऐसे में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ सकता है। शेष|पेज13
भोपाल के दोसो कुमावत कामायनीके कोच एस-6 में सवार थे। उन्होंनेे बताया कि ज्यादातर यात्री सोए थे। टीटीई टिकट चेक कर रहे थे। अचानक जोर की अावाज हुई। आवाज कैसे आई इसको लेकर लोग चर्चा ही कर रहे थे, तभी कोच में पानी घुस आया। लोअर बर्थ पर सोए हुए यात्री जाग गए। करीब 20 मिनट बाद टीटीई ने एक-एक करके बोगी के 40 यात्रियों को कोच के रास्ते जनरल बोगी में शिफ्ट कराया।
भोपालके ही भरत कोली अपनीपत्नी सुषमा के साथ पचौरा से शाम साढ़े छह बजे ट्रेन में सवार हुए थे। दोनों इंजन से पीछे तीसरे जनरल कोच में थे। रात करीब 11 बजे हरदा से करीब 20 किमी पहले एक तेज आवाज ने सारे यात्रियों को चाैंकाया। भरत ने बताया कि हमें ऐसा लगा, जैसे तेजी से कुछ टकराया हो या गिरा हो। हम कुछ समझ पाते इसके पहले ही ट्रेन रुक गई थी। बाहर गहरा अंधेरा था। तेज बारिश हो रही थी। पता चला कि ट्रेन पीछे एक पुल से क्रॉस हुई है, जिसके ऊपर पानी बह रहा था। हमने अंधेरे में जाकर देखा कि पीछे की तीन-चार बाेगियां पटरी से उतरकर पानी में समा गई थीं। लेकिन गहरे अंधेरे में किसी को कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। हमने ही 108 पर घटना की जानकारी दी। भरत ने भास्कर को फोन पर बताया कि दूसरे ट्रैक पर भी एक ट्रेन रुकी हुई थी। लेकिन उसके सारे डिब्बे सुरक्षित थे। भरत ने कहा कि पुल किसी नदी पर है या नाला है, यह अंधेरे में स्पष्ट नहीं हो पा रहा था।
हरदाके नानक पाटील नेबताया कामायनी एक्सप्रेस की बोगी में जलगांव से सवार हुआ था ट्रेन हरदा पहुंचने वाली थी। वहां उतरने वाले यात्रियों ने अपना सामान संभालना शुरू ही किया था, तभी तेज धमाके और धक्के के साथ ट्रेन रुक गई। बोगी में पानी भरने लगा। इसके बाद तो बोगी में अफरा-तफरी के हालत बन गए। इन हालात के बीच करीब 40 मिनट की मशक्कत के बाद मैं बोगी से बाहर निकल सका। अभी घटनास्थल से करीब चार किमी दूर कुकरावत गांव स्थित स्टेशन की धर्मशाला में ठहरा हुअा हूं।
कामायनी के कोच का फोटो एक यात्री ने भेजा।
होशंगाबाद में अस्पताल में अलर्ट
हादसेकी जानकारी मिलने के बाद होशंगाबाद अस्पताल प्रशासन को अलर्ट कर दिया गया है। कलेक्टर संकेत भोंडवे ने बताया इटारसी रेल प्रशासन से कुछ लोगों के घायल होने की सूचना मिली है। इसलिए सभी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया है। होशंगाबाद से पुलिस बल भी बचाव के लिए भेजा गया है।
ट्रेन की एस-6 बोगी में सवार भोपाल के दोसो कुमावत।
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रात 1.45 बजे ट्वीट कर बताया कि हरदा के पास माचक नदी के पुल पर हुई रेल दुर्घटना में मध्यप्रदेश सरकार का सहयोग लिया जा रहा है। देर रात तक आरपीएफ जीएम, डीआरएम मेडिकल स्टाफ के साथ राहत ट्रेनें दुर्घटनास्थल पहुंच चुकी है।
Aug 05 2015 (05:28)  Twin Derailments in Madhya Pradesh (khabar.ndtv.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsWCR/West Central  -  

News Entry# 236411     
   Tags   Past Edits
Aug 05 2015 (5:28AM)
Station Tag: Khirkiya/KKN added by ™®©12439 राँची राजधानी एक्सप्रेस 12440 ©®™/422748

Aug 05 2015 (5:28AM)
Train Tag: Kamayani Express/11071 added by ™®©12439 राँची राजधानी एक्सप्रेस 12440 ©®™/422748

Aug 05 2015 (5:28AM)
Train Tag: Rajendra Nagar Patna - Mumbai LTT Janta Express/13201 added by ™®©12439 राँची राजधानी एक्सप्रेस 12440 ©®™/422748

Posted by: xxx  8 news posts
हरदा (मध्य प्रदेश): मध्य प्रदेश के हरदा के पास उफान भर रही माचक नदी पर बने पुल को पार करते हुए दो एक्सप्रेस ट्रेनें मंगलवार रात पटरी से उतर गयीं। दुर्घटना में कई यात्रियों के मारे जाने की आशंका है। मुंबई से वाराणसी जा रही कामायनी एक्सप्रेस रात करीब 11:45 बजे भोपाल से करीब 160 किलोमीटर दूर हरदा के पास पटरी से उतर गयी वहीं जनता एक्सप्रेस भी इसी समय पटरी से उतर गयी। देखें हादसे की पहली तस्‍वीरें..
Aug 05 2015 (05:18)  मध्य प्रदेश बड़ा ट्रेन हादसा, माचक नदी में गिरी दो ट्रेनें (m.aajtak.in)
back to top
Major Accidents/DisruptionsWCR/West Central  -  

News Entry# 236406     
   Tags   Past Edits
Aug 05 2015 (5:18AM)
Station Tag: Itarsi Junction/ET added by Parshwa/132859

Aug 05 2015 (5:18AM)
Station Tag: Khirkiya/KKN added by Parshwa/132859

Aug 05 2015 (5:18AM)
Station Tag: Harda/HD added by Parshwa/132859

Aug 05 2015 (5:18AM)
Train Tag: Kamayani Express/11071 added by Parshwa/132859

Aug 05 2015 (5:18AM)
Train Tag: Rajendra Nagar Patna - Mumbai LTT Janta Express/13201 added by Parshwa/132859

Posted by: xxx  148 news posts
मध्य प्रदेश में एक बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. राज्य के हरदा से खीरकिया के बीच माचक नदी में दो ट्रेनें गिर गई हैं. पुल के क्षतिग्रस्त होने के कारण कामायनी एक्सप्रेस और जनता एक्सप्रेस नदी में जा गिरी.
माचक नदी के ऊपर बना पुल क्षतिग्रस्त था जिसकी वजह से यह हादसा हुआ है. आनन-फानन में बचाव टीम को घटनास्थल पर रवाना किया गया है. रेल मंत्री सुरेश प्रभु खुद इस घटना की पल-पल की जानकारी ले रहे हैं
रेलवे ने हादसे के बाद हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए है.
हरदा
...
more...
ट्रेन हादसे के लिए हेल्पलाइन नंबर 09752460088 भोपाल के लिए हेल्पलाइन नंबर 07554061609 बीना के लिए हेल्पलाइन नंबर 075802222
इटारसी के लिए हेल्पलाइन नंबर 0758422419200
Page#    Showing 1 to 6 of 6 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site