Full Site Search  
Sun May 28, 2017 10:28:06 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search

PNYA/Paniahwa (2 PFs)
     पनीयहवा

Track: Single Diesel-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 16
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Paniyahawa Railway Station
State: Uttar Pradesh
Elevation: 96 m above sea level
Zone: NER/North Eastern
Division: Varanasi
No Recent News for PNYA/Paniahwa
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

CTE/Chhitauni 3 km     KZA/Khadda 6 km     VKNR/Valmikinagar Road 14 km     GRRG/Gurli Ramgarhwa 16 km     AWS/Awasani 18 km     SBZ/Siswa Bazar 20 km     BUG/Bagaha 23 km     KPB/Kharpokhra 31 km     GH/Ghughuli 32 km     BRU/Bhairoganj 40 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  
Jan 12 2017 (19:42)  दौड़ी रेलवे जीएम की ‘ट्राली’ संरक्षा निरीक्षण (epaper.jagran.com)
back to top
Other NewsNER/North Eastern  -  

News Entry# 291121     
   Tags   Past Edits
Jan 12 2017 (19:42)
Station Tag: Paniahwa/PNYA added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Jan 12 2017 (19:42)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆अलविदा गोंडा मीटरगेज■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5688 news posts
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, गोरखपुर : पूवरेत्तर रेलवे के महाप्रबंधक राजीव मिश्र ने बुधवार को गोरखपुर-पनियहवा रेल खंड का किया। इस दौरान उन्होंने विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण के अलावा पुश ट्राली पर बैठकर रेल की पटरियों को नजदीक से देखा और परखा। पिपराइच, उनौला, कप्तानगंज, सिसवा बाजार और पनियहवा स्टेशन का निरीक्षण किया। यात्री सुविधाओं को और बेहतर करने के साथ ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को टिकट बिक्री को प्रभावी बनाने के लिए निर्देशित किया। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के अनुसार विद्युतीकरण और खराब मौसम में रेल यातायात को संरक्षित एवं सुरक्षित करने के उद्देश्य से महाप्रबंधक ने पनियहवा रेल खंड का निरीक्षण किया। उनौला स्टेशन और यार्ड का निरीक्षण कर उन्होंने गोरखपुर-पनियहवा रेल खंड के विद्युतीकरण संबंधी प्रस्तावों पर विस्तार
...
more...
से चर्चा की। मानवयुक्त रेलवे क्रासिंग संख्या पांच ए का निरीक्षण करने के बाद उन्होंने पिपराइच स्टेशन पर मिलने वाली यात्री सुविधाओं का हाल जाना। संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे टिकट बिक्री को प्रभावी बनाएं। अनारक्षित समपार संख्या नौ के निरीक्षण के समय चेतावनी बोर्ड को ऊंचा करने तथा स्पीड ब्रेकर को और मजबूत करने के लिए आदेशित किया। कप्तानगंज, सिसवा बाजार और पनियहवा स्टेशन का भी सूक्ष्म निरीक्षण करने के बाद विद्युतीकरण की प्रक्रिया शुरू कराने के लिए आवश्यक निर्देश जारी किया। मेजर ब्रिज संख्या 50 के निरीक्षण के दौरान संरक्षा मानकों की जांच की। द्वितीय चरण में महाप्रबंधक ने पनियहवा-गोरखपुर कैंट रेल खंड का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण किया। इस मौके पर मुख्य परिचालन प्रबंधक व मुख्य वाणिज्य प्रबंधक अर्चना जोशी, मुख्य संरक्षा अधिकारी एनके अंबिकेश, मुख्य ट्रैक इंजीनियर एससी श्रीवास्तव, मंडल रेल प्रबंधक एसके कश्यप, मुख्य परियोजना प्रबंधक (रेल विद्युत) सोमेश श्रीवास्तव सहित मुख्यालय और वाराणसी मंडल के वरिष्ठ रेल अधिकारी मौजूद थे। पिपराइच संवाददाता के मुताबिक स्थानीय जनप्रतिनिधि व व्यापारियों ने महाप्रबंधक को समस्याओं से संबंधित ज्ञापन सौंपा।पनियहवा रूट का निरीक्षण करते महाप्रबंधक राजीव मिश्र ’ जागरण’ टिकट बिक्री को प्रभावी बनाएं संबंधित रेल अधिकारी: राजीव मिश्र 1’ विद्युतीकरण की प्रक्रिया शुरू करने के लिए दिया आवश्यक दिशा-निर्देश
May 19 2015 (20:29)  ट्रेनों की तेज रफ्तार से वन्य जीवों को खतरा (epaper.amarujala.com)
back to top
Other NewsNER/North Eastern  -  

News Entry# 225217     
   Tags   Past Edits
May 19 2015 (8:30PM)
Station Tag: Valmikinagar Road/VKNR added by ☆☆Gonda Shed☆☆/206964

May 19 2015 (8:29PM)
Station Tag: Paniahwa/PNYA added by ☆☆Gonda Shed☆☆/206964

May 19 2015 (8:29PM)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ☆☆Gonda Shed☆☆/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  5688 news posts
कुशीनगर (ब्यूरो)। उत्तर प्रदेश के पनियहवा और बिहार के वाल्मीकि रोड रेलवे स्टेशन के बीच गुजर रही ट्रेन जंगल के बीच 40 किलोमीटर की गति से ज्यादा न चले, इसके लिए बिहार वन मुख्यालय को पत्र भेजा गया है। जंगल में ट्रेन की स्पीड तेज होने से वन्य जीवों के लिए खतरा रहता है। अब तक कई वन्यजीव हादसे के शिकार भी हो चुके हैं। वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के निदेशक ने बिहार वन निदेशक को पत्र लिखकर मांग की है कि इस जंगल से गुजरते समय गाड़ियों की गति सीमा 40 किलोमीटर प्रति घंटे तक ही रखा जाए। उन्होंने उनसे रेलवे से वार्ता करने का निवेदन किया है।
ट्रेन की चपेट में आकर वन्य प्राणियों की मौत हो चुकी है। दो साल
...
more...
पहले एक गैंडे की मौत हो गई थी। तब वन विभाग ने मालगाड़ी को ही जब्त करके ड्राइवर और गार्ड को हिरासत में ले लिया था। इससे वन विभाग और रेलवे के अधिकारी-कर्मचारी आमने-सामने आ गए थे। डीएफ ओ अमित कुमार ने बताया कि वन्य जीवों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पत्र भेजकर ट्रेनों की गति कम करने की मांग की गई है।
वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के निदेशक ने वन निदेशक को पत्र लिखा
जंगल में ट्रेनों की गति 40 किलोमीटर प्रति घंटा तक रखने की मांग
इसके लिए रेलवे के अधिकारियों से वार्ता करने की मांग की गई
Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site