Full Site Search  
Fri Mar 31, 2017 04:15:38 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;

TPU/Tanakpur (1 PFs)
     टनकपुर

Track: Construction - Gauge Conversion

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 1
Number of Halting Trains: 0
Number of Originating Trains: 4
Number of Terminating Trains: 4
Tankpur Railway Station, Tanakpur
State: Uttarakhand
Elevation: 259 m above sea level
Zone: NER/North Eastern
Division: Izzatnagar
1 Travel Tips
No Recent News for TPU/Tanakpur
Nearby Stations in the News

Rating: 4.0/5 (23 votes)
cleanliness - excellent (3)
porters/escalators - average (2)
food - good (3)
transportation - good (3)
lodging - average (3)
railfanning - excellent (3)
sightseeing - excellent (3)
safety - good (3)

Nearby Stations

BNSA/Banbasa 9 km     CKK/Chakarpur 16 km     KHMA/Khatima 23 km     MJZ/Majhola Pakarya 37 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 41 News Items  next>>
Mar 26 2017 (07:39)  टैल्गो पर फैसला नहीं, पीलीभीत- टनकपुर ब्रॉडगेज जून तक (m.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 297639   Blog Entry# 2211066     
   Tags   Past Edits
Mar 26 2017 (07:39)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Mar 26 2017 (07:39)
Station Tag: Izzatnagar/IZN added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Mar 26 2017 (07:39)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पीलीभीत से इज्जतनगर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने कहा कि टैल्गो ट्रेन चलाने के कांसेप्ट पर कोई निर्णय नहीं हुआ है। इसलिए अभी कुछ भी कहना सही नहीं होगा। उन्होंने कहा कि अभी उनकी प्राथमिकता पीलीभीत-टनकपुर ब्रॉडगेज के कार्य को जून तक पूरा करने की है। पूर्वाेत्तर रेलवे के अधिकारी समय से इस कार्य को पूरा करें।चेयरमैन मित्तल ने कहा कि रेलवे ट्रैक मीटरगेज से ब्रॉडगेज होने पर स्टेशन के प्लेटफार्म एवं फ्लोर का लेवल बढ़ाना पड़ता है जिससे यात्रियों को दिक्कतों कम हो। उन्होंने पूर्वाेत्तर रेलवे के जीएम राजीव मिश्र और डीआरएम निखिल पांडेय से सवालिया अंदाज में कहा कि जून तक यह काम कैसे पूरा होगा।

1004 views
Mar 26 2017 (09:13)
Divyanshu Gupta^~   32318 blog posts   23347 correct pred (76% accurate)
Re# 2211066-1            Tags   Past Edits
June nhi to august tk ho jae
Feb 19 2017 (11:13)  टनकपुर रूट पर ट्रेन संचालन में बाधा (m.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 294277     
   Tags   Past Edits
Feb 19 2017 (11:13)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Feb 19 2017 (11:13)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पूर्वोत्तर रेलवे के पीलीभीत-टनकपुर रेल रूट पर संचालन शुरू किए जाने को लेकर रेलवे विभाग की तस्वीर साफ नहीं है। अगले माह उत्तराखंड का मां पूर्णागिरि मेला शुरू हो रहा है, जिससे तीर्थयात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। रेल विभाग ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। अगर बड़ी रेल लाइन की ट्रेन सुविधा नहीं दी गई, तो तीर्थयात्रियों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ेगा। रेलवे सूत्रों के मुताबिक पीलीभीत से मझोला पकड़िया तक बड़ी रेल लाइन की ट्रेन संचालन की योजना बनाई जा रही है। इसी श्रृंखला में शनिवार को पीलीभीत-टनकपुर रूट पर मालगाड़ी ने पत्थर डालने का काम किया। पत्थर पड़ने के बाद लाइन लेव¨लग मशीन से पटरियों को बराबर करने का काम किया जाएगा।
Jun 18 2016 (10:49)  टनकपुर रेल लाइन बंद होने से तेज हुआ कार्य (m.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271315   Blog Entry# 1899204     
   Tags   Past Edits
Jun 18 2016 (10:50AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 18 2016 (10:50AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
जागरण संवाददाता, पीलीभीत : रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म के उच्चीकरण का कार्य शुरू कर दिया गया। ट्रैक्टर-ट्रॉलियों से प्लेटफार्म तक मिट्टी पहुंचाई जा रही है, जो जेसीबी मशीन से बराबर की जा रही है। इस कार्य को काफी तेजी से किया जा रहा है।
पीलीभीत-टनकपुर मीटर गेज पर संचालन बंद होने के बाद अमान परिवर्तन के काम में एकदम तेजी आ गई। रेलवे स्टेशन के वा¨शग एप्रिन ट्रैक पर स्लीपर पर लाइन कसने का काम किया जा रहा है। इसके साथ ही लाइन के किनारे सुरक्षा दीवार भी बनाई जा रही है, जिससे कोई यात्रा लाइन फांदकर दूसरे प्लेटफार्म पर न जा सकेगा। टनकपुर मीटर गेज लाइन पर संचालन बंद होने के बाद ब्राडगेज के काम में जबर्दस्त तेजी आ गई। स्टेशन
...
more...
के प्लेटफार्म को ऊंचा करने का काम शुरू कर दिया गया। सीमेंटेड स्लीपर पहले ही खड़े कर दिए गए थे। अब ट्रैक्टर-ट्रॉलियों से मिट्टी पटान का कार्य चालू कर दिया गया। प्लेटफार्म पर जेसीबी मशीन से मिट्टी को समतल करने का कार्य किया जा रहा है। मिट्टी पटान के कार्य को काफी तेज गति से किया जा रहा है। मिट्टी पटान के बाद प्लेटफार्म के टीनशेड को उठाने का काम किया जाएगा।
दो क्रा¨सगों को करना है कनेक्ट
शहर के नौगवां रेलवे क्रॉ¨सग पर ओवरब्रिज का काम चल रहा है। ईदगाह क्रॉ¨सग की लाइन को बीजी में कनेक्ट करना है। इस वजह से बड़ी रेल लाइन का कार्य बाधित हो रहा है। सिर्फ रामलीला क्रा¨सग को बीजी में कनेक्ट किया जा चुका है। छोटे-छोटे कामों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अगर समय से लाइन कनेक्ट हो जाएगी, तभी रेल रैक आ जाएगा।
लाइन उखाड़ने का नहीं शुरू हुआ काम
पीलीभीत-टनकपुर मीटर गेज लाइन पर संचालन पंद्रह जून को बंद कर दिया गया। इज्जतनगर मंडल के डिप्टी चीफ इंजीनियर राजीव अग्रवाल ने गहौनिया रेलवे क्रॉ¨सग पर पूजन अर्चन कर अमान परिवर्तन कार्य का शुभारंभ किया था। शुभारंभ होने के बाद रेल लाइन को उखाड़ने का कार्य शुरू नहीं किया जा सका।

4529 views
Jun 18 2016 (10:52)
Narendra yadav   154 blog posts
Re# 1899204-1            Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (06:46)  अब नजर नहीं आएगी मीटर गेज पर दौड़ती पैसेंजर (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271209   Blog Entry# 1898240     
   Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (6:48AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 17 2016 (6:48AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पीलीभीत-टनकपुर मार्ग पर मीटर गेज रेल लाइन पर दौड़ती पैसेंजर ट्रेनों का संचालन बंद हो गया है। अब बड़ी रेल लाइन का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर शुरू होगा। यानि की आने वाले दिनों में काली कुमाऊं के लोग भी यहां से एक्सप्रेस ट्रेनों में सफर का आनंद उठाएंगे। बृहस्पतिवार को रेलवे स्टेशन पर सन्नाटा पसरा रहा, जबकि बस स्टेशन में यात्रियों की खासी चहल-पहल रही। रोडवेज बसों पर यात्रियों का दबाव भी बढ़ गया है, जिसके मद्देनजर रोडवेज ने फिलहाल पीलीभीत और बरेली मार्ग पर दस अतिरिक्त बसों का संचालन शुरू कर दिया है।
भोजीपुरा (बरेली)-पीलीभीत-टनकपुर को बड़ी रेल लाइन सेवा से जोड़ा जा रहा है। भोजीपुरा-पीलीभीत के बीच जनवरी से ही बड़ी लाइन बिछाने का काम चल रहा है, जिसके चलते
...
more...
बरेली के लिए ट्रेनों का संचालन पहले ही बंद हो गया था। 15 मई से लखनऊ के लिए भी सेवा बंद कर दी गई थी। पूर्णागिरि मेले के मद्देनजर टनकपुर-पीलीभीत के बीच ट्रेनों का संचालन 15 जून तक जारी रहा। स्टेशन अधीक्षक केडी कापड़ी के मुताबिक टनकपुर-पीलीभीत मीटर गेज का निर्माण 116 साल पहले अंग्रेजों ने शुरू किया था और 1912 में ट्रेनों का संचालन शुरू हुआ था।
इधर, ट्रेनों का संचालन बंद होने से बृहस्पतिवार को रेलवे स्टेशन में तो सन्नाटा परसा रहा, लेकिन रोडवेज बस स्टेशन में भीड़ से यात्रियों को गंतव्य जाने के लिए साधन की तलाश में परेशानी उठानी पड़ी। ट्रेन बंद होने से ज्यादा परेशानी पीलीभीत और बरेली रूट के यात्रियों को होगी। रोडवेज के प्रभारी मंडलीय प्रबंधक पवन मेहरा के मुताबिक टनकपुर डिपो की बरेली मार्ग पर अब तक हर दिन दस बसों का संचालन हो रहा था, जिसे बढ़ाकर बीस कर दिया गया है। जरूरत पढ़ने पर और बसें बढ़ाई की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि संभवत: जुलाई में रीजन को नई बसें मिलने की उम्मीद है, जिसके बाद जरूरी मार्गों पर बसों का पर्याप्त संचालन सुनिश्चित किया जाएगा।
जारी रहेगी टिकट बुकिंग की सुविधा
बृहस्पतिवार से ट्रेनों का संचालन तो बंद हो गया, लेकिन देश के अन्य हिस्सों में रेल सेवा के लिए टनकपुर स्टेशन पर टिकटों की बुकिंग और आरक्षण सुविधा जारी रहेगी। स्टेशन अधीक्षक केडी कापड़ी ने बताया कि यात्री स्टेशन के टिकट काउंटर में आकर या फिर ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग करा सकते हैं।
मुनि मुकेश गिरि महाराज ने जताया मोदी का आभार
टनकपुर-चंपावत एनएच पर टिपनटाप में स्थित मां पूर्णागिरि मंदिर के पुजारी मुनि मुकेश गिरि महाराज ने बड़ी रेल लाइन निर्माण कार्य शुरू होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया है। प्रधानमंत्री को भेजे आभार पत्र में उन्होंने कहा है कि बड़ी रेल लाइन के निर्माण के साथ क्षेत्र में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की जरूरत है। उन्होंने टनकपुर से बूम तक शारदा नदी के किनारे हरिद्वार की तर्ज पर स्नानघाट और मां शारदा एवं मां सरस्वती का भव्य मंदिर बनवाने का आग्रह किया है।

2989 views
Jun 17 2016 (11:44)
Narendra yadav   154 blog posts
Re# 1898240-1            Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (06:44)  टनकपुर रूट का अमान परिवर्तन शुरू (m.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNER/North Eastern  -  

News Entry# 271207   Blog Entry# 1898241     
   Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (6:49AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 17 2016 (6:49AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पीलीभीत : टनकपुर मीटर गेज लाइन के अमान परिवर्तन कार्य का शुभारंभ कर दिया गया। गुरुवार को वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ पूजन अर्चन किया गया। इज्जतनगर मंडल के डिप्टी चीफ इंजीनियर ने रेल पटरी पर नारियल फोड़कर कार्य का शुभारंभ किया। कार्य को देखने के लिए आम जनता की भीड़ उमड़ी लगी रही।
भोजीपुरा-पीलीभीत-टनकपुर मीटर गेज के अमान परिवर्तन कार्य की मंजूरी वर्ष 2008-09 में मिल गई थी। 101 किलोमीटर लंबे ट्रैक को बदलने में 427 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। भोजीपुरा-पीलीभीत रूट का काम अंतिम चरणों में चल रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे ने पीलीभीत-टनकपुर रूट को 16 जून को बंद करने की तिथि घोषित की थी। शहर के माधोटांडा रोड स्थित गहौनिया रेलवे क्रा¨सग पर आयोजित कार्यक्रम में इज्जतनगर मंडल के
...
more...
डिप्टी चीफ इंजीनियर राजीव अग्रवाल ने पहुंचकर पूजन अर्चन में भाग लिया। पुजारी ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ पूजा कराई। डिप्टी चीफ इंजीनियर ने रेल पटरी पर नारियल फोड़कर पीलीभीत-टनकपुर रूट के अमान परिवर्तन के कार्य का शुभारंभ किया, इसके बाद रेल कर्मचारियों ने पटरियों को खोलना शुरू कर दिया। प्रसाद वितरित किया गया। इस मौके पर स्टेशन अधीक्षक मोहम्मद इजराइल, सुशील सक्सेना, महाराज ¨सह, ओपी ¨सह, एसके कमल आदि रेल अफसर मौजूद रहे।
इतिहास में दर्ज हो गई टनकपुर लाइन
पूर्वोत्तर रेलवे के पीलीभीत-टनकपुर खंड का निर्माण वर्ष 1912 में किया गया था। टनकपुर को उत्तराखंड का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। ट्रेन से सफर करने के बाद टनकपुर से सड़क मार्ग का सफर शुरू होता है, जो कई जिलों को जोड़ता है। उत्तराखंड की सीमा चीन से छूती है। गुरुवार को पीलीभीत-टनकपुर रूट को अमान परिवर्तन के लिए बंद कर दिया गया। गाड़ी संख्या 52228 टनकपुर से पीलीभीत अंतिम बार पहुंची जो यहीं की होकर रह गई। टनकपुर लाइन इतिहास में दर्ज हो गई।
रोडवेज बसों में यात्रियों की भीड़
पीलीभीत-टनकपुर रेल लाइन बंद हो जाने के बाद पर्वतीय जनपदों को जाने वाले यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। गुरुवार को यूपी व उत्तराखंड की रोडवेज बसों में यात्रियों की अधिक संख्या देखी गई। रोडवेज बस से टनकपुर पहुंचने के बाद यात्री पर्वतीय जनपदों को रवाना होते हैं। अभी रोडवेज बसों की संख्या में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई। वहीं डग्गामार वाहनों पर भी यात्रियों की भीड़ रही।

3146 views
Jun 17 2016 (11:44)
Narendra yadav   154 blog posts
Re# 1898241-1            Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (06:43)  ठंडे पड़ चुके ब्राडगेज कार्य एकाएक तेज (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271205   Blog Entry# 1898244     
   Tags   Past Edits
Jun 17 2016 (6:49AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 17 2016 (6:49AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पीलीभीत-भोजीपुरा रेल मार्ग पर ठंडे पड़े चुके आमान परिवर्तन कार्य में दिनों दिन तेजी आती जा रही है। भोजीपुरा से पीलीभीत के बीच छूटे स्थानों पर रेल पटरी बिछाने का कार्य तेजी से शुरू किया जा चुका है। टनकपुर रूट बंद होने से अब मुख्य प्लेटफार्म ट्रेनों की आवाजाही से मुक्त रहेगा, सो यहां भी तेजी से कार्य शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है।
आमान परिवर्तन कार्य को लेकर पीलीभीत-भोजीपुरा रेल मार्ग पर एक जनवरी को ब्लाक लिया गया था। शुरूआती दौर में यहां मीटरगेज पटरियों को हटाने के बाद उसके स्थान पर ट्रांसपोटिंग के लिए 90 पौंड की रेल लाइन बिछाने का कार्य तेजी से शुरू किया गया था। साथ ही मुख्य प्लेटफार्म के समीप ही 600 मीटर बेस
...
more...
लाइन बिछाने का काम शुरू हुआ था, लेकिन कुछ दिन तेजी दिखाने के बाद यहां आमान परिवर्तन कार्यों की गति धीमी होती गई। इधर कई दिनों से सुस्त पड़े आमान परिवर्तन कार्यों में एकाएक तेजी आ गई है।
देवहा पुल और रेलवे क्रासिंग को जोड़ने का काम भी अंतिम दौर में
सालों से बन रहे देवहा पुल के ऊपर भी स्लीपर डालकर पटरी बिछा दी गई। वहीं ईदगाह व रामलीला रेलवे क्रासिंग पर छूटे स्थान पर रेल पटरी बिछाने का काम तेजी से चल रहा है। गुरुवार शाम देर शाम तक रामलीला रेलवे क्रासिंग पर कर्मचारी रेल पटरियों को बिछाते देखे गए।
मुख्य प्लेटफार्म पर यात्रियों की आवाजाही खत्म
टनकपुर रूट पर ट्रेनों का संचालन गुरुवार से बंद होने के बाद अब मुख्य प्लेटफार्म ट्रेनों के संचालन से मुक्त रहेगा। ऐसे में अब यहां भी तेजी से काम शुरू होने की उम्मीद जागी है। अभी तक इस प्लेटफार्म से टनकपुर रूट की ट्रेनों का संचालन किया जा रहा था। ऐसे में यात्रियों की आवाजाही से भी कार्यों में बाधा आ रही थी।
जल्द ही आएगी नई रेल पटरियों की रैक
पीलीभीत-भोजीपुरा रेल मार्ग पर ट्रांसर्पोटिंग के लिए 90 पौंड की रेल पटरी बिछाई गई है। रेलवे सूत्रों के मुताबिक जल्द ही 90 पौंड के स्थान पर 120 पौंड की रेल पटरी बिछाई जाएगी। इसके लिए दो-तीन दिन में ही यहां नई रेल पटरियों की रैक पहुंचने वाली है।

2926 views
Jun 17 2016 (11:44)
Narendra yadav   154 blog posts
Re# 1898244-1            Tags   Past Edits
Jun 16 2016 (07:07)  मीटर गेज सेवा आज से बंद (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271089     
   Tags   Past Edits
Jun 16 2016 (7:10AM)
Station Tag: Khatima/KHMA added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (7:09AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (7:09AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
104 वर्ष पुरानी मीटर गेज को बदल कर ब्राडगेज निर्माण के चलते बंद होने पर इस रूट की अंतिम रेल की भावपूर्ण विदाई दी गई।
टनकपुर से पीलीभीत के लिए चली ट्रेन के 7.05 बजे प्लेटफार्म पर आते ही हर आयु वर्ग के लोगों ने सामाजिक संगठनों एवं राजनैतिक दलों के कार्यकर्ताओं व जनप्रतिनिधियों ने 1228 डाउन रेल को बाजे गाजे के साथ विदा किया। रेल के चालक शरीफ अहमद, आरके कुशवाहा, अजहर अब्बास जैदी एवं गार्ड बसंत कुमार को मालाएं पहना शाल ओढ़ाकर विदा किया।
रेल विदाई कार्यक्रम में विधायक पुष्कर सिंह
...
more...
धामी, महेश जोशी, प्रकाश तिवारी, देवेंद्र जुनेजा राजू, महेंद्र ठाकुर, केएस बृजवाल, हरीश जोशी, राजेश राणा, दान सिंह राणा, तरूण ठाकुर, मनोज बाधवा, जेएस पानू, गुरदयाल सिंह राणा, संतोष अग्रवाल, विशन दत्त कापड़ी, विश्वनाथ यादव, अशोक खड़का, अंकित पांडे, गंभीर सिंह धामी, ईश्वर बंसल, जहरूल हसन जैदी, राधेश्याम भाटिया, विजय गुप्ता, फिरोज खान आदि मौजूद थे।
Jun 16 2016 (00:20)  बैंड-बाजे के साथ आखिरी ट्रेन विदा (m.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271080     
   Tags   Past Edits
Jun 16 2016 (12:22AM)
Station Tag: Khatima/KHMA added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (12:22AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (12:22AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
खटीमा : अब कभी वह झुक-झुक करते हुए पटरी पर नहीं दौड़ेगी। 104 साल बाद आज जब वह आखिरी बार ट्रैक से गुजरी तो उसकी कर्कश भरी आवाज से कभी न लौटने का दर्द साफ झलक रहा था। अंग्रेजों के जमाने में बिछाई गई छोटी रेल लाइन आखिरकार 104 साल बाद रिटायर हो गई। बुधवार शाम इस रेलवे ट्रैक से पीलीभीत के लिए आखिरी गाड़ी रवाना हुई। इसे विदाई देने के लिए बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि रेलवे स्टेशन पहुंचे हुए थे। दुर्घटना रहित इस रेलवे ट्रैक पर ब्रॉडगेज के कारण संचालन ठप किया गया है। इसकी वजह से लगभग एक साल तक खटीमा में अब ट्रेन चलती दिखाई नहीं देगी।
टनकपुर-पीलीभीत रेलवे ट्रैक पर बुधवार की शाम से ट्रेनों का संचालन पूरी
...
more...
तरह से बंद हो गया है। 1 मई 1912 को इस रेलवे टै्रक पर रेल सेवा शुरू हुई थी। मौजूदा समय में इस छोटी रेलवे लाइन पर 12 ट्रेनें दौड़ती थीं। जो यात्रियों को पीलीभीत, बरेली, शाहजहांपुर, हरदोई, कासगंज लखनऊ आदि तक ले जाती थी। इन ट्रेनों में प्रतिदिन 50 हजार यात्री आवागमन करते थे। बड़ी रेल लाइन का निर्माण होने की वजह से छोटी लाइन का वजूद मिटाया जा रहा है। बड़ी रेल लाइन का कार्य एक साल में पूरा होने की संभावना महाप्रबंधक रेलवे राजीव मिश्र ने जताई थी। अंतिम बार टनकपुर से पीलीभीत को जा रही ट्रेन जब स्टेशन पर पहुंची तो बैंड बाजे के साथ उसका स्वागत किया गया। ट्रेन चालक शरीफ अहमद, आरके कुशवाहा, अमर अब्बास जैदी, स्टेशन अधीक्षक पीके श्रीवास्तव को लोगों ने फूलमाला व शाल पहनाकर सम्मानित किया। इस मौके पर विधायक पुष्कर सिंह धामी, ब्लाक प्रमुख दान सिंह राणा, ठाकुर महेंद्र सिंह, प्रकाश तिवारी, राजू जुनेजा, महेश जोशी, हिमांशु बिष्ट, गंभीर सिंह धामी, राजेश राणा आदि थे।
Jun 16 2016 (00:10)  टनकपुर रूट पर इतिहास बनी छोटी लाइन की ट्रेनें (m.livehindustan.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271078     
   Tags   Past Edits
Jun 16 2016 (12:11AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (12:11AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
पीलीभीत-टनकपुर रूट पर बुधवार को अंतिम बार ट्रेनों का संचालन हुआ। रेलवे इस रूट पर चार जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चला रहा था। अब इस रूट को रेलवे ने इन ट्रेनों का संचालन आमान परिवर्तन के लिए बंद कर दिया है।
एनईआर मुख्यालय ने आमान परिवर्तन के लिए पीलीभीत-टनकपुर रूट पर पहले 15 मई से ब्लाक लेने की घोषणा की थी। इसकी सूचना भी भोजीपुर स्टेशन से लेकर टनकपुर स्टेशन तक जगह-जगह चस्पा भी कई गई थी। इसके बाद मुख्यालय पूर्णागिरि मेला को ध्यान में रखते हुए ब्लाक लेने की तारीख एक महीना आगे बढ़ा कर 15 जून कर दी। बुधवार को इस रूट पर अंतिम दिन ट्रेनों का संचालन हुआ। इस रूट पर पीलीभीत स्टेशन से अंतिम ट्रेन शाम 5.50 बजे छूटी
...
more...
और स्टेशन में टनकपुर से अंतिम ट्रेन रात नौ बजे पहुंची।
पीलीभीत से टनकपुर रूट पर ट्रेनों का संचालन बंद होने के बाद अब रोडवेज के बरेली डिपो, रुहेलखंड डिपो और पीलीभीत डिपो की कुल 105 बसें चलाने का फैसला किया है।
टनकपुर रूट का इतिहास - रुहेलखंड और कुमायूं क्षेत्र में छोटी रेल लाइन का जाल ब्रिटिश शासन काल में बिछाया गया था। ये लाइनें वर्ष 1884 से 1912 तक बिछाई गई थीं। बरेली से भोजीपुरा तक की रेल लाइन अक्टूबर 1984 में शुरू की गई थी। भोजीपुरा से पीलीभीत तक की रेल लाइन नवंबर 1984 में शुरू हुई। भोजीपुरा से टनकपुर तक रेल लाइन वर्ष 1912 में शुरू हुई थी तब से अब तक इस रूट पर छोटी लाइन की ट्रेनों का संचालन हो रहा था।
Jun 16 2016 (00:09)  आज से बंद हो जाएगी 104 साल पुरानी सेवा (m.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNER/North Eastern  -  

News Entry# 271077     
   Tags   Past Edits
Jun 16 2016 (12:12AM)
Station Tag: Tanakpur/TPU added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Jun 16 2016 (12:12AM)
Station Tag: Pilibhit Junction/PBE added by Pilibhit broad gauge^~/1323097

Posted by: Pilibhit broad gauge^~  282 news posts
टनकपुर : गुरुवार यानी कि 16 जून को टनकपुर तक चलने वाली रेलवे की 104 साल पुरानी सेवा ठप हो जाएगी। अब टनकपुर के लोगों को रेलवे की छोटी लाइन पर चलने वाली गाड़ी नजर नहीं आएगी। लगभग एक साल बाद टनकपुर से देश के महानगरों के साथ ही विभिन्न शहरों के लिए एक्सप्रेस ट्रेनें सरपट दौड़ेंगी। इसी के साथ चम्पावत व पिथौरागढ़ जिले के लोगों की दिक्कतें भी कम हो जाएंगी।
वर्ष-1900 के शुरुआती वर्षो में पहाड़ का प्रवेश द्वार कहे जाने वाले टनकपुर को रेलवे लाइन से जोड़ने की कवायद शुरू हो गई थी। चूंकि पहाड़ में भरपूर वन संपदा थी। अंग्रेजों को रेलवे विस्तार के लिए स्लीपरों के साथ ही उन्हें इमारती लकड़ी की भी जरूरत थी। उसे पूरा
...
more...
करने के लिए उन्होंने टनकपुर तक रेल पटरी बिछाने का निर्णय लिया था। वर्ष 1912 में रेलवे लाइन बिछाने का काम पूरा हो गया। पहाड़ों से शारदा नदी, जिसे पहाड़ में काली के नाम से जाना जाता है, लकड़ी बह कर बूम तक आसानी से पहुंच जाती थी। अंग्रेजों ने रेलवे लाइन बूम तक बिछाई थी। बुजुर्ग बताते हैं कि चकरपुर में लकड़ी का स्टॉक सेंटर हुआ करता था। वर्ष 1912 में टनकपुर तक रेलवे की सेवा शुरू हो गई थी। शुरुआत में यहा तक केवल मालगाड़िया चला करती थीं। मालगाड़ियों का मुख्य कार्य लकड़ी ढोना था। धीरे धीरे में यात्री सेवा भी शुरू हुई, लेकिन ऐसी ट्रेनों की संख्या न के बराबर थी। आजादी के बाद मालवाहक गाड़ियों की संख्या कम हो गई थी। क्योंकि उसके बाद जंगलों का कटान कम होने लगा। 1970 के दशक में सरकार की नजर शारदा पत्थर पर पड़ी। उसके बाद से अब तक रेलवे लाइन विस्तार व अन्य कार्य के लिए शारदा का पत्थर ढोने का काम रेलवे लगातार करती रही है। पत्थरों की ढुलाई आसानी से हो जाए, इसके लिए वर्मा लाइन के पीछे तक रेलवे लाइन बिछाई गई। इसके साथ ही ट्रेनों का बूम तक संचालन भी बंद हो गया। पिछले करीब 35 सालों से पहाड़ के लोगों के साथ साथ मैदानी क्षेत्रों से मा पूर्णागिरि आने वाले श्रद्धालुओं के लिए ट्रेनें सस्ता व सुलभ साधन बनी हुई थीं। क्षेत्रीय लोगों की माग व जरूरत को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने टनकपुर तक बड़ी लाइन बिछाने का निर्णय लिया था। पहले ये कार्य 15 मई से होना था, लेकिन पूर्णागिरि मेला 15 जून तक चलना था। इसलिए मामले को एक महीना टाल दिया गया। बड़ी लाइन का काम शुरू करने के लिए 16 मई से पीलीभीत-टनकपुर के बीच रेल सेवा बंद हो जाएगी। इसी के साथ छोटी लाइन की ट्रेन भी इतिहास बन जाएगी।
रोजाना सफर करते थे ढाई हजार लोग
टनकपुर। टनकपुर रेलवे स्टेशन के प्रबंधक केडी कापड़ी ने बताया कि टनकपुर व पीलीभीत के बीच रोजाना चार गाड़िया अप-डाउन करती थीं। इनमें रोजाना एक हजार यात्री सफर करते थे। पूर्णागिरि मेले के दौरान रोजाना कम से कम पाच हजार यात्री सफर करते थे। पूर्णागिरि मेला व अन्य दिनों के यात्रियों की संख्या के हिसाब से प्रतिदिन का औसत ढाई हजार लोग रोजाना सफर करते थे।
परितर्वन का कार्य शुरू करने के लिए गुरुवार से टनकपुर-पीलीभीत के बीच रेल सेवा बंद हो जाएगी। इसी के साथ 104 साल पुरानी सेवा बंद हो जाएगी। टनकपुर रेलवे स्टेशन का रिजर्वेशन काउंटर खुला रहेगा। लोग देशभर में यात्रा करने के लिए यहा से बुकिंग कर सकते हैं। यहा का अधिकांश स्टाफ अन्य स्टेशनों से संबंद्ध कर दिया जाएगा।
- केडी कापड़ी, प्रबंधक, रेलवे स्टेशन, टनकपुर।
स्टेशन का भी होगा कायाकल्प
टनकपुर : आमान परिवर्तन के साथ ही टनकपुर रेलवे स्टेशन का आमान परिवर्तन हो जाएगा। फिलहाल टनकपुर स्टेशन में केवल एक ही प्लेटफार्म है। पीलीभीत से आने वाली गाड़ी ही वापस चली जाती है। ऐसी गाड़ियों की संख्या चार है। आमान परिवर्तन के साथ ही टनकपुर स्टेशन में चार प्लेटफार्म बनेंगे। साथ ही ट्रेनों की धुलाई के लिए अलग से प्लेटफार्म भी बनेगा। पूरे स्टेशन को नया रूप दिया जाएगा।
Page#    Showing 1 to 20 of 41 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site