Full Site Search  
Fri Aug 18, 2017 21:50:38 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Filters:
Blog Posts by pawankumarsingh~
Page#    195 Blog Entries  next>>
  
पटना : ट्रेन में आरक्षण की 'आदर्श' स्थिति आज तक बहाल नहीं की जा सकी है. कितने रेलमंत्री आये और चले गये. कितने नियम बने. दलालों पर अंकुश लगाने के लिए सीसीटीवी से लेकर कई कड़े कदम उठाये गये. सुरक्षा बलों की तैनाती से लेकर छापेमारी तक हुई. अब रेलवे की ओर से टीटीई को हैंड हेल्ड मशीन दिये जाने की बात कही गयी है. ताकि, चलती ट्रेन में हैंड हेल्ड मशीन के जरिये खाली सीटों की जानकारी प्राप्त की जा सके. इसके बावजूद भारतीय रेल में आरक्षण की 'आदर्श' स्थिति आज तक बहाल नहीं की जा सकी है.
नयी दिल्ली से पटना आ रही प्रियंका सिंह राजपूत ने फेसबुक पेज पर तस्वीरें पोस्ट कर रेलवे की खामियों और सीटों के आरक्षण
...
more...
घोटाले की तस्वीर पेश की है. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा है कि उन्हें अचानक पटना जाने की जरूरत आ पड़ी. जब वह ट्रेनों में सीटों की स्थिति की पड़ताल की, तो उन्हें बमुश्किल नयी दिल्ली-पटना राजधानी एक्सप्रेस के सेकेंड एसी में एक सीट खाली मिली. बिना कुछ सोचे उन्होंने फौरन अपना रिजर्वेशन करा लिया, ताकि पटना तक की यात्रा आराम से तय की जा सके.
राजधानी ट्रेन के सेकेंड एसी में करीब 52 सीटें होती हैं. लेकिन, जब वह ट्रेन में सफर कर रही थीं, तो मात्र पांच यात्री ही सफर करते मिले. जब उन्होंने वेंडर ब्वॉय से बात की, तब उसने कहा कि ''दीदी जी, यह लगभग हर कंपार्टमेंट का हाल है. हर रोज ऐसा ही नजारा होता है.'' यह जानने के बाद प्रियंका सिंह राजपूत ने एसी थ्री की ओर रुख किया. वहां भी उन्हें तकरीबन यही स्थिति देखने को मिली. वहां भी यात्री गिने-चुने ही थे. उसके बाद प्रियंका को अखरने लगा कि एसी थ्री के खाली रहते हुए भी एसी टू कोच में रिजर्वेशन मजबूरी में कराना पड़ा. उन्होंने यह भी लिखा है कि आरक्षित टिकट के लिए करीब 3500 रुपये खर्च किये. जबकि, पटना राजधानी का नयी दिल्ली से एसी टू का किराया जीएसटी सहित मात्र 2300 रुपये है. वहीं, एसी थ्री का किराया 1665 रुपये है. प्रियंका जहां 1665 रुपये में पटना तक कि यात्रा कर सकती थी, वहीं उन्हें पटना तक आने के लिए 3500 रुपये खर्च करने पड़े. यानी, दोगुने से भी ज्यादा.
अंत में उन्होंने देश की हर पिछली सरकारों, रेल व्यवस्था, प्रधानमंत्री और रेलमंत्री को धन्यवाद भी दिया है कि रेलवे की आरक्षण प्रणाली और दलाल के कब्जे के कारण आम आदमी की जरूरत-मजबूरी का फायदा उठाया जा रहा है और आरक्षित प्रणाली में सुधार की गुंजाइश दिखती नजर नहीं आ रही है.

10 posts are hidden.

  
1208 views
Jul 26 2017 (15:52)
pawankumarsingh~   203 blog posts   1 correct pred (50% accurate)
Re# 2363101-11            Tags   Past Edits
very nice information shared by priyankaji,it is being for years it seems.no body is bothering,common man is being sandwiched between the systems.thanks to her for fraud brought under notice.

1 posts are hidden.
  
नई दिल्ली (पीटीआई)। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने आज एक कार्यक्रम के दौरान बताया कि केंद्र सरकार ट्रेनों की गति 600 किमी प्रतिघंटे करने की दिशा में कार्ययोजना तैयार कर रही है और इसके लिए सरकार एप्पल जैसी वैश्विक तकनीक वाली कंपनियों के साथ बातचीत कर रही है।
रेल मंत्री ने यह भी बताया कि सरकार के प्रमुख सरकारी थिंक टैंक नीति आयोग ने मंत्रालय के 18000 करो़ड़ रुपये के एक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इस प्रस्ताव के तहत दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता के बीच चलने वाली गतिमान एक्सप्रेस की स्पीड 200 किमी प्रतिघंटे तक बढ़ाने की योजना है।
एसोचैम
...
more...
द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रेल मंत्री ने बताया, 'आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इससे आपका कितना यात्रा समय बचेगा।' भविष्य की योजनाओं को साझा करते हुए प्रभु ने बताया कि 6 महीने पहले सरकार ने विश्व की प्रमुख टैक्नोलॉजी डेवलपरों से बात की तांकि ट्रेनों की गति को 600 किमी प्रतिघंटे तक बढ़ाया जा सके।
उन्होंने कहा, 'हमने पहले से ही एप्पल जैसी कंपनियों से बात कर रहे हैं... यह तकनीक न केवल भारत से निर्यात होगी बल्कि भारत में ही विकसित भी होगी।' रेल मंत्री ने कहा कि भारतीय रेल के लिए सुरक्षा हमेशा से ही एक प्रमुख मुद्दा रहा है और इस दिशा में सुधार लाने की दिशा में रेलवे लगातार कार्य कर रहा है।

3 posts are hidden.

  
railmantriji,pahle bullet train per to workout karlo,jo abhi tak project suru nahi hua.din main sapne dekhna theek nahin hai.

4 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
606 views
Jun 29 2017 (11:33)   सब्सिडी न लेने की घोषणा के साथ यात्री ने रेलवे को भेजा चेक

The Phenomenal One~   909 news posts
Entry# 2336249   News Entry# 306879         Tags   Past Edits
नई दिल्ली। रेलवे को एक यात्री ने सब्सिडी नहीं लेने की घोषणा के साथ 950 रुपये का चेक भेजा है।
जम्मू से दिल्ली की यात्रा करने वाले यात्री ने रेल किराए में सरकार द्वारा दी जा रही सब्सिडी लौटाने के लिए यह कदम उठाया है।
वर्तमान में रेल किराए का 43 फीसदी बोझ रेलवे उठाता है। यात्री किराए रियायत के कारण रेलवे को सालाना करीब 30,000 करोड़ रुपये का नुकसान होता है।
एक
...
more...
वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस तरह का चेक स्वीकार करने का कोई प्रावधान नहीं है।
यात्रियों को सब्सिडी के बोझ से अवगत कराने के लिए टिकट पर मुद्रित रहता है, 'भारतीय रेल को किराए से खर्च का केवल 57 फीसदी मिलता है।' यह जानकारी पिछले वर्ष 22 जून से मुद्रित रहती है।
हाल ही में जम्मू से नई दिल्ली की यात्रा करने वाले एक व्यक्ति का ध्यान अपने टिकट पर गया।
उन्होंने पाया कि उनकी यात्रा का करीब 43 फीसदी खर्च रेलवे ने वहन किया है। इसके बाद उन्होंने 950 रुपये का चेक आइआरसीटीसी को भेजने का फैसला लिया।

4 posts are hidden.

  
877 views
Jun 29 2017 (17:58)
pawankumarsingh~   203 blog posts   1 correct pred (50% accurate)
Re# 2336249-5            Tags   Past Edits
ticket per chhap kar railway aias lagta hai ki koi logo per ehsaan kar raha,wahi neta log dunia bhar ki subsidy le rahe woh koi nahi dekhta hai.
  
Rail News
1 Followers
1905 views
Jun 26 2017 (15:56)   कैफियात एक्सप्रेस को मऊ से चलाने का विरोध

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   6369 news posts
Entry# 2333544   News Entry# 306558         Tags   Past Edits
जनपद से बन कर चलने वाली एक मात्र ट्रेन कैफियात का कथित स्थल परिवर्तन की सूचन पर आजमगढ़ विकास संघर्ष समिति, भारत रक्षा दल व प्रयास जैसे संगठन रविवार को आगे आये और विरोध जताया। स्थल परिवर्तन होने पर आंदोलन की चेतावनी दी। संगठन के लोगों ने रेलवे के स्टेशन मास्टर के माध्यम से डीआरएम को ज्ञापन देकर विरोध जताया। आजमगढ़ विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष एसके सत्येन के नेतृत्व में रेल मंत्री को संबोधित ज्ञापन स्टेशन अधीक्षक को सौपा गया। समिति के लोगों ने कैफियात को मऊ से चलाने के कथित प्रस्ताव पर विरोध जताया। समिति के अध्यक्ष ने कहा कि प्रख्यात शायर कैफी आजमी के स्मृति में चलने वाली कैफियात एक्प्रेस को मऊ से चलाए जाने की सूचना से जनपद के लोग आहत हैं। यह ट्रेन जनपद को देश व प्रदेश की राजधानी से जोड़ती है। भीड़ को देखते हुए एक और कैफियात की जरूरत है, ऐसे में इसे...
more...
मऊ से चलाना प्रासंगिक नही होगा। उन्होंने कहा कि मऊ से दिल्ली को जानेवाली आनन्द विहार एक्सप्रेस वर्षो से संचालित हो रही है। इसे प्रतिदिन संचालित कर सुपरफास्ट का दर्जा देने से पूर्वाचल का विकास होगा। समिति के लोगों ने रेलवे मंत्रायल से कैफियात एक्सप्रेस को लेकर अपना रुख स्पष्ट करने की मांग की। कहा कि इस ट्रेन को मऊ से संचालित होकर जनपद से गुजरने नही दिया जाएगा इसके लिए संघ आर-पार की लड़ाई लड़ेगा। ज्ञापन देने वालों में पप्पू कुमार यादव, राजेश यादव, रुद्रप्रताप अस्थाना, ज्ञानेन्द्र सिंह, दीपक शर्मा, अंकुमर सिंहा, राजू चौहान, पंकज राजभर, पारस सोनकर, विजय चौरसिया सहित अन्य लोग शामिल रहे। इनेसट स्थान परिवर्तन होने पर किया जाएगा बड़ा आंदोलन भारत रक्षा दल के कार्यकर्ताओं ने रेलवे स्टेशन पहुंच कर रेलवे बोर्ड को संबोधित एक मांग पत्र स्टेशन मास्टर को सौपा। संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने कहा कि काफी संघर्ष के बाद दिल्ली जाने के लिए एक ट्रेन जनपद को मिली। ट्रेन में प्रतिदिन भीड़ बनी रहती है भीड़ को देखते हुए एक और ट्रेन की जरूरत है। भारत रक्षा दल के कार्यकर्ताओ ने चेतावनी दी कि स्थान परिवर्तन किया गया तो जनपद में बड़ा आंदोलन होगा।

1 posts are hidden.

  
843 views
Jun 26 2017 (17:11)
pawankumarsingh~   203 blog posts   1 correct pred (50% accurate)
Re# 2333544-2            Tags   Past Edits
AZAMGARH WALE SHAYAD BHUL GAYE KI MAU EK SAMAY UNHI KE JILE KA HISSA THAA.

33 posts are hidden.
Page#    195 Blog Entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.