Full Site Search  
Mon Jul 24, 2017 02:11:10 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

Filters:
Blog Posts by uks1955~
Page#    739 Blog Entries  next>>
  
Rail News
0 Followers
760 views
IR AffairsNER/North Eastern  -  
Jul 13 2017 (21:51)   उबाऊ बनता जा रहा हमसफर का ‘सफर’, दिल्ली जाने वाले लोग गोरखधाम और वैशाली एक्सप्रेस का मोह नहीं छोड़ पा रहे।

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   6118 news posts
Entry# 2351594   News Entry# 308300         Tags   Past Edits
जागरण संवाददाता, गोरखपुर : यह तो सिर्फ दो दिन की स्थिति है। देश की अति आधुनिक हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन महीनों से लगातार लेट चल रही है। न गोरखपुर समय से पहुंचती है और न आनंदविहार। अतिरिक्त किराया देने के बाद भी लोग विलंब से ही गंतव्य तक पहुंच रहे हैं। 1 जून और मई में भी इस ट्रेन की रफ्तार पटरी से उतरी रही। 30 मई को 12572 नंबर की हमसफर 2.40 घंटे की देरी से गोरखपुर पहुंची थी। 12595 नंबर की हमसफर 31 मई को 2.15 घंटे तथा दो जून को 3.15 घंटे की देरी से आनंदविहार पहुंची। पांच जून को 12571 नंबर की हमसफर 4.30 घंटे की देरी से आनंदविहार पहुंची।1 वहीं वापसी में छह जून को भी यह ट्रेन 4.30 घंटे की देरी से गोरखपुर पहुंची। सात जून को 12595 नंबर की हमसफर से 5.45 घंटे विलंब से आनंदविहार पहुंची। यह आंकड़े हमसफर की चाल को बयां कर...
more...
रहे हैं। जो लगातार दो से पांच घंटे की देरी से चल रही है। 11 जुलाई को हमसफर एक्सप्रेस से गोरखपुर पहुंचे पीपीएन उपाध्याय ट्रेन के लेट होने से काफी दुखी थे। 1उनका कहना है कि ट्रेन में बैठे लोग ऊब जा रहे हैं। यही कारण है कि हमसफर चलने के बाद भी दिल्ली जाने वाले लोग गोरखधाम और वैशाली एक्सप्रेस का मोह नहीं छोड़ पा रहे। गोरखपुर के कपड़ा व्यवसाई राजू बताते हैं कि पहले वह हमसफर से यात्र कर लेते थे। अब तो इस ट्रेन से जाने की इच्छा ही नहीं होती। पूरी प्लानिंग ही चौपट हो जाती है। 16 दिसंबर 2016 को रेलमंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने जब देश की पहली महत्वाकांक्षी हमसफर ट्रेन को हरी झंडी दिखाई तो पूर्वाचल के लोगों की खुशी बढ़ गई। सोचा, चलो एक अच्छी ट्रेन तो मिली, लेकिन छह माह बाद भी यह यात्रियों की हमसफर नहीं बन सकी है।जागरण संवाददाता, गोरखपुर : यह तो सिर्फ दो दिन की स्थिति है। देश की अति आधुनिक हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन महीनों से लगातार लेट चल रही है। न गोरखपुर समय से पहुंचती है और न आनंदविहार। अतिरिक्त किराया देने के बाद भी लोग विलंब से ही गंतव्य तक पहुंच रहे हैं। 1 जून और मई में भी इस ट्रेन की रफ्तार पटरी से उतरी रही। 30 मई को 12572 नंबर की हमसफर 2.40 घंटे की देरी से गोरखपुर पहुंची थी। 12595 नंबर की हमसफर 31 मई को 2.15 घंटे तथा दो जून को 3.15 घंटे की देरी से आनंदविहार पहुंची। पांच जून को 12571 नंबर की हमसफर 4.30 घंटे की देरी से आनंदविहार पहुंची।1 वहीं वापसी में छह जून को भी यह ट्रेन 4.30 घंटे की देरी से गोरखपुर पहुंची। सात जून को 12595 नंबर की हमसफर से 5.45 घंटे विलंब से आनंदविहार पहुंची। यह आंकड़े हमसफर की चाल को बयां कर रहे हैं। जो लगातार दो से पांच घंटे की देरी से चल रही है। 11 जुलाई को हमसफर एक्सप्रेस से गोरखपुर पहुंचे पीपीएन उपाध्याय ट्रेन के लेट होने से काफी दुखी थे। 1उनका कहना है कि ट्रेन में बैठे लोग ऊब जा रहे हैं। यही कारण है कि हमसफर चलने के बाद भी दिल्ली जाने वाले लोग गोरखधाम और वैशाली एक्सप्रेस का मोह नहीं छोड़ पा रहे। गोरखपुर के कपड़ा व्यवसाई राजू बताते हैं कि पहले वह हमसफर से यात्र कर लेते थे। अब तो इस ट्रेन से जाने की इच्छा ही नहीं होती। पूरी प्लानिंग ही चौपट हो जाती है। 16 दिसंबर 2016 को रेलमंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने जब देश की पहली महत्वाकांक्षी हमसफर ट्रेन को हरी झंडी दिखाई तो पूर्वाचल के लोगों की खुशी बढ़ गई। सोचा, चलो एक अच्छी ट्रेन तो मिली, लेकिन छह माह बाद भी यह यात्रियों की हमसफर नहीं बन सकी है।केस एक: आनंदविहार से चलने वाली 12572 नंबर की हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन 11 जुलाई को समय से रवाना होने के बाद भी विलंब से गोरखपुर पहुंची। यह ट्रेन सुबह 9.15 की बजाए 3.45 घंटे की लेट से दोपहर एक बजे पहुंची। लोगों का पूरा दिन बर्बाद हो गया।केस दो: गोरखपुर से चलने वाली 12595 नंबर की हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन 11 जुलाई को रात आठ बजे समय से रवाना हुई। दूसरे दिन यह ट्रेन सुबह 8.50 बजे की बजाए 3.48 घंटे की देरी से दोपहर 12.38 बजे आंनदविहार पहुंची। यात्रियों की प्लानिंग चौपट हो गई।

  
314 views
Jul 13 2017 (21:56)
uks1955~   1128 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2351594-1            Tags   Past Edits
और चलाओ कानपुर रूट पर । कुछ तो फ़ायदा मिला हमसफ़र का

  
298 views
Jul 13 2017 (22:00)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   14300 blog posts   3067 correct pred (65% accurate)
Re# 2351594-2            Tags   Past Edits
issue rb ka ismmay 130 upgrade usko karna hai

35 posts are hidden.
  
Rail News
0 Followers
506 views
New/Special TrainsNER/North Eastern  -  
Jul 12 2017 (21:31)   लखनऊ से आनंदविहार डबल डेकर में 30 जुलाई के बाद आरक्षण हुए बंद, जयपुर तक चलाने की है तैयारी

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   6118 news posts
Entry# 2350639   News Entry# 308196         Tags   Past Edits
लखनऊ से आनंदविहार के बीच चलने वाली डबल डेकर ट्रेन आरक्षण करने वाली वेबसाइट सेंट्रल रिर्जवेशन इंफारमेंशन सिस्टम ‘क्रिससे गायब हो गई है। यात्री ट्रेनों में चार महीने पहले की बुकिंग करा सकते हैं लेकिन डबल डेकर में 30 जुलाई रविवार के बाद बुकिंग नहीं हो रही है। अगस्त माह की बुकिंग कराने वाले यात्रियों को वेबसाइट पर ट्रेन डीलिटेड बता रहा है। लखनऊ से आनंदविहार चलने वाली डबल डेकर को सप्ताह में दो दिन शुक्रवार और रविवार को चलाया जाता है। ये ट्रेन लखनऊ से सुबह 5 बजे चलती है, जो दोपहर एक बजे आनंदविहार पहुंच जाती है। डबल डेकर में 14, 16, 21,23, 28 और 30 जुलाई की बुकिंग हो रही है। मगर अगस्त की बुकिंग बंद हो गई है। लखनऊ से आनंदविहार के लिए अग्रिम बुकिंग कराने वाले यात्री परेशान है। वहीं, रेलवे अधिकारियों के पास बुकिंग क्यों बंद हुई। इसकी जानकारी नहीं है। रेलवे प्रशासन का कहना...
more...
है कि चेयरकार ट्रेनों में सिर्फ 15 दिन पहले की अग्रिम बुकिंग होती है लेकिन दिल्ली से जयपुर जाने वाली डबल डेकर में 4 महीने पहले ही बुकिंग अभी से हो रही है। सीपीआरओ संजय यादव ने बताया कि इस बारे में जानकारी हासिल की जा रही है कि ट्रेन में बुकिंग क्यों बंद हुई है। जयपुर तक चलाने की है तैयारी लखनऊ से आनंदविहार जाने वाली डबल डेकर को जयपुर तक चलाया जाना है। रेलवे बोर्ड ने लखनऊ से जयपुर का टाइम टेबल भी जारी कर दिया है लेकिन ट्रेन कब से चलाई जाएगी। ये तिथि रेलवे बोर्ड ने घोषित नहीं की थी। जानकारों की मानें तो जुलाई के बाद से डबल डेकर का आरक्षण बंद करने की वजह इसे जयपुर तक चलाया जाना भी हो सकती है, इसलिए इस ट्रेन में जुलाई के बाद से आरक्षण बंद किया गया है। डबल डेकर को जयपुर के लिए चलने के बाद लखनऊ से ये ट्रेनआनंदविहार के बजाए दिल्ली कैंट जाएगी। यहां से उसे जयपुर के लिए चलाया जाएगा।

2 posts are hidden.

  
779 views
Jul 12 2017 (21:53)
uks1955~   1128 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2350639-3            Tags   Past Edits
अब लगता है कि मुरादाबाद से जयपुर दोपहर में भी रोज़ ट्रेन मिलेगी ।

3 posts are hidden.

  
728 views
Jul 12 2017 (23:37)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   14300 blog posts   3067 correct pred (65% accurate)
Re# 2350639-7            Tags   Past Edits
Ha ab daily run hoga.....rajhnath singh ka wait hoga flag dikhane ke liye bs

2 posts are hidden.
  
General Travel
0 Followers
110 views
Jul 10 2017 (22:15)  

uks1955~   1128 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Entry# 2348798            Tags   Past Edits
जब सारी LHB रैक के साथ जेनरेटर लगाना पड़ता है तो इन रैक का क्या विशेष फ़ायदा है ।
  
Rail News
0 Followers
1319 views
Other News
Jul 06 2017 (09:27)   सब्सिडी छोड़ने को रेलवे भी ला रही ‘गिव-इट-अप’ स्कीम

The Phenomenal One~   841 news posts
Entry# 2343560   News Entry# 307577         Tags   Past Edits
अगले हफ्ते से रेल यात्रियों के पास सब्सिडी छोड़ने का विकल्प1
पहल
जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली : एलपीजी की तरह सरकार रेलवे टिकटों में भी ‘गिव-इट-अप सब्सिडी’ स्कीम लागू करेगी। फरीदाबाद के एक यात्री के सुझाव पर रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने अगले हफ्ते से इस स्कीम को लागू करने के निर्देश रेलवे बोर्ड को दिए हैं। एलपीजी की गिव-इट-अप स्कीम के तहत लगभग एक करोड़ उपभोक्ताओं ने सब्सिडी का त्याग किया है। रेलवे को उम्मीद है कि उसकी स्कीम को भी ऐसा ही समर्थन मिलेगा। 1स्कीम के तहत रेल यात्रियों को आरक्षण के
...
more...
वक्त सब्सिडी छोड़ने का विकल्प दिया जाएगा। ऑनलाइन बुकिंग में आइआरसीटीसी की वेबसाइट पर यात्री से पूछा जाएगा कि क्या वह सब्सिडी छोड़ने का इच्छुक है। यदि ‘हां’ का विकल्प अपनाया गया तो निर्धारित किराये में सब्सिडी की राशि अतिरिक्त रूप से जुड़ जाएगी। यह स्कीम केवल उन्हीं लोगों पर लागू होगी जो इसे स्वेच्छा से अपनाना चाहेंगे। जो लोग सब्सिडी नहीं छोड़ना चाहते अथवा जिनकी स्थिति सब्सिडी छोड़ने की नहीं हैं, उनसे कोई अतिरिक्त रकम नहीं वसूली जाएगी। वे े की तरह सरकार से प्राप्त वित्तीय सहायता का उपयोग करते रहेंगे। इस स्कीम का आइडिया फरीदाबाद के एक बुजुर्ग अवतार कृष्ण खेर के पत्र से मिला है। यह पत्र उन्होंने 12 जून को रेलमंत्री सुरेश प्रभु को लिखा था। पत्र में खेर ने प्रभु के समक्ष सब्सिडी छोड़ने का प्रस्ताव रखा है। उन्होंने लिखा है कि पिछले दिनों राजधानी एक्सप्रेस से जम्मू जाने और वापस आने के दौरान उन्हें यह जानकर पीड़ा हुई कि आम यात्री रेलवे पर 43 फीसद बोझ डालता है। जबसे वे घर लौटे हैं, इसे लेकर दुखी हैं।1खेर ने लिखा है कि वरिष्ठ नागरिक का दर्जा देने के लिए वे सरकार की प्रशंसा करते हैं। परंतु उनका व्यक्तिगत रूप से मानना है कि सक्षम लोगों को वित्तीय सहायता नहीं दी जानी चाहिए। पत्र के साथ खेर ने 950 रुपये का एक चेक भी भेजा है। और लिखा है कि यह राशि रेलवे ने मुझसे नहीं ली। इसलिए मैं इसे लौटा रहा हूं। मैं और मेरी पत्नी जब कभी भी यात्र करेंगे वित्तीय सहायता का लाभ नहीं लेंगे। गौरतलब है कि सब्सिडी के कारण ही रेलवे को हर साल यात्री सेवाओं पर लगभग 3500 करोड़ रुपये का घाटा होता है। लेकिन सामाजिक और राजनीतिक मजबूरी के चलते रेलवे यात्रियों से पूरा किराया नहीं वसूलती। घाटे की दूसरी वजह बुजुर्गो, महिलाओं, सैनिकों, विकलांगों, खिलाड़ियों आदि को मिलने वाली रियायत है। इसे समाप्त करना भी आसान नहीं है।1’2009लंबी दूरी की ट्रेनों में 43 फीसद सब्सिडी छोड़नी होगी। 1’2009यदि किराया 570 रुपये हुआ तो सब्सिडी छोड़ने से 430 रुपये बढ़कर 1000 रुपये हो जाएगा। 1’2009उपनगरीय (लोकल) ट्रेनो में सब्सिडी की राशि 63 फीसद है। 1’2009लोकल में यदि टिकट 3.70 रुपये का है तो सब्सिडी छोड़ने पर 6.30 रुपये बढ़कर 10 रुपये का होगा।

30 posts are hidden.

  
501 views
Jul 06 2017 (19:08)
uks1955~   1128 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Re# 2343560-32            Tags   Past Edits
रेलवे को चाहिए कि नेताओं और उनकी पार्टियों को मिलने वाले फ़्री पास बंद हों । उनके लिए कोई विशेष कोटा भी न हो हाँ सेना के शहीदों की विधवा के लिए उनको आजीवन फ़्री रेल यात्रा करने की छूट मिले ।

1 posts are hidden.

  
445 views
Jul 06 2017 (20:53)
Suraj~   2239 blog posts   392 correct pred (69% accurate)
Re# 2343560-34            Tags   Past Edits
let me describe u diff kya hota hai ... netao ko pehle hi TA(travel allowence) mil jata hai arnd 2 lakh rupees or more than this.. for d whole year... ab wo chaahe kaise b use kre.. or nhi b use kre tb they have d money...tatkl vip quota this dt special seats .. special coaches .. special stops even for rajdhanis...jaise baap ki train ho.. no tax in salary.. but for d employeed.. saal me ek baar hi TA mil skta hai wo b rank k hisab se categorised hai .. plus those having d pass like my dad (who is an war disabled president police medal for gallantry winner ) allowed for 2 ac .. nd dat too only for 4 months pre planned ya fir seats available hui tb .. only dad along with a companion.. salary me tax .. ye tax wo tax...
agr
...
more...
itni fikr hai inko toh petrol or diesel me gst q nhi lagate .. usme b toh dus tarah k tax hai..

1 posts are hidden.
  
General Travel
0 Followers
158 views
Jul 04 2017 (21:49)  

uks1955~   1128 blog posts   3 correct pred (50% accurate)
Entry# 2342223            Tags   Past Edits
Why we could not see ir map in this new version of iri blog
Page#    739 Blog Entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.