Full Site Search  
Fri Jan 19, 2018 23:05:56 IST
Advanced Search
×
News Super Search
News Entry#:
Search Phrase:

Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Trains in the News    Stations in the News   
Page#    21764 news entries  next>>
  
Today (22:41)  गोंदिया-बालाघाट-कटंगी डेमू ट्रेन के पिछले इंजन में लगी आग, अफरातफरी (mnaidunia.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSECR/South East Central  -  

News Entry# 327413     
   Past Edits
Jan 19 2018 (22:41)
Station Tag: Balaghat Junction/BTC added by HA1 Naani Ka sher~/1095213
 
 
कर्मचारियों ने इंजन को बंद कर फायर सामग्री के माध्यम से इंजन से निकल रहे धुएं को बंद कर यात्रियों को राहत की सांस दिलाई।
बालाघाट। शुक्रवार की दोपहर करीब 3 बजे गर्रा रेलवे स्टेशन में उस वक्त अफरा-तफरी की स्थिति यात्रियों व रेलवे स्टॉफ में निर्मित हो गई जब गोंदिया-बालाघाट-कटंगी डेमू ट्रेन के पिछले इंजन के निचले भाग से धुआं उठने लगा। किसी दुर्घटना का अंदेशा देख रेलवे के कर्मचारियों ने इंजन को बंद कर फायर सामग्री के माध्यम से इंजन से निकल रहे धुएं को बंद कर यात्रियों को राहत की सांस दिलाई।
2.45
...
more...
पर रवाना हुई थी ट्रेन
गोंदिया से होकर बालाघाट पहुंची डेमू ट्रेन क्रमांक 78821 बालाघाट स्टेशन से 2 बजकर 45 मिनट पर कटंगी के लिए रवाना हुई जो करीब 3 बजे गर्रा स्टेशन पहुंची। यहां पर ट्रेन के रुकते ही पिछले इंजन से तेजी से धुआं निकलने लगा इसे देखकर ट्रेन में सवार यात्री तत्काल ही ट्रेन से नीचे उतर गए। वहीं इसकी सूचना नपा के दमकल अमले की दी लेकिन जब तक नपा का दमकल अमला मौके पर पहुंचा रेलवे के स्टॉफ ने ही इस आग पर काबू पा लिया।
मैकेनिक ने दी ओके रिपोर्ट, तो रवाना हुई ट्रेन
डेमू ट्रेन के इंजन के कांटेक्ट वायर में समस्या उत्पन्न् होने पर आग लगने पर इंजन बंद करने के बाद स्टॉफ ने स्टेशन में लगे हैंडपंप का पानी व फायर सामग्री की मदद से आग पर काबू पाया। मैकेनिक ने बालाघाट स्टेशन को ओके रिपोर्ट दी। इसके बाद 3 बजकर 28 मिनट पर ट्रेन गर्रा रेलवे स्टेशन से कटंगी के लिए रवाना हुई।
एक ही इंजन पर दौड़ी ट्रेन
गोंदिया-बालाघाट-कटंगी ट्रेन के पिछले इंजन में लगी आग पर किसी तरह काबू तो पा लिया गया। लेकिन इसके कारण एक इंजन को बंद करना पड़ा जिसके चलते कटंगी के लिए एक ही इंजन के सहारे ट्रेन रवाना हुई।
इनका कहना है
गर्रा स्टेशन से सूचना मिली डेमू ट्रेन के एक इंजन में कांटेक्ट वायर में समस्या होने के कारण धुआं निकलने के कारण इंजन को बंद किया गया और फायर सामग्री की मदद से धुएं पर काबू पाया। मैकेनिक द्वारा ओके रिपोर्ट देने पर ट्रेन को कटंगी के लिए रवाना किया।
-एचएल कुशवाहा, स्टेशन अधीक्षक, बालाघाट
  
Today (08:23)  ग्रामीणों ने बंद किया रेलमार्ग, एक घंटे लेट आई ट्रेनें (mnaidunia.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSECR/South East Central  -  

News Entry# 327360     
   Past Edits
Jan 19 2018 (08:23)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by CAR CPU Efication Deadline Dec 2018^~/1421836
Stations:  Bilaspur Junction/BSP  
 
 
बिलासपुर। सिलयारी में एफओबी की मांग को लेकर नाराज ग्रामीण बड़ी संख्या में रेलमार्ग पर आकर खड़े हो गए। इससे ट्रेनों के पहिए थम गए। जानकारी घटना शाम 4 से 5 बजे की है। दरअसल एफओबी नहीं होने से यहां के लोगों को परेशानी होती है। लोगों को रेलमार्ग बंद करने के साथ हंगामा भी किया गया। बाद में स्टेशन मास्टर ने लिखित में आश्वासन दिया कि ओवरब्रिज का निर्माण फरवरी 2018 से प्रारंभ हो जाएगा। इसके बाद उनका गुस्सा शांत हुआ। इस विरोध के चलते पुणे-हावड़ा आजाद हिंद एक्सप्रेस व मुंबई- हावड़ा मेल एक्सप्रेस बीच रास्ते में फंसी रही। दोनों ट्रेन बिलासपुर में निर्धारित समय से एक घंटे देरी से पहुंची। इससे यात्रियों को परेशानी हुई।
  
Today (07:49)  पुरी स्टेशन पर खड़ी आर्मी स्पेशल ट्रेन की पेंट्री कार में विस्फोट (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsECoR/East Coast  -  

News Entry# 327350     
   Past Edits
Jan 19 2018 (07:50)
Station Tag: Puri/PURI added by CAR CPU Efication Deadline Dec 2018^~/1421836
Stations:  Puri/PURI  
 
 
ट्रेन में पांच किलोग्राम वाला सिलेंडर फटने से हुआ हादसा, दो लोग जख्मी, तेलांगना से चिलका जाने को पहुंची थी ट्रेन
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : पुरी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-2 पर खड़ी आर्मी स्पेशल ट्रेन की पेंट्री कार में अचानक विस्फोट हो जाने से स्टेशन परिसर में अफरा तफरी मच गई। विस्फोट इतना तेज था कि ट्रेन की खिड़की 30 फीट दूर जा गिरी। इसके साथ ही पैंट्री कार में आग लग गई। विस्फोट की आवाज एवं आग देखने के बाद स्टेशन में यात्री जान बचाकर इधर,
...
more...
उधर भागने लगे। आग लगने वाली ट्रेन में कोई यात्री नहीं था, जिससे बड़ा हादसा होने से बच गया। पैट्री कार के मैनेजर विनोद कुमार आर्या एवं सहायक चंदन दास के शरीर में कांच के टुकड़े धंसने से हाथ टूटने की खबर है। दोनों को पुरी सदर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया है। इस हादसे में एक नंबर प्लेटफार्म पर खड़ी धौली एक्सप्रेस ट्रेन में भी व्यापक क्षति हुई है। घटना बुधवार शाम की है। 1सूचना मिलते ही दमकल विभाग की गाड़ी मौके पर पहुंची और आग को काबू किया। फारेंसिक टीम मौका-मुआयना कर घटना की छानबीन कर रही है। सूचना मिलते ही रेल स्टेशन निदेशक बीके परिजा, स्टेशन मैनेजर भास्कर चंद्र हाती एवं अधीक्षक शेख अब्दुल इलियास भी मौके पर पहुंचकर घटना की छानबीन कर रहे हैं। विस्फोट में प्रभावित पैंट्री कार को अलग कर दिया गया है। इस विस्फोट में आतंकवादी हाथ है या नहीं, इस पर छानबीन शुरू कर दी गई है। विस्फोट से पैंट्री कार के अंदर का कुछ हिस्सा जल गया है जबकि कोच का छत एवं दीवार क्षतिग्रस्त हुई है। 1पुरी स्टेशन के ट्रैफिक इंस्पेक्टर सुरेन्द्र नाथ जेना के मुताबिक, बुधवार शाम को यह आर्मी ट्रेन (भारतीय नौसेना सेवा चिलका विशेष ट्रेन 08413) तेलांगना से यहां पहुंची थी। नियमित सर्विसिंग के बाद यह ट्रेन गुरुवार को चिलका जाने वाली थी। ट्रेन में रखा एक पांच किलोग्राम वजन वाला गैस सिलेंडर फट गया। जांच के समय पैंट्री कार से 12 सिलेंडर मिले हैं, जिसे रेलवे पुलिस ने जब्त कर लिया है। हालांकि ट्रेन के अंदर छोटा गैस सिलेंडर कैसे आया, इस संदर्भ में अभी कुछ पता नहीं चल पाया है। पुलिस को आशंका है कि इस विस्फोट में या तो अवांछित तत्वों का हाथ है या फिर लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ।1 रेल एसपी वनबिहारी साहू ने बताया कि जांच करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है। घटना के समय पुरी रेलवे स्टेशन के दो नंबर प्लेटफार्म पर पुरी-हावड़ा-धौली एक्सप्रेस एवं तीन नंबर प्लेटफार्म पर तिरुपति-हावड़ा एक्सप्रेस खड़ी थी। हालांकि इन ट्रेनों में कोई यात्री नहीं थे। विस्फोट के चलते इन दोनों ट्रेनों के कुछ डिब्बे प्रभावित हुए हैं। 1गौरतलब है कि इससे पहले 12 नवंबर 2015 को पुरी-नई दिल्ली नंदनकानन एक्सप्रेस में आग लग गई, जिसमें तीन बोगी जल गई थी।1 इसके साथ ही पुरी-तिरुपति-बिलासपुर एक्सप्रेस एवं पुरी हावड़ा एक्सप्रेस की 8 बोगियां प्रभावित हुई थी। इसमें पाकिस्तानी आतंकी की संपृक्ति होने की बात प्राथमिक जांच से पता चली थी। ऐसे में बुधवार को हुए विस्फोट के पीछे कोई साजिश है या दुर्घटना, पुलिस छानबीन कर रही है। पुलिस को आशंका है कि इसमें किसी अराजक तत्व का हाथ है।जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : पुरी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-2 पर खड़ी आर्मी स्पेशल ट्रेन की पेंट्री कार में अचानक विस्फोट हो जाने से स्टेशन परिसर में अफरा तफरी मच गई। विस्फोट इतना तेज था कि ट्रेन की खिड़की 30 फीट दूर जा गिरी। इसके साथ ही पैंट्री कार में आग लग गई। विस्फोट की आवाज एवं आग देखने के बाद स्टेशन में यात्री जान बचाकर इधर, उधर भागने लगे। आग लगने वाली ट्रेन में कोई यात्री नहीं था, जिससे बड़ा हादसा होने से बच गया। पैट्री कार के मैनेजर विनोद कुमार आर्या एवं सहायक चंदन दास के शरीर में कांच के टुकड़े धंसने से हाथ टूटने की खबर है। दोनों को पुरी सदर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया है। इस हादसे में एक नंबर प्लेटफार्म पर खड़ी धौली एक्सप्रेस ट्रेन में भी व्यापक क्षति हुई है। घटना बुधवार शाम की है। 1सूचना मिलते ही दमकल विभाग की गाड़ी मौके पर पहुंची और आग को काबू किया। फारेंसिक टीम मौका-मुआयना कर घटना की छानबीन कर रही है। सूचना मिलते ही रेल स्टेशन निदेशक बीके परिजा, स्टेशन मैनेजर भास्कर चंद्र हाती एवं अधीक्षक शेख अब्दुल इलियास भी मौके पर पहुंचकर घटना की छानबीन कर रहे हैं। विस्फोट में प्रभावित पैंट्री कार को अलग कर दिया गया है। इस विस्फोट में आतंकवादी हाथ है या नहीं, इस पर छानबीन शुरू कर दी गई है। विस्फोट से पैंट्री कार के अंदर का कुछ हिस्सा जल गया है जबकि कोच का छत एवं दीवार क्षतिग्रस्त हुई है। 1पुरी स्टेशन के ट्रैफिक इंस्पेक्टर सुरेन्द्र नाथ जेना के मुताबिक, बुधवार शाम को यह आर्मी ट्रेन (भारतीय नौसेना सेवा चिलका विशेष ट्रेन 08413) तेलांगना से यहां पहुंची थी। नियमित सर्विसिंग के बाद यह ट्रेन गुरुवार को चिलका जाने वाली थी। ट्रेन में रखा एक पांच किलोग्राम वजन वाला गैस सिलेंडर फट गया। जांच के समय पैंट्री कार से 12 सिलेंडर मिले हैं, जिसे रेलवे पुलिस ने जब्त कर लिया है। हालांकि ट्रेन के अंदर छोटा गैस सिलेंडर कैसे आया, इस संदर्भ में अभी कुछ पता नहीं चल पाया है। पुलिस को आशंका है कि इस विस्फोट में या तो अवांछित तत्वों का हाथ है या फिर लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ।1 रेल एसपी वनबिहारी साहू ने बताया कि जांच करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है। घटना के समय पुरी रेलवे स्टेशन के दो नंबर प्लेटफार्म पर पुरी-हावड़ा-धौली एक्सप्रेस एवं तीन नंबर प्लेटफार्म पर तिरुपति-हावड़ा एक्सप्रेस खड़ी थी। हालांकि इन ट्रेनों में कोई यात्री नहीं थे। विस्फोट के चलते इन दोनों ट्रेनों के कुछ डिब्बे प्रभावित हुए हैं। 1गौरतलब है कि इससे पहले 12 नवंबर 2015 को पुरी-नई दिल्ली नंदनकानन एक्सप्रेस में आग लग गई, जिसमें तीन बोगी जल गई थी।1 इसके साथ ही पुरी-तिरुपति-बिलासपुर एक्सप्रेस एवं पुरी हावड़ा एक्सप्रेस की 8 बोगियां प्रभावित हुई थी। इसमें पाकिस्तानी आतंकी की संपृक्ति होने की बात प्राथमिक जांच से पता चली थी। ऐसे में बुधवार को हुए विस्फोट के पीछे कोई साजिश है या दुर्घटना, पुलिस छानबीन कर रही है। पुलिस को आशंका है कि इसमें किसी अराजक तत्व का हाथ है।पुरी स्टेशन पर विस्फोट के बाद क्षतिग्रस्त आर्मी स्पेशल ट्रेन का पेंट्री कार डिब्बा।
  
Yesterday (21:53)  पटरी में था गैप, नहीं पड़ती नजर तो हो जाता रेल हादसा (epaper.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNER/North Eastern  -  

News Entry# 327329     
   Past Edits
Jan 18 2018 (21:53)
Station Tag: Barhni/BNY added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jan 18 2018 (21:53)
Train Tag: Gomtinagar (Lucknow) - Gorakhpur Express (via Barhni)/15010 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jan 18 2018 (21:53)
Train Tag: Gorakhpur - GomtiNagar (Lucknow) Express (via Barhni)/15009 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964
 
 
सतर्कता काम आई
’ परसा-महथा रेलवे स्टेशन के बीच की घटना
’ सूचना पर हरकत में आया रेल प्रशासन कराया ठीक
सतर्कता काम आई
’ परसा-महथा रेलवे स्टेशन के बीच की घटना
...
more...
सूचना पर हरकत में आया रेल प्रशासन कराया ठीक
रेलवे की जमीन पर फिर हुआ अवैध कब्जा
हालात
’ एक माह पहले रेलवे ने स्टेशन रोड से हटाया था कब्जा
’ फिर से सजने लगीं दुकानें, इससे लग रहा है जाम
हालात
’ एक माह पहले रेलवे ने स्टेशन रोड से हटाया था कब्जा
’ फिर से सजने लगीं दुकानें, इससे लग रहा है जाम
Click here to enlarge image
सिद्धार्थनगर हिन्दुस्तान टीमगोरखपुर-गोण्डा वाया नौगढ़ रेल खंड के परसा-महथा रेलवे स्टेशन के बीच पटरी के गैप पर गैंगमैन की नजर नहीं पड़ती तो बड़ा हादसा हो सकता था। गैप को ठीक करा कर ट्रेनों को धीमी गति से पास किया जा रहा है। बुधवार तड़के में गैंगमैन राजा राम यादव, मातादीन राम की नजर महथा रेलवे स्टेशन से कुछ आगे पटरी पर पड़ी तो उसमें अच्छा-खासा गैप दिखा। उसने तत्काल इसकी सूचना परसा रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर राकेश कुमार राम को दी। सूचना मिलते ही रेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। तत्काल टीम ने मौके पर पहुंच कर गैप को नट-बोल्ट लगा कर टाइट किया और ट्रेनों के आने-जाने लायक बना दिया। गैप कब से था इसकी किसी के पास सटीक जानकारी नहीं है। गैप ठीक होने के बाद इंटर सिटी, पनवेल सहित कई ट्रेनों को धीमा गति से पास किया गया। अब खतरे जैसी कोई बात नहीं है। परसा रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर राकेश कुमार राम का कहना है कि गैप ठीक कर लिया गया है। ट्रेनों को धीमी गति से पास किया जा रहा है।
सिद्धार्थनगर निज संवाददातारेलवे की जमीन पर अवैध कब्जा जमाने वाले या लम्बे समय से किराया नहीं देने वालों को रेलवे ने बेदखल कर दिया था। इसके बाद रेलवे स्टेशन रोड की सूरत ही बदल गई थी। लेकिन एक माह बाद फिर से लोगों ने धीरे-धीरे पहले की तरह कब्जा करना शुरू कर दिया है। इससे रेलवे की जमीन पर फिर से बकाएदारों ने अपनी दुकान लगाने के साथ ही अवैध कब्जाधारी भी सक्रिय हो गए हैं। एक माह पहले रेलवे के अधिकारियों की देखरेख में जेसीबी से लम्बे समय से रेलवे की जमीन का किराया नहीं देने वाले दुकानदारों व अवैध रूप से कब्जा करने वालों के दुकानों, गुमटियों को ध्वस्त कर दिया था। रेलवे स्टेशन रोड के किनारे के सभी दुकानों के हट जाने से रेलव स्टेशन रोड पहले से अधिक चौड़ा होने के साथ सड़क की सूरत ही बदल गई थी। रेलवे स्टेशन के आसपास भी अवैध कब्जा हटने से लोगों को काफी राहत मिली थी। लेकिन एक बार फिर से स्थिति पहले की तरह होने लगी है। अवैध कब्जा धारियों के साथ ही पुराने बकाएदार फिर से अपने स्थान पर काबिज होने लगे हैं। इतना ही नहीं कब्जा हटाने से स्टेशन रोड के साथ ही उस्का रोड की पटरियों से भी अतिक्रमण हट गया था। लेकिन एक माह का समय बीतने के बाद फिर से स्थिति पहले जैसी होने लगी है। सड़क की पटरियों पर दुकानदारों की दुकानें सजने लगी है। इससे शहरियों की दुश्वारियां बढ़ने लगी है।
परसा-महथा रेलवे स्टेशन के बीच ट्रैक में आया गैप। ’ हिन्दुस्तान
  
प्रदीप चौरसिया
’मुरादाबाद रेल इंजन में चढ़ने से पहले अब चालकों को अपने मोबाइल फोन बंद करने होंगे। मोबाइल ऑन होने पर चालक को तत्काल निलंबित कर दिया जाएगा। उत्तर रेलवे मुख्यालय ने दुर्घटनाएं रोकने के तहत यह आदेश जारी किया है। कंट्रोल रूम के अधिकारी और लोको इंस्पेक्टर चालकों की करेंगे। आपात स्थिति में सूचना भेजने के लिए रेल चालकों को वॉकी-टॉकी और सीयूजी मोबाइल फोन दिए गए हैं। चालकों ने सीयूजी नंबर का दुरुपयोग करना शुरू कर दिया है। कोहरे में सिग्नल नहीं दिखाई देता है। ऐसे में कुछ चालक कॉल करके स्टेशन मास्टर से सिग्नल के बारे में पूछ लेते हैं, इसके बाद ट्रेन को चलाते हैं। इससे हादसा होने का खतरा अधिक होता है। इसके अलावा चालक
...
more...
ट्रेन चलाते समय मोबाइल पर अन्य लोगों से भी बातचीत करते हैं। इसके मद्देनजर उत्तर रेलवे मुख्यालय के डिप्टी सीएमई/ओएंडएफ कार्यालय से एक पत्र जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि चालक व सहायक चालक इंजन में सवार होने से पहले मोबाइल फोन बंद कर देंगे। स्टेशन पर ट्रेन रुकने और आपात स्थिति में ही वे इसे ऑन करेंगे। वहीं चलती ट्रेन में वॉकी-टॉकी का प्रयोग न करने के आदेश भी दिए गए हैं। चालकों की कंट्रोल रूम के अधिकारी करेंगे। लोको इंस्पेक्टर को भी चेकिंग के आदेश दिए गए हैं। उल्लंघन करने पर चालक व सहायक चालक को निलंबित किया जाएगा। मंडल रेल प्रबंधक अजय कुमार सिंघल ने बताया कि ट्रेन संचालन के समय चालकों के मोबाइल के प्रयोग पर पाबंदी लगा दी गई है। ’कंट्रोल रूम के अधिकारी और लोको इंस्पेक्टर करेंगे कोहरे में अधिकतम गति 60 किमी. प्रति घंटा निर्धारित बढ़ते कोहरे को देखते हुए उत्तर रेलवे मुख्यालय ने ट्रेनों की गति न्यूतनम 30 और अधिकतम 60 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित कर दी है। प्रवर मंडल सुरक्षा अधिकारी बीके चड्ढा ने इस संबंध में पत्र जारी करके चालकों को विशेष निर्देश जारी किए हैं। पत्र में किस प्रकार के सिग्नल पर कितनी गति में ट्रेन चलानी है, इसकी जानकारी दी गई है। कोहरे में रेल फाटकों के पास से गुजरते वक्त लगातार सीटी बजाने की हिदायत भी दी गई है।
Page#    21764 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.