Full Site Search  
Thu Jan 18, 2018 19:25:04 IST
Advanced Search
×
News Super Search
News Entry#:
Search Phrase:

Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Trains in the News    Stations in the News   
Page#    21758 news entries  <<prev  next>>
  
Jan 12 2018 (01:00)  Mishap averted as train derails, hits platform wall in Kalaburagi (m.economictimes.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsCR/Central  -  

News Entry# 326770     
   Past Edits
Jan 12 2018 (01:00)
Station Tag: Gulbarga Junction/GR added by Electrification of BAY~/36147
Stations:  Gulbarga Junction/GR  
 
 
A possible tragedy was averted in Karnataka’s Kalaburagi as Raichur-bound passenger train hit platform wall after getting derailed. No one was reportedly injured in the incident.
For video click here
  
Jan 11 2018 (20:03)  बम की अफवाह पर ढाई घंटे रुकी रही आजाद हिंद एक्सप्रेस (m.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsSER/South Eastern  -  

News Entry# 326749   Blog Entry# 2992501     
   Past Edits
Jan 11 2018 (20:03)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by NZM SRC Weekly SF Is My Dream Train😍😊^~/1421836

Jan 11 2018 (20:03)
Train Tag: Azad Hind Express/12129 added by NZM SRC Weekly SF Is My Dream Train😍😊^~/1421836
Stations:  Tatanagar Junction/TATA  
 
 
बम की अफवाह पर पुणे-हावड़ा आजाद हिंद एक्सप्रेस बुधवार देर रात 1.17 से सुबह 3.52 बजे तक (ढाई घंटे) टाटानगर स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 4-5 पर खड़ी रही।सुरक्षा जवानों ने खोजी कुत्तों और मेटल डिटेक्टर से एक-एक बोगी और यात्रियों के लगेज की तलाशी ली। किसी भी कोच से आपत्तिजनक सामग्री और विस्फोटक नहीं मिले। ट्रेन 3.52 बजे टाटानगर से हावड़ा के लिए रवाना हो गई। बम की सूचना चक्रधरपुर रेल मंडल ने दिया था। इससे आरपीएफ के सहायक कमांडेंट एसके चौधरी, इंस्पेक्टर एमके सिंह, जीआरपी के डीएसपी के. केरकेट्टा ट्रेन आने से पहले ही प्लेटफॉर्म पर सतर्क थे। जांच के दौरान यात्री दहशत में थे।
गोइलकेरा से फैली अफवाह : डाउन आजाद हिंद एक्सप्रेस में बम की अफवाह गोइलकेरा स्टेशन से
...
more...
पूरे चक्रधरपुर मंडल में फैली थी। दरअसल एक विक्षिप्त व्यक्ति बम होने की अफवाह फैलाकर खुद आउटर पर ट्रेन से कूद गया।
मुंबई मेल से गिरकर मौत : ट्रेन में बम की अफवाह फैलाकर ट्रेन से कूदे विक्षिप्त को लाइन ड्यूटी के रेलकर्मियों ने पकड़ लिया था। लेकिन, डाउन मुंबई मेल से मुख्यालय लाने के दौरान वह फिर लोटापहाड़ व चक्रधरपुर स्टेशन के बीच लाइन पर कूदकर भागना चाहा, जिससे मौके पर ही मौत हो गई।
पहले भी अफवाह पर रुक चुकी है ट्रेन
-10 जनवरी 2018 : यूपी में फतेहपुर स्टेशन के पास टाटा-जम्मूतवी को रोककर एक महिला की सूचना पर हुई जांच
-17 अगस्त 2017 : टाटानगर के वॉशिंग लाइन में खड़ी छपरा-कटिहार एक्सप्रेस में आरपीएफ के जवानों ने की थी जांच
- 14 अक्तूबर 2015 : कुर्ला-शलिमार एक्सप्रेस में बम की अफवाह पर ट्रेन को चाकुलिया स्टेशन पर रोककर हुई तलाशी

  
1029 views
Jan 11 2018 (22:06)
Dharmesh S   5892 blog posts   4877 correct pred (93% accurate)
Re# 2992501-1            Tags   Past Edits
😁😁 affah faila k dead ho gaya.
  
Jan 10 2018 (21:53)  25 घंटे बाद दोनों ट्रैक पर रेल यातायात बहाल (www.amarujala.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 326701     
   Past Edits
Jan 10 2018 (21:53)
Station Tag: Barabanki Junction/BBK added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964
Stations:  Barabanki Junction/BBK  
 
 
पटरी टूटने से मालगाड़ी के आठ डिब्बे बेपटरी होने के करीब 25 घंटे के बाद दोनों ट्रैक पर रेल यातायात बहाल हो सका है। तकनीकी टीम की देखरेख में पटरी मरम्मत का कार्य अभी भी जारी है। सोमवार की सुबह करीब 10.26 बजे शहर सफीपुर गांव के पास गुजरात से असम जा रही मालगाड़ी ट्रेन के आठ डिब्बे पटरी से उतर गए थे। हादसे के बाद रेल लाइन तीन जगह पर टूटी निकली थी। जिसके बाद रेलवे के डीआरएम सतीश कुमार समेत आला अफसरों ने मौके पर जाकर मरम्मत कार्य शुरू करवाया था। देर रात तक चले काम में पांच डिब्बों को ट्रेन के दूसरे इंजन लगाकर बाराबंकी व लखनऊ की ओर भेजा गया, जबकि तीन डिब्बे पटरी से बिल्कुल नीचे होने के चलते उसमें लदा सामान निकलवाने के साथ ही उनको लाइन के किनारे पलटा दिया गया है। मंगलवार दिन में 11.30 बजे क्षतिग्रस्त ट्रैक को सही कर सबसे पहले...
more...
हमफर एक्सप्रेस ट्रेन को रवाना किया गया।
ट्रेन घंटों लेट होने से परेशान यात्री
रेल ट्रैक बाधित होने के चलते कई ट्रेनें घंटों लेट होने के चलते यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सोमवार की पूरी रात एक ही ट्रैक चलने से ट्रेनें स्टेशन पर रोकी गई। वहीं मंगलवार को भी राप्ती सागर एक्सप्रेस ट्रेन 24 घंटे, गोरखधाम 7, आम्रपाली 11, राप्तीगंगा 6 घंटे समेत दर्जनों ट्रेन अपने निर्धारित समय से विलंब से चलने के चलते यात्रियों को परेशान होना पड़ रहा है।
जांच के लिए नहीं पहुुंची कोई टीम
भले ही रेलवे के डीआरएम सतीश कुमार ने इस मामले में जांच कराने की टीम गठित करने की बात कही हो लेकिन मंगलवार को विभाग की कोई टीम जांच के लिए मौके पर नहीं पहुुंची। इस मामले में किसी के खिलाफ कोई मुकदमा ही दर्ज किया गया है।
  
यातायात बहाल,गुजरी एक्सप्रेस
कल हुआ था ट्रेन हादसा
’ रातभर चला क्षति ग्रस्त रेल पटरी बदलने का काम
’ जुटे रहे अधिकारी, पटरी से उतरे मालगाड़ी के डिब्बे खड़े किए गए
लखनऊ बाराबंकी रेलमार्ग की
...
more...
डाउन लाइन सफीपुर गांव के पास पटरी से मालगाड़ी के उतरने से क्षतिग्रस्त हो गई। रातभर चले मरम्मत कार्य के बाद मंगलवार की सुबह पटरियों में सुधार कर रेल यातायात बहाल किया गया। रात भर लखनऊ व बाराबंकी रेलवे के अधिकारी पटरियों की मरम्मत कार्य में जुटे रहे। सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे पहली यात्री गाड़ी गुजारी गई। पहली ट्रेन गुजारी गई हमसफर: बाराबंकी-लखनऊ के बीच सफीपुर गांव के पास क्षति ग्रस्त हुई डाउन लाइन को सुबह करीब 11 बजे तक ठीक कर लिया गया। अधिकारियों ने कराए गए कार्य को दो तीन बार चेक किया। इसी बीच आनंद विहार से गोरखपुर जा रही हमसफर एक्सप्रेस (12596) के अभी आने के समय हो गया। अधिकारियों ने सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे हमसफर एक्सप्रेस को गुजारा। सब ठीक रहने के बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली।रातभर चला पटरी बदलने का काम, डटे रहे अधिकारी: सफीपुर गांव के पास रेल पटरी तीन स्थानों से टूट कर क्षत विक्षत हो गई थी। जिसके चलते बाराबंकी, लखनऊ से लेकर दिल्ली तक के रेलवे अधिकारियों में हड़कंप मचा रहा। जिसका नतीजा रहा कि रेल पथ विभाग के अधिकारी सहित अन्य कई विभागों के अधिकारी रात भर मौके पर ही डटे रहे। रात भर पटरी बदलने का काम चला। कराए जा रहे काम की प्रगति की रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को देते रहे। एक-एक कर अप लाइन से गुजारी गईं ट्रेनें: डाउन लाइन पर कार्य के चलते इस रुट पर रात भर ट्रेनों का संचालन बाधित रहा। डाउन लाइन की सभी ट्रेनोंे को एक-एक कर अप लाइन से गुजारा गया। जिसके चलते ट्रेनें अपने काफी लेट रहीं। इससे यात्रियों को ठंड में भारी परेशानी भी ङोलनी पड़ी।रेल लाइन के किनारे रखी हैं टाइल्स, सुरक्षा में आरपीएफ: लखनऊ-बाराबंकी रेलमार्ग पर सफीपुर गांव के पास टाइल्स लगी मालगाड़ी के आठ डिब्बे पटरी उतर गए। ट्रैक को बदलने के लिए पास ही कोच से उतरवाई गई टाइल्स मंगलवार को भी वहीं पड़ी रही। टाइल्स चोरी नहीं हो जाए इसकी जिम्मेदारी आरपीएफ को दी गई है। आरपीएफ ने टाइल्स की सुरक्षा के लिए मौके पर सिपाहियों की डय़ूटी लगाई गई है। सुबह के समय वहां पर चार सिपाहियों और रात में पांच सिपाहियों की डय़ूटी लगाई गई है। सतर्कता बरती जा रही है।
  
Jan 10 2018 (21:23)  छह इंच टूटी थी पटरी, मालगाड़ी को देख लालटेन लेकर दौड़ा ट्रैकमैन, ...और इस तरह टला हादसा (www.amarujala.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 326698     
   Past Edits
Jan 10 2018 (21:24)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jan 10 2018 (21:24)
Station Tag: MohanlalGanj/MLJ added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964
 
 
मोहनलालगंज में ट्रैक मेंटेनर की सतर्कता से कोयले से लदी मालगाड़ी पलटने से बच गई। ट्रैक पर करीब छह इंच पटरी टूटी हुई थी। इस बीच एक मालगाड़ी आ गई। इस पर ट्रैक मेंटेनर पे लालटेन लेकर दौड़ लगा दी। इससे लोको पायलेट ने मालगाड़ी रोक दी और हादसा टल गया। स्टेशन मास्टर व रेलपथ निरीक्षक को सूचना देकर मरम्मत का काम शुरू कराया गया। इस दौरान कई ट्रेनों का संचालन बाधित रहा।
RELATED
मालगाड़ी के आठ डिब्बे पटरी से उतरे, तीन जगह से कैसे टूटी पटरी, हादसे की होगी जांच
टूटी
...
more...
पटरी से गुजर गईं एक के बाद एक छह ट्रेनें, बड़ा हादसा टला, मचा हड़कंप
सोमवार रात 11 बजे ट्रैक मेंटेनर बाबादीन व रूपेश रेलखण्ड का निरीक्षण कर रहे थे। मोहनलालगंज स्टेशन से लगभग डेढ़ किमी दूरी पर पोल नम्बर 1053 के पास उन्हें पटरी का लगभग छह इंच का टुकड़ा टूटा मिला।
इससे पहले कि वे स्टेशन मास्टर व पीडब्लूआई को सूचना देते, ट्रैक पर मालगाड़ी आ गई। इस पर रूपेश लालरंग की लालटेन (हाथ बत्ती) लेकर मालगाड़ी को रोकने का इशारा करते हुए ट्रैक की ओर दौड़ने लगा। वह लगभग 100 मीटर तक दौड़ चुका था।
दूसरी ओर मालगाड़ी के लोको पायलट ने लालटेन देखकर तत्काल ब्रेक लगा दिए। इससे ट्रेन टूटी हुई पटरी से करीब 20 मीटर पहले ही आकर रुक गई। पटरी टूटी होने से करीब पांच घंटे तक लखनऊ-वाराणासी रेलमार्ग पर संचालन ठप रहा।
सकते में रेलवे अधिकारी
बाराबंकी के पास गत सोमवार को मेंटेनेंस के दौरान पटरी से मालगाड़ी के आठ वैगन पलट गए थे। इस डिरेलमेंट से उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के आला अधिकारियों के हाथ-पैर फूले हुए थे। इसी बीच सोमवार को ही मल्हौर में गेट के पास पटरी टूटी होने की सूचना आई और मंगलवार को मोहनलालगंज में पटरी टूटने से मालगाड़ी पलटने से बच गई। रेल फ्रैक्चर बड़ी मुसीबत बनते जा रहे हैं। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि ठंड में पटरी सिकुड़ने से फ्रैक्चर हो जाते हैं।
ये ट्रेनें हुईं प्रभावित
मोहनलालगंज रेलवे स्टेशन मास्टर जफर मोहम्मद ने बताया कि पटरी टूटी होने से 13238 कोटा पटना एक्सप्रेस, 14258 काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस को उतरठिया रेलवे स्टेशन, 14511 नौचन्दी एक्सप्रेस को कनकहा स्टेशन, 12203 बनारस इंटरसिटी को निगोहां स्टेशन पर खड़ा कर दिया गया। यातायात सामान्य होने पर ट्रेनों को रवाना किया गया।
पहले भी टले हैं सतर्कता से हादसे
यह पहला मौका नहीं है, जब ट्रैक मेंटेनरों की सतर्कता से रेल हादसे टले हों। तीन दिसम्बर को पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के डालीगंज व बादशाहनगर स्टेशन के बीच 308 पेंड्रोल क्लिपें गायब मिली थीं। रात में पेट्रोलिंग कर रहे शिवशंकर व संजय कापरी की सतर्कता से मामला उजागर हुआ था।
इधर हाशिए पर ट्रैकमैन...
ट्रैकमैन बाबादीन व रूपेश। - फोटो : amar ujala
रेलवे अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा 300 ट्रैकमैनों को भुगतना पड़ रहा है। ट्रैक पर दिन-रात जूझने वाले इन ट्रैकमैनों को 27 सौ रुपये प्रतिमाह का जोखिम भत्ता नहीं मिल रहा है। नियमों का हवाला देकर उन्हें टरकाया जा रहा है।
ट्रैकमैनों के हक के लिए लड़ने वाली एसोसिएशन के पदाधिकारी बताते हैं कि उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल में तकरीबन 3,400 ट्रैकमैन हैं। ढाई सौ ट्रैकमैन ऐसे हैं, जो अफसरों के बंगलों व दफ्तरों में ड्यूटी कर रहे हैं। जबकि करीब 1,800 पद रिक्त पड़े हुए हैं।
जो ट्रैकमैन बंगलों व दफ्तरों में काम कर रहे हैं, उन्हें तो जोखिम भत्ता दिया जा रहा है। लेकिन जान जोखिम में डालकर पटरियों की मरम्म्त करने वाले तीन सौ ट्रैकमैन इस सुविधा से वंचित हैं। दूसरी ओर रेलवे अधिकारियों ने बताया दसवीं पास ट्रैकमैनों को ही जोखिम भत्ता दिया जा रहा है, जबकि जिन्हें नहीं मिल रहा है, वह आठवीं पास हैं।
ट्रैकमैनों का कहना है कि उत्तर मध्य रेलवे के मंडलों में आठवीं पास ट्रैकमैनों को जोखिम भत्ता दिया जा रहा है तो उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के अधिकारी भेदभाव क्यों कर रहे हैं?
Page#    21758 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.