Full Site Search  
Thu Nov 23, 2017 03:30:37 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
no description available

BET/Bareth (4 PFs)
बरेठ     बरेठ

Track: Triple Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 4
Number of Halting Trains: 8
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Elevation: 419 m above sea level
Zone: WCR/West Central
Division: Bhopal
 
 
No Recent News for BET/Bareth
Nearby Stations in the News

Rating: 3.4/5 (8 votes)
cleanliness - good (1)
porters/escalators - average (1)
food - average (1)
transportation - good (1)
lodging - good (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - good (1)
safety - average (1)

Nearby Stations

CLHT/Chulheta 4 km     RKRI/Rao Khedi 7 km     RKDI/Raukheri 7 km     BAQ/Ganj Basoda 10 km     KAH/Kalhar 10 km     MABA/Mandi Bamora 19 km     PAI/Pabai 19 km     KIKA/Kurwai Kethora 27 km     GLG/GulabGanj 28 km     BINA/Bina Junction 36 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 4 of 4 News Items  
Sep 15 2016 (16:52)  Shatabdi Express crash in bhopal-5 मिनट में तबाही मचा सकती थी शताब्दी एक्सप्रेस - Patrika News (www.patrika.com)
back to top
IR AffairsNCR/North Central  -  

News Entry# 280214   Blog Entry# 1992709     
   Past Edits
Sep 15 2016 (4:53PM)
Station Tag: Bareth/BET added by For Better Managed Indian Railways~/1546020

Sep 15 2016 (4:52PM)
Train Tag: New Delhi - Bhopal Habibganj Shatabdi Express/12002 added by For Better Managed Indian Railways~/1546020
 
 
शताब्दी के सी-14 कोच का एक्सल भट्टी में तपते लोहे की तरह लाल हो चुका था। नीचे लटक रहे कवर से ट्रैक की गिट्टी उड़कर कोच से टकरा रही थी। यात्रियों में हड़कंप मच गया। गार्ड बीके जोशी ने आवाज सुनकर ट्रेन रुकवाई। एक्सल इतना तप गया था कि पांच मिनट में वह गिर जाता और पहिया जाम हो जाता। ट्रेन पटरी से उतर सकती थी और यात्रियों की जान पर बन आती।
झांसी से बीना के बीच की दूरी करीब 145 किमी है। बीना से बरेठ 38 किमी। एक्सल जिस तरह तप चुका था उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि गड़बड़ी करीब 50 किमी पीछे से शुरू हुई। एेसे में बीना स्टेशन पर बड़ी लापरवाही हुई। उसके बाद पडऩे वाले
...
more...
कुरवाई, कैथोरा, मंडी बामौरा, कल्हार और चुल्हेटा स्टेशन पर भी लापरवाही हुई। गाड़ी का इंजन बरेठ का सिग्नल पार कर चुका था। ट्रेन की रफ्तार भी करीब 110-120 किमी प्रति घंटे थी। एक्सल का कवर जलकर नीचे लटक गया और उससे पत्थर उडऩे लगे। अगर ट्रेन इसी गति से 5 मिनट और दौड़ती तो बड़ा हादसा हो जाता।
मामले की होगी जांच
इस मामले में भोपाल रेल मंडल के पीआरओ आईए सिद्दिकी का कहना है कि ये एक टेक्निकल फॉल्ट है। स्टेशनों पर क्या लापरवाही हुई, इसके बारे में जांच की जा रही है। गौरतलब है कि सोमवार को नई दिल्ली से हबीबगंज आ रही शताब्दी एक्सप्रेस के बोगी सी-14 के पहिए का एक्सल टूट गया था। इससे बीना के आगे बरेठ के पास पहिया जाम हो गया था और ट्रेन को अचानक रोकना पड़ा था। यदि समय रहते ट्रेन रोकी नहीं गई होती, तो बड़ा हादसा हो सकता था।
भांप लिया खतरा
सी-14 कोच में झांसी से ही रेलवे के दो अधिकारी चढ़े थे। ट्रेन चुल्हेट से बरैठ की तरफ बढ़ रही थी। चार किमी के बाद ही पत्थर कोच से टकराने लगे थे। दोनों अधिकारी खतरा भांप गए और तत्काल गार्ड के केबिन की तरफ दौड़ पड़े और सूचना दी। आखिरकार बड़ा हादसा टल गया।

4407 views
Sep 15 2016 (21:16)
® राहुल जैन ☺ झाडू वाले™🚅🚃🚃🚃🚃🚃*^~   10364 blog posts   14940 correct pred (63% accurate)
Re# 1992709-1            Tags   Past Edits
god alminghty
Dec 13 2014 (00:52)  सूखी-दीवानगंज के बीच तीसरी लाइन जनवरी से चालू करने की तैयारी (naidunia.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologyWCR/West Central  -  

News Entry# 204563   Blog Entry# 1312529     
   Past Edits
Dec 13 2014 (12:52AM)
Station Tag: Mandi Bamora/MABA added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Dec 13 2014 (12:52AM)
Station Tag: Bareth/BET added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Dec 13 2014 (12:52AM)
Station Tag: DewanGanj/DWG added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Dec 13 2014 (12:52AM)
Station Tag: Sukhisewaniyan/SUW added by Vaibhav Agarwal*^/432532
 
 
16-17 रेल संरक्षा आयुक्त की मौजूदगी में होगा ट्रायल
भोपाल (नप्र)। हबीबगंज से बीना के बीच बिछाई जा रही तीसरी रेल लाइन के सूखी-दीवानगंज सेक्शन में अगले महीने से ट्रेनें चल सकती हैं। रेल संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) की मौजूदगी में 16-17 दिसंबर को खाली डिब्बों वाली ट्रेन चलाकर इस सेक्शन का परीक्षण किया जाएगा। इसमें ट्रैक और ओवर हेड इलेक्ट्रिक (ओएचई) को विशेष तौर पर देखा जाएगा।
सब कुछ ठीक रहा तो हफ्ते भर के भीतर सीआरएस की हरी झंडी मिल जाएगी। इसके बाद नान इंटरलाकिंग (एनआई) का काम चालू होगा। इसमें करीब
...
more...
10 दिन लगेंगे। इस तरह जनवरी से करीब 16 किमी का यह सेक्शन शुरू होने के आसार हैं। रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) और रेलवे ने 22 अक्टूबर को इस सेक्शन में 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से इंजन दौड़ाकर ट्रायल किया था। ट्रायल रिपोर्ट सीआरएस चेतन बख्शी को भेजी गई थी। आयुक्त ने भदभदा स्टेशन पर बनाए गए क्रास ओवर (जिससे ट्रेन एक से दूसरी लाइन में जाती है) खतरनाक बताते हुए इसे हटाने के लिए कहा था।
अगले चरण में चालू होगा बरेठ-मंडीबामौरा
सूखी-दीवानगंज सेक्शन चालू होने के बाद बरेठ-कल्हार-मंडी बामौरा सेक्शन शुरू किया जाएगा। इस सेक्शन की लंबाई करीब 27 किमी है। इसके चालू होने से गुलाबगंज से मंडी बामौरा के बीच करीब 47 किमी की लाइन चालू हो जाएगी।

1 posts - Thu Dec 18, 2014 - are hidden. Click to open.

1 posts - Fri Dec 19, 2014 - are hidden. Click to open.

6293 views
Apr 18 2015 (15:25)
Vaibhav Agarwal*^   6116 blog posts   2568 correct pred (95% accurate)
Re# 1312529-3            Tags   Past Edits
बरेठ स्टेशन से मंडी बामौरा के बीच रेलवे के तीसरे ट्रैेक की हुई ट्रायल click here
.
=>एक साल से तैयार है ट्रैक - इस ट्रैक के लिए रेलवे ने 3 सीआरएस निरीक्षण की तारीखें जारी की थी। लेकिन तीनों बार ही उनको निरस्त करना पड़ा।
=>बीना से भोपाल तक 145 किलो मीटर लंबे सेक्शन में तीसरी लाइन डालने के
...
more...
लिए कार्य आरवीएनएल को सौंपा गया था।
=>तीसरा ट्रेक अब तक बरेठ से गुलाबगंज तक और भदभदा से सूखी तक जोड़ा जा चुका है।
=>कुल मिला कर 50 किलोमीटर ही रनिंग ट्रैक में शामिल किया गया है।
=> विदिशा से सांची के बीच कार्य अभी पूरा नहीं हो पाया है।
Nov 20 2014 (07:15)  रेलकर्मी की सतर्कता से बरेठ रेलवे स्‍टेशन के पास टला हादसा (naidunia.jagran.com)
back to top
Crime/AccidentsWCR/West Central  -  

News Entry# 201823     
   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: SMILER~  125 news posts
 
 
गंजबासौदा । मंगलवार की सुबह एक रेलकर्मी की सतर्कता से समीपस्थ रेलवे स्टेशन बरेठ के पास एक बड़ा हादसा टल गया। इस स्टेशन से मर्दाखेड़ी रेलवे गेट के बीच डाउन ट्रैक के एक क्रास ओवर पर पटरी का करीब एक फीट का हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था। जिसकी सूचना रेलकर्मी ने तुरंत स्टेशन मास्टर को दी और उन्होंने इस ट्रैक पर आ रही ट्रेन को सूचना देकर पहले ही स्र्कवा दिया। जिसके बाद कई घंटों तक क्रास ओवर की मरम्मत का काम चलता रहा और दोपहर बाद इस ट्रैक से रेल यातायात सामान्य हो सका। इस दौरान ट्रेनों को कॉशन देकर धीमी रफ्तार से दूसरे ट्रैक से निकाला गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार निकटस्थ रेलवे स्टेशन बरेठ के गैंगमैन नाहर सिंह सुबह
...
more...
करीब साढ़े छह बजे रेलवे ट्रैक का निरीक्षण करते हुए मर्दाखेड़ी रेलवे फाटक से स्टेशन की ओर आ रहे थे। तभी उन्हें फाटक से कुछ दूर डाउन ट्रेक के क्रास ओवर पर लगी रेलवे पटरी क्षतिग्रस्त नजर आई। जब उन्होंने गौर से देखा तो पटरी का करीब एक फीट का हिस्सा टूटा हुआ था। इसी ट्रेक से कुछ ही देर में एक तेज रफ्तार ट्रेन लखनऊ एक्सप्रेस गुजरने वाली थी।
समय पर दी सूचना
गैंगमेन ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इसकी सूचना तुरंत स्टेशन मास्टर मोतीलाल सिमेले को दी। जिन्होंने बिना देर किए भोपाल से चलकर बीना की ओर जाने के लिए इसी डाउन ट्रैक पर आ रही लखनऊ एक्सप्रेस के चालक और गार्ड को ट्रेन रोकने के निर्देश दे दिए। समय पर मिली सूचना से एक बड़ा हादसा टल गया और ट्रेन घटना स्थल से कुछ मीटर पहले मर्दाखेड़ी रेलवे फाटक पर खड़ी कर दी गई।
ट्रेन हो सकती थी दुर्घटनाग्रस्त
उधर गैंगमेन नाहर सिंह की सतर्कता और त्वरित कार्रवाई से एक बड़ा रेल हादसा टल गया। यदि क्षतिग्रस्त लाइन की सूचना मिलने में थोड़ी भी देर हो जाती तो उसी समय इस ट्रैक से गुजरने वाली तेज रफ्तार सवारी ट्रेन दुर्घटनाग्रस्त हो सकती थी। जिससे भारी नुकसान के साथ रेल यातायात भी कई घंटों के लिए प्रभ्ाावित हो सकता था।
धीमी गति से निकाली ट्रेनें
बाद में इस ट्रेन को कॉशन देकर काफी धीमी गति से दूसरे ट्रेक से गंतव्य की ओर रवाना करवाया गया। बाद में मौके पर पहुंचे तकनीशियनों और रेलकर्मियों ने क्रास ओवर की क्षतिग्रस्त लाइन को बदलने का काम श्ाुस्र् कर दिया। इस दौरान इस क्रास ओवर से गुजरने वाली सभी ट्रेनों को कॉशन देकर धीमी रफ्तार से निकाला गया। करीब साढ़े बारह बजे तक चले ट्रैक एवं क्रास ओवर की मरम्मत एवं सुधार कार्य के बाद रेल यातायात सामान्य हो सका।
Apr 02 2014 (07:16)  तीसरी लाइन पर 120 किमी की रफ्तार से दौड़ी डीआरएम स्पेशल (www.bhaskar.com)
back to top
Commentary/Human InterestWCR/West Central  -  

News Entry# 172756   Blog Entry# 1043727     
   Past Edits
Apr 02 2014 (7:33AM)
Station Tag: Pabai/PAI added by অনুপম**/401739

Apr 02 2014 (7:33AM)
Station Tag: Bareth/BET added by অনুপম**/401739
Stations:  Pabai/PAI   Bareth/BET  
Posted by: *^~  4410 news posts
 
 
तीसरी लाइन पर मंगलवार को सुबह डीआरएम स्पेशल ट्रेन बरेठ से पबई स्टेशन के बीच 120 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से निकाली गई। ये ट्रायल तीसरी लाइन पर ट्रेनों को १1० किमी की रफ्तार से दौड़ाने के लिए किया गया । इस मौके पर डीआरएम राजीव चौधरी के साथ संभाग के सीपीडी डीडी देवांगन भी मौजूद थे। वर्तमान में तीसरी लाइन पर अधिकतम स्पीड 90 किमी प्रति घंटे के हिसाब से दी गई थी। इस गति में 20 किमी की बढ़ोतरी करने के लिए नई लाइन का परीक्षण किया जाना था। परीक्षण के बाद मिले नतीजों के हिसाब से तीसरी लाइन की रफ्तार को हरी झंडी मिल जाएगी।
विदिशा भी रुकी ट्रेन
डीआरएम
...
more...
स्पेशल भोपाल से बीना जाते समय विदिशा में कुछ समय के लिए रुकी। पहले बीना से भोपाल जाते समय स्पेशल को विदिशा में दस मिनट का स्टापेज रखा गया था। बाद में कार्यक्रम में कुछ बदलाव किया गया।
ऐसे हुई तीसरे ट्रैक पर ट्रायल
भोपाल से डीआरएम स्पेशल ट्रेन सुबह ८.३० बजे रवाना हुई। गंजबासौदा रेलवे स्टेशन से बीना के लिए ९.३० बजे निकली। इसके बाद बीना से वापस भोपाल के लिए रवाना हुई। स्पेशल सुबह भोपाल वापस जाते समय 11 बजकर ५ मिनट पर बरेठ से तीसरी लाइन पर आई और 120 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ती 11 बजकर 8 मिनट पर पबई की ओर रवाना हो गई। इसके बाद पबई से भोपाल चली गई। डीआरएम स्पेशल में टै्रक से संबंधित सभी विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
वर्तमान में रफ्तार 90 किमी
वर्तमान में बरेठ से पबई के बीच तीसरी लाइन पर ट्रेनों के लिए अधिकतम 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार दी गई है। इसके चलते इसी गति से ट्रेनों को निकाला जा रहा है। इसी प्रकार ट्रेक पाइंटों पर जहां से गाड़ी एक पटरी से दूसरी पटरी पर जाती है वहां वर्तमान में 15 किमी प्रति घंटे के हिसाब से रफ्तार रखी गई है। पांइटों पर भी तीस किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रेनों को निकाला जाना है। इसके लिए पहले परीक्षण जरुरी है। यह परीक्षण इसी क्रम का हिस्सा है।
विदिशा से बीना
तक ट्रैक तैयार
विदिशा से बीना के बीच तीसरी लाइन का ट्रेक तैयार हो चुका है। लेकिन ट्रैक को अब तक बरेठ से पबई के बीच ही रंनिंग ट्रैक में शामिल किया गया है। इसके चलते तीसरी लाइन तीन स्टेशनों में ही अस्तित्व में आई है। शेष रेलवे स्टेशनों पर तीसरी लाइन को जोडऩे के लिए मुंबई रेल सुरक्षा आयुक्त के निरीक्षण और स्वीकृति का आरवीएनएल को इंतजार है। जब तक सुरक्षा आयुक्त की स्वीकृति नहीं मिलती। तीसरी लाइन को रनिंग ट्रैक में शामिल करने के लिए कार्य प्रारंभ नहीं हो सकता।
समय पर कार्य नहीं
बीना से भोपाल तक तीसरी लाइन का निर्माण पूरा करने के लिए आरवीएनएल को वर्ष 2012-13 का समय दिया गया था। बाद में यह समय एक साल बढ़ा कर वर्ष 2013-14 किया गया। उसके बाद भी अभी कार्य पूरा नहीं हो पाया।
काम नहीं हुआ पूरा
॥आरवीएनएल ने भोपाल बीना के बीच तीसरी लाइन का काम पूरा नहीं किया। गंजबासौदा के आसपास तीन स्टेशनों में ही काम पूरा हुआ है। अन्य स्टेशनों में काम तेजी से किया जा रहा है।
पीयूष माथुर, सीपीआरओ जबलपुर।
ञ्चइससे पहले ९० किमी घंटे की रफ्तार से दौड़ती थी ट्रेन
ञ्चबरेठ से पबई स्टेशन के बीच हुआ स्पीड का परीक्षण
ट्रायल रन - परीक्षण के नतीजों के हिसाब से 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार को मिलेगी हरी झंडी
गंजबासौदा। मंगलवार को बरेठ से पबई के बीच तीसरी लाइन पर १२० किमी की स्पीड से चली डीआरएम स्पेशल ट्रेन।

3565 views
Apr 02 2014 (13:33)
® राहुल जैन ☺ झाडू वाले™🚅🚃🚃🚃🚃🚃*^~   10364 blog posts   14940 correct pred (63% accurate)
Re# 1043727-1            Tags   Past Edits
Page#    Showing 1 to 4 of 4 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.