Full Site Search  
Mon Jan 22, 2018 00:19:51 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Scenic; Platform Pic; Large Station Board;
Medium; Platform Pic; Large Station Board;


GHNA/Gohana Junction (3 PFs)
     गोहाना जंक्शन

Track: Construction - Single-Line Electrification

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 16
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Devi Nagar, Gohana, Haryana 131301
State: Haryana
add/change address
Zone: NR/Northern
Division: Delhi
 
 
No Recent News for GHNA/Gohana Junction
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

SRDH/Sarsadh 6 km     BASN/Bhainswan 6 km     KHDR/Khandrai 6 km     RBHR/Rabrah 7 km     MDLA/Mundlana 10 km     RKX/Rukhi 10 km     BUTN/Butana 12 km     JSS/Jasia 14 km     LATH/Lath 15 km     ISRI/Isapur Kheri 15 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 18 of 18 News Items  
Nov 03 2016 (15:56)  हरियाणा मेरी बहन, इसलिए भैया दूज पर दिया तोहफा : सुरेश प्रभु (www.jagran.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 284699     
   Past Edits
Nov 03 2016 (3:56PM)
Station Tag: Gohana/GHNA added by Subhash/746156

Nov 03 2016 (3:56PM)
Station Tag: Rohtak Junction/ROK added by Subhash/746156
Posted by: Subhash  1044 news posts
 
 
रोहतक। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि हरियाणा उनकी बहन है अौर इसलिए उन्हें इस प्रदेश का पूरा ध्यान है। वह प्रदेश के भाई हें और इसी कारण भैया दूज पर्व पर राज्य को रोहतक में एलिवेटिड रेलवे ट्रैक का तोहफा दिया है। वह हरियाणा से जुड़ कर खुद को सौभाग्यशाली समझते हैं और यहां से उन्हें बेहद लगाव है।
रेल मंत्री ने यह बात वीडियो कांफ्रेसिंग से जनता को संबोधित करते हुए कहीं। उन्होंने मुंबई से ही रोहतक-गोहाना रेलवे लाइन पर एलिवेटिड ट्रैक का बटन दबाकर शिलान्यास किया। रेल मंत्री ने कहा कि हरियाणा खासकर रोहतक से उनका खास रिश्ता रहा है। हरियाणा ने उनको राज्यसभा सदस्य बनाकर संसद भेजा था। उन्होंने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के गांव निदाना को
...
more...
गोद भी लिया था। प्रभु ने कहा कि निदाना गांव से उनका खास लगाव रहा है। रोहतक के लिए यह प्रोजेक्ट देकर खुशी का एहसास हो रहा है।
नहीं पहुंचे सांसद दीपेंद्र
एलिवेटिड रेलवे ट्रैक के शिलान्यास समारोह में रोहतक लोकसभा क्षेत्र से सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा और नगर निगम की मेयर रेणु डाबला को भी आमंत्रित किया गया था। लेकिन, समारोह में दोनों नहीं पहुंचे। हालांकि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने सांसद दीपेंद्र हुड्डा और मेयर रेणु डाबला का जिक्र अपने भाषण में किया।
वीडियो कांफेंंसिंग के जरिये एलिवेटिड रेलवे ट्रैक के शिलान्यास करते रेलमंत्रीसुरेश प्रभु।
बता दें कि सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा दो दिन पहले इस प्रोजेक्ट के बारे में बयान जारी कर चुके हैं। दीपेंद्र का कहना था कि जिस प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर रहे हैं, वह वर्ष 2013 में तत्कालीन रेल मंत्री द्वारा किया जा चुका है। इतना ही नहीं इस प्रोजेक्ट के लिए 181 करोड़ रुपये का बजट भी रेल मंत्रालय से जारी हो चुका था। ऐसे में एक ही प्रोजेक्ट का दोबारा शिलान्यास कराने का कोई औचित्य नहीं है।
Jul 18 2016 (07:51)  गोहाना-पानीपत रेलवे लाइन पर एलिवेटेड ट्रैक को इंजीनियर्स की हरी झंडी (www.amarujala.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNR/Northern  -  

News Entry# 274003   Blog Entry# 1933130     
   Past Edits
Jul 18 2016 (7:51AM)
Station Tag: Rohtak Junction/ROK added by Subhash/746156

Jul 18 2016 (7:51AM)
Station Tag: Panipat Junction/PNP added by Subhash/746156

Jul 18 2016 (7:51AM)
Station Tag: Gohana/GHNA added by Subhash/746156
Posted by: Subhash  1044 news posts
 
 
शहर के बीचोंबीच गुजर रही गोहाना-पानीपत रेलवे लाइन पर 314 करोड़ रुपये से बनने वाले एलिवेटेड ट्रैक को इंजीनियर्स ने हरी झंडी दे दी है। बृहस्पतिवार को एक्सपर्ट की तीन टीम ने ट्रैक पर मैनुअल ट्राली में बैठ कर निरीक्षण किया। सवा चार किलोमीटर लंबे एलिवेटेड ट्रैक का काम चार माह में शुरू हो जाएगा। स्थानीय विधायक मनीष ग्रोवर ने इंजीनियर्स की टीम के साथ पूरे प्रोजेक्ट के बारे में चर्चा भी है। इंजीनियर्स का दावा है कि निर्माण कार्य के दौरान रेल यातायात बाधित नहीं होगा। यानी प्रोजेक्ट भी पूरा हो जाएगा और रेल भी चलती रहेगी।
दिल्ली से रोहतक रेलवे स्टेशन आए अतिरिक्त महाप्रबंधक वेदपाल, सहायक मंडल रेल प्रबंधक आरसी गुप्ता, मुख्य अभियंता राजेश अग्रवाल, उप मुख्य अभियंता मोना श्रीवास्तव,
...
more...
सीनियर डीएम फोर बिजेंद्र सिंह, पीडब्ल्यूडी बीएंडआर से अधीक्षण अभियंता प्रदीप रंजन और कार्यकारी अभियंता हनुमत सांगवान ने तीन टीमों बनाकर पूरे ट्रैक का निरीक्षण किया। तीनों टीम रोहतक रेलवे स्टेशन से चल कर सेक्टर छह हुडा आरओबी तक गईं। इसके बाद टीम ने कैनाल रेस्ट हाउस में बैठकर प्रोजेक्ट पर चर्चा की। इस मौके पर सिविल इंजीनियर्स की टीम के साथ रेलवे सुरक्षा प्रभारी एसपी सिंह व अन्य भी मौजूद रहे।
विधायक ने पूछे सवाल
एक्सपर्ट की टीम से विधायक मनीष ग्रोवर ने पूछा कि सवारी गाड़ी और माल गाड़ी कम दूरी पर ऊंचाई पर कैसे चढे़ंगी। इंजीनियरों ने विधायक को पूरी तकनीक की जानकारी दी। टीम ने बताया कि सामान्य पुल 30 मीटर पर एक फुट उठाया जाता है, जबकि रेलवे का ओवर ब्रिज 200 मीटर पर एक फुट उठाया जाता है। इससे सवारी और माल गाड़ी आसानी से पुल पर चढ़ और उतर सकेंगी।
डबल फाटक से हुडा सेक्टर छह तक होगा ट्रैक
एलिवेटड रेलवे ट्रैक को डबल फटक से उठाना शुरू किया जाएगा और हुडा सेक्टर छह के आरओबी से पहले उतार दिया जाएगा। इसमें बजरंग भवन फाटक, सोनीपत रोड फाटक, शीला बाईपास फाटक व मानव रहित फाटक सेक्टर छह के ऊपर से रेल गाड़ी को गुजारा जाएगा। पुल की ऊंचाई तकरीबन छह फुट बेस की होगी। इसके ऊपर का बेस चार से पांच मीटर का होगा।
अप डाउन ट्रैक के हिसाब से होगा काम
प्रोजेक्ट में अप डाउन रेलवे ट्रैक के हिसाब से काम होगा। हालांकि, बृहस्पतिवार की बैठक में यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि ट्रैक वन पिल्लर पर होगा या टू पर। लेकिन अधीक्षण अभियंता प्रदीप रंजन ने बताया कि दोनों में ही समस्या नहीं है।
रेलवे अपनी जमीन का करेगा प्रयोग, नहीं होगा यातायात बाधित
रेलवे अपनी जमीन पर ही निर्माण कार्य करेगा। सवा चार किलोमीटर का रेलवे यातायात प्रभावित न हो, इसके लिए मेट्रो की तर्ज पर एरिया को कवर किया जाएगा। रेलवे लाइन के साथ श्रीनगर, गांधी कैंप पुलिस चौकी, सुभाष नगर की ओर रेलवे की काफी जमीन है। यहां पर प्रोजेक्ट शुरू होगा, इससे यातायात भी प्रभावित नहीं होगा। रेलवे की 25 से 29 मीटर की जगह है, जबकि कार्य 16 से 17 मीटर पर होना है।
ऊपर होगा रेलवे ट्रैक, नीचे होगा 10 मीटर का माल रोड
एलिवेटिड रेलवे ट्रैक पूरा होने के बाद नीचे 10 मीटर का माल रोड बनाया जाएगा। इसे पीडब्ल्यूडी विभाग प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद तैयार करेगा। अधीक्षण अभियंता प्रदीप रंजन के अनुसार इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद दो साल का समय लगेगा। जल्द ही इसका टेंडर होने जा रहा है। पूरा प्रोजेक्ट फाइनल हो चुका है, बृहस्पतिवार इसी की फाइनल जांच थी।
40 से 50 पेड़ और कुछ अतिक्रमण हटाए जाएंगे
पूरे प्रोजेक्ट में तकरीबन 40 से 50 पेड़ रास्ते में आ रहे हैं और कुछ अतिक्रमण भी हटाने की जरूरत पडे़गी। अधिकारियों ने कहा कि वे वन विभाग से अनुमति लेने के अलावा अतिक्रमण भी हटवा लेंगे।
किसानों की कृषि योग्य जमीन बची : ग्रोवर
विधायक मनीष ग्रोवर ने बताया कि यह प्रोजेक्ट किसानों की कृषि योग्य जमीन को बचाएगा। कांग्रेस सरकार ने किसानों की जमीन का अधिग्रहण करके रोहतक-गोहाना-पानीपत रेलवे लाईन बाईपास करने की योजना बनाई थी। इसका किसानों ने विरोध किया था। इस मौके पर उनके साथ भाजपा कार्यकारिणी के सदस्य रमेश भाटिया, जिला उपाध्यक्ष जोगेंद्र सैनी, कुलविंद्र सिंह सिक्का, जितेंद्र बालंद व पदम ढुल आदि उपस्थित रहे।

3224 views
Jul 18 2016 (11:24)
chandankumarsingh64~   725 blog posts
Re# 1933130-1            Tags   Past Edits
good news

3700 views
Jul 18 2016 (15:19)
✿✿Lets Fight Corruption in Indian Railways✿✿   1383 blog posts   127 correct pred (74% accurate)
Re# 1933130-2            Tags   Past Edits
these local MP and MLAs are useless. can not get a new single passenger train on track for years but will show dreams of elevated railway track to public

for 10 years Local Congree MP timepass on this project. Now time for current BJP leaders to do drama for 5 years!
Its never going to materialize in near future

3601 views
Jul 18 2016 (15:22)
Udaipur Mysore HumSafar superfast^~   88541 blog posts   5328 correct pred (78% accurate)
Re# 1933130-3            Tags   Past Edits
MP/MLA Sirf train ko stop dila sakte hain
New train ke liye Bahut papad belne padte hain

3753 views
Jul 18 2016 (16:36)
chandankumarsingh64~   725 blog posts
Re# 1933130-4            Tags   Past Edits
railway kai project 10 saal to 30 saal sai first pure nahi hotha hai

2873 views
Jul 18 2016 (16:38)
chandankumarsingh64~   725 blog posts
Re# 1933130-5            Tags   Past Edits
sir train ki batha nahi hai ............ elevated railway track ki batha hai
Jul 18 2016 (07:49)  रोहतक-गोहाना ट्रैक पर बनेगा रेलवे का उड़ता जंक्शन (www.amarujala.com)
back to top
New Facilities/TechnologyNR/Northern  -  

News Entry# 274002     
   Past Edits
Jul 18 2016 (7:49AM)
Station Tag: Bahadurgarh/BGZ added by Subhash/746156

Jul 18 2016 (7:49AM)
Station Tag: Gohana/GHNA added by Subhash/746156

Jul 18 2016 (7:49AM)
Station Tag: Rohtak Junction/ROK added by Subhash/746156
Posted by: Subhash  1044 news posts
 
 
रोहतक-गोहाना मार्ग पर ट्रेनें लेट होने का असर अब यात्रियों पर नहीं पड़ेगा। उन्हें जाम के झाम से बचाने के लिए उड़ता जंक्शन बनाया जाएगा। इससे इस लाइन की रेलवे फाटकों पर फंस जाने वाले सड़क यात्रियों का वक्त भी बचेगा। उत्तर रेलवे की इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर करीब 315 करोड़ रुपये लागत आएगी। परियोजना के लिए शीघ्र ही कार्य शुरू होने की संभावना है। इस तरह का ग्रेड सेपरेटर दया बस्ती में भी बनाया जाएगा। जिससे बहादुरगढ़ के भी हजारों यात्रियों को लाभ होगा।
क्या है उड़ता जंक्शन
रेलगाड़ियों के आवागमन
...
more...
में देरी से बचने के लिए उत्तर रेलवे अब ग्रेड सेपरेटर जैसा विशेष प्रोजेक्ट लेकर आया है। इस परियोजना को उड़ता जंक्शन के नाम से भी पुकारा जाता है। एक रेलवे अधिकारी के मुताबिक, ग्रेड सेपरेटर वहां बनाया जाता है जहां दो अलग-अलग मार्गों के ट्रैक एक दूसरे को क्रास करते हों। रोहतक व दया बस्ती में ऐसी ही स्थिति है। इस हालत में यहां गाड़ियां 20 से 45 मिनट तक लेट हो जाती हैं। जिससे रेल यात्रियों और फाटकों पर फंसे वाहनों में सवार यात्रियों को बड़ी दिक्कत होती है।
रेलवे बाईपास का होगा विकल्प
ग्रेड सेपरेटर रोहतक में गोहाना रेल मार्ग बाईपास का विकल्प होगा। दरअसल, गोहाना लाइन रोहतक शहर के बीचोबीच गुजरती है। जिससे नगर वासियों को काफी परेशानी होती है। कई बार हादसों में लोगों की जान भी चली जाती है। इसलिए राज्य सरकार ने बाईपास बनवाने का मन बनाया था। इस योजना पर काम शुरू भी किया गया, लेकिन कई गांवों के किसानों ने रेलवे बाईपास के लिए जमीन देने से इंकार कर दिया। इससे बाईपास की संभावना खत्म हो गई। बताया गया है कि अब राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और रेलमंत्री सुरेश प्रभु के बीच हुई बातचीत के बाद रेलवे ने बाईपास के बजाय रेलवे सेपरेटर बनाने की योजना बनाई है।
वर्ष 2018 तक बनाने का है लक्ष्य
अधिकारी ने बताया कि ग्रेड सेपरेटर के जरिए एक रेलवे लाइन को उपर गामी पुल (फ्लाईओवर) की तरह ऊपर से निकाल दिया जाता है। जिससे दोनों रूटों की गाड़ियां एक-दूसरे के मार्ग में बाधा नहीं बन पाती और रेल यात्रियों, सड़क यात्रियों व रेल कर्मचारियों समेत सभी का समय बच जाता है। रोहतक-गोहाना रेल लाइन ग्रेड सेपरेटर का निर्माण वर्ष-2018 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके निर्माण पर 315 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसकी चौड़ाई लगभग 12 मीटर रहेगी। इसके निर्माण से कई रेलवे क्रासिंग खत्म हो जाएंगी।
लंदन में बना सबसे पहला ग्रेड सेपरेटर
रेल लाइन ग्रेड सेपरेटर से होने वाले फायदों के लिए इंग्लैंड में अनेक ग्रेड सेपरेटर बनाए गए हैं। सबसे पहला ग्रेड सेपरेटर साल 1897 में लंदन में बनाया गया था। इसको रेल विभाग लंदन ने फ्लाई जंक्शन (उड़ता जंक्शन) नाम दिया। इससे रेल विभाग और यात्रियों को बहुत सुविधा हुई। जिससे वहां जगह-जगह ग्रेड सेपरेटर बनाए गए। लंदन के अतिरिक्त कई दूसरे देशों में भी इस आइडिया का जमकर लाभ उठाया जा रहा है।
कंस्ट्रक्शन डिविजन बनाएगा
गोहाना लाइन पर ग्रेड सेपरेटर बनाना रोहतक के लिए एक बहुत बड़ा और अच्छा प्रोजेक्ट है। यह हरियाणा सरकार के प्रयासों से बनेगा। इसका निर्माण कार्य रेलवे का कंस्ट्रक्शन डिविजन करेगा। इससे रेल विभाग व रेल यात्रियों सहित सभी को सुविधा होगी।
सुभाष सैनी, एईएन, उत्तर रेलवे
Jul 16 2016 (17:04)  जींद-सोनीपत ट्रेन के शुरू होने के 15 दिन बाद भी ग्रामीण रेलवे स्टेशनों व हाल्टों पर टिकटों की बिक्री नहीं, यात्री बगैर टिकट के यात्रा करने के लिए बाध्य (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNR/Northern  -  

News Entry# 273893   Blog Entry# 1931831     
   Past Edits
Jul 16 2016 (5:04PM)
Station Tag: Pandu Pindara/PPDE added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Jul 16 2016 (5:04PM)
Station Tag: Gohana/GHNA added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Jul 16 2016 (5:04PM)
Station Tag: Sonipat/SNP added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Jul 16 2016 (5:04PM)
Station Tag: Jind Junction/JIND added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Jul 16 2016 (5:04PM)
Train Tag: Jind - Sonipat DEMU/74020 added by Vaibhav Agarwal*^/432532

Jul 16 2016 (5:04PM)
Train Tag: Sonipat - Jind DEMU/74019 added by Vaibhav Agarwal*^/432532
 
 
करीब एक दशक के इंतजार के बाद शुरू हुई जींद-सोनीपत रेलवे लाइन पर अव्यवस्थाओं की ट्रेन दौड़ रही है। ट्रेन के शुरू होने के 15 दिन बाद भी ग्रामीण रेलवे स्टेशनों व हाल्टों पर टिकटों की बिक्री नहीं हो सकी है। टिकटों की बिक्री शुरू नहीं होने से यात्री बगैर टिकट के यात्रा करने के लिए बाध्य हैं।
बता दें जींद-सोनीपत रेलवे लाइन पर 26 जून से रेल सेवा शुरू हुई थी। शुभारंभ अवसर पर सोनीपत से जींद ट्रेन में बैठकर पहुंचे सांसद रमेश कौशिक ने जल्द ही सभी व्यवस्थाएं दुरस्त करने का दावा किया था। 15 दिन से जींद-सोनीपत के बीच ट्रेन चल रही है, लेकिन रेलवे द्वारा अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों के रेलवे स्टेशन व हाल्टों पर टिकट की व्यवस्था
...
more...
नहीं की है। अगर किसी को ट्रेन की टिकट चाहिए, तो उसे शहर के जींद जंक्शन, शहर स्टेशन या फिर पिंडारा जंक्शन आना होगा।
पिंडारा जंक्शन के बाद गोहाना स्टेशन से पहले टिकट की कोई व्यवस्था नहीं है। पिंडारा जंक्शन के बाद ललित खेड़ा हाल्ट, भंभेवा रेलवे स्टेशन, ईशापुर खेड़ी हाल्ट, बुटाना हाल्ट, खंदराई, रभडा, लाठ, मोहाना व बड़वासनी में अभी तक टिकट सेवा शुरू नहीं हो पाई है। इन हाल्ट व स्टेशनों से यात्रा करने वाले यात्रियों को बगैर टिकट के ही यात्रा करनी पड़ रही है, इससे रेलवे को भी काफी घाटा हो रहा है। वहीं बात की जाए, जींद जंक्शन, शहर स्टेशन व पिंडारा जंक्शन की, तो यहां भी जींद-सोनीपत रूट के लिए टिकटों के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं की गई है। दूरी के हिसाब से वैकल्पिक तौर पर ही टिकटों की व्यवस्था की गई है।
हाल्ट पर टिकटों के लिए छुटता है ठेका
रेलवे लाइन पर हाल्टों पर रेलवे द्वारा टिकट वितरण के लिए ठेका दिया जाता है। यहां रेलवे खुद टिकटें नहीं देता है। ठेका छुटने के बाद ठेकेदार द्वारा टिकटों का वितरण किया जाता है। वहीं स्टेशनों पर स्टेशन मास्टर बैठता है। रेलवे द्वारा ट्रेन शुरू करने से पहले ही टिकटों के वितरण व अन्य सभी प्रकार की व्यवस्थाएं निर्धारित की जाती हैं, लेकिन जींद-सोनीपत रेलवे लाइन पर ट्रेन शुरू होने के 15 दिन बाद भी टिकटों की व्यवस्था नहीं हो सकी है।
निर्धारित समय से देरी से पहुंच रही ट्रेन
सोनीपत के लिए जींद से सुबह 10.30 बजे चलकर दोपहर 12.50 बजे सोनीपत पहुंचने का समय निश्चित किया गया है। वहीं वापसी में सोनीपत 20 मिनट के ठहराव के बाद 13.10 बजे सोनीपत से चलकर ट्रेन को 15 बजकर 20 मिनट पर जींद पहुंचना होता है, लेकिन ट्रेन अपने निर्धारित समय से ज्यादातर देरी से ही चलती है।
पिंडारा के बाद गोहाना स्टेशन पर ही मिलती है टिकट
पिंडारा जंक्शन के बाद सीधे गोहाना स्टेशन पर ही टिकट मिलती है। बीच के रेलवे स्टेशन व हाल्ट पर टिकट नहीं मिलने के कारण काफी परेशानी हो रही है। बगैर टिकट के यात्रा करते पाए जाने पर रेलवे द्वारा जुर्माना वसूल किया जाएगा।
कुलदीप, यात्री
अव्यवस्थाएं पड़ रही हैं भारी
काफी सालों के इंतजार के बाद जींद-सोनीपत के बीच टे्रन शुरू हुई, लेकिन अब अव्यवस्थाएं भारी पड़ रही हैं। असमंजस की स्थिति रहती है कि बगैर टिकट के ट्रेन में बैठें या नहीं। रेलवे को जल्द ही टिकटों की व्यवस्था करनी चाहिए।
नरेश कुमार, यात्री
जल्द होगी टिकटों की व्यवस्था
ग्रामीण क्षेत्रों में जल्द ही टिकटों की व्यवस्था करवाई जाएगी। हॉल्टों पर टिकट वितरण का काम ठेके पर दिया जाता है। वहीं स्टेशनों पर रेलवे स्वयं टिकटों की व्यवस्था करता है।
नीरज शर्मा, सीपीआरओ, उत्तर रेलवे।

1 posts - Sat Jul 16, 2016 - are hidden. Click to open.

5782 views
Jul 17 2016 (01:20)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 1931831-2            Tags   Past Edits
IRlys itself habituating the villagers to travel Without Ticket!

5522 views
Jul 17 2016 (17:42)
KaithalKarnalMeerutRailwayProject~   1322 blog posts
Re# 1931831-3            Tags   Past Edits
Bro let me tell you these stations don't even added to Indian Railways Database.
Sonipat Gohana and Pandu Pindara are still not tagged as Junctions.
Jul 11 2016 (00:53)  सोनीपत से जींद डीएमयू की स्टेशन पर कहीं जानकारी नहीं, यात्री परेशान (www.bhaskar.com)
back to top
NR/Northern  -  

News Entry# 273355     
   Past Edits
Jul 11 2016 (12:53AM)
Station Tag: Gohana/GHNA added by Subhash/746156

Jul 11 2016 (12:53AM)
Station Tag: Jind Junction/JIND added by Subhash/746156

Jul 11 2016 (12:53AM)
Station Tag: Sonipat/SNP added by Subhash/746156
Posted by: Subhash  1044 news posts
 
 
सोनीपत-गोहाना-जींदरेलवे ट्रैक पर ट्रेन दौड़ते हुए एक पखवाड़े का समय बीत गया है, लेकिन अभी तक ट्रेन की समय सारिणी स्टेशन पर नहीं लगाई जा सकी है। जिस कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
सबसे हैरानी की बात तो यह है कि यात्रियों को जिस तरह से पहले दिन हस्त लिखित टिकट बेचा जा रहा था, उसी तरह से टिकट अब भी बेचा जा रहा है। यानि की कंप्यूटर में अभी तक स्टेशन का कोड और गाड़ी क्रमांक आदि फीड नहीं हुई है। जिससे इस ट्रेन के संचालन पर रेलवे की मंशा पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। नौ साल के लंबे इंतजार के बाद सोनीपत-गोहाना-जींद तक आखिरकार ट्रेन दौड़ी तो जिले वासियों की खुशी का
...
more...
ठिकाना नहीं रहा। इसे देखने के लिए हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। लांचिंग के लिए रेलवे ने रेल भी काफी आकर्षक भेजी थी। जो मात्र एक ही दिन ट्रैक पर आई दूसरे दिन से आठ डिब्बों की डीएमयू भेज दी गई। लेकिन आज तक समय सारिणी को लेकर रेलवे द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है। जिससे यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। क्योंकि जिस तरह से ट्रैक पर ट्रेन नई है, उसी तरह से पैसेंजर भी नए है। जिन्हें टाइम टेबल की जानकारी नहीं मिल पा रही है। स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि स्थानीय स्तर पर कुछ कर पाना संभव नहीं है। उच्च अधिकारियों द्वारा केवल आश्वासन से काम चलाया जा रहा है।
Page#    Showing 1 to 18 of 18 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.