Full Site Search  
Fri Jul 21, 2017 16:13:19 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;
Scenic; Platform Pic; Large Station Board; FOB/Stairs;

CNB/Kanpur Central (10 PFs)
کانپور سینٹرل     कानपुर सेंट्रल

Track: Quadruple Electric-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 10
Number of Halting Trains: 322
Number of Originating Trains: 43
Number of Terminating Trains: 43
Ghantaghar/Cantt. , KANPUR-208 001
State: Uttar Pradesh
Elevation: 129 m above sea level
Zone: NCR/North Central
Division: Allahabad
37 Travel Tips
No Recent News for CNB/Kanpur Central
Nearby Stations in the News

Rating: 3.4/5 (372 votes)
cleanliness - average (51)
porters/escalators - good (46)
food - average (46)
transportation - good (47)
lodging - good (44)
railfanning - good (47)
sightseeing - good (44)
safety - good (47)

Nearby Stations

COP/Kanpur MG 1 km     CPA/Kanpur Anwarganj 2 km     CPNL/Kanpur C Panel 4 km     CPB/Kanpur Bridge Left Bank 4 km     CNBI/Chandari 4 km     GOY/Govindpuri Junction 4 km     RPO/Rawatpur 7 km     MGW/Magarwara 11 km     CHK/Chakeri 11 km     PNK/Panki 12 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 1061 News Items  next>>
Yesterday (04:26)  सितंबर से मेट्रो रेल के पिलर का होगा निर्माण (epaper.jagran.com)
back to top
Other NewsNCR/North Central  -  

News Entry# 308922   Blog Entry# 2357552     
   Tags   Past Edits
Jul 20 2017 (04:26)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by बिंदिया लगाती तो कांपती थी पलकें माएरी😊^~/1421836

Posted by: बिंदिया लगाती तो कांपती थी पलकें माएरी😊^~  1221 news posts
शहर में मेट्रो प्रोजेक्ट के संचालन की तैयारियों ने पकड़ा जोर 1
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, कानपुर : शहर में मेट्रो प्रोजेक्ट के संचालन के लिए स्पेशल परपज व्हीकल (एसपीवी) का गठन अगले माह अगस्त में हो जाएगा। साथ ही मेट्रो रेल कारपोरेशन का कंपनी एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन होगा। सितंबर में आइआइटी से मोतीझील तक ट्रैक बिछाने को पिलर का निर्माण शुरू हो जाएगा। पहले डिवाइडर बनेंगे ताकि पिलर बनाते समय कोई हादसा न हो।1एसपीवी के गठन के लिए मंडलायुक्त, डीएम, नगर आयुक्त आदि अफसरों को नामित करने की
...
more...
प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन (एलएमआरसी) प्रबंधन इस दिशा में काम कर रहा है। शासन ने मेट्रो का बजट स्वीकृत कर दिया है। कंपनी का रजिस्टेशन होने के बाद 57 करोड़ रुपये मिल जाएंगे। पहले आइआइटी से मोतीझील तक ट्रैक का निर्माण होना है इसलिए सितंबर माह में पीडब्ल्यूडी तीन मीटर चौड़ा डिवाइडर बनाएगा ताकि बीच में खोदाई करके छह फीट चौड़े पिलर के लिए गड्ढे खोदे जा सकें। एक किमी. तक डिवाइडर बन जाएगा तब पिलर बनाने का काम शुरू होगा।1अभी तय होना है चेयरमैन : कानपुर मेट्रो रेल कारपोरेशन के निदेशक, प्रबंध निदेशक, चेयरमैन, सह चेयरमैन की तैनाती कंपनी गठन के बाद होगी। केंद्र सरकार से वित्तीय मदद स्वीकृत होने के बाद ही तय होगा कि कारपोरेशन का चेयरमैन कौन होगा। 17 हजार करोड़ रुपये के मेट्रो प्रोजेक्ट में एसपीवी का कैपिटल शेयर दो हजार करोड़ रुपये होगा। प्रोजेक्ट में केंद्र और राज्य सरकार का 50-50 फीसद का स्वामित्व होगा। एसपीवी का पेडअप कैपिटल पांच लाख रुपये होगा। एसपीवी के प्रथम निदेशक आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के अपर मुख्य सचिव, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव और कानपुर के मंडलायुक्त होंगे। अगर केंद्र सरकार 50 फीसद वित्तीय सहयोग देगी तो एसपीवी के चेयरमैन शहरी विकास मंत्रलय के सचिव होंगे। सह अध्यक्ष का पद यूपी के मुख्य सचिव के पास होगा। केंद्र की वित्तीय भागीदारी अगर 50 फीसद से कम होगी तो फिर मुख्य सचिव ही अध्यक्ष होंगे। केंद्र सरकार की हिस्सेदारी 50 फीसद होगी तो शहरी विकास मंत्रलय अधिकतम पांच निदेशक नामित कर सकेगा। राज्य सरकार की हिस्सेदारी 50 फीसद होगी तो फिर राज्य सरकार पांच निदेशक के साथ ही पांच अतिरिक्त निदेशक भी नामित कर सकेगी।1’>>अगस्त में गठित होगी एसपीवी और होगा कंपनी का रजिस्ट्रेशन 1’>>कानपुर मेट्रो रेल कारपोरेशन के नाम से बनाई जा रही कंपनी 1’>>आइआइटी से मोतीझील तक पिलर बनाने का शुरू होगा काममेट्रो प्रोजेक्ट के संचालन के लिए जल्द ही एसपीवी का गठन किया जाएगा। साथ ही निर्माण शुरू कराया जाएगा।1के विजयेंद्र पांडियन, केडीए उपाध्यक्षआइआइटी से हर्ष नगर तक और बारादेवी से नौबस्ता तक एलीवेटेड। चुन्नीगंज से ट्रांसपोर्ट नगरतक भूमिगत। 1सीएसए विश्वविद्यालय से डबल पुलिया तक भूमिगत। विजय नगर से बर्रा आठ तक एलीवेटेड।12रूटों की संरचना 1

506 views
Yesterday (09:54)
Prakhar*^~   4231 blog posts   412 correct pred (82% accurate)
Re# 2357552-1            Tags   Past Edits
Jul 19 2017 (20:34)  उन्नाव-गंगाघाट ट्रैक का हुआ सेफ्टी ऑडिट (epaper.navbharattimes.com)
back to top
IR AffairsNR/Northern  -  

News Entry# 308891     
   Tags   Past Edits
Jul 19 2017 (20:34)
Station Tag: Unnao Junction/ON added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jul 19 2017 (20:34)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jul 19 2017 (20:34)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  6100 news posts
NBT
टीम ने कई जगहों पर ट्रॉली रुकवाकर रेलवे ट्रैक का जायजा लिया।
कर्मचारियों से भी कई जगहों पर सवाल जवाब किए। 19 जुलाई को टीम अजगैन से उन्नाव के बीच निरीक्षण करेगी।
गर्मी से बेहोश हो गया ट्रॉलीमैन : सेफ्टी ऑडिट के लिए अफसरों की ट्रॉली खींच रहे ट्रॉलीमैन गौतम यादव को गर्मी से चक्कर आ गया। वह पहली बार उन्नाव में और
...
more...
दूसरी बार गंगापुल पर बेहोश हो गया। ट्रालीमैन के बेहोश होने से उससे दूसरे साथी भी सकते में आ गए। हालांकि, अधिकारियों ने उसे तुरंत अस्पताल भेजकर इलाज करने के प्रबंध करवाए।
जगह-जगह परखी रेलवे लाइन और पुलों की मजबूती• एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ : पूर्वोत्तर रेलवे के चीफ सेफ्टी ऑफिसर एनके अम्बिकेश की टीम ने मंगलवार को उन्नाव-गंगाघाट रेलखंड का सेफ्टी ऑडिट किया। टीम ने इस रेलखंड पर कई जगहों पर ट्रॉली रुकवाकर पटरियों और पुलों की मजबूती भी परखी। टीम ने कई स्टेशनों के केबिन से ट्रेन संचालन में बरती जाने वाली सावधानियों को भी परखा।
कानपुर रेलखंड पर बढ़ती दुर्घटनाओं के बाद रेलवे बोर्ड ने इसके सेफ्टी ऑडिट की जिम्मेदारी एनईआर के सीएसओ को सौंपी थी। सीएसओ ने मंगलवार को एडीआरएम एसके सपरा ने सीनियर डीओएमजी वाईपी त्रिपाठी और सीनियर डीएसओ एके यादव सहित अन्य अफसरों के साथ ऑडिट शुरू किया। पहले दिन उन्होंने उन्नाव से गंगाघाट तक निरीक्षण किया। चीफ सेफ्टी ऑफिसर ने अफसरों से इस रेलखंड पर हुईं दुर्घटनाओं की भी जानकारी ली। उन्होंने पटरियों, पॉइंट और स्टेशन संचालन की जानकारी ली। सेफ्टी आडिट टीम ने
Jul 19 2017 (09:12)  टेंडर पर अटक गया डबल ट्रैक का काम (www.amarujala.com)
back to top
Other News

News Entry# 308851   Blog Entry# 2357247     
   Tags   Past Edits
Jul 19 2017 (09:12)
Station Tag: Bhimsen Junction/BZM added by The Phenomenal One~/1469143

Jul 19 2017 (09:12)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by The Phenomenal One~/1469143

Jul 19 2017 (09:12)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by The Phenomenal One~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  830 news posts
झांसी।
रेल विकास निगत लिमिटेड झांसी- कानपुर डबल ट्रैक पर एक कंपनी का ठेका निरस्त होने के तीन महीने बाद भी नए सिरे से टेंडर के लिए प्रक्रिया शुरू नहीं कर सकी है। इससे काम की गति धीमी पड़ती जा रही है। काम अब दो से ढाई साल और विलंब से पूरा होने की संभावना है। अभी यह काम जून 2018 तक पूरा करने का लक्ष्य था। इसके अलावा शहर के और भी कई विकास कार्य ठप हैं। कहीं बजट आड़े आ रहा है तो कहीं बालू उपलब्ध नहीं है।
रेल
...
more...
बजट 2013-14 में झांसी-कानपुर डबल ट्रैैक के लिए 817 करोड़ रुपये स्वीकृत हुई हैं। इसमें झांसी-भीमसेन के बीच 206 किलोमीटर तक काम होना है। इसकी जिम्मेदारी रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) को सौंपी गई है। इसने यह काम तीन कंपनियों को सौंपा है। झांसी से एरच रोड स्टेशन (66 किलोमीटर) तक 265 करोड़ का काम मुंबई की कंपनी जीएमआर, एरच रोड से ऊसरगांव (70 किलोमीटर) तक 288 करोड़ का काम बंगलूरू की कंपनी केईसी को और ऊसरगांव से भीमसेन (69 किलोमीटर) तक का 264 करोड़ का काम हैदराबाद की कंपनी एसईडब्लू को सौंपा गया है। डबल ट्रैक को पूरा करने का लक्ष्य जून-2018 तय किया गया है। मुंबई और बंगलूरू की कंपनियां अपने हिस्से का 70 फीसदी काम पूरा कर चुकी हैं। जबकि, हैदराबाद की कंपनी काम बेहद धीमा चल रहा था। यह कंपनी तीन साल में 70 में 20 किलोमीटर भी पटरी बिछाने का काम पूरा नहीं कर सकी है। इस कारण रेल विकास निगम लिमिटेड ने अप्रैल में हैदराबाद की कंपनी का टेंडर निरस्त कर दिया गया था। मगर, तीन माह बाद भी नए टेंडर की प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी है। इससे काम पिछड़ता जा रहा है।
‘भीमसेन और ऊसरगांव स्टेशन के बीच डबल ट्रैक का काम तय समय पर पूरा हो सके, इसके लिए जल्द ही नया टेंडर निकाला जाएगा।
मनोज कुमार सिंह, जनसंपर्क अधिकारी रेलवे।
पारीछा तक भी लाइन क्लीयर नहीं
उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक मूलचंद्र चौहान ने झांसी-कानपुर डबल ट्रैक का 21 किलोमीटर हिस्सा (झांसी से पारीछा तक ट्रैक) जून महीने में चालू होने की बात कही थी, लेकिन अभी तक संचालन शुरू नहीं हो सका है। अभी इसमें दो- तीन महीने और लग सकते हैं। मालूम हो कि, झांसी होकर हर रोज पारीछा थर्मल पावर हाउस कोयले से भरी मालगाड़ियां जाती हैं। अभी सिंगल लाइन होने के कारण मालगाड़ियों को निकालते समय अन्य ट्रेनों को रास्ते के स्टेशनों पर खड़ा करना पड़ता है। पारीछा तक डबल ट्रैक शुरू होने पर अन्य ट्रेनों का संचालन तेज हो जाएगा।

1 posts - Wed Jul 19, 2017 - are hidden. Click to open.

279 views
Yesterday (00:41)
आगरा कानपुर झांसी golden triangle of NCR   47 blog posts   17 correct pred (66% accurate)
Re# 2357247-2            Tags   Past Edits
as expected!! ab ye doubling latka ke rakhenge 2020 tak.😣😣
Jul 19 2017 (06:22)  जांच की आंच ठंडी, खुले में बिक रहा खाना (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestNCR/North Central  -  

News Entry# 308818     
   Tags   Past Edits
Jul 19 2017 (06:22)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by बिंदिया लगाती तो कांपती थी पलकें माएरी😊^~/1421836

Posted by: बिंदिया लगाती तो कांपती थी पलकें माएरी😊^~  1221 news posts
सेंट्रल के प्लेटफार्म पर बिकने वाले खाद्य पदार्थो पर भिनभिनाती हैं मक्खियां
अनदेखी
Click here to enlarge image
जागरण संवाददाता, कानपुर : अपराह्न् तीन बजे थे, प्लेटफार्म 4 पर एलटीटी लखनऊ एक्सप्रेस रुकी। लंबे सफर में भूखे यात्री सामने लगे स्टाल पर खाना खरीदने लगे। दुकानदार हाथ से खाने पर बैठी मक्खियां भगा सामान देता रहा। यह नजारा एक दिन का नहीं बल्कि रोज
...
more...
का है। भूख मिटाने को यात्री बीमारी खरीदने को मजबूर हैं। 1सेंट्रल स्टेशन पर यात्रियों की सेहत से खिलवाड़ हो रहा है। प्लेटफार्म पर एक तरफ मक्खियां भिनभिनाती रहती हैं वहीं खुले में भोजन बेचा जाता है। अधिकारियों की जांच के बाद कुछ दिन तक व्यवस्था ठीक रहती है, उसके बाद वेंडरों की फिर वही टेढ़ी चाल हो जाती है। यात्रियों को भोजन नहीं बल्कि बीमारी बेची जा रही है। ट्रेनों के आने-जाने के दौरान ट्रैक पर गंदगी हो जाती है, वहां की मक्खियां वेंडरों द्वारा खुले में रखी खाद्य सामग्री पर बैठती हैं और वही सामान यात्रियों को बेचा जाता है। यात्री मजबूरी में सामान खरीदते हैं। 1 रेलवे के यह हैं मानक : रेलवे के मानकों के मुताबिक भोजन बेचने वाले वेंडर को वर्दी में होना चाहिए। उसकी नेमप्लेट वर्दी पर रहनी चाहिए। खाना बनाने वाले और परोसने वाले का रेलवे अस्पताल से मेडिकल होना अनिवार्य है। पका हुआ भोजन खुले में नहीं रखना चाहिए। स्टाल और ठेला वालों का लाइसेंस और शिफ्टवार ड्यूटी अनिवार्य की गई है। रेट लिस्ट ऐसी जगह हो, जहां यात्री आसानी से उसे देख सकें पर ये सब नियम कागजों में ही कैद दिखाई देते हैं।सेंट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर खुले में सामान रख यात्रियों को बेचते वेंडर ’ जागरणवेंडरों को खाद्य सामग्री ढक कर रखनी होगी। अगर खुले में रख कर बेचते हैं तो कार्रवाई होगी। समय समय पर जांच की जाती है।1डॉ. जितेन्द्र कुमार, स्टेशन डायरेक्टर
Jul 15 2017 (21:32)  उत्तर रेलवे का लखनऊ कानपुर सेक्शन का सेफ्टी आडिट 18 से (www.livehindustan.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNR/Northern  -  

News Entry# 308544     
   Tags   Past Edits
Jul 15 2017 (21:33)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Jul 15 2017 (21:33)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  6100 news posts
उत्तर रेलवे का सेफ्टी आडिट 18 जुलाई से होगा। इसमें रेलवे बोर्ड की टीम हाल ही में हुए हादसों और सुरक्षा को लेकर क्या क्या सावधानियां बरती गई। इसकी जांच करेगी। वहीं, अभी हाल ही उन्नाव में एलटीटी लखनऊ एक्सप्रेस हादसे की जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। उत्तर रेलवे के लखनऊ-कानपुर सेक्शन का सेफ्टी आडिट 18 व 19 जुलाई को होगा। इसमें रेलवे बोर्ड की टीम ट्रेन सुरक्षा पर अधिकारियों से बात करेगी। साथ ही हाल ही में हुई घटनाओं की जांच व उसमें निकली खामियों पर भी अधिकारियों से सवाल कर सकती है। मसलन अभी हाल में उन्नाव रेलवे स्टेशन पर एलटीटी लखनऊ एक्सप्रेस की कई बोगियां पटरी से उतर गई थी। रेलवे ने मामले की जांच के आदेश दिए थे। हादसा क्यों हुआ इसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं है। इसके अलावा लखनऊ मेल व गोरखपुर यशवंतपुर एक्सप्रेस के कप्लर अचानक खुल गए थे। इसमें लोको पायलट की...
more...
सतर्कता की वजह से हादसा होने से बच गया था। चलती ट्रेन के कप्लर खुलने की क्या वजह थी और उसमें रेलवे अधिकारियों ने क्या कार्रवाई की। इस पर अधिकारी चर्चा कर सकते हैं।
Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें और ट्विटर पर फॉलो करें
Web Title:railway safety
Railway Safety
Page#    Showing 1 to 20 of 1061 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.