Full Site Search  
Fri Jan 19, 2018 23:15:30 IST
IRI is in Maintenance Mode. Blog Postings and other site edits will not work for about 5 minutes.
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Night Pic; Platform Pic; Large Station Board;
Medium; Platform Pic; FOB/Stairs;


NDLS/New Delhi (16 PFs)
ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ / نئی دہلی     नई दिल्ली

Track: Quadruple Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 16
Number of Halting Trains: 100
Number of Originating Trains: 86
Number of Terminating Trains: 85
PF-1; Paharganj, New Delhi 110055. PF-16; Nr New Delhi Metro Station, Ajmeri Gate 110002
State: Delhi NCT
add/change address
Elevation: 216 m above sea level
Zone: NR/Northern
Division: Delhi
 
 
46 Travel Tips
NDLS/New Delhi is in Recent News
Nearby Stations in the News

Rating: 4.2/5 (1155 votes)
cleanliness - good (149)
porters/escalators - good (144)
food - good (145)
transportation - excellent (148)
lodging - good (143)
railfanning - excellent (144)
sightseeing - excellent (140)
safety - good (142)

Nearby Stations

CSB/Shivaji Bridge 1 km     DSB/Sadar Bazar 2 km     DLI/Old Delhi Junction 2 km     TKJ/Tilak Bridge 2 km     SZM/Sabzi Mandi 4 km     PGMD/Pragati Maidan 4 km     DKZ/Delhi Kishan Ganj 4 km     DEE/Delhi Sarai Rohilla 5 km     VVKP/Vivekanand Puri Halt 6 km     DBSI/Dayabasti 7 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 2508 News Items  next>>
Today (17:52)  बजट 2018: रेलवे स्‍टेशनों पर सुरक्षा और यात्री सुविधाओं पर फोकस करेगी सरकार (www.punjabkesari.in)
back to top
Rail BudgetNR/Northern  -  

News Entry# 327391     
   Past Edits
Jan 19 2018 (17:52)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045
 
 
नई दिल्‍लीः 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट को लेकर सभी को उम्मीदें है। रेल यात्रियों की सुविधाओं पर इस बजट में खासा ध्‍यान दिया जा सकता है। आने वालोे बजट में रेलवे को लेकर काफी अपेक्षाए करी जी रही है जिसके तहत ये तबदीली होने के आसान लग रहे है।
- उम्‍मीद है कि इस बजट-2018 में 3400 करोड़ रुपए से देशभर के प्रमुख स्‍टेशनों पर एस्कलेटर और लिफ्ट की सुविधा उपलब्‍ध कराई जाए। इसके तहत करीब 3000 एक्‍सलेटर और 1000 लिफ्ट लगाई जाएंगी।
- इसके बाद दिव्‍यांग लोगों
...
more...
सहित अन्‍य यात्रियों को स्‍टेशन पर आने जाने में किसी भी कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा।
- मुंबई के स्‍टेशनों पर 372 एस्‍कलेटर लगाए जा चुके हैं। इसके अलावा 2589 और एस्‍कलेटर लगाने की याेजना है जिससे ज्‍यादातर महत्‍वपूर्ण स्‍टेशन कवर हो जाएंगे।
-रेलवे ने स्‍कलेटर लगाने के लिए फार्म्‍यूलेे में बदलाव किया है। बदले मानकों से ज्‍यादा शहरी और सेमी शहरी स्‍टेशनों पर एस्‍कलेटर लगाए जा सकेंगे। रेलवे स्‍टेशनों की आय और यात्रियों की संख्‍या के हिसाब से एस्‍कलेटर लगाने का फैसला करती है।
- इस बार रेल बजट 2018 में सुरक्षा और यात्री सुविधाओं पर फोकस रह सकता है। इसके तहत ही स्‍टेशनों पर एस्‍कलेटर और लिफ्ट सहित अन्‍य सुविधाओं के लिए आवंटन बढ़ाया जा सकता है। रेल बजट 2018 आम बजट 2018 के साथ ही 1 फरवरी को पेश होगा।
बिज़नेस की खबरें
विदेशी मुद्रा भंडार 413.83 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
सैट का प्राइस वॉटरहाउस को राहत से इनकार, SEBI की रोक बरकरार
खराब एयरबैग के चलते Honda ने भारत में वापस मंगवाई 22834 कारें
Pay-World ने छोटे कारोबारियों को दिया 10 करोड़ का कर्ज
बाजार का नया रिकार्ड, सैंसेक्स 35511 पर और निफ्टी 10,894 पर बंद
जेवराती मांग लुढ़कने से सोने की कीमतों में गिरावट, चांदी के दाम बढ़े
बजट 2018: रोजगार को बढ़ावा देने के लिए सरकार की बड़ी तैयारी
आंकड़े ऑनलाइन उपलब्ध होने से जनता रख सकती है नजरः जेटली
एसोचैम ने की मांग, बजट में शिक्षा क्षेत्र का रखा जाए खास ख्याल
Today (17:34)  Japan collabrates almost 70% in bullet train project (m.economictimes.com)
back to top
Other News

News Entry# 327388     
   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: unipawan  1 news posts
 
 
. The Economic Times
Railways
Blow to Make in India, Japanese companies grab all key contracts of Modi's bullet train
By Reuters | Updated: Jan 18, 2018, 10.22 AM IST
NEW DELHI/TOKYO:
...
more...
Japanese steel and engineering companies are in the driver's seat to bag major supply contracts for a $17 billion Indian bullet train, several sources said, undermining a key component of Prime Minister Narendra Modi's economic policy - a push to 'Make in India'.
Japan is funding most of the project, and Japanese companies are likely to supply at least 70 percent of the core components of the rail line, said five sources in New Delhi with direct knowledge of the matter.
A spokesman for Modi's office declined comment.
A Japanese transport ministry official involved in the project said the two countries were still working out a strategy for the supply of key components, and would unveil a plan for procurements around July. The official spoke on condition of anonymity.
The September 2017 agreement between Japan and India for the bullet train project included two clauses - the promotion of 'Make in India' and 'Transfer of Technology' - through which New Delhi had hoped to set up manufacturing facilities in the country, generate jobs and get a toehold in Japanese technology. Modi faces a general election in 2019 and is under pressure to provide more jobs to millions of unemployed in India. Critics also say the bullet train is wasteful and that the money could be better used elsewhere.
"The Japanese have reservations on certain issues because they have a concern that there is a difference in the culture and systems of Japan from the culture and systems in India," said Achal Khare, the managing director of National High Speed Rail Corp Ltd (NHSRCL), the agency tasked to execute the bullet train project.
"The work culture is very different," he told Reuters.
Khare did not elaborate but two Indian railways officials, who spoke on condition of anonymity, said their Japanese counterparts had raised questions about efficiency in Indian companies and their ability to meet timelines.
The World Bank currently ranks India 100th out of 190 nations on the ease of doing business, giving it relatively low marks for starting a business, enforcing contracts and dealing with construction permits.
Tomoyuki Nakano, director for international engineering affairs in the railway bureau at Japan's transport ministry, said the issue was that Indian companies had no experience or technologies specialising in high-speed railway systems at present.
"I don't think Japanese are concerned about a difference in the work culture," Nakano said. He and other Japanese officials said efforts were continuing to fulfil the 'Make in India' component of the agreement by promoting collaborations between companies from the two countries.
Still, several Indian officials said it was by and large accepted that Indian companies would not have a major part to play in the bullet train project.
Japan will get major leeway because the bullet train is largely funded by a 50-year loan provided by its government, said a close aide of Modi, who spoke on condition of anonymity.
"At this stage to expect Indian companies to have a bigger share in manufacturing appears to be a little difficult," said a senior official at the Indian government's policy think-tank, NITI Aayog, who is involved in the negotiations.
Modi's flagship 'Make in India' initiative aims to lift the share of manufacturing in India's $2 trillion economy to 25 percent and create 100 million jobs by 2022.
However, midway through Modi's five-year term, manufacturing was still at 17 percent of India's GDP in the 2016/17 financial year from 15 percent previously.
ONLY ONE JOINT VENTURE
Japan's Prime Minister Shinzo Abe laid the foundation stone for India's first bullet train in September last year. It will link Mumbai with Ahmedabad, the largest commercial city in Modi's home state Gujarat.
Nippon Steel and Sumitomo Metal Corp, Japan's biggest steelmaker, and other companies like JFE Holdings Inc , Kawasaki Heavy Industries Ltd, Mitsubishi Heavy Industries Ltd, Toshiba Corp and Hitachi Ltd are likely to bid for various contracts, said three senior Indian government officials directly involved in the project.
Nippon Steel said it would not comment on specific projects.
JFE, Hitachi and Toshiba said they were interested in the project but had not finalised plans, including any possibilities of joint ventures with Indian firms.
Mitsubishi Heavy said it had not decided if it wanted to be involved.
The sole collaboration aimed at the bullet train project is between Kawasaki Heavy Industries and India's Bharat Heavy Electricals Ltd, which aims to win carriage orders.
Japanese government officials have asked for more bullet train corridors in India before transferring technology, three senior Indian officials said.
But New Delhi is unlikely to announce any new projects until the final cost and commercial feasibility of the Mumbai-Ahmedabad link is clear, the officials said.
"It's like a chicken and egg situation on technology. The Japanese want an economy of scale and business but the Indian view is that India is a big market that once this market is explored the business will automatically be generated," said Khare from NHSRCL.
MISSED OPPORTUNITY
New Delhi has tried to help Indian steel companies grab a slice of the pie.
The Indian government last year mediated negotiations between Nippon Steel and India's Jindal Steel and Power Ltd to set up a joint venture to manufacture rails, but the talks fell through after the Japanese major raised quality concerns, three sources in New Delhi said.
State-owned Steel Authority of India (SAIL), which for decades has been the main supplier of rails to Indian Railways, was also overlooked by Japanese companies due to quality concerns, the sources said.
Nippon Steel declined comment and while Jindal and SAIL did not reply to e-mails seeking comment.
Left with little choice, Indian firms will now largely provide raw materials like cement and supply manpower for the assembly of rails, the sources said.
India's UltraTech Cement Ltd, Larsen & Toubro Ltd , Bharat Heavy Electricals Ltd and Ambuja Cements Ltd are among those in the race for the supply of construction materials and power, the two Indian railways officials said.
These companies did not respond to Reuters' requests for comment.
READ MORE:
steel and engineering|Niti Aayog|make in India|Japan|India|Bullet train
PREVIOUS
Plan early to get discounts on train travel: Railway panel
NEXT
Railways may borrow record Rs 42,000 crore this year
Sections
HomeBudget 2018MarketsNewsIndustryRISEPoliticsWealthMFTechJobsOpinionBlogsNRIMagazinesSlideshowsET NOWPortfolio
View Full Site »
Terms of Use & Grievance Redressal PolicyPrivacy PolicyFeedback
Copyright © 2017 Bennett Coleman & Co. All rights reserved. Powered by Indiatimes.
Today (17:23)  मार्च के पहले सप्ताह दिल्ली के लिए शुरू हो जाएगी ‘हमसफर’ (www.amarujala.com)
back to top
Commentary/Human InterestNCR/North Central  -  

News Entry# 327387     
   Past Edits
Jan 19 2018 (17:23)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by Saurabh*^~/15807

Jan 19 2018 (17:23)
Station Tag: Kanpur Central/CNB added by Saurabh*^~/15807

Jan 19 2018 (17:23)
Station Tag: Allahabad Junction/ALD added by Saurabh*^~/15807

Jan 19 2018 (17:23)
Train Tag: Shram Shakti Express/12451 added by Saurabh*^~/15807

Jan 19 2018 (17:23)
Train Tag: Prayagraj Express/12417 added by Saurabh*^~/15807
 
 
इलाहाबाद से आनंद विहार (दिल्ली) के लिए अत्याधुनिक कोच वाली हमसफर एक्सप्रेस मार्च के पहले सप्ताह से शुरू हो जाएगी। इसके सभी कोच इलाहाबाद मंडल को फरवरी के दूसरे सप्ताह तक मिल जाएंगे। सप्ताह में तीन दिन इसका संचालन इलाहाबाद से होगा। दिल्ली पहुंचने में तकरीबन आठ घंटे का वक्त लेगी। रेलवे ने हमसफर का सिर्फ कानपुर में ही स्टॉपेज करने का निर्णय लिया है।
दिल्ली जाने वाले तमाम यात्री लंबे समय से मांग कर रहे थे कि दुरंतो एक्सप्रेस हर रोज चलाई जाए। क्योंकि दुरंतो का संचालन सप्ताह में तीन दिन होता है। यात्रियों की मांग को देखते हुए रेलवे ने दुरंतो को नियमित करने की बजाय दिल्ली के लिए एक दूसरी एसी ट्रेन हमसफर चलाने की घोषणा पिछले वर्ष ही
...
more...
की थी, लेकिन इसके संचालन की तिथि मुकर्रर नहीं की।
बृहस्पतिवार को डीआरएम इलाहाबाद एसके पंकज ने बताया कि हमसफर की शुरुआत मार्च के पहले सप्ताह में हो जाएगी। इसके सभी कोच अत्याधुनिक हैं। उन्होंने बताया कि इस ट्रेन में सभी कोच एसी थ्री श्रेणी के रहेंगे। बाद में इसमें एसी टू और एसी फर्स्ट का कोच लगाया जा सकता है। इलाहाबाद से इस ट्रेन का नंबर 22437 एवं आनंद विहार से 22438 रहेगा। इलाहाबाद से सोमवार, बुधवार और शनिवार की रात 10.20 बजे चलकर हमसफर कानपुर रुकते हुए अगले दिन सुबह 6.15 बजे आनंद विहार पहुंच जाएगी। दिल्ली से हमसफर एक्सप्रेस मंगलवार, बृहस्पतिवार एवं रविवार की रात 10.15 बजे चलकर सुबह 6.10 बजे इलाहाबाद पहुंचेगी।
कानपुर शताब्दी की तर्ज पर दिल्ली जाने वाली प्रयागराज एक्सप्रेस भी अपग्रेड होगी। रेलवे द्वारा इसकी तैयारी शुरू हो गई है। इलाहाबाद मंडल के डीआरएम एसके पंकज ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि अभी हाल ही में कानपुर शताब्दी को अपग्रेड किया गया है। इसमें 50 लाख रुपये का खर्च आया था। ठीक उसी तर्ज पर इलाहाबाद से नई दिल्ली जाने वाली प्रयागराज एक्सप्रेस और कानपुर-नई दिल्ली श्रमशक्ति एक्सप्रेस को भी अपग्रेड किया जाएगा। डीआरएम ने बताया कि यात्री सुविधा के मद्देनजर इन दोनों ट्रेनों में कई सुविधाएं अगले छह माह के भीतर उपलब्ध कराई जाएंगी।
प्रयागराज और श्रमशक्ति में मिलेगी अब ये सुविधा
0 हर कोच में रहेगा डिस्प्ले बोर्ड। बोर्ड में ट्रेन की गति, समय, तारीख, तापमान की मिलेगी जानकारी।
0 जीपीएस के माध्यम से यात्री जान सकेंगे कि ट्रेन किस जगह पहुंच चुकी है।
0 सफर के दौरान हर कोच में ऑटोमेटिक परफ्यूम मशीन लगाई जाएगी, जो कुछ समय के अंतराल पर करेगी स्प्रे।
0 प्रत्येक कोच में इलाहाबाद और एनसीआर से जुड़े पर्यटन स्थनों की लगाई जाएंगी तस्वीरें ताकि सुंदर दिखाई दे कोच।
0 चाय एवं कॉफी के लिए सभी कोच में लगाई जाएगी वेंडिंग मशीन।
Today (07:41)  फेज चार के मेट्रो कॉरिडोर का डिजाइन हो रहा तैयार (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestDMRC/Delhi Metro  -  

News Entry# 327346     
   Past Edits
Jan 19 2018 (07:41)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by CAR CPU Efication Deadline Dec 2018^~/1421836
Stations:  New Delhi/NDLS  
 
 
मेट्रो किराया वृद्धि को लेकर छात्रों का प्रदर्शन
सुरंग और स्टेशनों के डिजाइन के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू
Click here to enlarge image
राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली : मेट्रो विस्तार के फेज चार की परियोजनाओं पर दिल्ली सरकार व केंद्र के बीच गतिरोध दूर नहीं हुआ इसलिए परियोजनाओं को अब भी दिल्ली सरकार से मंजूरी नहीं मिल पाई है। दिल्ली सरकार की तरफ से
...
more...
की जा रही देरी के बीच डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल निगम) प्रस्तावित नए छह कॉरिडोर का डिजाइन तैयार करने में जुट गया है। नई मेट्रो लाइनों के सुरंग व स्टेशनों के डिजाइन तैयार करने के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 1उल्लेखनीय है कि फेज चार में दिल्ली में करीब 50 हजार करोड़ की लागत से छह नई मेट्रो लाइनों का निर्माण किया जाना है। उनकी कुल लंबाई करीब 104 किलोमीटर होगी। उन परियोजनाओं को सरकार से स्वीकृति मिलने में हो रही देरी पर डीएमआरसी के अधिकारी भी हैरान हैं। योजना के अनुसार फेज चार की परियोजनाओं को वर्ष 2016 में ही मंजूरी मिल जानी चाहिए थी। पूरी परियोजना को वर्ष 2021 में पूरा करने का लक्ष्य था। इसलिए वर्ष 2017 में परियोजनाओं पर काम शुरू हो जाना चाहिए था। इस लिहाज से फेज चार की परियोजनाओं पर काम शुरू होने से पहले ही दो साल का विलंब हो चुका है। वैसे दिल्ली सरकार ने पिछले साल जनवरी में परियोजनाओं को मंजूरी देकर फाइल केंद्रीय शहरी विकास मंत्रलय को भेजी थी, लेकिन टैक्स भुगतान को लेकर कुछ गतिरोध के कारण मंत्रलय ने फाइल दिल्ली सरकार को वापस भेज दी थी। उसके बाद से मामला ठंडे बस्ते में है। दिक्कत यह है कि दिल्ली सरकार से स्वीकृति मिलने के बाद फाइल दोबारा केंद्रीय शहरी विकास मंत्रलय में भेजी जाएगी। केंद्र सरकार की स्वीकृति के बाद ही निर्माणकार्य शुरू हो पाएगा।जासं, नई दिल्ली : दिल्ली मेट्रो में किराया बढ़ोतरी को लेकर एक बार फिर डीयू के छात्रों विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन पर प्रदर्शन किया है। इस प्रदर्शन में डीयू, जेएनयू, जामिया सहित अन्य कॉलेजों के छात्रों ने भी किराया बढ़ोतरी के खिलाफ अपनी मांग उठाई। छात्र दोपहर लगभग 1 बजे विश्वविद्यालय मेट्रो पर एकत्रित हुए और मेट्रो के गेट संख्या तीन की तरफ बढ़े। यहां सुरक्षा बलों ने उन्हें रोक लिया तो वे वहीं पर बैठ गए। छात्रों ने पूरी तरह से गेट तीन को जाम कर दिया। हालांकि मेट्रो के परिचालन पर कोई असर नहीं पड़ा। 1इस प्रदर्शन में धीरे-धीरे छात्रों की संख्या बढ़ती गई। छात्रों ने जैसे ही नारेबाजी के साथ उग्रता की पुलिस ने उनको हिरासत में ले लिया। आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन के अलावा कई अन्य संगठन इस प्रदर्शन में शामिल हुए। आइसा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुचेता डे ने कहा कि सरकार नहीं चाहती है कि आम लोग मेट्रो में यात्र करें।नए छह कॉरिडोर>>लंबाई1रिठाला-बवाना/नरेला>>21.731इंद्रलोक- इंद्रप्रस्थ>>12.581तुगलकाबाद-एरोसिटी>> 22.201लाजपत नगर-साकेत>>7.961जनकपुरी प.-आरके आश्रम>>28.92 1मुकंदपुर-मौजपुर>>12.541लंबाई किमी में
Yesterday (21:29)  कोहरे व ब्लॉक के कारण 8 ट्रेनें रद्द (punjab.punjabkesari.in)
back to top
Other NewsNR/Northern  -  

News Entry# 327323     
   Past Edits
Jan 18 2018 (21:29)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Station Tag: Amritsar Junction/ASR added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Amritsar - Howrah (Punjab) Mail/13006 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Saryu Yamuna Express/14650 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Firozpur Cantt - Delhi Sarai Rohilla InterCity Express/14626 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Amritsar - Saharsa Jan Sewa Express/15210 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Amritsar - Dehradun (Lahori) Express/14632 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Nellai Superfast Express/12631 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: Amritsar - New Delhi InterCity Express/12460 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045

Jan 18 2018 (21:29)
Train Tag: New Delhi - Amritsar InterCity Express/12459 added by OM SAI RAM ਆਦਿਤਯ ਕੁਮਾਰ~/1462045
 
 
अमृतसर (जशन): रेलवे विभाग की ओर से कोहरे व ब्लॉक के कारण आज 8 ट्रेनें रद्द की गई हैं।
जानकारी के अनुसार कोहरे कारण रद्द की गई ट्रेनों में गाड़ी संख्या 15210, 14626, 14650, 13006, 12459, 12460, 12631, 14632 शामिल हैं। इनमें से 4 ट्रेनें रद्द होने का कारण दिल्ली डिवीजन में टी.एफ.सी. ब्लॉक होना शामिल है।
Page#    Showing 1 to 20 of 2508 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.