Full Site Search  
Thu Jul 20, 2017 22:15:46 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Platform Pic; Large Station Board;

PLJE/Phulwartanr (2 PFs)
     फुलवारटाँड़

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 1
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
NH 32, Phulwartanr
State: Jharkhand
Elevation: 219 m above sea level
Zone: ECR/East Central
Division: Dhanbad
No Recent News for PLJE/Phulwartanr
Nearby Stations in the News

Rating: /5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

BDQ/Budora 1 km     KHRI/Kharkhari 1 km     JMX/Jamuni 2 km     TNO/Tundu 4 km     JNN/Jamuniatand 4 km     JNNA/Jamuniatanr Halt 5 km     KNF/Khanudih 5 km     SZE/Sonardih 5 km     MHQ/Mahuda Junction 6 km     TNJE/Tentulla 8 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 5 of 5 News Items  
Jun 11 2017 (10:34)  Fire in belly, tracks at Jharia coal belt to be closed from June 15 (indianexpress.com)
back to top
IR AffairsECR/East Central  -  

News Entry# 305013     
   Tags   Past Edits
Jun 11 2017 (10:34)
Station Tag: Sijua/SJA added by Arnab 884604/1711093

Jun 11 2017 (10:34)
Station Tag: Phulwartanr/PLJE added by Arnab 884604/1711093

Jun 11 2017 (10:34)
Station Tag: Katrasgarh/KTH added by Arnab 884604/1711093

Jun 11 2017 (10:34)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Arnab 884604/1711093

Jun 11 2017 (10:34)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Arnab 884604/1711093

Posted by: Sectumsempra  4 news posts
THE RAILWAYS has decided to stop all train operations on the 41-km Dhanbad-Chandrapura stretch in Jharia coalfields zone of Jharkhand from June 15 following the Coal Ministry’s latest report that says the age-old fires in the mines have made the area unstable and vulnerable. After a second inspection of the coalfields last week, the Director General of Mines Safety (DGMS) submitted a report reiterating its stand on June 2. The Coal Secretary subsequently sent a letter to the Railway Board communicating the findings.
“In the interest to safety of human lives, movement of trains in the Dhanbad-Chandrapura railway line is to be stopped,” the report says. The Railway Board’s civil engineering department on Saturday issued a letter to East Central Railway, instructing
...
more...
that all train operations should be stopped from June 15, after giving the people proper notice. Divisional Railway Manager (Dhanbad Division), East Central Railway, M K Akhouri, told The Indian Express over phone, “We have got orders to close down the track by June 15. The alternative plans…are being worked out. We will be able to finalise the plans by Monday or Tuesday.” Akhouri said that some trains would have to be terminated, and others will have to be diverted.
With nearly 1 lakh families based in the area, Jharkhand Chief Secretary Raj Bala Verma had earlier visited Dhanbad and asked all agencies concerned to chalk out a time-bound plan to implement rehabilitation of the people. On May 31, The Indian Express had reported that the Railways will stop all operations in the area following a renewed push from the Prime Minister’s Office (PMO) to solve the 100-year-old problem of fire in the mines.
The move will affect an average 26 pairs of passenger trains every day, besides a large number goods trains that carry coal from what is one of India’s biggest coal-mining regions. The Railways has told PMO that an estimated 20 million tonnes of coal is carried from the area every year, translating into earnings of approximately Rs 2,000 crore. Added with earnings from passengers, the total revenue loss for Railways is pegged at an annual Rs 2,500 crore. As per the Centre’s plans, the Coal Ministry will put out the fires after all human activity is cleared from Jharia coalfields. The process is expected to take around two years, and Railways will get the existing line restored subsequently.
According to the latest inspection of DGMS, fire in seven mines around the trackshave made the ground instabile. These are Busserya, Sendra Bansjora, Katras Choutidih, AKWMC, New Akashkinare, South Govindpur and Teturia mines. Dhanbad DC A Dodde said, “For the commuters of terminated trains (mostly locals), we are planning to provide extra bus services.”
Mar 26 2017 (21:45)  बंद होगी आग से असुरक्षित धनबाद-चंद्रपुरा रेललाइन (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestECR/East Central  -  

News Entry# 297708   Blog Entry# 2211851     
   Tags   Past Edits
Mar 26 2017 (21:45)
Station Tag: Jamuniatanr Halt/JNNA added by 4πu¶am*^~/401739

Mar 26 2017 (21:45)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by 4πu¶am*^~/401739

Mar 26 2017 (21:45)
Station Tag: Phulwartanr/PLJE added by 4πu¶am*^~/401739

Mar 26 2017 (21:45)
Station Tag: Katrasgarh/KTH added by 4πu¶am*^~/401739

Mar 26 2017 (21:45)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by 4πu¶am*^~/401739

Posted by: 4πu¶am*^~  4392 news posts
डीजीएमएस की अध्यक्षता में गठित कमेटी का निर्णय, कमेटी की अनुशंसा पर एचपीसीसी लगाएगी मुहर
जासं, धनबाद : खान सुरक्षा महानिदेशालय (डीजीएमएस) के महानिदेशक की अध्यक्षता में गठित उच्चस्तरीय कमेटी ने भूमिगत आग से प्रभावित धनबाद-चंद्रपुरा रेललाइन को असुरक्षित करार देते हुए इस पर ट्रेनों का परिचालन तत्काल प्रभाव से रोकने को कहा है। इसके लिए भारत सरकार के कोयला सचिव से अनुशंसा की जाएगी। धनबाद-चंद्रपुरा रेललाइन का भविष्य तय करने के लिए डीजीएमएस के प्रभारी डीजी पीके सरकार की अध्यक्षता में शुक्रवार को विकास भवन में उच्चस्तरीय कमेटी की बैठक हुई। सभी पक्षों की रिपोर्ट पर विचार-विमर्श के बाद यह निष्कर्ष निकला कि यह रेललाइन असुरक्षित है। इस पर पर रेल परिचालन यात्रियों की जान से खिलवाड़ है। तत्काल प्रभाव से
...
more...
इसपर ट्रेनों का परिचालन बंद करने और सुरक्षित क्षेत्र में नई रेललाइन बिछाने के लिए केंद्रीय कोयला सचिव की अध्यक्षता में कार्यरत झरिया मास्टर प्लान की हाई पावर कमेटी को अनुशंसा करने का निर्णय लिया गया।

2570 views
Mar 26 2017 (21:54)
Indian Railways the life line of our Nation~   16718 blog posts   137 correct pred (83% accurate)
Re# 2211851-1            Tags   Past Edits
Miss this line....

2478 views
Mar 26 2017 (22:06)
©The Dark Lord™~   8104 blog posts   2 correct pred (80% accurate)
Re# 2211851-2            Tags   Past Edits
Sabse jyada nuksaan BKSC ko hoga.

2548 views
Mar 26 2017 (22:15)
ECRs DHN division the worst~   256 blog posts   1 correct pred (25% accurate)
Re# 2211851-3            Tags   Past Edits
Mtlb band ho gya ?? Ya fir kal parso ke andar hoga ??

2543 views
Mar 26 2017 (22:22)
©The Dark Lord™~   8104 blog posts   2 correct pred (80% accurate)
Re# 2211851-4            Tags   Past Edits
I don't know about that but if we go by this article, right now it's only a proposal final decision hasn't been taken yet.

2506 views
Mar 26 2017 (22:33)
4πu¶am*^~   6007 blog posts   42393 correct pred (87% accurate)
Re# 2211851-5            Tags   Past Edits
This HAS to happen.
Railways can't play with passengers' lives anymore.

2788 views
Mar 26 2017 (22:35)
DhnEcr~   5396 blog posts
Re# 2211851-6            Tags   Past Edits
Abhi bhi koi fixed deadline nahi hai

2599 views
Mar 26 2017 (22:39)
Guest: 346eaf01   show all posts
Re# 2211851-7            Tags   Past Edits
Sabse zyada nuksaan DHN ko hogi.
Uski trains sabse zyda chinni/diverted hogi.

2565 views
Mar 26 2017 (23:31)
AkashNER~   635 blog posts   69 correct pred (64% accurate)
Re# 2211851-8            Tags   Past Edits
I may be wrong but was it the case that earlier Railways was asking for the compensationof the loss in diverting trains from this route Dhanbad-Chandrapura route, and the Coal Ministry was not willing to interfere into the matter ?

2536 views
Mar 26 2017 (23:46)
4πu¶am*^~   6007 blog posts   42393 correct pred (87% accurate)
Re# 2211851-9            Tags   Past Edits
Actually.
Neither of them are paying for the new diversion project, it is the coal mining companies, who will bear the cost of this project, which is still a matter of discussion.

2638 views
Mar 26 2017 (23:50)
Rahul   55 blog posts   10 correct pred (91% accurate)
Re# 2211851-10            Tags   Past Edits
Hope ir also agrees to this decision of closing this route
Oct 20 2015 (08:09)  कोयले के पैसे से रेलवे बिछाएगी नयी रेल लाइन, कौन उठाएगा डायवर्सन पर खर्च होनेवाला 3216 करोड़ रुपया (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestECR/East Central  -  

News Entry# 245410     
   Tags   Past Edits
Oct 21 2015 (2:41PM)
Train Tag: Shaktipunj Express/11448 added by 《Happiness Unbounded》**/567740

Oct 21 2015 (2:41PM)
Train Tag: Shaktipunj Express/11447 added by 《Happiness Unbounded》**/567740

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Dugda/DDGA added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Deonagar/DNH added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Jamuniatand/JNN added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Jamuni/JMX added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Tundu/TNO added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Sonardih/SZE added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Angarpathra Halt/ANJE added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Sijua/SJA added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Bansjora/BZS added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Baseria/BZE added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Kusunda Junction/KDS added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Phulwartanr/PLJE added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Katrasgarh/KTH added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Anupam**/401739

Oct 20 2015 (8:09AM)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Anupam**/401739

Posted by: 4πu¶am*^~  4392 news posts
धनबाद-चन्द्रपुरा लाइन के नीचे आग के आरपार हो जाने से अब तय है कि यह रेल रूट देर सबेर बंद हो जाएगा। इस लाइन पर चलनेवाली दूरस्थ ट्रेनों के परिचालन के लिए नया रूट बनाना होगा। ऐसा हुआ तो यह रेल इतिहास की पहली घटना होगी। इस बड़े पैमाने पर ट्रेनों का रूट नहीं बदला गया है। झरिया मास्टर प्लान में ही चार रेल रूट डायवर्सन की योजना है। झरिया मास्टर प्लान की क्रियान्वयन एजेंसी जेआरडीए ने रेल रूट डायवर्सन की फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार करने के लिए राइट्स के साथ करार किया था। राइट्स ने फिजिबिलिटी रिपोर्ट पेश कर दी है। इसमें धनबाद-गोमो रेल लाइन के समानांतर अलग से नया रेल रूट बनाने का प्रस्ताव है। फिजिबिलिटी रिपोर्ट के मुताबिक रेल डायवर्सन कर 3216 करोड़ की लागत आएगी। सबसे बड़ा सवाल यह है कि 3216 करोड़ खर्च का वहन कौन करेगा? रेलवे इसके लिए तैयार नहीं है। रेलवे चाहता है कि...
more...
कोल कंपनियां खर्च वहन करे। इसलिए कि कोल बियरिंग क्षेत्र और अग्नि प्रभावित क्षेत्र से रेल डायवर्सन से कोल कंपनियों को ही फायदा होने वाला है। जमीन के नीचे स्थित करोड़ों-अरबों का कोयला कोल कंपनियां ही निकाल कर बेचेंगी। ऐसा धनबाद-पाथरडीह रेल रूट बंद करने के बाद हुआ भी है। रेल रूट बंद होने के बाद बीसीसीएल कोयले का खनन कर रही है। जेआरडीए सूत्रों ने बताया कि कोयला मंत्रालय भारत सरकार के सचिव की अध्यक्षता में 31 जुलाई को नई दिल्ली में हुई हाई पावर कमेटी की बैठक में रेलवे ने साफ कर दिया कि वह नयी रेल लाइन बिछाने का खर्च वहन नहीं करेगी। रेलवे के इतिहास में भी करीब 200 किमी रेल लाइन का स्थायी डायवर्सन अब तक नहीं हुआ है। इस समस्या के समाधान के लिए हाई पावर कमेटी ने यूपीए सरकार के समय जीओएम गठन करने का प्रस्ताव दिया था। हाई पावर कमेटी की आगामी बैठक में रेल डायवर्सन के मुद्दे पर कुछ ठोस निर्णय लिये जाने के आसार हैं।
42 ट्रेनों का बदल जाएगा रूट
धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बंद होने से 21 जोड़ी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनें प्रभावित होंगी। ट्रेनों के नाम हैं-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस, वनांचल एक्सप्रेस, भागलपुर-रांची एक्सप्रेस, मौर्य एक्सप्रेस, धनबाद-रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस, जयनगर-रांची एक्सप्रेस, धनबाद-रांची पैसेंजर, शताब्दी एक्सप्रेस, कामाख्या एक्सप्रेस, अलेप्पी एक्सप्रेस, धनबाद-चंद्रपुरा पैसेंजर, धनबाद-झारग्राम पैसेंजर, गरीब रथ, दरभंगा-हैदराबाद एक्सप्रेस, दरभंगा-सिकंदराबाद एक्सप्रेस, धनबाद-मूरी पैसेंजर, शक्तिपूंज एक्सप्रेस, मालदा टाउन-सूरत एक्सप्रेस, न्यू जलपाईगुड़ी एक्सप्रेस, दुमका-रांची एक्सप्रेस, रांची-हावड़ा इंटरसिटी। इनमें लंबी दूरी की ट्रेने नये रूट पर चलेगी तो धनबाद-चंद्रपुरा के बीच चलने वाली पैसेंजर ट्रेने स्थायी रूप से बंद भी की जा सकती है।
14 स्टेशनों का मिट जाएगा नाम
धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन डायवर्सन के बाद 14 स्टेशन और हाल्ट के नाम मिट जाएंगे। ये स्टेशन धनबाद और चंद्रपुरा के बीच स्थित हैं। इनके नाम हैं-कुसुंडा, बसेरिया, बांसजोड़ा, सिजुआ, अंगारपथारा, तेतुलिया, सोनारडीह, टुंडू, बोदरा, फुलवारटांड, जमुनी, जमुनियाटांड, देवनगर।
Oct 18 2015 (07:49)  डीसी रेल लाइन पर खतरे की घंटी, चंद्रपुरा-फुलारीटांड के बीच रेल ट्रैक के नीचे आर-पार हुई आग (epaper.jagran.com)
News Entry# 245232     
   Tags   Past Edits
Oct 18 2015 (7:49AM)
Station Tag: Phulwartanr/PLJE added by Anupam**/401739

Oct 18 2015 (7:49AM)
Station Tag: Katrasgarh/KTH added by Anupam**/401739

Oct 18 2015 (7:49AM)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Anupam**/401739

Oct 18 2015 (7:49AM)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Anupam**/401739

Posted by: 4πu¶am*^~  4392 news posts
धनबाद : आग एवं भू-धंसान प्रभावित धनबाद-चंद्रपुरा (डीसी) रेल लाइन ‘अलार्मिग स्टेज’ में पहुंच गई है। चंद्रपुरा और फुलारीटांड़ स्टेशन के बीच रेल लाइन के नीचे-नीचे आग आर-पार हो गई है। आग के ऊपर रेल पटरी कभी भी धंस सकती है। पटरी धंसने पर शताब्दी और गरीब रथ जैसी महत्वपूर्ण रेल गाड़ियों समेत करीब दो दर्जन रेल गाड़ी में कोई भी चपेट में आ सकती है। इसे देखते हुए रेल लाइन डायवर्सन की कवायद एक बार फिर तेज हो गई है। 31 जुलाई 15 को नई दिल्ली में सचिव कोयला मंत्रलय भारत सरकार की अध्यक्षता में हुई झरिया मास्टर प्लान की हाई पावर कमेटी की बैठक में लिए गए निर्णय के निर्देश में शनिवार को धनबाद समाहरणालय में अग्नि प्रभावित रेल लाइन स्थानांतरित करने को लेकर बैठक हुई। उपायुक्त सह जेआरडीए के प्रबंध निदेशक कृपानंद झा की अध्यक्षता में हुई बैठक में रेल लाइन स्थानांतरित किए जाने संबंधी राइट्स द्वारा तैयार...
more...
फिजिबिलिटी रिपोर्ट पर विचार-विमर्श किया गया। फिजिबिलिटी रिपोर्ट के तीन प्रमुख बिंदु है। पहला, अग्नि क्षेत्र एवं भू-धंसान से प्रभावित रेलवे लाइन का स्थानांतरण। दूसरा, कोल बियरिंग क्षेत्र के अंतर्गत रेलवे लाइन का स्थानांतरण। तीसरा, भविष्य की बढ़ती हुई ट्रैफिक के मद्देनजर सिंगल रेलवे लाइन का दोहरीकरण। जेआरडीए के मुख्य प्रबंधक असैनिक सुनील दलेला ने बताया कि कोयला मंत्रलय की हाई पावर कमेटी ने झरिया अग्नि क्षेत्र एवं भू-धंसान से प्रभावित रेलवे लाइन के स्थानांतरण की प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश दिया है। बीसीसीएल की प्रतिनिधि की तरफ से कहा गया कि आग चंद्रपुरा और फुलारीटांड स्टेशन के आर-पार कर गई है। पटरी पर चलने वाली शताब्दी और गरीब रथ समेत अन्य रेल गाड़ियां कभी भी दुर्घटनाग्रस्त हो सकती हैं। बैठक में बताया गया कि रेल लाइन स्थानांतरण से संबंधित प्रोजेक्ट में 7 स्टेक होल्डर्स हैं। बीसीसीएल, ईसीआर, एसईआर, डीजीएमएस, सीएमपीडीआईएल, टिस्को, सेल। सभी स्टेक होल्डर्स को राइट्स द्वारा तैयार फिजिबिलिटी रिपोर्ट की प्रति उपलब्ध करा दी गयी। उपायुक्त ने कहा कि सभी स्टेक होल्डर्स दिसंबर के प्रथम सप्ताह तक अपना-अपना लिखित मंतव्य जेआरडीए को सौंप देंगे। उन्होंने कहा कि स्टेक होल्डर्स से प्राप्त मंतव्य एवं सुझाव को हाई पावर कमेटी के समक्ष रखा जाएगा। हाई पावर कमेटी के निर्णय पर रेल लाइन स्थानांतरण का डीपीआर तैयार कर कार्य प्रारंभ किया जाएगा। बैठक में जेआरडीए के आर एंड आर प्रभारी गोपालजी, मुख्य प्रबंधक असैनिक सुनील दलेला, टिस्को, ईस्को, रेलले, सीएमपीडीआइ, बीसीसीएल के प्रतिनिधि संबंधित अंचल अधिकारी आदि उपस्थित थे। अग्नि प्रभावित और कोल बियरिंग क्षेत्र की रेल लाइनों स्थानांतरण करने के लिए फिजिबिलिटी रिपोर्ट बनाने की जिम्मेवारी जेआरडीए ने राइट्स को सौंपी थी। राइट्स की रिपोर्ट के अनुसार स्थानांतरण के लिए करीब 200 किमी नई रेल लाइन बिछानी होगी। इसकी लागत 3026.35 करोड़ आएगा। स्थानांतरित की जाने वाली चारों रेल लाइन ईस्ट सेंट्रल रेलवे तथा साउथ ईस्टर्न रेलवे की है।
धनबाद-चंद्रपुरारेल लाइन पर ट्रेनों की छुकछुक भविष्य में सुनाई नहीं पड़ेगी। अग्नि प्रभावित इस रेल लाइन की प्रस्तावित डायवर्ट योजना ने रफ्तार पकड़ ली है। राइट्स ने प्रस्तावित डायवर्ट का सर्वे पूरा कर लिया है। सर्वे की रिपोर्ट रेल मंत्रालय भेजी गई है। इसे लेकर जल्द ही एक कमेटी गठित की जाने वाली है। इस कमेटी में रेलवे, बीसीसीएल, डीजीएमएस और जरेडा के अधिकारी शामिल होंगे। धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन डायवर्ट करने की योजना का खर्च बीसीसीएल वहन करेगी। डायवर्ट योजना साल 2018 तक पूरा होने की संभावना है। सर्वे का काम राइट्स ने सितंबर 2014 में शुरू किया था। सर्वे का काम पूरा करने में राइट्स को करीब 4 माह का समय लगा।
क्यों पड़ी जरूरत : ट्रैक के नीचे तक
...
more...
पहुंच चुकी है भूमिगत आग
धनबाद-चंद्रपुरारेलखंड को बीसीसीएल अग्नि प्रभावित बताता है। बीसीसीएल का कहना है कि बांसजोड़ा स्टेशन के आसपास ट्रैक के नीचे तक भूमिगत आग चुकी है। इस रेल खंड को इस भूमिगत आग से खतरा है।
क्यापड़ेगा प्रभाव : खत्म होंगे सिजुआ, कुसुंडा जैसे स्टेशन
धनबाद-चंद्रपुरारेल लाइन के डायवर्जन से 11 छोटे स्टेशन हॉल्ट का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। जिन स्टेशनों और हॉल्ट का अस्तित्व समाप्त होगा, उनमें बांसजोड़ा स्टेशन, सिजुआ हॉल्ट, कुसुंडा स्टेशन, बसुरिया हॉल्ट, कतरासगढ़ स्टेशन, सोनारडीह स्टेशन, टुंडु हॉल्ट, बुदरा हॉल्ट, फुलारीटांड स्टेशन, जमुनिया स्टेशन और दुग्दा स्टेशन शामिल हैं।
नयारूट क्या : अब खानूडीह-मतारी होते पहुंचेंगे चंद्रपुरा
डायवर्जनके बाद नए रूट का प्रारूप लगभग तैयार है। डायवर्जन चंद्रपुरा-खानूडीह-मतारी स्टेशन के बीच होने की बात कही जा रही है। इस डायवर्जन के नए रूट में आधा दर्जन नए हॉल्ट बनाए जाएंगे।
किसेमिलेगा लाभ : बीसीसीएल निकाल सकेगी कोयला
धनबाद-चंद्रपुरारेल खंड के नीचे भारी मात्रा में कोयले का भंडार है। भूमिगत आग के कारण कोयला के भंडार को खतरा है। रेल खंड के हट जाने से बीसीसीएल इस भंडार का खनन कर पाएगा। दर्जनभर से अधिक प्रोजेक्ट चालू करने का रास्ता खुलेगा।
^राइट्स ने प्रस्तावित डायवर्ट योजना का सर्वे काम पूरा कर लिया है। सर्वे रिपोर्ट रेल मंत्रालय भेज दिया गया है। इस लेकर एक कमेटी बननी है। इस कमेटी में बीसीसीएल के अलावे रेलवे, डीजीएमएस और जरेडा के अधिकारी शामिल होंगे।''अशोक सरकार,निदेशक तकनीकी (योजना परियोजना), बीसीसीएल
Page#    Showing 1 to 5 of 5 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.