Full Site Search  
Tue Jan 23, 2018 11:41:51 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Medium; Entrance Hall - Inside;


RNQ/Renukut (3 PFs)
رینوکُٹ     रेणुकूट

Track: Construction - Electric-Line Doubling

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 22
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
05446-252195, Station road , NH-39 ,Renukut, Sonbhadra
State: Uttar Pradesh
add/change address
Elevation: 313 m above sea level
Zone: ECR/East Central
Division: Dhanbad
 
 
4 Travel Tips
No Recent News for RNQ/Renukut
Nearby Stations in the News

Rating: 4.4/5 (46 votes)
cleanliness - excellent (6)
porters/escalators - good (6)
food - average (5)
transportation - excellent (6)
lodging - good (6)
railfanning - excellent (5)
sightseeing - excellent (6)
safety - excellent (6)

Nearby Stations

MPF/Muirpur Road 10 km     JGF/Jogidih 11 km     JRQ/Jharokhas 14 km     GMX/Gurmura 17 km     PPNI/Paras Pani 19 km     DXN/Duddhinagar 21 km     SLBN/Salai Banwa 31 km     MXY/Mahuariya 33 km     BXLL/Billi Junction 35 km     OBR/Obra Dam 37 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 30 News Items  next>>
Dec 19 2017 (11:49)  सोनांचल में सुरक्षित रेल यात्रा दूर की कौड़ी (www.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestECR/East Central  -  

News Entry# 324924     
   Past Edits
Dec 19 2017 (11:49)
Station Tag: Renukut/RNQ added by धनबाद मंडल की स�
Stations:  Renukut/RNQ   Chopan/CPU   Roberts Ganj/RBGJ  
 
 
सोनांचल में सुरक्षित रेल यात्रा दूर की कौड़ीसोनांचल में सुरक्षित रेल यात्रा दूर की कौड़ीजागरण संवाददाता, सोनभद्र : रेल से यात्रा करने वालों की सुरक्षा के लिए रेलवे प्रशासन तमाम कवा
जागरण संवाददाता, सोनभद्र : रेल से यात्रा करने वालों की सुरक्षा के लिए रेलवे प्रशासन तमाम कवायद कर रहा है। ऐसे में प्रशासनिक अमला बड़े-बड़े वादे भी करता है कि हम सुरक्षित यात्रा करवा रहे हैं, लेकिन सोनांचल में रेल यात्रा के सुरक्षित होने का अंदाजा यहां होने वाले हादसों को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है। यहां गत कुछ वर्षों में कई मानवरहित रेलवे क्रा¨सगों पर हादसे हो चुके हैं। इतना ही नहीं, सोनांचल में कई बार रेल पटरियों के टूटने ओर चटकने का मामला प्रकाश में आ चुका
...
more...
है।
जिले में रेलवे की व्यवस्थाओं पर गौर करें तो जिले में दौड़ने वाली रेल गाड़ियां रेलवे के दो जोन से संबंधित होती हैं। चोपन से मीरजापुर की तरफ से उत्तर मध्य रेलवे और चोपन से रेणुकूट दुद्धी की ओर पूर्व मध्य रेलवे द्वारा गाड़ियों का संचालन होता है। इसी के अनुसार यातायात व अन्य व्यवस्थाएं भी की जाती हैं। इन दोनों क्षेत्रों को मिलाकर जिले में कुल दस मानवरहित क्रा¨सग हैं। अभी फिलहाल यहां एक-एक गार्ड की तैनाती की गई है। इन सभी मानवरहित क्रा¨सग को मानव सहित क्रा¨सग बनाने के लिए प्रस्ताव रेलवे की तरफ से शासन को दिया गया है।
कइयों की जा चुकी है जान
जिले में मानवरहित क्रा¨सग को पार करने में कइयों की ¨जदगी जा चुकी है। वर्ष 2014 में करमा थाना क्षेत्र मदैनिया गांव के पास रेलवे क्रा¨सग से एक आटो सवारियों को लेकर गुजर रहा था। इसी दौरान ट्रेन आ गई और आटो के पार होते-होते टकरा गई हैं। इससे उसमें सवार एक व्यक्ति व चालक की मौत हो गई थी। इसी तरह वर्ष 2003 में चोपन-गढ़वा रेलमार्ग पर सलईबनवा स्टेशन के पास ¨नगा गांव में रेलवे पुल से नाला क्रास करते समय एक दर्जन ग्रामीण ट्रेन की चपेट में आ गये थे। इसमें से तीन की मौके पर ही मौत हो गई थी। वर्ष 2006 में कड़िया के पास भी क्रा¨सग पर ट्रेन की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।
कई बार टूटी पटरियों से गुजर चुकी है ट्रेन
जिले में जिस तरह से हादसे मानव रहित क्रा¨सगों पर हो चुके हैं उसी तरह से कई बार रेलवे ट्रैक के टूटने या चटकने की वजह से बड़ा हादसा होते-होते टल चुका है। इसी साल 30 नवंबर को अगोरी के पास रेलवे पटरी चटक गई थी। उसके पहले ही मूरी एक्सप्रेस गुजरी थी। उधर से वाराणसी की तरफ जाने वाली इंटरसिटी चोपन में खड़ी थी उसे वहीं पर रोककर पटरी की मरम्मत की गई। इसी तरह सात दिसंबर को दुद्धी रेलवे स्टेशन के पास टूटी हुई पटरी से डाउन ¨सगरौली-पटना ¨लक एक्सप्रेस गुजर गई थी। हालांकि यहां संयोग अच्छा था कि कोई हादसा नहीं हुआ। इसी तरह सात सितंबर को फफराकुंड व ओबरा डैम रेलवे स्टेशन के बीच कड़िया के समीप शक्तिपुंज एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी। हालांकि इसमें किसी की जान नहीं गई।
..............
ट्रैक के मामले में बेहतर पहल
सोनभद्र : रेल यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए केंद्रीय स्तर से बेहतर प्रयास किया जा रहा है। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक पूरे देश में पावर डिक्टेटर जीपीएस के तहत इंस्टालेशन के तहत कार्य चल रहा है। इस कार्य के तहत ट्रेन के पायलट के कैप पर एक सिग्नल लगेगा। यह सिग्नल 500 मीटर पहले ही ट्रैक की स्थिति बता देगा। यह कोहरा से बचाव में कार्य करेगा। पटरियों पर पटाखा आदि रखकर भी सिग्नल का पता किया जाता है। साथ ही कुछ अन्य तकनीकियों के माध्यम से भी ट्रैक की जांच की जाती है।
................
साठ किलोमीटर के रेलमार्ग में एक भी रेलवे क्रा¨सग नहीं
ओबरा के रेणुकापार के 60 किलोमीटर से ज्यादा क्षेत्र से गुजरने वाले चोपन-¨सगरौली रेलमार्ग पर रेलवे ने एक भी क्रा¨सग नहीं बनाया है। जिसके कारण इतनी दूरी तक चार पहिया सहित भारी वाहनों के गुजरने की कोई व्यवस्था नहीं है। यही नहीं दोपहिया वाहनों को भी रेलमार्ग को पार करने के लिए जान जोखिम में डालना पड़ता है। इसके बावजूद आजतक रेलवे ने इतने बड़े मार्ग पर एक भी क्रा¨सग या ओवरब्रिज बनाने की नहीं सोची। हालात यह है की कई बड़े नालों पर बने ओवरब्रिज के नीचे से ही सूखे मौसम के दौरान वाहन जा पाते हैं, लेकिन मानसून के दौरान ये वैकल्पिक मार्ग खतरनाक हो जाते हैं।
पिछले कुछ वर्षों के दौरान दो बार रेल-रोको आन्दोलन के साथ तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री के आश्वासन के बावजूद अभी तक एक भी जगह पर रेलवे क्रा¨सग नहीं बनाया गया। मानसून की बारिश के दौरान फफराकुंड, करमसार, कररी, जुर्रा, खाडर, खैराही, चोरपनिया, धनबहवा, अमरसोता, बकिया, भोरार, पल्सो एवं कड़िया पश्चिम, बैरपुर ग्राम पंचायत के कई टोलों तक बड़े वाहन नहीं पहुंच पाते हैं। रेलवे की निरंकुशता का आलम यह है की रेलमार्ग को क्रास करने वाले मार्ग पर प्रतिरोधक खम्भे लगा दिए गए हैं। रेलमार्ग को पार करते हुए सैकड़ो बार दोपहिया चालक घायल हो चुके हैं। भारी वाहनों के लिए पार होने की कोई व्यवस्था नहीं हो पाने का सीधा असर विकास कार्यक्रमों पर पड़ता है।
दर्जनों स्थान हैं संवेदनशील
चोपन-¨सगरौली रेलवे मार्ग पर दर्जनों ऐसे स्थान हैं जहां से पटरियों को पार करना जान-जोखिम में डालने जैसा है। रेणुका पार का पूरा क्षेत्र पहाड़ी बाहुल्य क्षेत्र है इसलिए ज्यादातर जगहों पर पहाड़ियों को काटकर रेलवे लाइन बनायी गयी है। इस मार्ग पर तीव्र घुमाव भारी संख्या में है। ओबरा डैम रेलवे स्टेशन तथा फफराकुंड के बीच अरंगी और कडिया, फफराकुंड तथा करैला रोड स्टेशन के बीच खैराही, अदराकुदर, मिर्चाधुरी, तेढ़ीतेन, बैरपुर सहित दर्जन भर ऐसी जगहें हैं जहां से सदियों से आदिवासी आते रहतें हैं, लेकिन इन जगहों पर 30 मीटर के करीब जब ट्रेन आ जाती है तब जाकर ट्रेन दिखाई पड़ती है जो दुर्घटनाओं का बड़ा कारण बनती है।
पटरियों की हालत खराब
बीते सितम्बर में हुए शक्तिपुंज एक्सप्रेस हादसे ने जहां भौगोलिक रूप से काफी कठिन पहाड़ी क्षेत्रों वाले चोपन-¨सगरौली रेलमार्ग पर रेल संचालन को लेकर ¨चता बढ़ाई है वहीं रेलवे ट्रैक के निर्माण में प्रयोग होने वाली सामग्री की गुणवत्ता पर पूर्व मध्य रेलवे के जीएम देबल कुमार गायेन द्वारा सवाल उठाये जाने से कई प्रश्न¨चह्न लग गया है। पटरियों के मैटेरियल की संभावित खराबी सामने आने के बाद इस रेलमार्ग पर सुरक्षित यात्रा को लेकर भी सवाल खड़े हो गये हैं। इस मामले ने देश में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाले मंडलों में तीसरे स्थान के धनबाद मंडल के इस रेलखंड की उपेक्षा को भी सामने लाया है। सालाना 11 हजार से ज्यादा राजस्व देने वाले धनबाद मंडल के इस रेलखंड में पिछले कुछ वर्षों के दौरान दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण सहित आधुनिकीकरण की प्रक्रिया चलाई जा रही है। लेकिन पटरियों की गुणवत्ता पर उठे सवाल ने घटनाओं की पुनरावृत्ति की खतरनाक संभावना पैदा कर दी है।
पेट्रो¨लग बन रही समस्या
चोपन से ¨सगरौली के बीच पेट्रो¨लग की हालत अत्यंत खराब है। पेट्रो¨लग में कर्मचारियों की भारी कमी की वजह से तरीकों की हालत लगातार खराब होते जा रही है। सूत्रों की मानें तो नवंबर से मार्च तक ही पेट्रो¨लग ठीक से होती है। केवल एक कर्मचारी को छह किलोमीटर रेलमार्ग की पेट्रो¨लग करनी होती है। इस रेलखंड में जिस तरह की पद्धति है उसमें यह दूरी उक्त कर्मचारी के लिए लगभग 12 किलोमीटर हो जाती है। उक्त कर्मचारी को लगभग 15 किलो का भार लेकर रोजाना रेलवे ट्रैक का निरीक्षण करना होता है। जिसमें उसे जोड़ बोल्ट को कसते हुए फिश प्लेट और ज्वाइंट क्रा¨सग को ग्रीस करना पड़ता है। एक कीमैन को लगभग 80 पेंडोल चेक करना पड़ता है।इसमें भी पीडब्लूआइ स्तर के अधिकारियों का व्यवहार भी कीमैन के प्रति अपेक्षित नही रहता है। पूर्व में हुआ घटना में ऐसे कई पहलु हैं जिसपर काम करने की आवश्यकता है।
आंकड़ा..
जिले में रेलवे के कुल जोन : 02
कुल रेलगाड़ियों की संख्या : 30
मालगाड़ियां चलती हैं : 20
यात्री गाड़ियां चलती हैं : 10
............
2014 में करमा के पास हुआ था हादसा
2003 में सलईबनवा के पास हादसा हुआ था।
2006 में कड़िया के पास कट गए थे तीन तीन लोग
2017 में कड़िया के पास पटरी से उतरी थी शक्तिपुंज ए�
Nov 03 2017 (09:23)  वन कर्मी बाघ की नहीं कर सके तलाश (www.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestECR/East Central  -  

News Entry# 321720     
   Past Edits
Nov 03 2017 (09:23)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by धनबाद मंडल की सोच कोयले से भी काली*^~/100643

Nov 03 2017 (09:23)
Station Tag: Renukut/RNQ added by धनबाद मंडल की सोच कोयले से भी काली*^~/100643
Stations:  Dhanbad Junction/DHN   Renukut/RNQ  
 
 
(सोनभद्र) : पिपरी रेंज क्षेत्र के रनटोला जंगल में म्योरपुर रोड व रेणुकूट रेलवे स्टेशन के बीच सोमवार को रेल लाइन दोहरीकरण कार्य में लगे ठेकेदार ने पुलिया नंबर 242 से तीन सौ मीटर दूर एक बाघ को रेलवे लाइन पार करते हुए मोबाइल में कैद कर लिया था। इस संबंध में डीएफओ एके ¨सह ने बाघ देखे जाने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा था कि रिहंद जलाशय के किनारे वाले वन क्षेत्र में बाघ के लिए उचित स्थान है।
उन्होंने टीम भेज तहकीकात कराये जाने की बात कही थी। टीम द्वारा जंगल में तलाश की गई लेकिन बाघ की मौजूदगी का न तो कोई निशान मिला न ही बाघ ही दिखा। चरवाहों व लकड़हारों द्वारा भी कहीं बाघ की मौजूदगी
...
more...
की सूचना नहीं मिली। एसडीओ एवं प्रभारी रेंजर म्योरपुर एनबी ¨सह ने कहा कि तलाश जारी है। वन क्षेत्र में बाघ होगा तो अवश्य हलचल होगी। उन्होंने कहा कि बाघ घुमंतू जानवर है आगे भी बढ़ सकता है।
Sep 26 2017 (15:33)  कोडरमा स्टेशन परिसर में खुला फास्टफूड यूनिट (www.jagrn.com)
back to top
New Facilities/TechnologyECR/East Central  -  

News Entry# 318286   Blog Entry# 2445114     
   Past Edits
Sep 26 2017 (15:33)
Train Tag: Kaifiyaat SF Express/12225 removed by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Patratu/PTRU added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Chopan/CPU added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Singrauli/SGRL added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Renukut/RNQ added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Netaji SC Bose Junction Gomoh/GMO added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643

Sep 26 2017 (15:33)
Station Tag: Koderma Junction/KQR added by Wanderlust from सिंगरौली*^~/100643
 
 
कोडरमा स्टेशन परिसर में खुला फास्टफूड यूनिट
झुमरीतिलैया (कोडरमा): कोडरमा रेलवे स्टेशन में सोमवार को धनबाद रेल मंडल की तीसरा फास्टफूड यूनिट का उद्घाटन किया गया। आइआरसीटीसी के द्वारा संचालित इस यूनिट का उद्घाटन कोडरमा के सीटीआइ एसके वर्णवाल, स्टेशन प्रबंधक एमके ¨सह, आइआरसीटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक शाहिद करीम ने संयुक्त रूप से फीता काटकर किया। इस यूनिट में 24 घंटे खाने के सामान के अलावा स्नैक्स, चाय उपलब्ध होंगे।
इस मौके पर क्षेत्रीय प्रबंधक शाहिद करीम ने कहा कि पूर्व-मध्य रेलवे हाजीपुर में यह 17वां और धनबाद रेल मंडल का तीसरा यूनिट
...
more...
है। शीघ्र ही धनबाद रेल मंडल के गोमो में भी यूनिट खोला जाएगा। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया जारी की गई है। उन्होंने बताया कि धनबाद रेल मंडल के नौ स्टेशनों चंद्रपुरा, रेनुकोट, सिंगरौली , चोपन में भी यूनिट खोलने की योजना है। यात्रियों को बेहतर खाना उपलब्ध हो इसके लिए धनबाद रेल मंडल अंतर्गत धनबाद स्टेशन में भोजनालय में सेल कीचन बनाया जाएगा जहां से विभिन्न ट्रेनों में भोजन भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि यात्री दो घंटे पूर्व टोल फ्री नंबर 1323 पर सूचना देकर भोजन मंगा सकते हैं। वहीं ई-कैट¨रग की भी व्यवस्था की गई है। आईआरसीटी के द्वारा ट्रेनों में बेहतर खाना उपलब्ध कराने के लिए पेंट्री कार को दो हिस्सों में विभाजित किया है जिसमें एक हिस्सा में खाना बनाने में तथा दूसरा खाना भेजने के लिए सर्विस टीम बनाया गया है। उन्होंने बताया कि रेलवे के द्वारा पतरातू में रेल नीर पानी यूनिट बैठाने की योजना है। राज्य सरकार के द्वारा जमीन उपलब्ध होने के बाद 72 हजार लीटर प्रतिदिन पानी यहां से 200 से 250 किलोमीटर रेल क्षेत्र में पहुंचाया जाएगा। कोडरमा समेत धनबाद रेल मंडल के 36 स्टेशनों पर वाटर वें¨डग मशीन दिसंबर तक लगा दी जाएगी जिसमें यात्री के द्वारा बोतल साथ में लाने पर एक रुपये 300 एमएल तथा दो रुपये में ग्लास व बोतल रेलवे उपलब्ध कराएगी। वहीं एक लीटर पानी पांच रुपये में उपलब्ध कराया जाएगा।
उन्होंने बताया कि रेलवे बोर्ड के द्वारा आइआरसीटी तीर्थ यात्रा पर ले जाने का भी कार्य कर रही है। आगामी 8 से 20 नवंबर तक रक्सौल से एक स्पेशल ट्रेन तीर्थ यात्रा के लिए रवाना होगी जो 13 दिन और 12 रात के लिए मदुरई, रामेश्वरम, तीरूपति बालाजी आदि का दर्शन कराएगी। इसके लिए यात्रियों को 12225 रुपये देने होंगे।

3791 views
Sep 26 2017 (18:06)
Ayan G   2738 blog posts   36 correct pred (72% accurate)
Re# 2445114-1            Tags   Past Edits
Ab dekhne wali baat ye hai ki kitne dino me khulega sgrl me yaha to shayad hi khulega kyuki railway ki batte paper me hi reh jati hai sgrl ke liye
Sep 07 2017 (20:44)  Seven coaches of Shaktipunj Express derail in Uttar Pradesh (www.thehindu.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsECR/East Central  -  

News Entry# 315149   Blog Entry# 2401923     
   Past Edits
Sep 07 2017 (20:44)
Station Tag: Renukut/RNQ added by rdb*^/69261
Stations:  Renukut/RNQ  
Posted by: rdb*^  133028 news posts
 
 
The Shaktipunj Express derailment is the third such incident in UP in less than a month.
Seven coaches of the Jabalpur-bound Shaktipunj Express derailed on Thursday in Sonbhadra district of Uttar Pradesh, a railway official said.
“The accident occurred at around 6:25 am  and we have already cleared out the site,” railway ministry spokesperson Anil Saxena said.
“All passengers were put on the remaining
...
more...
coaches and by 7:28 AM all of them had left the spot. All of them are safe and no one was injured in the accident,” he said.
The train was running at a speed of about 40 km/hr which, officials say, prevented any injuries when the incident occurred.
This is the third such derailment in the State in less than a month.
On August 19, the Utkal Express had derailed in Muzaffarnagar district, killing 22 people and injuring 156.
About 100 passengers were wounded when 10 coaches of Kaifiyat Express train derailed after crashing into a dumper which strayed on to the tracks in Auraiya district on August 23.

1302 views
Sep 07 2017 (20:47)
£®™१२३०१ हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस १२३०२™£®^~   2431 blog posts   1222 correct pred (62% accurate)
Re# 2401923-1            Tags   Past Edits
लो। एक ओर ट्रेन बे-पटरी हुआ!

आज फिर कुछ रेल के डब्बे पटरी से उतर लिए। अरे भई अब तो मंत्री भी बदल के देख लिया और क्या बदलें? डब्बे, पटरी, ड्राइवर या कुछ और सुझाइए...🤔
Aug 17 2017 (14:04)  कार्य पूरा हुआ नहीं रेल मंत्री से करा दिया लोकार्पण (m.livehindustan.com)
back to top
IR AffairsECR/East Central  -  

News Entry# 312024   Blog Entry# 2401649     
   Past Edits
Aug 17 2017 (14:04)
Station Tag: Renukut/RNQ added by जोहार झारखंड🙏😊^~/1421836
Stations:  Renukut/RNQ  
 
 
रेलवे अधिकारियों ने राबर्ट्सगंज के सांसद सहित रेल मंत्रालय को अंधेरे में रख कर झारखण्ड के मेराल ग्राम रेलवे स्टेशन से प्रदेश के रेणुकूट रेलवे स्टेशन तक के रेल लाइन के विद्युतीकरण का लोकार्पण रेल मंत्री से बुधवार को करवा दिया। लोकार्पण के बाद जब पत्रकारों ने प्रदेश के म्योरपुर रोड से लेकर रेणुकूट रेलवे स्टेशन तक लगभग पांच किमी की दूरी में विद्युतीकरण न किए जाने के बावजूद लोकार्पण कराए जाने की बात उठाई तो रेलवे अधिकारी बगले झांकने लगे। सांसद ने इस पर गहरी नाराजगी जताई। मामले को प्रधानमंत्री और रेल मंत्री को अवगत कराने की बात कही।
रेणुकूट रेलवे स्टेशन पर बुधवार को आयोजित समारोह में वीडियो लिंक के माध्यम से रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मेराल ग्राम
...
more...
से रेणुकूट तक कराए गए विद्युतीकरण कार्य का लोकार्पण किया। राबर्ट्सगंज के सांसद छोटेलाल खरवार, ओबरा विधायक संजीव कुमार गोंड़ की मौजूदगी में आयोजित इस कार्यक्रम में अपने संदेश में रेल मंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश में ही 85,000 करोड़ रुपये की रेल परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है।
सांसद ने कहा कि बताया कि रेणुकूट-चोपन, चोपन- सिंगरौली व चोपन से चुनार तक रेलवे लाइन का विद्युतीकरण कार्य भी चल रहा है। इस दौरान अपर मंडल रेल प्रबंधक डीके सिन्हा ने मेराल ग्राम से रेणुकूट तक कराए गए विद्युतीकरण की जानकारी दी। इस पर पत्रकारों ने उनसे पूछा कि विद्युतीकरण का कार्य रेणुकूट से एक स्टेशन पूर्व सिर्फ म्योरपुर रोड तक ही हुआ है तो फिर रेणुकूट तक का लोकार्पण क्यों कराया गया।

1154 views
Sep 07 2017 (15:19)
धनबाद मंडल की सोच कोयले से भी काली*^~   5901 blog posts   9813 correct pred (74% accurate)
Re# 2401649-1            Tags   Past Edits
Still work is not compete at RNQ . But inaugural ceremony done and wahwahi also
Page#    Showing 1 to 20 of 30 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.