Full Site Search  
Mon Jul 24, 2017 22:13:09 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;

SFY/Shajapur (2 PFs)
شاجاپور     शाजापुर

Track: Single Diesel-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 28
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
National Highway 3, Shajapur
State: Madhya Pradesh
Elevation: 453 m above sea level
Zone: WCR/West Central
Division: Bhopal
3 Travel Tips
No Recent News for SFY/Shajapur
Nearby Stations in the News

Rating: 3.3/5 (8 votes)
cleanliness - good (1)
porters/escalators - average (1)
food - average (1)
transportation - good (1)
lodging - average (1)
railfanning - good (1)
sightseeing - average (1)
safety - excellent (1)

Nearby Stations

SFF/Sunera Pirkheri 8 km     CAZ/Chauhani 13 km     SYO/Siroliya 18 km     SFW/Sarangpur 27 km     MKC/Maksi Junction 28 km     DON/Donta 35 km     PUO/Pir Umrod 35 km     PQU/Parhana Mau 36 km     TAN/Tarana Road 38 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 3 of 3 News Items  
शाजापुर. शहर से करीब 6 किमी दूर ग्राम खेड़ा के पास मंगलवार सुबह रेलवे ट्रैक पर जमकर हंगामा हुआ। काफी संख्या में बच्चे और ग्रामीण ट्रैक पर आ जमे। ट्रेन आई तो उसे भी रुकना पड़ा। पुलिस ने स्थिति को संभाला और ग्रामीणों को समझाकर ट्रेन को रवाना किया। ग्रामीण रेलवे अंडरब्रिज में पानी भरे रहने से मार्ग बंद होने की समस्या का विरोध कर रहे थे।
गौरतलब है कि जिला मुख्यालय स्थित कृषि उपज मंडी के पीछे वाले मार्ग से ग्राम बमोरी, खेड़ा, पिंदोनिया, बरवाल, रामपुरा मेवासा आदि ग्रामों में जाने के लिए एक मार्ग है। पूर्व में इस मार्ग पर रेलवे गेट बना हुआ था। तीन साल पहले रेलवे ने गेट को खत्म कर यहां अंडर ब्रिज बना दिया। बरसात
...
more...
में यह अंडरब्रिज ग्रामीणों के
लिए परेशानी का कारण बन गया। इसमें पानी भरा रहने से यहां वाहन निकलना तो दूर पैदल भी निकलना नामुमकिन हो गया। करीब 5-6 फीट पानी भरा रहने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हर साल होने वाली परेशानी से निजा नहीं मिलने के कारण सुबह करीब 11 बजे ग्रामीण और स्कूली बच्चे अंडरब्रिज के ऊपर रेलवे ट्रैक पर आ गए। बच्चों ने ट्रैक के बीच खड़े होकर विरोध जताया। इसके बाद ग्रामीणों ने एक लाल रंग की शर्ट को डंडे में लपेट कर लालझंडी के रूप में बीना-रतलाम पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया।
पानी और कीचड़ से गुजरना पड़ता है लोगों को
Patrika Live
खेड़ा के पास बने अंडरब्रिज में पानी भरा हुआ था। इसमें से लोगों का निकलना नामुमकिन सा दिखाई दिया। अंडरब्रिज के पास भी तालाब की तरह पानी भरा हुआ था। इसमें से जैसे-तैसे हिम्मत करके ग्रामीण पैदल और अपने दो पहिया वाहन को लेकर पटरी के पास आ गए। यहां पर अन्य लोगों की मदद से दो पहिया वाहन को पटरी पार कराई। फिर यहां से नीचे उतर कर वापस से कीचड़ और तालाबनुमा भरे पानी से वाहन को बाहर निकालकर मुख्य सड़क पर लाया गया। यहां मौजूद नारायण सिंह, भगवानसिंह आदि ने बताया कि इतना खतरा लेकर रास्ते को पार करना पड़ता है। ऐसे में बच्चों को परेशानी हो सकती है, इसलिए बच्चों को स्कूल नहीं भेज पा रहे है। दूसरे रास्ते से करीब 20 किमी का चक्कर पड़ता है, जबकि यहां से 6 किमी में ही शाजापुर पहुंच जाते है। ग्रामीणों ने बताया कि जब से अंडर ब्रिज बना है तब से हर साल करीब 4 माह तक यही स्थिति रहती है।
जहरीले जानवरों का लगा रहता है डर : ग्रामीणों ने बताया कि यहां से निकलने में हर बार जहरीले जानवरों का भी डर बना रहता है। क्योंकि अनेकों बार अंडरब्रिज में भरे पानी में सांप तैरते हुए दिखाई दिए हैं।
पानी निकासी करने वाले ने दे दिया दूसरे को ठेका : मौके पर अंडरब्रिज से पानी निकालने के लिए एक ही मोटर लगी हुई थी, जो कि समस्या के हिसाब से ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। जानकारी लेने पर पता लगा कि पहले रेलवे की ओर से जिस ठेकेदार को अंडर ब्रिज से पानी निकालने के लिए ठेका दिया था उसने अन्य व्यक्ति को ठेका दे दिया।
50 मीटर दूर रुक गई ट्रेन: टै्रक के आसपास ग्रामीणों एवं लालझंडी को देखकर करीब 50 मीटर दूर टे्रन रुक गई। इसके बाद कोतवाली पुलिस पहुंची। ग्रामीणों को ट्रैक से दूर करवाकर ट्रेन को रवाना किया। ग्रामीणों ने प्रशासन, पुलिस व रेलवे को अलग-अलग आवेदन देकर समस्या निराकरण की मांग की।
- अंडर ब्रिज में पानी भरा रहने से ग्रामीणों को हो रही परेशानी का मामला जानकारी में आया है। अंडर ब्रिज में भरे पानी को निकालकर अभी व्यवस्था कर रहे है। बरसात के मौसम के बाद इस समस्या का स्थायी हल किया जाएगा।
आईएम सिद्दिकी, पीआरओ, भोपाल मंडल
Jul 31 2016 (20:14)  Every Saturday Tuesday, ahead of the train rush 788758 (naidunia.jagran.com)
back to top
Other NewsWCR/West Central  -  

News Entry# 275520     
   Tags   Past Edits
Jul 31 2016 (8:14PM)
Station Tag: Shajapur/SFY added by For Better Managed Indian Railways~/1546020

Posted by: For Better Managed Indian Railways~  948 news posts
बोलाई (शाजापुर)। शाजापुर जिला मुख्यालय से 30 किमी दूर बोलाई के श्री सिद्धवीर हनुमान मंदिर में प्रति शनिवार और मंगलवार को श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है।
रेलवे स्टेशन पर भी भारी भीड़ रहती है, किंतु सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं। श्रद्धालु जान जोखिम में डालकर पटरी पार करते हैं। इस दौरान ट्रेन आने पर अफरा-तफरी मच जाती है। ऐसे में कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।
Sep 28 2015 (02:57)  टीटी ने चलती ट्रेन से महिला को धक्का दिया, हुई मौत (www.bhaskar.com)
back to top
Other NewsWCR/West Central  -  

News Entry# 242916     
   Tags   Past Edits
Sep 28 2015 (2:59AM)
Train Tag: Malwa Express/12919 added by moderator**/12

Sep 28 2015 (2:57AM)
Station Tag: Shajapur/SFY added by jAi hO ™/718732

Posted by: Jai Ho ™^~  2059 news posts
बेरछा (शाजापुर)। मध्य प्रदेश के शाजापुर रेल्वे स्टेशन पर इंदौर-जम्मूतवी मालवा एक्सप्रेस ट्रेन में शुक्रवार दोपहर करीब 3 बजे बेरछा स्टेशन पर दर्दनाक हादसा हुआ। जल्दबाजी में रिजर्वेशन कोच में चढ़े यात्रियों को देख डिब्बे में सवार टीटी भड़क गया। उसने धक्का देकर यात्रियों को नीचे उतरने को कहा। धक्का एक महिला को लग गया और वह नीचे गिर गई। ट्रेन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई।
हादसे की शिकार महिला ओम कुमारी टेमरे भोपाल में रायसेन रोड की रहने वाली है। वह अपने तीन बच्चों के साथ शाजापुर में अंत्येष्टि में शामिल होने के बाद भोपाल जा रही थी। ट्रेन का सिग्नल हो चुका था। सामान्य कोच में जगह नहीं होने पर वह रिजर्वेशन कोच में चढ़ गई।
...
more...
इस कोच में भीड़ देखकर टीटी ने गुस्से में बिना रिजर्वेशन सभी यात्रियों को नीचे उतरने को कहा। कुछ लोग उतर भी गए। ओम कुमारी भी नीचे उतरने लगी लेकिन इसी दौरान धक्के से नीचे गिर गई और ट्रेन की चपेट में आ गई। अभी तक पुलिस टीटी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।
टीटी पर कार्रवाई की मांग
ओम कुमारी के बच्चे रवि, नेहा और शालू ने ट्रेन में सवार टीटी पर धक्का देने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया चलती ट्रेन से यात्रियों को धक्के देकर टीटी नीचे उतार रहा था। इसी दौरान कुछ लोगों ने दौड़ते हुए अन्य डिब्बों में सवार होने का प्रयास किया। हमें भी टीटी ने धक्के देकर नीचे उतार दिया। इस दाैरान धक्के से अचानक मां का संतुलन बिगड़ गया और यह हादसा हो गया।
Page#    Showing 1 to 3 of 3 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.