Full Site Search  
Fri May 26, 2017 07:27:32 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

<<prev entry    next entry>>
Blog Entry# 1924816  
Posted: Jul 10 2016 (13:06)

7 Responses
Last Response: Jul 10 2016 (18:03)
  
Rail News
1 Followers
2155 views
Other News
Jul 10 2016 (12:42)   सिर्फ 12 यात्रियों के लिए 52 दिन चली 16 डिब्बों की ट्रेन
 

अमरावती सुपरफास्ट~   131 news posts
Entry# 1924816   News Entry# 273320         Tags   Past Edits
सिर्फ12 यात्रियों के लिए 16 डिब्बों की एक स्पेशल ट्रेन 52 दिन तक दो स्टेशनों के बीच दौड़ती रही। जोधपुर से बाड़मेर के बीच चलाई गई इस ट्रेन में रेलवे को रोजाना जाते वक्त औसतन 12 और लौटते वक्त 35 यात्री ही मिले। ट्रेन में छह डिब्बे जनरल और 10 रिजर्वेशन कैटेगरी के थे। 52 दिन में कुल 40,392 बर्थ पर 648 यात्री जोधपुर से बाड़मेर गए, 1822 यात्री बाड़मेर से जोधपुर लौटे। 52 फेरों में रेलवे ने 2470 यात्रियों से किराए के नाम पर 10 लाख रु. कमाए, लेकिन ट्रेन चलाने में ही 50 लाख रुपए खर्च कर दिए। यह तो सिर्फ डीजल का खर्च है, परिचालन, ट्रेन स्टाफ और अन्य खर्चे अलग हैं।
दरअसल, जोधपुर-जयपुर के बीच चलने वाली हाईकोर्ट
...
more...
सुपरफास्ट ट्रेन को यात्री सुविधा के नाम पर 1 अप्रैल से 30 जून के बीच बाड़मेर तक चलाया गया, सप्ताह में चार दिन चलने वाली इस ट्रेन में दिक्कत यह थी कि यात्री बाड़मेर से जयपुर का टिकट नहीं ले सकता था। सिर्फ जोधपुर बाड़मेर के बीच के स्टेशनों के ही टिकट ले सकता था। ऐसे में यात्री भार घट गया। जिस पर रेलवे अफसरों ने ध्यान नहीं दिया। रेलवे के आंकड़े बताते हैं कि इस ट्रेन ने तीन माह में 52 फेरे लगाए।
इनमेंजोधपुर से बाड़मेर के लिए थर्ड एसी की कुल 3456 बर्थ उपलब्ध करवाई गई, लेकिन सफर करने के लिए 98 यात्री ही मिले। ऐसे ही एसी चेयरकार की 3996 बर्थ पर 197 और सेकंड सीटिंग की 32,940 बर्थ पर मात्र 353 यात्रियों ने सफर किया। यानी कुल 40,392 बर्थ पर 648 यात्रियों ने। ऐसे ही वापसी में 1822 यात्रियों ने सफर किया। जाने में प्रतिदिन के औसतन 12 और आने में 35 यात्री ही ट्रेन को मिले।

2 posts - Sun Jul 10, 2016

  
4684 views
Jul 10 2016 (14:13)
Proud atheist~   4376 blog posts   37 correct pred (63% accurate)
Re# 1924816-4            Tags   Past Edits
Jahan demand hai wahan to chala nahi rahe aur faltu ki trains chala rahe hain ..

  
4525 views
Jul 10 2016 (14:41)
™Smart City Bhagalpur ®~   1164 blog posts   21 correct pred (79% accurate)
Re# 1924816-5            Tags   Past Edits
isse badtar isthithi nahi ho ho sakti thi

  
4604 views
Jul 10 2016 (14:52)
Anand Mohan Mishra~   418 blog posts   40 correct pred (72% accurate)
Re# 1924816-6            Tags   Past Edits
क्या रेलमंत्री को यह मालूम है?

  
4223 views
Jul 10 2016 (17:21)
12952 नई दिल्ली मुंबई राजधानी back to IRI~   6509 blog posts   343 correct pred (78% accurate)
Re# 1924816-7            Tags   Past Edits
Agar nahi malum to kya unhe railway minister sone ke liye banaya h

  
4009 views
Jul 10 2016 (18:03)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 1924816-8            Tags   Past Edits
This is very unfortunate. Only 2470 passengers travelled against the rated capacity of 80784. i.e.only 3% occupancy. It is clear there is no traffic on the route and even if there was no restriction on the ticket to Jaipur, the % occupancy still would have been been a single digit number. It is not very clear whether this train was a normal train or a suvidha train with exorbitant fares. If later is the case then nothing could be said except "Yeh to Hona Hi Tha"
Many routes in IRlys are crying for additional trains and running this kind of special train paints a very sorry picture.
In
...
more...
fact the new regular and special trains must strictly be operated based on the study of traffic pattern, sales data of tickets on the route and adequate market research. Private agencies may be roped in for the purpose if required.
On the one hand, MoR is stressing on reforms in accounting systems to ascertain the economic parameters like costing/ revenue, profit/ loss of every railway activity like a train and entity like a station so that railways operations can be steered in the direction of productivity and profitability on the other hand incidences does not auger well for I Rlys.
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site