Full Site Search  
Fri Mar 24, 2017 15:49:55 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

<<prev entry    next entry>>
Blog Entry# 1977691  
Posted: Sep 01 2016 (00:45)

2 Responses
Last Response: Sep 01 2016 (09:47)
  
Rail News
0 Followers
475 views
Other NewsNER/North Eastern  -  
Aug 31 2016 (10:19)   टिकट 10 रुपये का यात्र मुंबई की
 

☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   5246 news posts
Entry# 1977691   News Entry# 278632         Tags   Past Edits
जागरण संवददाता, गोरखपुर : स्टेशनों के सामने तैनात जन साधारण टिकट बुकिंग सेवक (जेटीबीएस) भी रेलवे को चूना लगाने से बाज नहीं आ रहे। एक तो टिकट पर मनमाना किराया वसूल रहे, ऊपर से टिकटों में फर्जीवाड़ा भी कर रहे हैं। कम दूरी के न्यूनतम 10 रुपये के टिकट पर यात्रियों को मुंबई भेज रहे हैं। भोले-भोले यात्री ठगे जा रहे हैं। 1 पिछले शनिवार को ही सहायक वाणिज्य प्रबंधक लखनऊ मंडल एमपी सिंह की टीम ने जेटीबीएस फर्जीवाड़ा पकड़ा था। न्यूनतम 10 रुपये के जनरल टिकट को छत्रपति शिवाजी टर्मिनस मुंबई के लिए बनाया गया था। मुंबई जाने वाले यात्रियों की जांच के दौरान टीम को जब टिकट कुछ अटपटा लगा तो उन्होंने उसकी पड़ताल की। टिकट लखनऊ स्थित एक जेटीबीएस से लिया गया था। जो टिकट यात्री के पास मिला था उसके नंबर से बाराबंकी से लखनऊ तक का टिकट जारी था। जेटीबीएस के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करने के...
more...
बाद मुंबई जाने वाले यात्रियों की निगरानी बढ़ा दी गई।1पहले भी पकड़े गए मामले 1 इस तरह का फर्जीवाड़ा कोई नया नहीं है। पहले भी मामले पकड़ में आ चुके हैं। तीन साल पहले जब जेटीबीएस तैनात हो रहे थे, तो इज्जतनगर मंडल के कल्याणपुर में फर्जीवाड़ा का मामला प्रकाश में आया था। जेटीबीएस से जनरल और प्लेटफार्म टिकट मिलते हैं, जिसपर किराया से सिर्फ एक रुपये अधिक अतिरिक्त देना होता है। 19 जून 2012 को कैंट स्टेशन गोरखपुर में बुकिंग क्लर्क के सहयोग से सुरक्षा बलों ने दलाल को पकड़ा था। तलाशी में उसके बैग से ढेर सारी फर्जी मोहरें, 16 फर्जी टिकट और छोटे- छोटे स्टेशनों के लिए गए टिकट बरामद किए गए थे।1ऐसे लगाते हैं रेलवे को चूना 1 10 से 15 किमी की दूरी वाले छोटे स्टेशनों तक के न्यूनतम टिकट 10 रुपये में ही मिल जाते हैं। फिर, इन टिकटों पर दलालों का खेल शुरू होता है। वे रबर मुहर का प्रयोग करते हैं। टिकट पर ऐसा लगाते हैं कि टीटीई भी नहीं पकड़ पाते। सूत्रों का कहना है कि दलालों की एक टीम टिकट खरीदती है तो दूसरी डुप्लीकेट तैयार करती है। तीसरी टीम पर उसे बेचने की जिम्मेदारी होती है। जो रेलकर्मियों से सांठगांठ बनाए रखते हैं। इससे वे पहचान में नहीं आ पाते और रेल प्रशासन की नाक के नीचे अपना सारा खेल कर जाते हैं।
दलालों की माया 16जेटीबीएस के जनरल टिकट पर हेराफेरी, ठगे जा रहे यात्री 16मामला पकड़ में आने पर बढ़ाते हैं सतर्कता

  
985 views
Sep 01 2016 (00:45)
GD HS SKD the pride of NER   1337 blog posts   60 correct pred (77% accurate)
Re# 1977691-1            Tags   Past Edits
Ghaple me to ye dalal bade bade engineers aur scientists ke dimaag ko peeche chhod de.

  
841 views
Sep 01 2016 (09:47)
☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~   12362 blog posts   3041 correct pred (65% accurate)
Re# 1977691-2            Tags   Past Edits
😀😀in dalal ko rly may appoint kar dena chaiye
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site