Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Bookmark
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
Search News
Page#    350077 news entries  next>>
  
Today (08:51) भारत में पहलीबार इस रेलखंड पर दौड़ी थी इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेन,जानिए (m.jagran.com)
IR Affairs
SER/South Eastern
0 Followers
92 views

News Entry# 371496  Blog Entry# 4102942   
  Past Edits
Dec 14 2018 (08:52)
Station Tag: Dangoaposi/DPS added by Adittyaa Sharma^~/1421836

Dec 14 2018 (08:52)
Station Tag: Rajkharsawan Junction/RKSN added by Adittyaa Sharma^~/1421836

Dec 14 2018 (08:51)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by Adittyaa Sharma^~/1421836
जमशेदपुर, जेएनएन। आपको पता है कि भारत में पहलीबार किस रेलखंड पर पहली बार इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेन दौड़ी थी। यह रेलखंड भारत में पहला और एशिया में दूसरा रेलखंड है जिसपर पहली बार इलेक्ट्रिक इंजन ट्रेन दौड़ी थी। इस रेलखंड का तब भी कारोबार के लिहाज से उतना ही महत्व था जितना आज है। इस रेलखंड के इलेक्ट्रिि‍फकेशन के 60 वर्ष 15 दिसंबर को पूरे होने को हैं। इस मौके को यादगार बनाने की पूरी तैयारी है।
यह रेलखंड है झारखंड के चक्रधरपुर रेल मंडल का राजखरसावां - डांगुवापोसी रेलखंड। यह भारत में पहला और एशिया में दूसरा ऐसा रेलखंड है जहां 1959 में 25 केवी एसी ट्रेक्सन विद्युतीकरण के द्वारा पहली ट्रेन चलाई गई थी। 15 दिसंबर को इस यादगार
...
more...
उपब्धियों के 60 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में भारतीय रेल स्वर्ण जयंती समारोह मना रहा है। स्वर्ण जयंती समारोह का उदघाटन दक्षिण-पूर्व रेलवे के जनरल मैनेजर पूर्णेदु एस मिश्रा करेंगे।  जयंती के उपलक्ष्य में जीएम चक्रधरपुर, राजखरसावां, चाईबासा, केंदपोसी, डांगुवापोसी एवं टाटानगर स्टेशन में  स्मृति चिन्ह स्थापित करेंगे। इस दौरान जीएम चक्रधरपुर, राजखरंसवा व डांगुवापोसी रेल खंड का निरीक्षण भी करेंगे। 
फ्रांस की कंपनी ने किया काम काम
राजसरसावां-डांगुवापोसी रेलखंड में विद्युतीकरण का कार्य फ्रांस की कंपनी एसएनएफसी ने किया था। 15 दिसंबर 1959 में भारत में पहली 25 केवी एसी ट्रेक्सन झमता वाली बीबीएम 1 श्रेणी विद्युत इंजन नंबर 20250 का परिचालन राजखरसावां से केंदपोसी स्टेशन तक किया गया था। उस वक्त 25 केवी का ट्रेक्सन सब स्टेशन(टीएसएस) केंदपोसी स्टेशन में स्थापित किया गया था।
चाईबासा में बना था मेंटेनेंस डीपो
वहीं चाईबासा में पहला ओवर हेड लाइन (ओएचई)मेनटेंनेंस डीपो बनाया गया था। 15  दिसंबर 2018  को इसके 60 वें वर्ष में प्रवेश के साथ ही भारत में क़रीब 30000 किलोमीटर विद्युत (एसी) कर्षण की सुविधा उपलब्ध हो गई। भारतीय रेल ने वर्ष 2022 तक सम्पूर्ण भारत के रेल नेटवर्क को पूरी तरह से 25 केवी एसी विद्युत कर्षण करने का लक्ष्य रखा है। रेलवे के 60 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में एक डाक टिकट भी जारी किया जाएगा।
  
Today (09:11) बेल्हा से भी सप्ताह भर के भीतर दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक ट्रेनें (www.amarujala.com)
Other News
NR/Northern
0 Followers
12 views

News Entry# 371500  Blog Entry# 4102988   
  Past Edits
Dec 14 2018 (09:11)
Station Tag: Pratapgarh Junction/PBH added by Electrification And Doubling of PBH Soon*^~/38492

Dec 14 2018 (09:11)
Train Tag: Pratapgarh - Varanasi Passenger/54292 added by Electrification And Doubling of PBH Soon*^~/38492

Dec 14 2018 (09:11)
Train Tag: Varanasi - Pratapgarh Passenger/54291 added by Electrification And Doubling of PBH Soon*^~/38492
जल्द ही बेल्हा से होकर वाराणसी जाने वाली ट्रेनें तेजी से सफर पूरा करने लगेंगी। सबकुछ ठीक ठाक रहा तो इलेक्ट्रिक इंजन से चलने वाली ट्रेनें रेलवे लाइन पर फर्राटा भरेंगीं। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है। रेेलवे की ओर से दौड़ाए गए विद्युत लाइन में करंट भी दौड़ाया जा चुका है। जो कमियां मिली हैं उसे दुरुस्त करने का काम तेज गति से हो रहा है। गौरीगंज से जंघई के बीच इलेक्ट्रिक लाइन बनकर तैयार हो चुकी है। कार्यदायी संस्था की ओर से इलेक्ट्रिक लाइन में विद्युत आपूर्ति भी बहाल कर कमियों को दूर करने का काम भी तेजी से किया जा रहा है। इलेक्ट्रिक लाइन में हाईवोल्टेज करंट दिन रात दौड़ रहा है। 15 से लेकर 20 दिसंबर के बीच गौरीगंज से जंघई के बीच में इलेक्ट्रिक इंजन दौड़ाकर पहले ट्रायल किया जाएगा। इसके बाद प्रतापगढ़ से  चलने वाली वीपी पैसेंजर ट्रेन को इलेक्ट्रिक इंजन से रवाना किया...
more...
जाएगा।सूत्रों की मानें तो बनारस से गौरीगंज को जाने वाली मालगाड़ी के साथ कुछ एक्सप्रेस ट्रेन को इलेक्ट्रिक इंजन से चलाया जाएगा। डीजल इंजन कुछ ही ट्रेनों को लेकर रेलमार्ग से गुजरेगा। आरबीएनएल के प्रोजेक्ट मैनेजर मनीष शर्मा ने बताया कि 15 दिसंबर को काम पूरा करने के लिए लक्ष्य मिला था। केबल बिछाने का कार्य पूरा हो चुका है। 15 को ही इलेक्ट्रिक इंजन दौड़ाकर ट्रायल किया जाएगा। सबकुछ ठीक ठाक रहा तो इसके बाद इलेक्ट्रिक ट्रेनें गौरीगंज से जंघई होते हुए बनारस तक चलने लगेंगीं।
  
Today (09:04) भागलपुर : आज मिल सकती है ट्रेन चलाने की अनुमति (www.prabhatkhabar.com)
ER/Eastern
0 Followers
41 views

News Entry# 371499  Blog Entry# 4102977   
  Past Edits
Dec 14 2018 (09:05)
Station Tag: Lailakh Mamalkha/LMM added by amishkumar~/1702584

Dec 14 2018 (09:05)
Station Tag: Bhagalpur Junction/BGP added by amishkumar~/1702584
भागलपुर  : भागलपुर और लैलख के बीच दोहरीकरण नयी रेल लाइन पर कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी(सीआरएस) की अंतिम जांच शुक्रवार को होगी और इस पर ट्रेन चलाने की अनुमति मिलने की भी पूरी उम्मीद है.   शुक्रवार सुबह करीब छह बजे सीआरएस एके राय भागलपुर पहुंचेंगे और इस नयी रेल लाइन पर ट्रेन चला कर निरीक्षण करेंगे. इसके मद्देनजर मालदा रेल डिवीजन की रेल मंडल प्रबंधक तनु चंद्रा गुरुवार शाम करीब छह बजे भागलपुर पहुंच गयी हैं.  इधर, 12 कोच की विशेष ट्रेन भागलपुर और लैलख के बीच तेज रफ्तार में चलायी जायेगी. इसकी स्पीड 100 किमी प्रति घंटे या इससे ज्यादा भी रह सकती है. सीआरएस के निरीक्षण के दौरान डिवीजन के अलावा स्थानीय रेलवे अधिकारी रहेंगे. शेष कार्यों को किया जा रहा पूरा: सीआरएस के निरीक्षण को लेकर गुरुवार को रेलवे अभियंता, ट्रैफिक इंस्पेक्टर, पीडब्ल्यूआइ की टीम  पूरे दिन हर कमियों को दूर करने में लगे रहे. नयी रेल ट्रैक का रंग-रोगन भी...
more...
किया  गया है.  यानी, भागलपुर और लैलख के बीच दोपहरी नयी रेल लाइन के शेष कार्यों को पूरा किया जा रहा है. लैलख और सबौर में डीआरएम ने की नयी लाइन का निरीक्षण गुरुवार शाम करीब छह बजे भागलपुर पहुंचने से पहले डीआरएम तनु चंद्र ने लैलख और सबौर में नयी रेल लाइन का निरीक्षण किया. वे लाइन की हरेक बारीकियों से अवगत हुई. डीआरएम नयी लाइन के निर्माण में किसी तरह की कोई खामियां नहीं पायी है.
  
Today (08:56) रेल पटरियों पर काम करने वाले गैंगमैन की रक्षा करेगा रक्षक (www.amarujala.com)
Other News
NR/Northern
0 Followers
68 views

News Entry# 371498  Blog Entry# 4102955   
  Past Edits
Dec 14 2018 (08:56)
Station Tag: Pratapgarh Junction/PBH added by Electrification And Doubling of PBH Soon*^~/38492
Stations:  Pratapgarh Junction/PBH  
ठंड में कोहरे के दौरान रेलवे लाइन की मरम्मत करने वाले गैंगमैन भयमुक्त होकर काम कर सकेंगे। विभाग की ओर से रक्षक उनका कवच बनेगा। विभाग की ओर से  उन्हें रक्षक डिवाइस देने की तैयारी है। ट्रेन के आने की खबर डिवाइस के माध्यम से गैंगमैनों को पहले ही पता हो जाएगी। इससे वे समय रहते ट्रैक से दूर हो जाएंगे। रेलवे के सुरक्षा व संरक्षा विभाग में तैनात ट्रैकमैन और गैंगमैन अपनी जान जोखिम में डालकर ड्यूटी करते हैं। कोहरे के दिनों में ट्रेन जब तक नजदीक नहीं आ जाती, तब तक गैंगमैन को भनक नहीं लगती। इससे वे ट्रेन की चपेट में आ जाते हैं। कभी कभार पटरी पूरी तरह से तैयार न होने के कारण रेल डिरेल का खतरा बना रहता है। इन सब से निपटने के लिए रेल विभाग की ओर से गैंगमैन और ट्रैकमैन को डिवाइस देने का फैसला लिया है।इससे कोहरे के दिनों में जहां...
more...
ट्रैक मरम्मत करने के दौरान होने वाले हादसे पर काबू पाया जा सकेगा। वहीं किसी की जान पर खतरा नहीं पैदा हो सकेगा। दरअसल रेल विभाग अब ट्रैकमैन और गैंगमैन को रक्षक डिवाइस उपलब्ध कराने जा रहा है। जो ट्रेेनों के दो किमी दूरी पर ही गैंगमैन को सतर्क कर देगा और वे समय रहते ट्रैक से दूर हो जाएंगे।रेलवे के अफसरों का कहना है कि दक्षिण मध्य रेलवे में डिवाइस का प्रयोग किया जा रहा है। दक्षिण मध्य रेलवे में होने वाले हादसे में रेल डिवाइस रोक लगा रहा है। इससे इस क्षेत्र के गैंगमैन बगैर डर और भय के रात हो या फिर कोहरे के दिनों में ट्रैक मरम्मत करते हैं। एक डिवाइस पर 80 हजार रुपये का खर्च आ रहा है। उत्तर रेलवे में ढाई हजार तो प्रतापगढ़ में 75 रेलवे डिवाइस मिलने की उम्मीद जताई जा रही है।रेलवे के अफसर बताते हैं कि रेल डिवाइस वॉकी टॉकी की तरह होती है। जो गैंगमैनों को दी जाती है। आने-जाने वाली ट्रेनों की सूचनाएं लगातार प्रसारित होती रहती हैं। इसमें एलईडी इंडीकेशन ऑडिबल बजर व वाइब्रेशन सेट है। जिसके चलते जिस स्थान पर वे खड़े हैं वहां से दो किमी पहले ट्रेनों के आने और जाने की सूचनाएं गैंगमैन को मिलती रहेगी।रेलवे डिवाइस मशीन की मांग की गई है। उम्मीद लगाई जा रही है कि कोहरा पड़ने की शुरूआत होने के पहले डिवाइस मशीन मिल जाएगा। जैसे ही मिलेगा तत्काल उसे गैंगमैनों को दे दिया जाएगा।निहालुद्दीन,एडीएन।
  
Today (08:54) सुहाना सफर : अब यात्रियों को नहीं लगेंगे ट्रेन में झटके (m.jagran.com)
IR Affairs
SER/South Eastern
0 Followers
75 views

News Entry# 371497  Blog Entry# 4102948   
  Past Edits
Dec 14 2018 (08:54)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by Adittyaa Sharma^~/1421836

Dec 14 2018 (08:54)
Station Tag: Hatia/HTE added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Ranchi Junction/RNC   Hatia/HTE  
रांची, जासं।  अब यात्रियों को ट्रेन में झटका नहीं लगेगा। ट्रेन को बढ़ाते वक्त कई बार यात्रियों को झटका सा महसूस होता था। इस दौरान खड़े कई यात्री असंतुलित होकर गिर जाते थे और उन्हें चोटें भी आती थी। लेकिन अब कोचिंग डिपो हटिया में ही एक नई तकनीक विकसित कर ली गई है, जिसके इस्तेमाल से एलएचबी कोच के यात्रियों को झटका-सा महसूस नहीं होगा।
कोच में इसके लिए खास किस्म का उपकरण यानि बैलेंस्ड ड्राफ्ट गियर लगाया जाएगा। इसके लिए कोच को खड़गपुर भेजा जाता था। पर अब इसकी सुविधा हटिया कोचिंग डिपो में होगा। वहीं, बोगी में ट्रॉली बदलने की सुविधा कोचिंग में शुरू की गई। इन दोनों उपकरणों का उद्घाटन डीआरएम विजय कुमार गुप्ता द्वारा किया गया।
...
more...
इसे बदलने के लिए काफी पैस खर्च होते थे और 15 दिन का समय लगता था।
अब यह कार्य हटिया के कोचिंग डिपो में होने प्रति कोच लगभग 10 से 12 लाख रुपए की बचत रेलवे को हो रही है। एवं यात्री सेवा के लिए कोच पहले की तुलना में ज्यादा संख्या में उपलब्ध होगा। इस मौके पर उन्होने मेकेनाइस्ड लौंड्री, राची में किए गए मरम्मत के कायरें के लिए घनश्याम कुमार और चार अन्य को 5000 रुपए का ग्रुप अवार्ड दिया गया।
साथ ही कोचिंग डिपो हटिया में एलएचबी कोच के फैबरिकेसन ऑफ मेटेरियल हैंडिलिंग डिवाइस फॉर बोल्सटर कुईयल स्प्रिंग के निर्माण के लिए पीके पंडा और तीन अन्य लोगों को भी 5000 रुपए का ग्रुप अवार्ड दिया। इस मौके पर अपर मंडल रेल प्रबंधक एमएम पंडित, अजीत सिंह यादव, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक सह मुख्य जनसंपर्क अधिकारी नीरज कुमार, वरिष्ठ मंडल यात्रिक अधिकारी एसके मडल, सीडीओ आशुतोष कुमार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
Page#    350077 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Desktop site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy