Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
Search News
Page#    323574 news entries  next>>
  
पलपल संवाददाता, जबलपुर. मुंबई से वाराणसी जा रहा एक यात्री जब एसी-2 (ए-1) कोच के अपर बर्थ पर रात में सो रहा था, तभी अचानक पूरी बर्थ ही टूटकर जमीन पर नीचे जा गिरी, जिससे यात्री भी बर्थ के साथ नीचे जा गिरा और घायल हो गया. यात्री ने घटना की शिकायत तुरंत ही ट्विटर के माध्यम से रेलवे बोर्ड में कर दिया, जिसके बाद जबलपुर में हड़कम्प मच गया और शनिवार की देर रात ट्रेन के जबलपुर स्टेसन पहुंचने पर रेल कर्मचारी टूटी बर्थ को दुरुस्त करने में जुटे, वहीं स्टेशन प्रशासन यात्री की कुशल क्षेम जानने में जुटा रहा.
घटना के संबंध में बताया जाता है कि गाड़ी संख्या 11093 मुंबई-वाराणसी महानगरी एक्सप्रेस लगभग 6 घंटा विलंब से चल रही
...
more...
थी, जब यह ट्रेन इटारसी-जबलपुर रेलखंड के नरसिंहपुर स्टेशन के समीप पहुंची, तभी अचानक एस 2 कोच की सीट संख्या 18 पर ऊपर की बर्थ में सो रहे यात्री कविश्वर दत्ता, जो इटारसी से वाराणसी की यात्रा कर रहे थे, अचानक सीट टूटने से नीचे जा गिरे, जिससे उनके हाथ व कमर में अंदरूनी चोटें पहुंची.
जिसकी कम्पटेंट यात्री ने ट्विटर के माध्यम से रेलमंत्री व रेलवे बोर्ड को कर दी, जहां से तुरंत ही जबलपुर सूचना पहुंची, जिसके बाद ट्रेन रात 11.30 बजे जबलपुर के प्लेटफार्म नंबर 5 पर पहुंची तो रेल प्रशासन कर्मचारियों के साथ मौजूद रहा, जिसने तुरंत ही टूटी बर्थ को दुरुस्त करने का काम किया.
आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में
जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य
खबर : चर्चा में
1. माना की पीएम मोदी बहादुर हैं, पर प्रेस से क्यों दूर हैं?
2. कैशलेस पर भरोसा नहीं? लोगों के हाथ में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा कैश
3. अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान
4. कीनिया को रौंदकर भारत ने हीरो इंटर कांटिनेंटल फुटबॉल कप जीता
5. SCO समिट- भारत समेत कई देशों के बीच महत्वपूर्ण एग्रीमेंट, PM मोदी ने दिया सुरक्षा मंत्र
6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग
7. उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने यूजीसी बड़े बदलाव की तैयारी में
8. सुपर 30 का दबदबा कायम आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 26 छात्र सफल
9. रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी, भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.?
10. क्या आप भी पूजा-पाठ करने के लिए स्टील के लोटे का करते हैं इस्तेमाल?पहले जान लें ये बात
11. काम में मन नहीं लगता तो यह करें उपाय

1 Public Posts - Yesterday

  
3605 views
Yesterday (18:43)
rajeevame~   3092 blog posts   78 correct pred (67% accurate)
Re# 3569236-2            Tags   Past Edits
What abt the passenger sleeping on the slb. Seat no 18 is the SU berth in 2A

  
3530 views
Yesterday (18:48)
LHB for Begampura 🚄~   750 blog posts   17 correct pred (91% accurate)
Re# 3569236-3            Tags   Past Edits
Sahi baat. Agar upar wali berth gir gyi to giri to niche so rahe insaan pe hi hogi. Uska kya hua... ya fir vo superman tha...

  
3424 views
Yesterday (18:59)
kedarc68   16 blog posts
Re# 3569236-4            Tags   Past Edits
kya yatri bada heavy tha? saath hi kya heavy saaman tha berth pe? neecheka berthwala to theek hai?

  
2962 views
Yesterday (20:26)
लोकशक्ति का उमरगाम रोड में ठहराव~   380 blog posts   6 correct pred (60% accurate)
Re# 3569236-5            Tags   Past Edits
पहले बताया कि AC कोच है और घटना S2 में हुई।

  
1041 views
Today (19:58)
Aman   3074 blog posts   202 correct pred (62% accurate)
Re# 3569236-6            Tags   Past Edits
Middle birth wale insaan ka kya hua hoga
  
Today (19:08) This Google App Is Serious Challenge To Facebook, WhatsApp In India (www.ndtv.com)
0 Followers
1479 views

News Entry# 342897  Blog Entry# 3572534   
  Past Edits
Jun 25 2018 (19:08)
Station Tag: Mumbai Central/MMCT added by 🚆🚆🚆¥¥®MRADUL SAXENA®¥¥🚆🚆🚆^~/1865235
Stations:  Mumbai Central/MMCT  
A Mumbai train commuter who witnessed an accident earlier this month, turned to his smartphone to ask neighbors how to help a bleeding victim. Responses poured in instantaneously. Take him to the station master at the next stop; ask the ticket collector for first aid; call 138 for emergency help and so on. Not long after, the commuter posted a happy ending: the injured party had received medical attention.This transpired within minutes on Neighbourly, the hyper-local social network unveiled in India this month by Google's Next Billion Users program. The neighborhood network -- available in Mumbai and soon to expand to other cities -- lets people share local expertise and crucial information with others in the vicinity. The crowd-sourced recommendations range widely: kitchen cabinet makers, service stations that repair electric scooters, cricket ticket sellers, gardening supplies stores and much more.With almost a half billion Indians now using smartphones, Google sees an...
more...
opportunity to become a one-stop shop for search, social networking and payments. "After missing the last wave of social, Google is trying to use its platform to become a significant player in these areas," says New Delhi-based Forrester Research forecast analyst, Satish Meena.Google has long aspired to be the go-to platform in India, where rivals Facebook Inc. and its WhatsApp messaging service have already amassed a huge user base and Amazon Inc. is spending billions on e-commerce. Google wants to bring hundreds of millions of Indians online and build products that appeal to a diverse population, no matter the social strata, language spoken or type of device used. In 2016, the company began offering free Wi-Fi in the country's largest train stations and has since expanded to 400 locations. Last year the Mountain View, California-based search giant introduced a payment service called Google Tez. The voice-powered Google Assistant is already available in eight Indian languages.In an era of fake news, trolling and privacy concerns, the Neighbourly app, two years in the making, could help Google take on Facebook and WhatsApp. Caesar Sengupta, who runs the Next Billion Users initiative, said at the app's unveiling that it would help people get precise information without participating in group chats that "keep getting bigger and noisier," such as WhatsApp's tendency to fill up with "good morning" messages.Neighbourly users can browse, ask and answer questions without sharing personal information. The app only shows a first names while keeping the phone number, full name and other information private. A user's profile photo cannot be enlarged or stored, unlike in other apps. Upon signing up, everyone pledges to keep the community safe and refrain from posting inappropriate or spam messages.The India push is part of Google's aggressive global expansion. The company recently invested $550 million in Chinese e-commerce giant JD.com Inc. and a smaller amount in India's Fynd, giving it an online shopping toehold in the world's most populous nations. Now it's fine-tuning social and messaging, where it has had limited success with Google+, Hangouts and Allo."General social networking is dominated by Facebook and peer-to-peer messaging by WhatsApp," says Brandon Verblow, a New York-based analyst at Forrester Research. "However opportunities for local networking have not yet been fully exploited."Google India already generates about $1 billion in ad revenue, and the app opens a new avenue to potentially sell high-priced targeted local ads while collecting more information about users which can be used to sell ads across other products. "If Google can scale Neighbourly, it could become a large revenue generator," Verblow says.Google researchers spent two years roaming college campuses, bus stops, neighborhood parks and people's living rooms to build and refine the app. They encountered the same theme over and over in localities of Delhi, Jaipur, Mathura, Ahmadabad and Mumbai. As in so many countries, the age-old neighorhood network had broken down as people moved around for jobs or college. Add in the long work hours and commutes, and nobody knew their neighbors anymore. "Life is happening close to home for most people even as urbanization reshapes cities in India and countries in Asia, Latin America and Africa," says Josh Woodward, a group product manager with the Next Billion Users team.After creating a beta version of the app, Google testers walked door to door asking Indians to install it, then returned to sit down in living rooms to gather feedback. When women said they wouldn't want strangers to store their photos, Google decided users wouldn't be able to enlarge pictures or save them. People didn't want intrusive interactions with others so there is no direct-messaging feature. For location, Neighbourly displays the name of the neighborhood. The app is less than 7 MB in size, making it easier to use on older or cheaper smartphones.Neighbourly relies heavily on what Google has learned from its search and digital assistant offerings. A third of searches in India are already voice-activated, so Neighbourly lets users ask questions verbally in their local language. The app provides helpful question starters such as "Where can I find..." "Who is the best..." or "Can you recommend..." to obviate the need for typing. CommentsThe app uses familiar social networking techniques. Much the way Uber passengers can rate drivers, Neighbourly users accumulate credibility scores based on how others rank their responses. High-ranked answers bubble to the top. Similar to Facebook, Q&As can be bookmarked for later, and users can follow a question (but not a person). Users can swipe left or right on the top 15 questions and responses served by the app, helping background algorithms understand each person's needs. People whose answers are constantly up-voted receive points, akin to LinkedIn referrals.Google executives were quietly thrilled when users compared Neighbourly favorably to the ancient Indian concept of Karma, whereby one's actions determine a person's fate.

  
710 views
Today (20:57)
shrhitesh~   213 blog posts   27 correct pred (54% accurate)
Re# 3572534-1            Tags   Past Edits
har jagah aisa ho to kitni jaan bach jaye. Good work. Railway or Goverment ko inko Sammanit karna chahiye taki or log bhi aisa kare.

  
686 views
Today (20:58)
🚆🚆🚆¥¥®MRADUL SAXENA®¥¥🚆🚆🚆^~   1403 blog posts   2224 correct pred (44% accurate)
Re# 3572534-2            Tags   Past Edits
Agar bhai sab sab prize ke liye krenge toh koi aisa nahi krega sab ko apne apne aap krne do prize ki jaruri nahi hai
  
Today (20:50) बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट के लिए पर्याप्त जमीन मिलने की उम्मीद: पीयूष गोयल (navbharattimes.indiatimes.com)
New Facilities/Technology
WR/Western
0 Followers
619 views

News Entry# 342901  Blog Entry# 3572867   
  Past Edits
Jun 25 2018 (20:51)
Station Tag: Lokmanya Tilak Terminus/LTT added by a2z~/1674352

Jun 25 2018 (20:51)
Station Tag: Ahmedabad Junction/ADI added by a2z~/1674352
Posted by: a2z~ 2851 news posts
मोदी सरकार की महात्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना को लेकर महाराष्ट्र और गुजरात में कुछ जगहों पर जारी विरोध प्रदर्शन के बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को परियोजना के लिए पर्याप्त जमीन मिलने की उम्मीद जताई। गोयल ने भरोसा जताया कि उन्हें बुलेट परियोजना के लिए आवश्यक जमीन प्राप्त करने में कोई दिक्कत दिखाई नहीं देती है।
रेल मंत्री गोयल के मुताबिक, सरकार जमीन देनेवालों को अब अधिक मुआवजे की पेशकश कर रही है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा कि परियोजना के लिए बेहद रियायती दरों पर कर्ज देने वाले जापान ने अपने वित्तपोषण को तीन अरब डॉलर सालाना से बढ़ाकर पांच अरब डॉलर कर दिया है। गोयल ने एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) शिखर सम्मेलन से इतर
...
more...
मीडिया से कहा, 'परियोजना के लिए पर्यावरण एवं सामाजिक प्रभाव अध्ययन या तो पूरा हो चुका है या फिर खत्म होने के करीब है। मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि परियोजना के लिए जमीन मिलने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।'
मुआवजे को बढ़ाकर चार गुना किया गया
उन्होंने कहा कि जबसे मुआवजे को बढ़ाकर बाजार कीमत का चार गुना किया गया है, तब से सरकार को भूमि अधिग्रहण में किसी तरह के विरोध का सामना नहीं करना पड़ रहा है। उन्होंने जोर दिया कि मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के मामले में सहमति के आधार पर मुआवजे को बढ़ाकर पांच गुना तक किया जा सकता है। रेल मंत्री ने कहा कि उन्होंने परियोजना में तेजी लाने के लिए दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री से भी विस्तृत विचार-विमर्श किया है।
उन्होंने भूमि अधिग्रहण को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को संबोधित करते हुए कहा दावा किया कि पालघर और सूरत के लोगों को परियोजना से फायदा होगा। गोयल ने बीजिंग-शंघाई हाई स्पीड रेल परियोजना से इस परियोजना की तुलना करते हुए कहा कि सरकार चीन के दोनों शहरों ही तरह मुंबई और अहमदाबाद को भी उच्च वृद्धि क्षेत्र के रूप में विकसित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि भविष्य में इसी तरह के और भी उच्च गति रेल गलियारे बनाए जाएंगे। एआईआईबी ने भी ऐसी परियोजनाओं में रुचि दिखाई है।
  
Yesterday (08:04) मेरठ से होगी ग्राउंड पर रैपिड रेल के काम की शुरूआत (www.livehindustan.com)
New Facilities/Technology
NR/Northern
0 Followers
1486 views

News Entry# 342711  Blog Entry# 3567159   
  Past Edits
Jun 24 2018 (08:04)
Station Tag: Matera/MT added by a2z~/1674352
Stations:  Matera/MT  
Posted by: a2z~ 2851 news posts
मेरठ विकास प्राधिकरण ने एनसीआरटीसी से सिफारिश की है कि दुहाई से साहिबाबाद के बजाय पहले मेरठ से ग्राउंड पर रैपिड रेल का काम शुरू किया जाए। इसके बाद एनसीआरटीसी ने मोदीनगर से मेरठ के बीच पांच स्टेशनों के लिए टेंडर आमंत्रित कर लिए हैं। उधर माना जा रहा है कि एक जुलाई भले ही रैपिड रेल का काम ग्राउंड पर शुरू करने की तारीख हो पर इसका काम थोड़ा लेट हो सकता है। केंद्र सरकार 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले रैपिड रेल के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरे वेस्ट यूपी और एनसीआर में कैश करने की कोशिश करेगी।
कैराना चुनाव के ठीक पहले जिस तरह पीएम मोदी ने बागपत में रैली करके ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे का शुभारंभ किया ठीक उसी तर्ज
...
more...
पर रैपिड रेल के लिए भी तैयारियों की संभावना है। एक जुलाई रैपिड रेल का काम शुरू करने की तय तारीख है। अभी तक दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने रैपिड रेल को सहमति नहीं दी है इसलिए एनसीआरटीसी यूपी में साहिबाबाद से दुहाई तक इसका पहले चरण का ट्रैक बनाने की तैयारी में जुटा है। अब ग्राउंड पर काम शुरू करने की तारीख में महज सात दिन का वक्त बचा है, लेकिन अब तक केंद्र सरकार की तरफ से इसके शिलान्यास आदि का विस्तृत कार्यक्रम तय नहीं हुआ है। इसी बीच मेरठ से मोदीनगर के बीच के स्टेशनों के टेंडर भी आमंत्रित कर लिए गए हैं। भाजपा चुनाव के लिहाज से मेरठ को अहम मानती आई है। वर्ष 2014 में यूपी में अपने चुनाव प्रचार अभियान का आगाज पीएम मोदी ने मेरठ से ही किया था और 2017 के यूपी चुनाव में भी वेस्ट यूपी की पहली चुनावी रैली मेरठ में ही की थी। मेरठ का संदेश वेस्ट यूपी के कम से कम 26 जिलों पर तो सीधा असर डालता ही है। सूत्रों की मानें तो रैपिड रेल को लेकर भी इस तरह की कवायद हो रही है कि मेरठ में ही या मेरठ और गाजियाबाद के बीच ही कहीं कोई बड़ी रैली या कार्यक्रम करके इसका शिलान्यास किया जाए। उधर एनसीआरटीसी अफसर इस प्रोजेक्ट को लेकर हर रोज तेजी से काम में जुटे हैं पर एक जुलाई की तय तारीख को लेकर कुछ नहीं बोल रहे हैं। एनसीआरटीसी की वेबसाइट पर भी अभी तक इस बारे में कोई अपडेट नहीं है।
  
Yesterday (23:24) NCR में एक साल में जुड़ जाएंगी मेट्रो और फीडर सेवाएं! (navbharattimes.indiatimes.com)
New Facilities/Technology
DMRC/Delhi Metro
0 Followers
1646 views

News Entry# 342808  Blog Entry# 3570100   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Posted by: a2z~ 2851 news posts
दिल्ली सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में मेट्रो से जुड़ रहे सभी शहरों में मेट्रो और सार्वजनिक परिवहन के अन्य साधनों को अगले एक साल में जोड़ दिया जाएगा। केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) को एनसीआर में 'लास्ट माइल कनेक्टिविटी' सुनिश्चित करने के लिए मेट्रो सेवा को फीडर बस सहित अन्य साधनों से जोड़ने को कहा है। आवास एवं शहरी मामलों के राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने डीएमआरसी से दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में त्वरित सार्वजनिक परिवहन सेवा से संबद्ध 'रेपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम' (आरआरटीएस) परियोजना को भी जोड़ने की कार्ययोजना पर काम शुरू करने को कहा है।
लेटेस्ट कॉमेंट
Read
...
more...
it
Sumit Panchariya
0 | 0 | 0 चर्चित |आपत्तिजनक
सभी कॉमेंट्स देखैंकॉमेंट लिखें
मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हाल ही में पुरी ने डीएमआरसी प्रबंधन को इस काम को अगले एक साल में पूरा करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए पृथक कंपनी के रूप में उपयुक्त आर्थिक निकाय बनाने को कहा है। मेट्रो प्रबंधन ने इसकी शुरुआत दिल्ली में फीडर बस सेवा को उन्नत करने के साथ कर दी है। डीएमआरसी ने दिल्ली में मेट्रो परिचालन को पांच जोन में बांटते हुए मेट्रो को जोड़ने वाले 52 मार्ग चिन्हित कर इन पर वातानुकूलित फीडर बस चलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मेट्रो के एक अधिकारी ने बताया कि इन रूट पर फीडर बस सेवा के लिए 427 बसों की खरीद प्रक्रिया चल रही है। इनमें 198 इलेक्ट्रिक और 229 सीएनजी फीडर बसें शामिल होंगी।
इस साल के अंत तक शुरू होने वाली ये बसें स्वचालित टिकिट प्रणाली से लैस होंगी। फिलहाल दिल्ली मेट्रो विभिन्न रूट तक यात्रियों की पहुंच आसान बनाने के लिए 269 फीडर बसों का परिचालन कर रही है। नई बसें चलने के बाद पुरानी बसों का परिचालन बंद कर दिया जाएगा। बात रेपिड रेल से जुड़ी आरआरटीएस परियोजना की करें तो इसके माध्यम से दिल्ली और मेरठ को जोड़ने का लक्ष्य है। अन्य शहरों को भी दिल्ली की तर्ज पर फीडर बस एवं अन्य साधनों से मेट्रो एवं रेपिड रेल से जोड़ा जाएगा।
Page#    323574 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Desktop site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy