Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
Search News
Page#    327047 news entries  next>>
  
. हिसार से जोधपुर आने वाली पैसेंजर डीएमयू ट्रेन की पॉवर कार (डीपीसी) से मेड़तारोड के पास गाय टकरा गई। इससे डीपीसी के आगे लगा कैटल गार्ड टूट गया। टूटे कैटल गार्ड को लेकर जोधपुर में मैकेनिकल व ऑपरेटिंग विभाग के बीच ट्रेन चलाने को लेकर सहमति नहीं बन पाई। एक विभाग हरी झंडी दे रहा था तो दूसरा लाल। दोनों विभागों की बात जानने के बाद रेलवे प्रशासन ने नतीजे के रूप में ट्रेन ही रद्द कर दी।
हुआ यूं कि ट्रेन संख्या 74836 हिसार से जोधपुर आ रही थी। रेन के पास गाय के टकराने से डीपीसी का कैटल गार्ड टूट गया। इसे जंजीर से बांध कर ट्रेन मेड़तारोड पहुंची तो वहां मैकेनिकल विभाग के कर्मचारियों ने मरम्मत कर अतिरिक्त
...
more...
इंजन के साथ चलने योग्य करार दे दिया। ट्रेन शाम को जोधपुर पहुंची। यहां से इसे ट्रेन संख्या 74837 बनकर शाम 5:15 बजे पालनपुर के लिए रवाना होना था। ऑपरेटिंग विभाग के अधिकारी ने प्रशासन पर मामला छोड़ दिया कि इसे चलाया जाए या नहीं? ट्रेन की जांच हुई तो मैकेनिकल विभाग के तकनीशियन ने राय दी कि इसे दूसरे इंजन के साथ चलाया जाए और लोको पायलट रास्ते में डीपीसी की संरक्षा को सुनिश्चित करते हुए आगे बढ़ता रहे, लेकिन लोको पायलट ने इसे सुरक्षित नहीं मानते हुए ट्रेन चलाने के लिए प्राधिकृत अधिकारी से आदेश की मांग की। बाद में लोको पायलट ने ट्रेन को फेल करार दे दिया।
यहां से हुई थी शुरूआत:शाम को मंडोर एक्सप्रेस के रैक को प्लेटफार्म पर लाने से पहले मैकेनिकल विभाग के कर्मचारी एसी कोच की कूलिंग चार्ज कर रहे थे। कर्मचारियों की मानें तो उन्होंने ट्रेन के आखिरी कोच पर खतरे का निशान लगाया हुआ था। ऑपरेटिंग विभाग ने इस रैक को प्लेटफार्म पर लाने के लिए चलाने के आदेश दे दिए। मैकेनिकल विभाग का कर्मचारी नीचे गिर गया और चार्जिंग के प्वाइंट भी टूट गए। इसको लेकर दोनों विभागों के कर्मचारियों के बीच नियमों को लेकर बहस छिड़ गई। इसी दौरान पालनपुर ट्रेन का मामला हुआ।
सही तथ्य देख फैसला लिया:डीआरएम गौतम अरोरा का कहना है कि ऐसा नहीं है कि दो विभागों के कारण ट्रेन रद्द की गई। यात्रियों की परेशानी को समझता है। दो विभागों की अलग-अलग राय होने पर उच्च अधिकारियों को निर्णय करना होता है और सही ढंग से निर्णय कर ट्रेन रद्द की गई।
  
Today (07:00) निर्माण कार्य में लेटलतीफी, रेलवे-लोक निर्माण विभाग आमने-सामने (mnaidunia.jagran.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
156 views

News Entry# 346745  Blog Entry# 3643754   
  Past Edits
Jul 20 2018 (07:00)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Raipur Junction/R  
गर्डर और सेंटरिंग का काम धीमे होने से आमानाका पुल के लिए मुश्किलें बढ़ीं
रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि
शहर में फ्लाईओवर के निर्माण कार्य को लेकर लोक निर्माण विभाग और रेलवे आमने-सामने आ गए हैं। निर्माण कार्यों में लेटलतीफी के चलते दोनों में खींचतान के हालात हैं, जिससे आम लोगों के लिए मुश्किलें खड़ी हो रही हैं। आमानाका पुल पर गर्डर चढ़ाने का काम नहीं हो सका है। सेंटरिंग और स्लैब के काम में निर्माण एजेंसी पिछड़ गई है।
लोक
...
more...
निर्माण विभाग के सूत्रों का दावा है कि रेलवे में फाइलें लटकने से देरी हो रही है। तीन माह पहले से गर्डर बनकर तैयार हैं, लेकिन लोड टेस्टिंग के काम में एक महीने देरी कर दी और अब सेंटरिंग के काम की फाइल लटक गई है। पुल की मरम्मत और चौड़ीकरण का काम पूरा करने के लिए छह गर्डर बनाए गए हैं। प्रत्येक गर्डर का वजह 50 टन तक है। भारी भरकम गर्डर को चढ़ाने के लिए बाहर से मशीनें (क्रेन) लाने की जरूरत पड़ेगी। वहीं रेलवे के सीनियर डीसीएम तनमय मुखोपाध्याय के कार्यालय से जानकारी मिली है कि रेलवे समय पर अपना काम पूरा कर रहा है।
- आमानाका फ्लाईओवर
कार्य- मरम्मत के साथ ब्रिज का चौड़ीकरण
-लोड टेस्टिंग, लांचिंग स्कील और सेंटरिंग ड्राइंग का काम पिछड़ा।
रेलवे का दावा
- जनरल ड्राइंग (जीएडी), स्ट्रक्चुअल ड्राइंग और गुणवत्ता योजना ड्राइंग क्यूएबी, डब्ल्यूपीएसएस रेलवे स्वीकृत कर चुका है। सीआरएस सेक्शन भी मिल चुका है। गर्डर लांचिंग स्कीम के लिए लोक निर्माण, राइट्स और रेलवे के द्वारा संयुक्त निरीक्षण हो चुका।
- गोंदवारा ओवरब्रिज
कार्य- रेल लाइन के ऊपर आरओबी का काम 80 फीसद पूरा।
स्थिति- डामर की सड़कें तैयार, लेकिन रेल लाइन के ऊपर स्पान-गर्डर का काम करने में पिछड़े।
रेलवे का दावा
- गर्डर लांचिंग का आरेख (ड्राइंग) अभी तक लोक निर्माण की तरफ से नहीं भेजा गया।
- शंकर नगर ब्रिज
कार्य- दोनों तरफ से सर्विस लेन तैयार है, सड़क बन गई है। रेल लाइन के ऊपर स्पान पर गर्डर चढ़ाने काम लटका।
स्थिति- रेलवे की अनुबंधित राइट्स कंपनी को गर्डर बनाने के लिए सालभर पहले नौ करोड़ का भुगतान किया गया है।
रेलवे का दावा
- सभी तरह के आरेख रेलवे की तरफ से स्वीकृत किए जा चुके हैं। काम पूरा करने की जिम्मेदारी अब राइट्स और लोक निर्माण विभाग की।
बॉक्स में
बैठक लेकर कार्यों की समीक्षा
लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि रेलवे के साथ संयुक्त प्रायोजन से चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा होगी। रेलवे अधिकारियों के साथ बैठक कर रुकावट को दूर करने का प्रयास होगा। पूर्व में आयोजित बैठक में निर्माण कार्य अगस्त तक पूरा करने के निर्देश दिए गए थे।
  
Today (06:59) रायपुर : निर्माण कार्य में लेटलतीफी, रेलवे और लोक निर्माण विभाग में ठनी (mnaidunia.jagran.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
167 views

News Entry# 346744  Blog Entry# 3643753   
  Past Edits
Jul 20 2018 (06:59)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Raipur Junction/R  
रायपुर। शहर में फ्लाईओवर के निर्माण कार्य को लेकर लोक निर्माण विभाग और रेलवे आमने-सामने आ गए हैं। निर्माण कार्यों में लेटलतीफी के चलते दोनों में खींचतान के हालात हैं, जिससे आम लोगों के लिए मुश्किलें खड़ी हो रही हैं। आमानाका पुल पर गर्डर चढ़ाने का काम नहीं हो सका है। सेंटरिंग और स्लैब के काम में निर्माण एजेंसी पिछड़ गई है।
लोक निर्माण विभाग के सूत्रों का दावा है कि रेलवे में फाइलें लटकने से देरी हो रही है। तीन माह पहले से गर्डर बनकर तैयार हैं, लेकिन लोड टेस्टिंग के काम में एक महीने देरी कर दी और अब सेंटरिंग के काम की फाइल लटक गई है। पुल की मरम्मत और चौड़ीकरण का काम पूरा करने के लिए छह गर्डर
...
more...
बनाए गए हैं।
प्रत्येक गर्डर का वजह 50 टन तक है। भारी भरकम गर्डर को चढ़ाने के लिए बाहर से मशीनें (क्रेन) लाने की जरूरत पड़ेगी। वहीं रेलवे के सीनियर डीसीएम तनमय मुखोपाध्याय के कार्यालय से जानकारी मिली है कि रेलवे समय पर अपना काम पूरा कर रहा है। - आमानाका फ्लाईओवर
कार्य- मरम्मत के साथ ब्रिज का चौड़ीकरण
-लोड टेस्टिंग, लांचिंग स्कील और सेंटरिंग ड्राइंग का काम पिछड़ा।
रेलवे का दावा
- जनरल ड्राइंग (जीएडी), स्ट्रक्चुअल ड्राइंग और गुणवत्ता योजना ड्राइंग क्यूएबी, डब्ल्यूपीएसएस रेलवे स्वीकृत कर चुका है। सीआरएस सेक्शन भी मिल चुका है। गर्डर लांचिंग स्कीम के लिए लोक निर्माण, राइट्स और रेलवे के द्वारा संयुक्त निरीक्षण हो चुका।
- गोंदवारा ओवरब्रिज
कार्य- रेल लाइन के ऊपर आरओबी का काम 80 फीसद पूरा।
स्थिति- डामर की सड़कें तैयार, लेकिन रेल लाइन के ऊपर स्पान-गर्डर का काम करने में पिछड़े।
रेलवे का दावा
- गर्डर लांचिंग का आरेख (ड्राइंग) अभी तक लोक निर्माण की तरफ से नहीं भेजा गया।
- शंकर नगर ब्रिज
कार्य- दोनों तरफ से सर्विस लेन तैयार है, सड़क बन गई है। रेल लाइन के ऊपर स्पान पर गर्डर चढ़ाने काम लटका।
स्थिति- रेलवे की अनुबंधित राइट्स कंपनी को गर्डर बनाने के लिए सालभर पहले नौ करोड़ का भुगतान किया गया है।
रेलवे का दावा
- सभी तरह के आरेख रेलवे की तरफ से स्वीकृत किए जा चुके हैं। काम पूरा करने की जिम्मेदारी अब राइट्स और लोक निर्माण विभाग की।
बैठक लेकर कार्यों की समीक्षा
लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि रेलवे के साथ संयुक्त प्रायोजन से चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा होगी। रेलवे अधिकारियों के साथ बैठक कर रुकावट को दूर करने का प्रयास होगा। पूर्व में आयोजित बैठक में निर्माण कार्य अगस्त तक पूरा करने के निर्देश दिए गए थे।
  
Today (06:57) रेलवे के सिटी बुकिंग काउंटर के लिए 1974 में बनी बिल्ंिडग जमींदोज (mnaidunia.jagran.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
172 views

News Entry# 346743  Blog Entry# 3643752   
  Past Edits
Jul 20 2018 (06:57)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Jabalpur Junction/JBP  
जबलपुर। रेलवे के सिटी बुकिंग ऑफिस के लिए 1974 में पुराने बस स्टैंड के पास नगर निगम ने जो बिल्िडग बनाई थी 44 साल बाद बुधवार को उसे धराशायी कर दिया गया। बेसमेंट के साथ 3 मंजिला इस भवन को जमींदोज करने में निगम की टीम को करीब 5 घंटे मशक्कत करनी पड़ी। इस बिल्िडग में नीचे रेलवे का सिटी बुकिंग काउंटर और ऊपर सेंट्रल लाइबे्ररी थी। रेलवे के इस काउंटर से लोगों को टिकट भी मिलती थी। करीब 20 साल तक रेलवे ने अपना बुकिंग काउंटर यहां संचालित कर उसे बंद कर दिया था। इसके आसपास ही सेंट्रल लाइबे्ररी भी बंद हो गई थी। बिल्डिंग में इन दोनों की जगह को नगर निगम ने मानव अधिकार आयोग को कार्यालय बनाने के लिए किराए पर दे दी थी। लेकिन दो दिन पहले ही वह कार्यालय भी खाली करा लिया गया और बिल्िडग तोड़ दी गई।
4
...
more...
जेसीबी लगीं एकसाथ
बुधवार की सुबह नगर निगम की 4 जेसीबी ने एकसाथ बिल्िडग को गिराने का काम शुरू किया। ये मशीनें पिछले 2 दिनों से इसी इंतजार में बिल्िडग के आसपास ही खड़ी थीं। अलग-अलग कोने से लगीं मशीनों ने 5 घंटे में बिल्िडग को पूरी तरह धराशायी का दिया।
बंद रहा रास्ता
बिल्िडग को तोड़ने की कार्रवाई के दौरान नगर निगम ने ब्लूम चौक से तीनपत्ती तक एक ओर का रास्ता बंद कर दिया था। शास्त्री ब्रिज की ओर से आने वालों को होमसाइंस कॉलेज की ओर डायवर्ट किया जा रहा था। कार्रवाई के दौरान शास्त्री ब्रिज से लेकर जबलपुर अस्पताल और होमसाइंस कॉलेज की ओर जाम लगा रहा।
एनएमटी और लेफ्ट टर्न में बनी थी बाधक
स्मार्ट सिटी लिमिटेड कंपनी बस स्टैंड से मदनमहल तक ओमती नाले के ऊपर एनएमटी (नॉन मोटराइज्ड ट्रैक) बना रहा है। जिसमें यह बिल्िडग बाधक बन रही थी। इसके अलावा शास्त्री ब्रिज से आकर एमएलबी की ओर मुड़ने के दौरान परेशानी होती थी। अब बिल्िडग टूटने से यह लेफ्ट टर्न और चौड़ा हो जाएगा।
  
Today (06:55) ट्रेनों में सफाई और बेड रोल से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे (mnaidunia.jagran.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
187 views

News Entry# 346742  Blog Entry# 3643750   
  Past Edits
Jul 20 2018 (06:55)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Jabalpur Junction/JBP  
जबलपुर। पश्चिम मध्य रेल में जबलपुर मंडल की 15 यात्री ट्रेनों के वातानुकूलित शयनयानों में बेड रोल बांटने और टॉयलेट सफाई की नई व्यवस्था से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। इससे 187 के स्थान पर 226 युवाओं को रोजगार मिलेगा। रेल मंडल के वरिष्ठ यांत्रिकी अभियंता एनके मिश्रा ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने रेल यात्रियों की सुविधा के लिए नवीन योजना बनाई है। जिसे उचित पाते हुए डीआरएम डॉ. मनोज सिंह ने लागू किया। अब तक 95 युवकों को बेड रोल बांटने में और 92 युवकों को टॉयलेट साफ करने के लिए लगाया जाता था। नई निविदा में इसी कार्य के लिए 187 के स्थान पर 226 युवकों को रोजगार मिलेगा। पहले दो एसी कोच में एक युवक कार्य करता था, लेकिन अब प्रत्येक कोच में एक युवक तैनात रहेगा।
Page#    327047 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Desktop site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy