Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
Search News

News Posts by Anupam Enosh Sarkar*^~

Page#    Showing 1 to 5 of 8599 news entries  next>>
  
Today (17:58) गढ़वा-चोपन रेलखंड पर जल्द दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक ट्रेनें (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
117 views

News Entry# 364753  Blog Entry# 3903052   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
जागरण संवाददाता, ओबरा (सोनभद्र): देश के व्यस्ततम ओद्यौगिक मालवाहक रेल मार्गों में शुमार गढ़वा-चोपन-¨सगरौली मार्ग पर इलेक्ट्रिक ट्रेनों के आवागमन के लिए अनुकूल स्थिति बनती जा रही हैं। उम्मीद है कि वर्ष के अंत अथवा आगामी वर्ष के प्रथम माह तक इस रेलखंड के सबसे बड़े रेलवे स्टेशन चोपन तक इलेक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। फिलहाल अभी रेणुकूट तक इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलाई जा रही हैं। कई दशकों तक उपेक्षित रहे इस मार्ग पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाए जाने को बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। इससे पहले पिछले वर्ष परीक्षण के तौर पर गढ़वा से मेराल ग्राम तक इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाई गई थी। उसके बाद इसे रेणुकूट तक बढ़ा दिया गया है। धनबाद रेल मंडल के सीनियर डीसीएम आशीष कुमार झा ने बताया कि अगले दो-तीन महीने में चोपन तक इलेक्ट्रिक ट्रेन चलने लगेंगी। बताया कि ¨सगरौली तक भी अगले वर्ष इलेक्ट्रिक ट्रेन संचालन शुरू करने की कवायद की जा...
more...
रही है।
विद्युतीकरण से बढ़ सकता है राजस्व
गढ़वा-¨सगरौली रेलखंड पर विद्युतीकरण के बाद धनबाद मंडल के राजस्व में भारी वृद्धि की संभावना है। फिलहाल पिछले वित्त वर्ष में धनबाद मंडल ने पूरे देश में सर्वाधिक राजस्व प्राप्ति में पुन: दूसरे स्थान पर कब्जा जमाकर जहां अपनी धाक जमाई है वहीं 123 मिलियन टन लो¨डग कर नया इतिहास रचा है। धनबाद डिवीजन ने तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपने सभी पुराने कीर्तिमान को ध्वस्त करते हुए 15,951 करोड़ रुपये के करीब राजस्व अर्जित किया है। वित्त वर्ष 2016-17 के मुकाबले 2017-18 में 12 एमटी अधिक लो¨डग हुई जबकि राजस्व आय में 2017 के मुकाबले करीब साढ़े चार हजार करोड़ रुपये का इजाफा हुआ। ऐसे में विद्युतीकरण के बाद मंडल के ईंधन खर्च में भारी कमी आ सकती है। साथ ही ट्रेनों की गति में भी अपेक्षित वृद्धि की संभावना है।
100 किमी प्रति घंटा होगी ट्रेनों की रफ्तार
गढ़वा-चोपन-¨सगरौली रेलखंड के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। रेल ट्रैक के जीर्णोद्धार, विद्युतीकरण एवं दोहरीकरण की प्रक्रिया के पूरा होने के बाद इस मार्ग पर 100 किमी प्रतिघंटा की गति से ट्रेनें दौड़ सकेंगी। पूर्व-मध्य रेलवे के धनबाद मंडल के अंतर्गत आने वाले इस मार्ग पर विद्युतीकरण के साथ सिग्नल के आधुनिकीकरण का कार्य भी चल रहा है। छह फेज में आधुनिकीकरण का कार्य बांटा गया है। सिग्नल को आधुनिक कर दिया गया है। इसके अलावा दोहरीकरण का कार्य भी तेजी से चल रहा है। हालांकि चोपन से ¨सगरौली के बीच भौगोलिक दुर्गमताओं के कारण दोहरीकरण की प्रक्रिया में देरी की संभावना है। इस हिस्से में दर्जनों पुल बनाने के साथ कई बड़ी पहाड़ियों ने कार्य की समय सीमा को बढ़ाया है। खासकर पुराने ट्रैक के समानांतर दूसरे ट्रैक के समतलीकरण का कार्य काफी कठिन माना जा रहा है। बीते मानसून सत्र के दौरान कई जगहों पर समतलीकरण के लिए लाई गई मिट्टी के बहने का मामला सामने आया है। हालांकि इसके बावजूद दोहरीकरण की प्रक्रिया में तेजी दिख रही है।
दोहरीकरण के लिए 2675.64 करोड़
रमना-¨सगरौली के बीच 160 किलोमीटर लंबी इस लाइन के दोहरीकरण पर 2675.64 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसके 2019-20 तक पूरा होने की संभावना है। धनबाद डिवीजन की यह लाइन झारखंड में गढ़वा, मध्य प्रदेश में ¨सगरौली तथा उत्तर प्रदेश में सोनभद्र जिलों से गुजरती है। अभी इस ¨सगल लाइन पर 105 फीसद यातायात घनत्व है। जिससे ट्रेनों में विलंब होता है।
  
Today (17:54) माथेरान की मिनी ट्रेन फिर से एक बार ट्रैक पर (www.mumbailive.com)
Commentary/Human Interest
CR/Central
0 Followers
144 views

News Entry# 364752  Blog Entry# 3903043   
  Past Edits
Oct 15 2018 (17:55)
Station Tag: Matheran/MAE added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Oct 15 2018 (17:55)
Station Tag: Neral Jn NG/NRLN added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Matheran/MAE   Neral Jn NG/NRLN  
पिछलें चार महीनों से बंद पड़ी माथेरान की रानी को फिर से एक बार शुरु किया जाएगा। मंडगलवार को इस सेवा को फिर से शुरु किया जा सकता है। बारिश के मौसम के दौरान नेरल से माथेरान तक मिली ट्रेन सेवा को बंद कर दिया गया था। हालांकी लोगों की नाराजगी को देखते हुए इसे फिर से चालू किया जा रहा है।
वातानुकूलित और पारदर्शक
दरअसल नेरल से माथेरान के दौरान बारिश के मौसम में बड़े पैमाने पर भूखल्लन होता है , जिससे यहां खतरा बना रहता है। इन स्थिती को देखकर
...
more...
मिनी ट्रेन को बंद करने का निर्णय लिया गया था। अब इस सेवा को फिर से एक बार ना ही सिर्फ शुरु किया जा रहा है बल्की इसे वातानुकूलित और पारदर्शक भी बनाया जा रहा है।
मिनी ट्रेन को 15 जून से नेरल- माथेरान के बीच बंद कर दिया गया था। जिसके बाद डब्बो के मरम्मत का कार्य शुरु कर दिया गया था। इसके अलावा, एनडीएम 1-402 और 403 के लिए दो नए इंजन मिनी ट्रेन के लिए तैयार किए गए हैं।
  
Today (17:51) घोषणा कर दी, नहीं दे रहे व्रत का खाना (www.patrika.com)
Commentary/Human Interest
WR/Western
0 Followers
152 views

News Entry# 364751  Blog Entry# 3903031   
  Past Edits
Oct 15 2018 (17:51)
Station Tag: Ratlam Junction/RTM added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Ratlam Junction/RTM  
स्टेशन से लेकर ट्रेन में नहीं उपलब्ध है साबुदाना से बनी डीश
रतलाम। कुछ दिन पूर्व रेलवे की सहयोगी संस्था आईआरसीटीसी ने घोषणा की थी कि नवरात्रि में व्रत करने वाले यात्रियों को व्रत का खाना उपलब्ध कराया जाएगा। १८ अक्टूबर तक इसको ट्रेन व प्लेटफॉर्म पर देने की घोषणा की थी। अब तक रेलवे स्टेशन पर इसकी शुरुआत नहीं हुई है। इतना ही नहीं, मंडल से निकलने वाली ट्रेनों में भी ये नहीं मिल रहा है। बता दे कि नवरात्रि के दो दिन पूर्व ही आईआरसीटीसी ने घोषणा की थी कि नवरात्रि पर्व को देखते हुए साबुदाना व सेंधा नमक से बना व्रत का खाना यात्रियों को ट्रेन व रेलवे स्टेशन पर मिलेगा। इसके लिए मध्यप्रदेश में रतलाम, इंदौर, उज्जैन, जबलपुर,
...
more...
भोपाल, इटारसी, ग्वालियर में इसको देने की घोषणा की गई थी।
चार दिन शेष शुरू तक नहीं
नवरात्रि समाप्त होने में चार दिन शेष है, लेकिन अब तक इसकी शुरुआत तक नहीं हो पाई है। यात्रियों के अनुसार जब वे प्लेटफॉर्म पर व्रत का खाना मांगते है तो वेंडर इस पर आश्चर्य व्यक्त कर रहे है। ये ही हालात ट्रेन के अंदर के पेंट्रीकार की भी है। ट्रेन में भी ये नहीं मिल रहा है। एेसे में अब वे यात्री परेशान हो रहे है जो उपवास करके यात्रा कर रहे है।
नहीं मिल रहा कही भी
नवरात्रि का उपवास है। रेलवे ने घोषणा की थी कि व्रत का खाना मिलेगा, लेकिन ये न ट्रेन में उपलब्ध है न प्लेटफॉर्म पर। एेसे में परेशानी हो रही है। पहले से पता होता तो घर से लेकर आते।
- राजेश कुमार त्रिवेदी, यात्री
सोशल मीडिया पर ट्वीट करें
अगर किसी प्रकार की परेशानी है, घोषणा का पालन नहीं हुआ है तो यात्रियों से अपील है कि वे सोशल मीडिया पर ट्वीट करें।
- जेके जयंत, जनसंपर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल
  
शामली. आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा द्वारा रेलवे स्टेशन को उडाने की धमकी भरा पत्र मिलने से रेलवे विभाग में हडकंप मचा हुआ है। जीआरपी व सीओ सहारनपुर के निर्देशन में गठित स्वाट टीम ने सहारनपुर से दिल्ली जाने वाली पैसेंजर रेलगाडी के साथ-साथ रेलवे स्टेशन पर सर्च ऑपरेशन चलाया। इस दौरान उन्होंने मेटल डिटेक्टर से यात्रियों की तलाशी ली। साथ ही स्टेशन पर घूम रहे संदिग्ध इन लोगों से भी पूछताछ की। सर्च ऑपरेशन से यात्रियों में भी हडकंप मचा रहा। पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वार उत्तर प्रदेश के साथ-साथ हरियाणा दिल्ली उत्तराखंड के कई स्टेशनों को उड़ाने की धमकी भरा पत्र मिलने के बाद से अलर्ट जारी कर दिया गया है। रेलवे पुलिस व प्रशासन हरकत में है। सहारनपुर जीआरपी के सीओ राकेश दीक्षित पुलिस की विशेष टीम के साथ शामली पहुंचे और अचानक रेलवे प्लेटफार्म व ट्रेनों में सर्च ऑपरेशन चलाया। पुलिस टीम ने दिल्ली से सहारनपुर और...
more...
सहारनपुर से दिल्ली की ओर जाने वाली सभी ट्रेनों में चेकिंग अभियान चलाया। सर्च ऑपरेशन के दौरान उन्होने रेलगाडी में सवार यात्रियों के बैग आदि सामानों की जांच की। मेटल डिटेक्टर की सहायता से तलाशी ली गई। अचानक रेलगाडी व स्टेशन पर हुई चेकिंग से ट्रेन में सवार यात्रियों में हडकंप मच गया और बिना टिकट यात्रा कर रहे कई यात्री तो मौके से भागते नजर आए।सहारनपुर जीआरपी सीओ राकेश दीक्षित ने बताया कि केन्द्र सरकार को आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा द्वारा रेलवे स्टेशन को उड़ा देने की धमकी भरा पत्र मिला है। जिसके लिए उक्त अभियान चलाया गया है। अभियान सहारनपुर से लेकर बडौत तक पड़ने वाले सभी रेलवे स्टेशन पर चलाया जा रहा हैं। इस दौरान जीआरपी थानाध्यक्ष राकेश कुमार सहित सभी पुलिस कर्मी मौजूद रहे।
  
बीकानेर. खेल के दम पर रोजगार पाना आज चुनौती बन गया है। ऐसे में साइक्लिंग खेल ने रोजगार की उम्मीद जगा रखी है। खासकर इस खेल के जरिए रेलवे ने युवाओं को नौकरी का अवसर दिया है। बीकानेर के कई होनहार साइक्लिस्ट रेलवे में काम कर रहे हैं। दो साल में बीकानेर के करीब आधा दर्जन युवा साइक्लिस्टों को रेलवे की नौकरी मिली है। इसमें कुछ बीकानेर मंडल में ही कार्यरत हैं, तो कुछ पूर्वोत्तर रेलवे में नौकरी कर रहे हैं। रेलवे में फुटबॉल को छोड़कर अन्य खेलों की भर्ती ही होती है। मुख्यालय ने ग्रुप डी में फुटबॉल खेल का कोटा ही बंद कर रखा है। इसके पीछे कारण उम्दा प्रदर्शन नहीं होना माना जा रहा है। नई भर्ती नहीं होने से खिलाडिय़ों का टोटा है। रेलवे में ग्रुप सी में ही खेल कोटे की भर्ती की जा रही है। इसमें भी महज उस फुटबॉल प्लेयर को ही नौकरी मिल सकती...
more...
है, जो राष्ट्रीय स्तर पर उम्दा खेल का प्रदर्शन कर चुका हो। 
प्रत्येक जोन में 25 सीटें
भारतीय रेलवे के 16 जोन हैं। अभी प्रत्येक जोन में 2५ सीटें खेल कोटे की है। इसमें किसी भी खेल के योग्य खिलाड़ी को मौका मिल सकता है। रेल मंडल खेलकूद संघ के सचिव ओमप्रकाश जाट की मानें तो बीकानेर में फुटबॉल खिलाडिय़ों को एक अच्छा प्लेटफार्म, उम्दा कोच मिले, तो यहां की प्रतिभाएं सामने आएंगी। 
योग्य खिलाडि़यों को मौका
रेलवे में ग्रुप सी में खेल कोटा है। इसके माध्यम से नौकरी पा सकते हैं। देशभर में रेलवे में जोनवार खेल कोटा है। योग्यताधारी खिलाडिय़ों को मौका भी मिल रहा है।
नील महला, रेल मंडल खेलकूद अधिकारी, बीकानेर
Page#    8599 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Desktop site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy