Full Site Search  
Thu Jan 18, 2018 19:10:13 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;


BLT/Balotra (2 PFs)
     बालोतरा

Track: Single Diesel-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 17
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
National Highway 112, Balotra
State: Rajasthan
add/change address
Elevation: 114 m above sea level
Zone: NWR/North Western
Division: Jodhpur
 
 
No Recent News for BLT/Balotra
Nearby Stations in the News

Rating: 5.0/5 (1 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - excellent (1)
safety - n/a (0)

Nearby Stations

JNE/Janiyana 9 km     KHTX/Khed Temple Halt 15 km     TWL/Tilwara 17 km     PRU/Parlu 19 km     GOLE/Gole 27 km     SMR/Samdari Junction 33 km     BMQ/Bhimarlai 38 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  
बालोतरा | खेड़गांव में रेलवे प्लेटफार्म का कार्य अधूरा रहने से हर समय यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ती है। प्लेटफार्म पर जगह-जगह पत्थर कंकरीट बिखरी पड़ी है, ऐसे में प्लेटफार्म पर पहुंचने वाले यात्रियों को खड़े रहने में दिक्कतें होती है। प्लेटफार्म का निर्माण करने के लिए ग्रामीणों ने कई बार रेलवे प्रशासन स्थानीय प्रशासन के साथ ही जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई, लेकिन समस्या का समाधान करने में कोई रूचि नहीं दिखा रहा है। आधे-अधूरे प्लेटफार्म से हर समय हादसा होने का अंदेशा रहता है, लेकिन इस ओर रेलवे प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। कभी-कभार तो प्लेटफार्म के साथ ही रेलवे ट्रैक पर आवारा पशु विचरण करते है। उल्लेखनीय है कि खेड़ स्थित प्रसिद्ध रणछोड़राय तीर्थ होने से जिले के साथ ही अन्य क्षेत्रों से बड़ी संख्या में यात्री पहुंचते है। रेल के माध्यम से पहुंचने वाले यात्रियों को रेल से उतरने चढ़ने में परेशानी झेलनी पड़ती है। गत...
more...
दिनों ही तीर्थ पर कोई बड़ा आयोजन था, इसको लेकर हजारों की संख्या में यात्री पहुंचे, लेकिन रेलवे की अधूरी सुविधाएं से उनको कठिनाइयां देखनी पड़ी।
चारवर्ष से अधूरा पड़ा निर्माण कार्य : रेलवेप्लेटफार्म का निर्माण कार्य चार वर्ष से अधूरा पड़ा है। चार वर्ष पूर्व प्लेटफार्म बनाने के लिए सामग्री रखकर निर्माण किया गया, लेकिन आधा-अधूरा छोड़ दिया। अभी तक निर्माण शुरू नहीं किया गया। प्लेटफार्म की दुर्दशा पूरी तरह बिगड़ी हुई है।
हरसमय हादसा होने की आशंका :रेलवे ट्रैक से प्लेटफार्म की ऊंचाई भी काफी कम है। दिन में कई बार रेलवे ट्रैक पर आवारा पशु विचरण करते है। पशुओं को हटाने में ग्रामीणों को बड़ी परेशानी उठानी पड़ती है। रेल के आने-जाने पर हर समय ग्रामीणों को रेलवे ट्रैक पर निगरानी रखनी पड़ती है इससे आवारा पशु के साथ ही अन्य किसी को नुकसान नहीं हो सके।
^इससंबंध में कई बार रेलवे के साथ ही स्थानीय प्रशासन को अवगत करवा चुके है, लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहे। -मांगीलाल देवासी, ग्रामीण, कलावा
^प्लेटफार्मनहीं बनने से यात्रियों को रेल से उतरने चढ़ने में परेशानी होतीी है। -महेंद्रसिंहमहेचा, ग्रामीण
Jul 05 2016 (07:30)  A Fire Engine From The Passenger Train Station-स्टेशन से पैसेंजर ट्रेन के इंजन में आग, यात्रियों में मची अफरा तफरी (www.bhaskar.com)
back to top
Crime/AccidentsNWR/North Western  -  

News Entry# 272827     
   Past Edits
Jul 05 2016 (7:30AM)
Station Tag: Balotra/BLT added by Subhash/746156

Jul 05 2016 (7:30AM)
Train Tag: Barmer Jodhpur Passenger/54816 added by Subhash/746156
Stations:  Balotra/BLT  
Posted by: Subhash  1044 news posts
 
 
बालोतरा रेलवे स्टेशन पर सोमवार को बड़ा हादसा होते-होते रह गया। बाड़मेर से जोधपुर जा रही साधारण सवारी गाड़ी 54816 बालोतरा रेलवे स्टेशन से रवाना होने वाली थी कि इंजन के टर्मिनल बॉक्स में आग लग गई। आग से एकबारगी पूरे स्टेशन पर अफरा-तफरा मच गई।
आग की लपटें देखकर यात्री रेल से बाहर की तरफ भागे। इस बीच पायलट ने सूझबूझ से इंजन को बंद कर दिया। तुरंत रेल से अग्निशमन यंत्र निकाले और खुद ने ही आग पर काबू पाने का प्रयास शुरू किया। लेकिन आग बेकाबू होने के साथ लपटें गगनचुंबी होने लगी। दो अग्निशमन यंत्र रेलवे स्टेशन से लाए गए, लेकिन आग नहीं बुझी। इस पर तुरंत फायरब्रिगेड को सूचना दी गई।
फायरब्रिगेड
...
more...
5 मिनट में मौके पर पहुंच गई और करीब 20 मिनट के प्रयास के बाद आग पर काबू पा लिया। इसके बाद यात्रियों की सांस में सांस आई। आग लगने की वजह प्रथम दृष्टया से शार्ट सर्किट होने बताया गया। इस बीच, नया इंजन आने तक करीब एक घंटा और 10 मिनट ट्रेन बालोतरा रेलवे स्टेशन पर ही खड़ी रही। समदड़ी से दूसरा इंजन आने के बाद ट्रेन जोधपुर के लिए रवाना हुई।
पायलट की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा
आग की घटना के वक्त ट्रेन स्टेशन पर खड़ी थी। गनीमत रही कि आग चलती ट्रेन के इंजन में नहीं लगा। वरना बड़ा हादसा हो सकता था। क्योंकि खड़े इंजन में आग लगने पर तत्परता से उस पर काबू पा लिया गया। आग टर्मिनल व पैनल बॉक्स तक ही सीमित रही। इनके एकदम नीचे ही डीजल टैंक था। अगर आग वहां तक पहुंच जाती हो विस्फोट हो सकता था, लेकिन गनीमत रही आग वहां नहीं पहुंची और पायलट ने इंजन को चलाने के बजाय बंद कर दिया। जिससे बड़ा हादसा होते-होते टल गया।
दहशत में रहे यात्री, ट्रेन से बाहर भागे
जैसे ही इंजन में आग की खबर लगी तो बड़े हादसे की आशंका के चलते यात्रियों में दहशत व्याप्त हो गई। चिंता सताने लगी कि कहीं बड़ा हादसा नहीं हो जाए। कई यात्री तो ट्रेन से बाहर भाग गए। जब तक आग पर काबू नहीं पाया गया, तब तक काफी दूरी बनाई रखी।
यात्रियों को झेलनी पड़ी परेशानी :आग की घटना के चलते ट्रेन के देरी से चलने के कारण यात्रियों को काफी परेशानियां हुई। खासकर उन्हें जो यात्री समदड़ी व लूनी जंक्शन से लिंक ट्रेनों को पकड़ना चाहते थे। करीब सवा घंटे तक दूसरे इंजन लगने के बाद ट्रेन रवाना हुई।
Page#    Showing 1 to 2 of 2 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.