Full Site Search  
Fri Jul 28, 2017 22:39:22 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;
Large Station Board;

KNW/Khandwa Junction (5 PFs)
     खंडवा जंक्शन

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 5
Number of Halting Trains: 148
Number of Originating Trains: 3
Number of Terminating Trains: 3
Khandwa RLY. Station, Bada Pul Road, Infront Of Indian Post Office, Khandwa (M.P.) 450001
State: Madhya Pradesh
Elevation: 309 m above sea level
Zone: CR/Central
Division: Bhusaval
2 Travel Tips
KNW/Khandwa Junction is in Recent News
Nearby Stations in the News

Rating: 4.0/5 (82 votes)
cleanliness - good (13)
porters/escalators - good (10)
food - good (10)
transportation - excellent (10)
lodging - good (10)
railfanning - good (11)
sightseeing - good (9)
safety - excellent (9)

Nearby Stations

BRGJ/Bargaon Gujar 5 km     MTA/Mathela 8 km     BMA/Bagmar 11 km     ANI/Ajanti 11 km     KDK/Kohdad 15 km     MRDD/Mordar 16 km     TLV/Talvadiya Junction 16 km     DGN/Dongargaon 23 km     JRWN/Jirwan 24 km     KHA/Khaigaon 27 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 97 News Items  next>>
Yesterday (14:31)  खंडवा-आकोट गेज परिवर्तन, 15 अगस्त के बाद शुरू होगा काम (m.bhaskar.com)
back to top
Other NewsSCR/South Central  -  

News Entry# 309771   Blog Entry# 2363978     
   Tags   Past Edits
Jul 27 2017 (14:31)
Station Tag: Mhow/MHOW added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 27 2017 (14:31)
Station Tag: Sanawad/SWD added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 27 2017 (14:31)
Station Tag: Akot/AKOT added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 27 2017 (14:31)
Station Tag: Akola Junction/AK added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 27 2017 (14:31)
Station Tag: Khandwa Junction/KNW added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 27 2017 (14:31)
Train Tag: Ajmer - Hyderabad Superfast Express/12719 added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Posted by: 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~  91 news posts
खंडवा-अकोला ब्रॉडगेज का काम 2022 में होगा पूरा, आकोट-अकोला के बीच चल रहा अर्थवर्क
भास्कर संवाददाता | खंडवा
खंडवा-आकोट मीटरगेज ट्रैक के ब्रॉडगेज कन्वर्जन का काम अगस्त से शुरू होगा। इसके लिए खंडवा-आकोट के बीच मीटरगेज ट्रैक का सर्वे चल रहा है। सर्वे पूरा होने पर 15 अगस्त के बाद ट्रैक की पटरियों को उखाड़ने के साथ अर्थवर्क का काम शुरू होगा।
अकोला
...
more...
से आकोट व खंडवा से सनावद के बीच अर्थवर्क का काम तेजी से चल रहा है। खंडवा-अकोला गेज कन्वर्जन का काम 2022 में पूरा होने की संभावना है। सूत्रों के मुताबिक साउथ-सेंट्रल रेलवे सिकंदराबाद के नांदेड डिविजन के तहत अाने वाले अकोला-खंडवा सेक्शन का काम धीमी गति से हो रहा है। रेलवे अफसरों ने बताया मेलघाट टाइगर रिजर्व क्षेत्र में ट्रैक कन्वर्जन की मंजूरी का प्रकरण पर्यावरण मंत्रालय के पास अटका है। वन क्षेत्र में ब्रॉडगेज के कारण वन्य जीवों को होने वाले नुकसान का आंकलन पर्यावरण मंत्रालय कर रहा है। गौरतलब है 172 खंडवा से अकोला की दूरी 172 किमी है। इसमें से अकाेला से आकोट 25 किमी तक अर्थवर्क शुरू हो गया है। गेज कन्वर्जन पर दो हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे।
2018 में पूरा होगा खंडवा-सनावद का गेज कन्वर्जन
जानकारी के मुताबिक पश्चिम रेलवे मुंबई के रतलाम डिविजन के तहत खंडवा-सनावद 56 किमी गेज कन्वर्जन का काम 2018 दिसंबर में पूरा होगा। गेज कन्वर्जन के लिए अबतक 956 करोड़ रुपए मिल चुके है। इसमें खरगोन के सेल्दा से बीड़ थर्मल पावर को जोड़ने के लिए एनटीपीसी ने रेलवे को 456 करोड़ रुपए दिए है। इसके लिए रेलवे मथेला से अहमदपुर खैगांव के बीच 9 किमी का नया रेलवे बायपास बनाने के लिए सर्वे का काम पूरा कर चुका है। रतलाम डिविजन नांदेड मंडल के खंडवा स्टेशन से चिड़िया मैदान तक के 1.5 किमी ट्रैक व स्टेशन का निर्माण भी करेगा।


441 views
Yesterday (19:54)
a2z~   1528 blog posts
Re# 2363978-2            Tags   Past Edits
Khandwa- Mhow GC is very important and must be completed on priority at the earliest.
Jul 11 2017 (08:47)  बाल झडऩे से परेशान छात्रा ने ट्रेन के सामने कूदकर दी जान (www.patrika.com)
back to top
Other News

News Entry# 308031     
   Tags   Past Edits
Jul 11 2017 (08:47)
Station Tag: Khandwa Junction/KNW added by The Phenomenal One~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  871 news posts
खंडवा. मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में सिर पर बाल कम होने और झडऩे से परेशान एक छात्रा ने सोमवार शाम ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। ट्रैक पर शव पड़ा देख गैंगमैन ने पुलिस को सूचना दी। जानकारी मिलते ही रामेश्वर चौकी प्रभारी घटनास्थल पर पहुंचे और शव का पंचनामा बनाकर अस्पताल पीएम के लिए भेज दिया। शव के पास से पुलिस को सुसाइड नोट भी मिला है। पुलिस के अनुसार निकिता (20) पिता अनिल लाड निवासी पिपलकोटा अपने चाचा के घर किशोर नगर में रहकर पढ़ाई कर रही थी। वह एसएन कॉलेज में बीएससी की छात्रा थी।
सोमवार सुबह कॉलेज गई। कॉलेज पूरा कर वह बस से अपने गांव पिपलकोटा रवाना हुई। इसी दौरान सिहाड़ा रोड स्थित आंगन ढाबे के पास
...
more...
उतर गई। यहां से रेलवे ट्रैक पर पहुंची और ट्रेन के सामने आकर जान दे दी। पुलिस की जांच में मृतिका छात्रा के बैग से सुसाइड नोट मिला है। पुलिस के मुताबिक सुसाइड नोट में लिखा है कि सिर पर बाल कम होने और लगातार झडऩे के कारण परेशान हूं। सिर पर बाल कम होने से मुझे अच्छा नहीं लगता है। कई डॉक्टर्स से इलाज करा लिया, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। इसी कारण आत्महत्या कर रही हूं। साथ ही लिखा ही मेरी मौत की जिम्मेदार मैं स्वयं हूं। इधर, रामेश्वर चौकी प्रभारी विनोद नागर का कहना है मर्ग कायम कर जांच शुरू की है। शव का पीएम कराकर परिजन को सौंप दिया है।
Jul 02 2017 (18:04)  Vidarbha Chamber of Commerce & Industry asks Rail Minister to reconsider Akot-Khandwa GC works (www.railnews.in)
back to top
Other NewsSCR/South Central  -  

News Entry# 307209     
   Tags   Past Edits
Jul 02 2017 (18:04)
Station Tag: Khandwa Junction/KNW added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 02 2017 (18:04)
Station Tag: Akot/AKOT added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 02 2017 (18:04)
Station Tag: Akola Junction/AK added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Jul 02 2017 (18:04)
Train Tag: Ajmer - Hyderabad Superfast Express/12719 added by 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~/873766

Posted by: 🚂अलविदा खंडवा मिटरगेज🙋🙋~  91 news posts
NAGPUR: After wildlife conservationists, the Vidarbha Chamber of Commerce and Industry (VCCI) has opposed the railway ministry’s move to broaden the metre gauge Akot-Khandwa line that passes through the bio-diversity-rich Melghat Tiger Reserve (MTR) in Amravati district.
The railways has taken up work on Akola-Khandwa (176km) gauge conversion work between the vulnerable section of Akot-Amlakhurd railway stations under the South Central Railway (SCR). It involves diversion of 161 hectare forest area of Wan Tiger Sanctuary and cuts the reserve towards the southern tip.
The Akola-based body of traders has urged railway minister Suresh
...
more...
Prabhu that though the National Board for Wildlife (NBWL) has approved the mega project, railways will have to spend huge money on mitigation measures and will also have to pay Rs350 crore to the forest department towards relocation of villages.
Of the 176km railway line, over 38km passes through wildlife rich area of tiger reserve and buffer zone. Yet, upgradation was recommended as there was tremendous pressure from the MoEFCC to clear the project at any cost.
The VCCI letter signed on May 19 by Ashok Kumar Dalmiya, the national secretary of Confederation of All India Traders (CAIT), Delhi, and VCCI president Vijay Panpaliya says alternative route, which does not pass through the tiger reserve should be used.
The traders’ body said due to non-receipt of forest clearance, in 2009-2015, railways had conducted a survey for alternative route which does not pass through tiger reserve and its buffer. If the alternative route is taken up, the length of the railway line increases by just 29km. The VCCI has also enclosed the survey map to Prabhu.
The gauge conversion of the metre gauge line is pending for a decade. The standing committee of NBWL cleared the proposal to divert 161 hectare forest land to widen the railway line in its 40th meeting held in Delhi on January 3, 2017.
However, the VCCI has suggested that if railways decides to construct the line through new route all measures, such as restriction of speed and future doubling of the line, will be done on the new route.
Besides, the new route will also bring important towns like Hiwarkhed, Telhara, Sonala, Jalgaon Jamod on the railway map and benefit large number of farmers.
“On the contrary, construction of the railway line through the tiger reserve and its buffer zone will need relocation of villages. Hence, the railways should construct the new line on the revised route as per survey done so that trains speed is maintained and there is scope for future development like doubling of line,” says VCCI.
Earlier, ex-member of NBWL Standing Committee Kishor Rithe, who was member of the joint inspection panel of the project, too had suggested an alternate alignment.
Later, Rithe in his representation to Prabhu on June 9, last had said that work between Amalakhurd-Akot (77.5km) passes through hilly part of MTR.
“If the railways follow the same alignment and gradient, it will not allow to attain the speed more than 60 kmph and also won’t connect maximum villages from Akola-Amravati and Buldhana districts. Considering both the aspects, people in this region as well as MTR administration had demanded diversion of this line through plain area to maximize benefits,” Rithe said.
Jun 27 2017 (08:56)  प्लेटफॉर्म से गुजर गईं ट्रेनें, स्टेशन पर चलती रही 'मन की बात' (naidunia.jagran.com)
News Entry# 306637     
   Tags   Past Edits
Jun 27 2017 (08:56)
Station Tag: Khandwa Junction/KNW added by The Phenomenal One~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  871 news posts
खंडवा। रेलवे स्टेशन पर रविवार सुबह करीब 11 बजे यात्रियों को ट्रेनों के आगमन-प्रस्थान की जानकारी लेने के लिए परेशान होना पड़ा। यहां अनाउंसमेंट की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'मन की बात' कार्यक्रम के प्रसारण के चलते यह स्थिति बनी।
जब यात्रियों ने रेलवे अधिकारियों से ट्रेनों की जानकारी नहीं मिलने की शिकायत की तो पहले अधिकारी आपस में ही इसे लेकर बहस करने लगे। बाद में भुसावल मंडल के आदेश का हवाला दिया। इसके साथ ही ट्रेनों के आने-जाने पर उनकी उद्घोषणा करने के निर्देश दिए गए।
सेंट्रल रेलवे के भुसावल
...
more...
मंडल में आने वाले खंडवा जंक्शन से रोजाना 100 से अधिक ट्रेनें गुजरती हैं। यहां से करीब 20 हजार यात्री आवाजाही करते हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए प्लेटफॉर्म पर ट्रेनों की आवाजाही का प्रसारण होता है लेकिन उद्घोषणा के साथ विज्ञापन का ठेका दिए जाने से गत माहों में यह व्यवस्था गड़बड़ाती नजर आ रही है।
प्लेटफॉर्म पर उद्घोषणा की जगह विज्ञापन चलते रहते हैं और यात्रियों की ट्रेनों की जानकारी नहीं मिल पाती। रविवार सुबह करीब 11 बजे अनाउंसमेंट की जगह यहां पीएम के 'मन की बात' कार्यक्रम का प्रसारण शुरू हो गया।
करीब 10 मिनट तक लगातार यह कार्यक्रम चलता रहा, इसी बीच प्लेटफॉर्म से ट्रेनों की आवाजाही चालू रही। पुष्पक एक्सप्रेस के गुजरने का अनाउंसमेंट नहीं होने पर एक यात्री ने रेलवे अधिकारियों को इसकी जानकारी दी तो अधिकारियों के बीच ही बहस की स्थिति बन गई।
बाद में वाणिज्यिक अधिकारियों ने कहा कि मन की बात कार्यक्रम के प्रसारण के लिए भुसावल मंडल से आदेश मिले हैं। इसके बाद उद्घोषणा करने वाले कर्मचारियों को निर्देश दिए गए कि कार्यक्रम के बीच जब ट्रेनों का आवागमन हो तो पहले यात्रियों को उसकी जानकारी दी जाए।
यात्रियों ने कहा हमारे लिए सूचना जरूरी
प्लेटफॉर्म पर मौजूद यात्रियों का कहना था कि स्टेशन पर मन की बात कार्यक्रम से हमें आपत्ति नहीं है, लेकिन स्टेशन परिसर में यात्रियों के लिए ट्रेनों की सूचना अधिक महत्वपूर्ण है। परिजनों को लेने पहुंचे यात्री रोहित सोनी ने कहा कि मैं पुष्पक एक्सप्रेस से रिश्तेदारों को लेने आया था लेकिन ट्रेन आने से पहले इसका अनाउंसमेंट ही नहीं हुआ।
जब ट्रेन प्लेटफॉर्म पर पहुंच गई तब मैंने कोच तक पहुंचकर परिजनों को ढूंढा। इसी तरह इटारसी की ओर जा रही ट्रेन की प्रतीक्षा कर रहे राकेश यादव ने कहा कि प्लेटफॉर्म पर अधिकांश समय विज्ञापनों का प्रसारण चलता रहता है, आज मन की बात कार्यक्रम चल रहा है। ऐसे में यात्रियों को ट्रेनों की जानकारी नहीं मिल पाती।
जानकारी देने के निर्देश
स्टेशन पर मन की बात कार्यक्रम के प्रसारण के लिए मंडल स्तर से निर्देश मिले हैं। रविवार को इसका पहला दिन था इस कारण थोड़ी देर के लिए उद्घोषणा का कार्य प्रभावित हुआ। कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि कार्यक्रम प्रसारण के बीच ट्रेनों के आगमन-प्रस्थान के समय यात्रियों को ट्रेनों की जानकारी दी जाए। ट्रेनों की आवाजाही के दौरान विज्ञापन का प्रसारण नहीं करने के भी निर्देश दिए गए हैं। - आलोक चौरे, स्टेशन प्रबंधक
Apr 24 2017 (09:09)  भुसावल-इटारसी के बीच अवैध वेंडरों ने बांटे रूट और ट्रेन (naidunia.jagran.com)
News Entry# 300598   Blog Entry# 2248582     
   Tags   Past Edits
Apr 24 2017 (09:09)
Station Tag: Khandwa Junction/KNW added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Apr 24 2017 (09:09)
Station Tag: Itarsi Junction/ET added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Apr 24 2017 (09:09)
Station Tag: Bhusaval Junction/BSL added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  871 news posts
खंडवा। नईदुनिया प्रतिनिधि
गर्मी में ट्रेनों में भीड़ बढ़ने के साथ ही अवैध वेंडर भी बढ़ गए हैं। रेलवे के जानकारों के अनुसार भुसावल से इटारसी के बीच ट्रेनों में 650 से अधिक अवैध वेंडर सक्रिय हैं। इन अवैध हॉकर व वेंडरों ने रूट और ट्रेन बांध रखे हैं। ट्रैक पर रॉन्ग साइड से सामग्री बेचना, ट्रेन आते ही स्टेशन पर सक्रिय होना और चलती ट्रेन में चढ़ने-उतरने के नजारे आम हो गए हैं। यह अवैध वेंडर यात्रियों से मनमानी राशि वसूल रहे हैं, इस दौरान कई बार विवाद की स्थिति भी बन रही है।
खंडवा
...
more...
जंक्शन से रोजाना 100 से अधिक ट्रेनें गुजरती हैं। इटारसी से भुसावल के बीच ट्रेनों में सैंकड़ों अवैध वेंडरों ने ट्रेन और रूट बांट लिए हैं। ग्रीष्मकाल में ट्रेनों में यात्रियों की भीड़ बढ़ने के साथ ही अवैध वेंडर भी सक्रिय हैं। खंडवा स्टेशन पर वैध वेंडरों की संख्या 100 से भी कम है लेकिन यहां इससे दोगुने अवैध वेंडर सक्रिय नजर आते हैं। प्लेटफॉर्म पर ट्रेन के आते ही वे कोच की खिड़कियों के पास मंडराने लगते हैं। अवैध वेंडरों के हौसले इतने बुलंद हैं कि रेलवे ट्रैक पर रॉन्ग साइड से भी खाद्य व पेय सामग्री बेचते हैं।
पीछे से करते हैं प्रवेश
अधिकांश अवैध वेंडर ट्रेन आने के पहले स्टेशन परिसर में पीछे से प्रवेश करते हैं। ट्रेन में सवार होकर व ट्रैक पर घूमकर सामग्री बेचते हैं और ट्रेन रवाना होते ही भाग जाते हैं। अवैध वेंडरों द्वारा यात्रियों से विभिन्न सामग्रियों के मनमाने दाम भी वसूले जा रहे हैं। यह ट्रेन में यात्रियों से विवाद भी करते हैं।
ब्रिज के नीचे वेंडरों ने बनाया अड्डा
रेलवे स्टेशन पर अवैध वेंडरों ने लेटफॉर्म नंबर एक व दो के बीच बने ब्रिज के नीचे अड्डा बना लिया है। यहां सामान रखते हैं लेकिन रेलवे प्रशासन और आरपीएफ को नजर नहीं आता। जीआरपी थाने, कंट्रोल पैनल, प्याऊ और यात्री सहायता केंद्र के बाहर अवैध वेंडर आइस बॉक्स, बाल्टी और पेटी रखते हैं। कंट्रोल पैनल और प्लेटफॉर्म नंबर छह के पास इटारसी और भुसावल से आने वाले अवैध वेंडरों का भी जमावड़ा लगा रहता है।
न अधिकारियों का खौफ, न कार्रवाई का डर
- रविवार दोपहर 1 बजे खंडवा स्टेशन पर पहुंची लश्कर सुपर फास्ट ट्रेन में प्लेटफॉर्म नंबर छह की ओर से अवैध वेंडर ने प्रवेश किया। यहां पानी की बोतल के लिए 25 रुपए मांगे। स्लीपर कोच के कई यात्रियों ने 25 रुपए चुकाकर पानी की बोतलें खरीदीं।
- रविवार दोपहर 1.20 बजे अवैध वेंडर शीलतपेय लेकर प्लेटफॉर्म नंबर तीन पर खड़ी ट्रेन में घुसा। इसी तरह दूसरा वेंडर अपना सामान बेचकर पटरी पार करता हुआ प्लेटफॉर्म नंबर दो पर आया। इन्हें न अधिकारियों का खौफ है न कार्रवाई का डर।
- दोपहर दो बजे कामायनी एक्सप्रेस में अवैध वेंडर ने यात्रियों को सामान बेचा तभी ट्रेन रवाना हो गई, इसके बाद वेंडर ने ट्रेन के साथ दौड़ लगाई और यात्री से रुपए लिए।
- महाराष्ट्र के क्षेत्रों से ट्रेन में वड़ा पाव लेकर अवैध वेंडर सवार होते हैं, खंडवा से खिलौने लेकर कई महिलाएं सवार होती हैं, हरदा से भेल व ककड़ी लेकर नाबालिग वेंडर ट्रेन में चढ़ते हैं। सभी स्टेशनों से शीतल पेय व पानी की बॉटल लेकर भी वेंडर ट्रेनों में अवैध कारोबार करते हैं।
- महाराष्ट्र से मुंबई की ओर जाने वाली ट्रेनों में अवैध वेंडरों ने रूट बांट लिए हैं। भुसावल से बुरहानपुर, बुरहानपुर से खंडवा, खंडवा से हरदा और हरदा से इटारसी के बीच यह वेंडर अपने-अपने रूट में ट्रेन में सवार होते और उतरते हैं।
चल रही कार्रवाई
प्लेटफॉर्म सहित स्टेशन परिसर में अवैध वेंडरों के खिलाफ कार्रवाई करते है। वाणिज्यिक विभाग और आरपीएफ द्वारा भी कार्रवाई की जा रही है। फुट ओवर ब्रिज और अन्य क्षेत्र में अवैध वेंडर सामान रख रहे है तो उसे जब्त करने के निर्देश दिए जाएंगे।
- आलोक चौरे, स्टेशन प्रबंधक

1 posts - Mon Apr 24, 2017 - are hidden. Click to open.

843 views
Jun 06 2017 (10:32)
Mayur Patil   22 blog posts
Re# 2248582-2            Tags   Past Edits
PLS KOI KHANDWA STATION K LATEST PIC UPLOAD KARDO
METERGUAGE SIDE WALE
Page#    Showing 1 to 20 of 97 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.