Full Site Search  
Wed Jan 24, 2018 07:32:02 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Platform Pic; Large Station Board;
Medium; Platform Pic; Large Station Board;


NKM/Namkom (3 PFs)
     नामकोम

Track: Double Electric-Line

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 24
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
TetryTolly Basti, Namkum, Ranchi SH 2 (Puruliya Road), Ranchi, 834010
State: Jharkhand
add/change address
Elevation: 617 m above sea level
Zone: SER/South Eastern
Division: Ranchi
 
 
No Recent News for NKM/Namkom
Nearby Stations in the News

Rating: 3.8/5 (8 votes)
cleanliness - good (1)
porters/escalators - good (1)
food - good (1)
transportation - good (1)
lodging - good (1)
railfanning - good (1)
sightseeing - good (1)
safety - good (1)

Nearby Stations

RNC/Ranchi Junction 4 km     AOR/Argora 6 km     TIS/Tatisilwai 7 km     HTE/Hatia 11 km     GAG/Gangaghat 15 km     MESRA/Mesra 16 km     PIS/Piska 17 km     BLRG/Balasiring 19 km     KWKC/Kherwa Kocha 24 km     ITKY/Itki 26 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 6 of 6 News Items  
Aug 25 2017 (13:00)  लंबित परियोजनाओं से आसपास के स्टेशनों का विस्तार रूका (m.livehindustan.com)
back to top
IR AffairsSER/South Eastern  -  

News Entry# 313193   Blog Entry# 2390556     
   Past Edits
Aug 25 2017 (13:00)
Station Tag: Tatisilwai/TIS added by माएरी याद वो याद वो आएरी री😊^~/1421836

Aug 25 2017 (13:00)
Station Tag: Namkom/NKM added by माएरी याद वो याद वो आएरी री😊^~/1421836

Aug 25 2017 (13:00)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by माएरी याद वो याद वो आएरी री😊^~/1421836
 
 
रांची से जुड़ी दो बड़ी परियोजनाओं के लंबित होने के कारण आसपास के स्टेशनों का विकास कार्य रुका हुआ है। रांची के टाटीसिलवे और बालसिरिंग स्टेशन की अहमियत इन दो परियोजनाओं पर टिकी है। इन परियोजनाओं के पूरे होने पर ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी और भविष्य में इन स्टेशनों से यात्री और मालगाड़ियों के ठहराव के लिए इन स्टेशनों की अहमियत काफी बढ़ जाएगी। रांची से टोरी परियोजना पूरी हो चुकी है, लेकिन विद्युतीकरण नहीं होने के कारण यह अभी अधूरी है। रांची कोडरमा वाया बरकाकाना, हजारीबाग परियोजना का तीसरा चरण अभी भी अधूरा है। कोडरमा से हजारीबाग और हजारीबाग से बरकाकाना नई रेल लाइन बन चुकी है, जबकि बरकाकाना से टाटीसिलवे का काम 2018 में पूरे होने की संभावना है। दोनों परियोजना 16 साल पुरानी है। इसके अलावा नामकुम कांड्रा और नामकुम लोधमा वाया बुंडू तमाड़ की एक अन्य लाइन के सर्वे और इसे बनाने के लिए हाल के बजट...
more...
में घोषणा हो चुकी है। उक्त परियोजनाओं की धरातल पर आने के बाद रांची से दिल्ली और जमशेदपुर से नामकुम-कांड्रा लाइन होने से ट्रेनों के रखरखाव के लिए बालसिरिंग स्टेशन को डेवलप किया जाएगा। यहां यार्ड भी बनाए जाएंगे। मौजूदा समय में यह हटिया स्टेशन में है। शहर के बीचोंबीच होने के कारण शहरवासियों की परेशानी बढ़ रही है। मालगाड़ी से लोडिंग और अनलोडिंग के कारण सैकड़ों ट्रकों की आवाजाही शहर की समस्या बनती जा रही है। यहां मौजूदा समय में मात्र तीन प्लेटफार्म है। जगह की कमी के कारण इसे बढ़ाया नहीं जा सकता। यहां कोचिंग डिपो, यार्ड, वाशिंग लाइन के कारण जगह नहीं है। इसलिए तत्कालीन डीआरएम गजानन मल्लया के समय बालसिरिंग स्टेशन को हटिया के विकल्प के तौर पर डेवलप करने की पहल की गई थी। इसी तरह टाटीसिलवे स्टेशन के पास भी काफी जगह है। यहां भी कोचिंग डिपो और यार्ड का बेहतर विकल्प हो सकता है। रेलवे अधिकारियों के अनुसार टाटीसिलवे से देश के दक्षिण में जानेवाली ट्रेनें और बालसिरिंग से उत्तर भारत की ओर जानेवाली ट्रेनों को चलाया जाएगा। लेकिन बड़ी परियोजनाओं के विलंब होने के कारण यह पहल अभी थम सी गई है। मंडल के अधिकारियों के अनुसार परियोजनाओं के पूरी होने के बाद ही इस दिशा में पहल होगी। परियोजनाओं के पूरा होने के बाद हटिया स्टेशनन, नामकुम स्टेशन को यात्री सुविधाओं के लिहाज से विकसित किया जाएगा।

1989 views
Aug 25 2017 (19:18)
ProposalAgreed4 BRIKSH MITRA YOJNA 2Green IR Land   579 blog posts   10142 correct pred (76% accurate)
Re# 2390556-1            Tags   Past Edits
LATEST AS ON 17 AUG 17 - Since long construction of Ranchi Tata direct line is under discussion at various level and a survey also conducted for the same. But the Survey Report was not in favour of that line. So, I requested Rail Ministry to join Silli & Illoo with only around 6 km new line, bypassing Muri, which will save time of about 1 hour including time of loco reversal @ Muri.
click here
Dec 31 2015 (23:12)  कांड्रा-नामकुम परियोजना में देर होना तय, नहीं चलेगी टाटा-भागलपुर ट्रेन (prabhatkhabar.com)
back to top
Commentary/Human InterestSER/South Eastern  -  

News Entry# 252509     
   Past Edits
Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Bhagalpur Junction/BGP added by 401739**/401739

Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Namkom/NKM added by 401739**/401739

Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by 401739**/401739

Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Namkom/NKM added by 401739**/401739

Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Kandra/KND added by 401739**/401739

Dec 31 2015 (11:12PM)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by 401739**/401739
Posted by: *^~  4410 news posts
 
 
टाटानगर से संबंधित कई योजनाएं व मांगें रेलवे ने ठुकरायी - बजट के पूर्व दपू रेलवे प्रशासन ने छोटानागपुर पैसेंजर एसोसिएशन को दिया जवाब
वरीय संवाददाता, जमशेदपुर : सौ करोड़ रुपये राजस्व देने वाले टाटानगर से जुड़े कई मांगे व योजनाएं शुरू करने में दपू रेल प्रशासन ने असमर्थता जतायी है. छोटानागपुर पैंसेजर एसोसिएशन के महासचिव डॉ अरुण तिवारी ने बताया कि बुधवार को गार्डेनरीच (कोलकाता) मुख्यालय में रेल जीएम के साथ हुई जेडआरयूसीसी मीटिंग रेलवे ने अपनी असमर्थता जतायी. कांड्रा-नामकूम रेेल परियोजना को धरातल पर उतराने के लिए रेल प्रशासन ने गोलमटोल जवाब दिया. इस रूट का इंजीनियरिंग सर्वे 3 सितंबर 2010 को हुआ था. 106 किलोमीटर लंबी रेल लाइन की लागत 864 करोड़ रुपये है. इसमें रेलवे को एक
...
more...
तिहाई अौर राज्य सरकार को दो तिहाई का बजट है. योजना की स्वीकृति के इंतजार में रेलवे मुख्यालय में पांच साल से फाइल अटकी हुई है. वहीं टाटा-भागलपुर ट्रेन चलाने की मांग पर रेल प्रशासन ने पल्ला झाड़ लिया. रेलवे के अनुसार गत वर्ष गरमी छुट्टी में उक्त रूट पर ट्रेन चलायी गयी, लेकिन नुकसान हुआ. जबकि एंबुलेंस रैक अनुपलब्ध बताकर टाटा-यशवंतपुर एक्सप्रेस में एंबुलेंस कोच लगाने की मांग को ठुकरा दिया. टाटा-छपरा अौर जनशताब्दी के पुराने कोच को बदलने पर रेलवे ने कहा कि कोच की उम्र 25 साल है, जबकि अभी 12-13 साल ही हुए हैं. जुगसलाई ओवरब्रिज : राज्य सरकार को जिम्मेवारी देने की बातजुगसलाई ओवर ब्रिज के मुद्दे पर राज्य सरकार को जिम्मेवारी देने की बात कही गयी. टाटा स्टेशन में प्री पेड टैक्सी के लिए जमीन देने के लिए रेल प्रशासन ने बात कही है, लेकिन प्रोजेक्ट कब चालू होगा. यह जवाबदेही तय नहीं की.टाटा-जयपुर रूट मिल सकती है नयी ट्रेनडॉ तिवारी ने बताया कि 2016 के रेल बजट में टाटा-जयपुर रूट में एक ट्रेन चलाने की घोषणा हो सकती है. इसके लिए रेल प्रशासन होमवर्क कर रहा है.
Mar 09 2015 (05:37)  नामकुम-टाटीसिल्वे रोड में बनेगा रेलवे ओवरब्रिज (epaper.jagran.com)
back to top
Commentary/Human InterestSER/South Eastern  -  

News Entry# 215810   Blog Entry# 1390483     
   Past Edits
Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Muri Junction/MURI added by অনুপম**/401739

Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Noamundi/NOMD added by অনুপম**/401739

Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by অনুপম**/401739

Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Hatia/HTE added by অনুপম**/401739

Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Chakulia/CKU added by অনুপম**/401739

Mar 11 2015 (9:08AM)
Station Tag: Chaibasa/CBSA added by অনুপম**/401739

Mar 09 2015 (5:58AM)
Station Tag: Namkom/NKM added by অনুপম**/401739
Posted by: *^~  4410 news posts
 
 
मुख्यमंत्री का निर्देश, समय पर पूरा करें निर्माण कार्य
रेलवे, केंद्र एवं राज्य सरकार की सहभागिता से होगा निर्माण
तेरह रेलवे ओवरब्रिज के निर्माण की सरकार ने दी स्वीकृति
राज्य सरकार व अन्य एजेंसियों के सहयोग से प्रस्तावित आरओबी
झींकपानी-सिंगपोखरिया
...
more...
: लागत 53.38 करोड़।
तालाबुरू-झींकपानी : लागत 42.14 करोड़।
केंदपोसी-तालाबुरू : लागत 24.82 करोड़।
तालाबुरू-झींकपानी : लागत 39.62 करोड़।
एनएच 33 पर रामगढ़ आरओबी : लागत 10 करोड़।
ये आरओबी बनेंगे रेलवे के सहयोग से
नामकुम-टाटीसिल्वे रोड : लागत 14.13 करोड़ (रेलवे), 16.48 करोड़ (राज्य सरकार)।
चाकुलिया के पास खड़गपुर-टाटानगर आरओबी : लागत 18.13 करोड़ (रेलवे) एवं 19.85 करोड़ (राज्य सरकार)।
बिरसा चौक के निकट हटिया रेलवे ओवरब्रिज का चौड़ीकरण : लागत 4.33 करोड़ ( रेलवे) एवं 4.42 करोड़ (राज्य सरकार)।
नामकुम-टाटीसिलवे आरओबी : लागत 15.17 करोड़ (रेलवे) एवं 17.83 करोड़ (राज्य सरकार)।
चाईबासा-सिंगपोखरिया : लागत 10.13 करोड़ (रेलवे) एवं 11.13 करोड़ (राज्य सरकार)।
नोवामुंडी-बड़ाजामदा : लागत 10.25 करोड़ (रेलवे) तथा 11.25 करोड़ (राज्य सरकार)।
सिल्ली-मूरी : लागत 13.42 करोड़ (रेलवे) एवं 15.97 करोड़ (राज्य सरकार)

8798 views
Mar 09 2015 (06:17)
04044Anand Vihar T Gaya Weekly Special Fare~   1471 blog posts   14215 correct pred (70% accurate)
Re# 1390483-1            Tags   Past Edits
Awesome Jharkhand
Oct 16 2014 (23:11)  टाटा-नामकुम के बीच रेल लाइन जल्द (www.jagran.com)
back to top
New Facilities/TechnologySER/South Eastern  -  

News Entry# 198251     
   Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Stations:  Tatanagar Junction/TATA   Namkom/NKM  
 
 
संवाद सूत्र, जमशेदपुर : टाटानगर और रांची की दूरी को रेल लाइन के माध्यम से कम करने को लेकर रेलवे तत्पर है। जल्द ही टाटा से नामकुम के बीच रेलवे लाइन बिछेगी। सारी तैयारी के बाद प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेज दिया गया है। रेलवे बोर्ड से हरी झंडी मिलते ही पटरी बिछाने का कार्य आरंभ कर दिया जायेगा। यह बातें मंगलवार को टाटानगर स्टेशन के दौरे पर पहुंचे दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक राधेश्याम ने कही। उन्होंने कहा कि सिन्नी से आदित्यपुर तक चल रहे थर्ड लाइन निर्माण का कार्य मार्च माह तक पूरा हो जायेगा। अप्रैल माह से थर्ड लाइन पर ट्रेनें दौड़ेंगी। वहीं सेकेंड इंट्री गेट बन कर तैयार है। एफओबी का कार्य जून तक पूरा कर लिया जायेगा और जुलाई 2015 से सेकेंड इंट्री गेट यात्रियों के लिए खोल दिया जायेगा। इसके लिए फुट ओवरब्रिज का निर्माण कार्य आरंभ कर दिया गया है। टाटानगर स्टेशन के एक...
more...
नंबर व चार-पांच नंबर प्लेटफार्म पर स्वचालित सीढ़ी भी लगायी जायेगी। जीएम ने कहा कि टाटानगर स्टेशन से सटे आरक्षण केन्द्र के दो मंजिला भवन का कार्य मार्च तक पूरा कर लिया जायेगा। अप्रैल माह में आरक्षण केन्द्र को दूसरे मंजिले पर शिफ्ट कर दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि कोचिंग पिटलाइन का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। कार्य पूरा होते ही 26 कोच तक की ट्रेनों की धुलाई हो सकेंगी। साथ ही ट्रेनों के रख-रखाव और मेंटेनेंस में भी सहूलियत होगी। जीएम ने कहा कि सरकार द्वारा खनन कंपनियों को बंद कर दिये जाने से रेलवे की ढुलाई में काफी फर्क पड़ा है। इससे रेलवे को राजस्व की भी क्षति हो रही है। उन्होंने कहा कि चक्रधरपुर मंडल में कुल 12 ओवरब्रिज बनाने का प्रस्ताव है। इसमें जुगसलाई ओवरब्रिज भी शामिल है। इसके लिए राज्य सरकार से वार्ता चल रही है। निर्माण के लिए राज्य सरकार को आधा खर्च वहन करना है। राज्य सरकार व रेलवे के बीच सहमति लगभग बन चुकी है। जल्द ही ओवरब्रिज का निर्माण कार्य आरंभ होगा। उन्होंने पिछले एक वर्ष से फंड के अभाव में बंद आरपीएफ बैरक का निर्माण कार्य को जल्द से जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि दक्षिण पूर्व रेलवे में ग्रुप डी की बहाली प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। करीब 1500 ग्रुप डी कर्मचारियों में से कुछ को बहाल भी कर दिया गया है। बचे कर्मचारियों को जल्द ही कार्य पर ले लिया जायेगा। जीएम ने कहा कि नक्सल क्षेत्रों से गुजरने वाले ट्रेनों की सुरक्षा पुख्ता की जायेगी। साथ ही यात्रियों की सुरक्षा के लिए स्टेशनों पर सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ायी जायेगी। वहीं रेल कर्मचारियों को अच्छे से अच्छे इलाज की सुविधा मिल सके, इसके लिए रेलवे अस्पतालों में डॉक्टरों की भी संख्या बढ़ायी जायेगी। फिलहाल कान्ट्रेक्ट मेडिकल प्रैक्टिसनर स्टाफ की बहाली की गयी है। टाटा से बेंगलुरु के बीच रेक की कमी की वजह से ट्रेन का परिचालन आरंभ नहीं किया जा सका है। मार्च तक इसे भी पूरा कर लिया जायेगा।
दिनभर होती रही स्टेशन की सफाई
जमशेदपुर: दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम के आगमन को लेकर सोमवार से ही स्टेशन को चकाचक करने का कार्य आरंभ हुआ जो मंगलवार देर रात तक चला। स्टेशन प्लेटफार्म के अलावा रेलवे ट्रैक की धुलाई से लेकर ब्लीचिंग पाउडर तक का छिड़काव किया गया। स्टेशन की साफ-सफाई देख यात्री हैरान थे। कुछ यात्रियों का कहना था कि काश जीएम साहब का दौरा रोजाना रहता।
---
जीएम ने अधिकारियों को खूब थकाया
जमशेदपुर: दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक राधेश्याम ने मंगलवार को टाटानगर के दौरे के दौरान अधिकारियों को खूब थकाया। पैदल ही वे टाटानगर के विभिन्न विभागों का दौरा करते रहे। चक्रधरपुर से विशेष ट्रेन से टाटानगर स्टेशन पहुंचे महाप्रबंधक ने स्टेशन पर उतरते ही सेकेंड एंट्री गेट के लिए बन रहे फुट ओवरब्रिज का जायजा लिया। यहां से व सीधे सिक लाइन पहुंचे। सिक लाइन के बारे में जानकारी लेने के बाद वे ट्रॉली से मकदमपुर की ओर बनने वाले प्रस्तावित वाशिंग लाइन का जायजा लेने पहुंचे। इस दौरान कई अधिकारी जीएम के ट्रॉली के पीछे-पीछे चलते रहे। यहां से जीएम ने इलेक्ट्रिक लोको शेड स्थित लोको ट्रेनिंग स्कूल में माइक्रोप्रोसेसर आधारित दोष निवारण प्रणाली का उद्घाटन किये। इस अवसर पर दक्षिण पूर्व रेलवे के सीओएम जीके महांती, चीफ इंजीनियर प्रिंसिपल एके अग्रवाल, मंडल के डीआरएम राजीव अग्रवाल, सीनियर डीसीएम एके हलदार, क्षेत्रीय प्रबंधक विनीत गुप्ता, एडीएन टाटा आरपी मीणा, सीनियर डीएफएम एमएम हसन, स्टेशन प्रबंधक अवतार सिंह समेत तमाम अधिकारी मौजूद थे।
Dec 06 2013 (10:23)  Rs.900 Cr Namkum-Kandra line pending at inter-ministerial group of Railways, Planning and Finance Ministries (www.railnews.co.in)
back to top
New Facilities/TechnologySER/South Eastern  -  

News Entry# 159391     
   Past Edits
Dec 06 2013 (11:05AM)
Station Tag: Kandra/KND added by moderator**/12

Dec 06 2013 (11:05AM)
Station Tag: Namkom/NKM added by moderator**/12
Stations:  Kandra Junction/KND   Namkom/NKM  
 
 
Namkom (NKM):  The fate of the long-pending Rs.900 crore Namkum-Kandra railway link lies in the hands of an inter-ministerial group comprising the Union railway and finance ministries and the Planning Commission.
This has come to the fore in an RTI reply filed by the Railway Board.
Responding to the RTI filed by Chotanagpur Passengers’ Association, the Railway Board revealed that its construction department officials had conducted a feasibility survey of the proposed railway link and submitted a report to the higher-ups about two years ago.
The
...
more...
proposal was then sent to the Planning Commission for in-principle approval.
“However, the commission returned the proposal in toto and recommended that it be discussed at the inter-ministerial group meetings,” read the RTI reply that came two weeks ago.
“The Railway Board has also revealed that the state government has agreed to share 50 per cent of the project cost,” said Arun Tiwari, general secretary of Chotanagpur Passengers’ Association that had filed the RTI application about a month-and-a-half ago.
The estimated cost of the project was pegged at Rs 900 crore when it was proposed five years ago.
The proposed line will shorten the rail distance between Ranchi with Jamshedpur by around 90km, running straight through Bundu and Tamar. At present, a 190km railway route connects the twin cities via Muri-Chandil.
It will also take about an hour-and-a-half to cover the 106km distance once the new tracks are laid. The present travel time is around three hours.
Many passenger outfits believe that the new link will not only bring Ranchi and Jamshedpur closer, but also improve communication among places like Bundu, Tamar and Jamshedpur.
“We believe that economic activities in Bundu and Tamar will boom. We have been pressing for this project for many years now,” said Ashok Nagpal, vice-president of Chotanagpur Passengers’ Association.
Page#    Showing 1 to 6 of 6 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.