Full Site Search  
Thu Jul 27, 2017 04:21:28 IST
PostPostPost Trn TipPost Trn TipPost Stn TipPost Stn TipAdvanced Search
×
Forum Super Search
Blog Entry#:
Words:

HashTag:
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Train Type:
Train:
Station:
ONLY with Pic/Vid:
Sort by: Date:     Word Count:     Popularity:     
Public:    Pvt: Monitor:    RailFan Club:    

<<prev entry    next entry>>
Blog Entry# 1924875  
Posted: Jul 10 2016 (13:58)

1 Responses
Last Response: Jul 10 2016 (13:58)
  
Rail News
0 Followers
413 views
Jul 10 2016 (03:53)   स्टेशनों का कचरा बेचेगा रेलवे, ऐसे करेगी कमाई
 

Jayashree   37033 news posts
Entry# 1924875   News Entry# 273297         Tags   Past Edits
Sunday, July 10, 2016
स्टेशनों का कचरा
नई दिल्ली। रेलवे किराये के अलावा अन्य स्रोतों से राजस्व हासिल करने की योजना पर काम कर रहा है। इसी क्रम में अब वह देश भर के स्टेशनों पर एकत्र होने वाला कचरा बेचने के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है। गुरुवार को वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।
अधिकारी ने बताया, "हम एक कचरा प्रबंधन
...
more...
कंपनी के प्रस्ताव का अध्ययन कर रहे हैं। कंपनी ने रेलवे स्टेशनों पर के कचरे को डेढ़ रुपये प्रति किलोग्राम की दर से खरीदने की पेशकश की है।" मालूम हो, रेलवे ने यात्री किराये और माल भाड़े के अतिरिक्त स्रोतों से राजस्व प्राप्त करने के तरीके खोजने के लिए गैर-किराया राजस्व निदेशालय भी बनाया है।
अधिकारी ने बताया, कचरा इकट्ठा करना और उसका निस्तारण कंपनी की जिम्मेदारी होगी। कचरे का इस्तेमाल बिजली और खाद बनाने में किया जाएगा। स्टेशनों पर कचरा पेटियों से इसे ले जाने के लिए काले प्लास्टिक बैग भी कंपनी की उपलब्ध करवाएगी।
उसने 12 स्टेशनों पर कचरा इकट्ठा करने की पेशकश की है। इनमें अमृतसर, अंबाला, हरिद्वार, जम्मू, कटरा, देहरादून, मुरादाबाद, सहारनपुर, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी), मुंबई सेंट्रल और दादर शामिल हैं।
अब डेमू ट्रेनों में भी लगेंगे एसी कोच
शहरी और उपनगरों में यात्रा को और आरामदायक बनाने के लिए रेलवे डेमू ट्रेनों में भी एसी कोच लगाएगा। अभी डेमू ट्रेनों में नान-एसी कोच ही होते हैं। गुरुवार को सरकारी बयान में यह जानकारी दी गई। आठ डिब्बों की डेमू ट्रेन में दो एसी कोच होंगे। एसी कोच का निर्माण चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में किया गया है।
इसमें 73 सीटें होंगी। कोचों की आंतरिक साज-सज्जा इंटरसिटी एसी एक्सप्रेस के डिब्बों की तरह होगी। सभी एसी कोच में पर्यावरण अनुकूल बॉयो टॉयलेट होंगे।

  
961 views
Jul 10 2016 (13:58)
For Better Managed Indian Railways~   1933 blog posts
Re# 1924875-1            Tags   Past Edits
Again Very good initiative by Indian railway. Full of advantages
(1) Ensure clean stations through systematic and efficient cleaning of stations
(2) No investment of IRlys but Private Sector Company shall does it, Bonus to I Rly revenue @ 1.5 Rs per Kg.
(3) Fertilizer and electricity shall be generated will be source of revenue for Pvt Co. Win-Win situation for both parties.
(4) Great
...
more...
Environmental protection as garbage shall be converted into much needed Electricity & manure/fertilizer.
(5) Better hygiene in railway premises
It is a known fact that IRlys cannot survive without substantial investment in its already creaking Infrastructure. Be it creation of new infrastructure or modernization like New Railway lines, Doubling, Gauge Conversion, Electrification, Signaling, Stations, Yards, Freight Terminals, Level Crossings etc, a lot needs to be done and there is no money for that. For substantial investment money has to flow from public and pvt. companies into the IRlys. Since last 2 decade IRlys has failed to attract such investment.
With several MOUs/ formation of several JV companies with several states/ Public sector and Private sector companies for funding the Rly projects already signed and under implementation this innovative step is again a welcome and very much desirable one. Name of hon. RM is gradually getting marked bigger and bigger in golden letters in the history of Indian Rlys with every such innovative step.
Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.