Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt

FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया - Purnesh Upadhyay

Search News
Post PNR
Front Entrance - Outside; Large Station Board;
Entry# 2365609-0
Platform Pic; Large Station Board;
Entry# 3186743-0


JHS/Jhansi Junction (8 PFs)
جھانسی جنکشن     झाँसी जंक्शन

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
Type of Station: Junction
Number of Platforms: 8
Number of Halting Trains: 385
Number of Originating Trains: 30
Number of Terminating Trains: 31
Chitra Nagra Road, Lal Bahadur Shastri Marg, Jhansi, PIN 284003 (Jn Point ;AGC/CNB/BPL/PRYJ)
State: Uttar Pradesh
add/change address
Zone: NCR/North Central
Division: Jhansi
14 Travel Tips
Nearby Stations in the News

Rating: 3.8/5 (835 votes)
cleanliness - good (108)
porters/escalators - good (105)
food - good (105)
transportation - good (104)
lodging - good (103)
railfanning - good (104)
sightseeing - good (103)
safety - good (103)

Show ALL Trains
Departures
Arrivals
Station Map
Forum
News
Gallery
Timeline
RF Club
Station Pics
Tips

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 1544 News Items  next>>
Yesterday (09:03) लाल की जगह अब सफेद रंग में दिखाई देगी ट्रेन व कोच की पोजीशन (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
4434 views

News Entry# 471568  Blog Entry# 5153393   
  Past Edits
Dec 04 2021 (09:03)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by Bundelkhand Expressway The Game Changer/2083092
Stations:  Jhansi Junction/JHS  
झांसी। रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर आधुनिक कोच व ट्रेन इंफॉरमेशन बोर्ड लगने जा रहे हैं। इन बोर्डों पर लाल की जगह सफेद रंग में ट्रेन व कोच के नंबर दिखाई देंगे। इस सिस्टम में कर्मचारी को कोच फीडिंग का काम नहीं करना होगा। जनवरी से यह सिस्टम चालू हो जाएगा।विज्ञापनरेलवे कर्मचारियों को अभी ट्रेन आने से पहले उसके कोचों की पोजीशन (इंजन से पीछे का क्रम) स्टेशन से लेनी पड़ती है। टिकट चेकिंग कर्मी दूसरे स्टेशन से पोजीशन लेने के बाद आरक्षण कर्मी को उसके बारे में बताते हैं। आरक्षण कर्मी पूछताछ कार्यालय में ट्रेन नंबर व कोचों की पोजीशन कंप्यूटर पर फीड करता है। ट्रेन आने से पहले कोच पोजीशन प्लेटफार्म पर प्रदर्शित होने लगती है। इस मैन्युअल व्यवस्था में कभी-कभार ऐसा भी हो जाता है कि ट्रेन आने के बाद कोचों की पोजीशन प्लेटफार्म पर प्रदर्शित हो पाती है। इस व्यवस्था को एनटीएस से जोड़ा जा रहा है।...
more...
एनटीएस में कोच पोजीशन ऑनलाइन हो जाती है। इसमें जैसी ही ट्रेन यार्ड में प्रवेश करेगी, वैसे ही प्लेटफार्म पर कोच पोजीशन प्रदर्शित होने लगेगी।दूसरा, अभी काले रंग के कोच व ट्रेन पोजीशन बोर्डों को बदला जा रहा है। नए प्रकार के आधुनिक बोर्ड लगाए जा रहे हैं। इन बोर्डों पर कोच व ट्रेन नंबर लाल रंग की जगह सफेद रंग में लिखे नजर आएंगे। इलेक्ट्रिक बोर्ड पर सफेद रंग दूर से ही बहुत स्पष्ट दिखाई देता है। जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अभी यह सिस्टम ग्वालियर, दतिया व मुरैना स्टेशन पर स्थापित हो चुका है। झांसी में जनवरी से काम करने लगेगा।
Dec 03 (13:23) झाँसी में सँवारे जाएंगे वन्दे भारत के कोच (m.jagran.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
7012 views

News Entry# 471490  Blog Entry# 5152630   
  Past Edits
Dec 03 2021 (13:23)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by अमन गुप्ता امان گپتا/999833
Stations:  Jhansi Junction/JHS  
झाँसी : रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि में लगभग पूरे हो चुके शेड। -जागरण
:::
- 15 अगस्त 2022 में राष्ट्र को समर्पित कर दी जाएगी रेल कोच फैक्ट्रि
- रेल कोच फैक्ट्रि में स्वदेशी मशीन के उपयोग से होगी कोच की साज-सज्जा
...
more...
- पहले फे़ज में हर वर्ष 250, तो दूसरे फे़ज में तैयार होंगे 500 कोच
झाँसी : भारतीय रेल के स्वर्णिम इतिहास के पन्नों में झाँसी रेल मण्डल की भूमिका हमेशा ही महत्वपूर्ण रही है। रेलवे के इतिहास में ऐसा ही एक और अध्याय झाँसी मण्डल जोड़ने जा रहा है। प्रधानमन्त्री मोदी द्वारा झाँसी को दी गई रेल कोच फैक्ट्रि की सौगात अपने निर्माण के अन्तिम पड़ाव पर है। आरवीएनएल (रेल विकास निगम लिमिटेड) द्वारा तैयार की जा रही यह रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि अगले साल अगस्त में राष्ट्र को समर्पित कर दी जाएगी। एक ओर कोच फैक्ट्रि के पूरा होने का इसका सीधा लाभ रेल यात्रियों को मिलेगा तो वहीं, झाँसी के लिए एक और उपलब्धि यह होगी कि इस कोच फैक्ट्रि में देश की सबसे हाइटेक 'वन्दे भारत' ट्रेन के कोच की साज-सज्जा भी की जाएगी।
15 फरवरी 2019 को झाँसी में जनसभा के दौरान प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने झाँसी के नगरा हाट के मैदान में नई रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि बनाने का एलान किया था। प्रधानमन्त्री की घोषणा के साथ ही फैक्ट्रि का निर्माण कार्य भी शुरू हो गया। 80 एकड़ भूमि और लगभग 435 करोड़ रुपये की लागत से बनाई जा रही फैक्ट्रि ते़जी से आकार ले रही थी कि कोरोना संक्रमण के दौर में इसके निर्माण पर संकट के बादल छा गए और रेलवे बोर्ड ने कार्यदायी संस्था आरवीएनएल को निर्माण कार्य 3 साल के लिए स्थगित करने का फरमान जारी कर दिया। एक समय लग रहा था कि अब कोच फैकिट्र का काम लम्बे समय के लिए टल गया है। लेकिन, आरवीएनएल ने अपने खर्च पर ही फैक्ट्रि निर्माण कार्य पूरा करने का मन बनाते हुए काम को धीरे-धीरे आगे बढ़ाना शुरू कर दिया। कम्पनि के इस निर्णय का परिणाम यह हुआ कि अब रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि अपने स्वरूप में आने के अन्तिम पड़ाव पर पहुँच गई है। आरवीएनएल का कहना है कि आ़जादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर अगले साल 2022 में कोच फैक्ट्रि का कार्य पूरा कर लिया जाएगा और 15 अगस्त के दिन यह फैक्ट्रि राष्ट्र को समर्पित कर दी जाएगी।
वन्दे भारत ट्रेन के कोच का भी होगा नवीनीकरण
नगरा हाट के मैदान में लगभग तैयार हो चुकी रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि में एलएचबी कोच के साथ ही भारत की हाइस्पीड ट्रेन में से एक वन्दे भारत के कोच की भी साज-सज्जा की जाएगी। यह बात इसलिए खास है कि वन्दे भारत देश की पहली ट्रेन है जो आधुनिकतम तकनीक और फीचर्स से लैस है। इसको लेकर रेलवे बोर्ड ने आरवीएनएल को निर्देश दिए हैं कि फैक्ट्रि को वन्दे भारत के कोच के नवीनीकरण के मुताबिक विकसित किया जाए।
स्वदेशी मशीन देंगी सेवा
भारतीय रेल ने कोच फैक्ट्रि में स्वदेशी तकनीक को ही तरजीह दी है। कोच फैक्ट्रि के 8 शेड में लगने वाली लगभग सभी मशीन स्वदेशी हैं। यह मशीन देश के कोने-कोने से झाँसी पहुँचने लगीं हैं।
कोच फैक्ट्रि में यह होगा कार्य
बड़े क्षेत्रफल में फैली रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि झाँसी रेल मण्डल के साथ ही महानगर वासियों के लिए विकास के कई द्वार खोलेगी। रेल कोच फैक्ट्रि में यात्री ट्रेन के कोच की साज-सज्जा के साथ ही कई महत्वपूर्ण कार्य किए जाएंगे। बता दें कि हर 6 साल बाद ट्रेन के कोच का नवीनीकरण किया जाता है। झाँसी की इस कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि में कोच का रंग-रोगन, बर्थ बदलना, टॉयलेट का नवीनीकरण, प्रीमियम ट्रेन के कोच में टेबल, लाइट, फ्लोर बदलना और इसके साथ ही अन्य बदलाव कर कोच को अन्दर से सुन्दर बनाने के कार्य किए जाएंगे।
8 शेड से होकर गुजरेंगे कोच
रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि में 10 बड़े शेड का निर्माण किया गया है। इनमें 2 शेड प्रशानिक कार्य और स्टोर के रूप में इस्तेमाल किए जाएंगे। इसके अलावा अन्य 8 शेड में कोच नवीनीकरण के अलग-अलग सेक्शन बनाए जाएंगे। आरवीएनएल के तकनीकी विशेषज्ञ ने बताया कि कोच को सेवा के लिए भेजने से पहले इन 8 शेड में की जाने वाली साज-सज्जा प्रक्रिया से होकर गुजरना होगा। जब सभी शेड से कोच को हरी झण्डी मिल जाएगी, तभी कोच को बाहर भेजा जाएगा।
250 से 500 कोच के नवीनीकरण की है योजना
रेल कोच नवीनीकरण फैक्ट्रि को इस प्रकार डि़जाइन किया गया है कि इसमें अधिक कोच का कार्य आसानी से किया जा सके। आरवीएनएल के अधिकारी ने बताया कि पहले फे़ज में यहाँ एलएचबी (लिंक हॉफमेन बुश) श्रेणी के 250 कोच का नवीनीकरण हर साल किया जाएगा। वहीं, आवश्यकता होने पर दूसरे फे़ज में 500 कोच आसानी से तैयार किए जा सकेंगे।
Dec 03 (08:00) रेल किराये में रियायत के लिए अभी और करना होगा इन्त़जार (www.jagran.com)
0 Followers
4407 views

News Entry# 471462  Blog Entry# 5152388   
  Past Edits
Dec 03 2021 (08:00)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 🚅🚊Bundelkhand Deserve for at least 1 South train/2111393
Stations:  Jhansi Junction/JHS  
Select Language
a
- महिला और वरिष्ठ नागरिक सहित अन्य कोटा के टिकिट पर अभी नहीं मिल रही है रियायत झाँसी : कोरोना काल
- महिला और वरिष्ठ नागरिक सहित अन्य कोटा के टिकिट पर अभी नहीं मिल रही है रियायत झाँसी : कोरोना काल में किया गया स्पेशल ट्रेन संचालन अब सामान्य हो चला है, लेकिन अभी भी इन सामान्य ट्रेन में
...
more...
मिलने वाली राहत यात्रियों को नहीं मिल रही है। रेलवे द्वारा वरिष्ठ नागरिक व महिला यात्री अलावा विभिन्न श्रेणी के यात्रियों को आरक्षित टिकिट पर रियायत दी जाती रही है, लेकिन वर्तमान में यह सभी सुविधाएं विभाग ने बन्द कर रखी हैं। वहीं, ट्रेन संचालन सामान्य होने के बाद भी प्रतिदिन अप-डाउन करने वाले यात्रियों को राहत नहीं मिल पा रही है। कोरोना काल की शुरूआत से लेकर अब तक रेलवे ने स्पेशल ट्रेन का संचालन ही किया है। जैसे ही संक्रमण की स्थिति में सुधार आया तो रेलवे बोर्ड ने स्पेशल ट्रेन संचालन में बदलाव कर उसे सामान्य नम्बर के साथ ही चलाने के आदेश दे दिए। बोर्ड के इस आदेश के बाद स्पेशल ट्रेन का किराया चुकाने वाले यात्रियों को काफी राहत महसूस हो रही है। वहीं, सामान्य ट्रेन संचालन के बाद अब तक विभिन्न श्रेणी में मिलने वाले रियायती कोटे का लाभ फिलहाल नहीं दिया जा रहा है। इसके अलावा अभी चल रही ट्रेन में दैनिक रूप से यात्रा करने वाले यात्रियों मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। सामान्य नम्बर से चल रहीं इन ट्रेन में अभी एमएसटी और अनारक्षित टिकिट पर यात्रा की अनुमति नहीं है। इसके चलते अप-डाउन करने वाले यात्रियों के पास अभी केवल अनारक्षित ट्रेन का ही सहारा है। वहीं, सर्दी के मौसम में यह अनारक्षित ट्रेन अपने निर्धारित समय से लेट हो जाती हैं, जिससे दैनिक यात्री अपने समय पर गन्तव्य तक नहीं पहुँच पा रहे। इन्हें मिलती है ट्रेन में रियायत रेलवे द्वारा सामान्य ट्रेन में यात्रा के लिए विभिन्न वर्गो को रेल टिकिट पर विभिन्न श्रेणी के कोच में रियायती किराये पर यात्रा करने की अनुमति दी जाती है। इनमें छात्र, गम्भीर बीमारी कैंसर आदि के रोगी, वरिष्ठ नागरिक, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता, युद्ध शहीद की विधवा, नियमानुसर विभिन्न प्रयोजन में शामिल होने जा रहे युवा, कृषि, औद्योगिक प्रदर्शनी में जाने वाले किसान, कलाकार, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर खेलने जाने वाले खिलाड़ी, ऐलोपैथि चिकित्सक, मान्यता प्राप्त पत्रकार के अलावा कुछ और श्रेणी के यात्रियों को रेल में नियमानुसार रियायत दी जाती है। अभी इन्हें मिल रही रियायत रेलवे द्वारा निर्धारित अधिकांश श्रेणी के टिकिट पर मिलने वाली रियायत फिलहाल निलम्बित है। वर्तमान में कैंसर पीड़ित यात्री को उपचार के लिए जाने और दिव्यांग यात्रियों को ही टिकिट किराये पर रियायत दी जा रही है। इन ट्रेन में ही यात्रा कर पा रहे दैनिक यात्री झाँसी मण्डल से वर्तमान में लगभग 7 जोड़ा अनारक्षित ट्रेन संचालन किया जा रहा है। इनमें सभी ट्रेन लगभग प्रत्येक स्टेशन पर रुकने वाली पैसिंजर ट्रेन है। इनमें झाँसी-आगरा एक्सप्रेस, आगरा-झाँसी एक्सप्रेस, झाँसी-कानपुर मेमू कानपुर-झाँसी मेमू, झाँसी-बाँदा-मानिकपुर मेमू, झाँसी-लखनऊ इण्टरसिटि शामिल हैं। प्रतिदिन अप-डाउन करने वाले एमएसटी और अनारक्षित टिकिट धारक इन्हीं ट्रेन में सफर कर सकते हैं। जनरल कोच के लिए भी लेना पड़ रहा आरक्षित टिकिट रेलवे ने भले ही ट्रेन संचालन और नम्बर सामान्य हो गया हो, लेकिन इन ट्रेन में पहले की तरह जनरल कोच में यात्रा के लिए मान्य होने वाली सुपरफास्ट अनारक्षित टिकिट नहीं चलेगा। यदि आप इन ट्रेन से अप-डाउन करने की सोच रहे हैं तो इन ट्रेन में न तो एमएसटी चलेगी और न ही अनारक्षित टिकिट काम आएगा। फोटो हाफ कॉलम ::: इन्होंने कहा 'अभी सामान्य ट्रेन संचालन में रेलवे बोर्ड की गाइडलाइन अनुसार कैंसर के मरी़ज, दिव्यांग यात्रियों को किराये में रियायत दी जा रही है। फिलहाल अन्य कोटा निलम्बित हैं।' मनोज कुमार सिंह मण्डल रेल जनसम्पर्क अधिकारी (झाँसी) फाइल : वसीम शेख समय : 06 : 40 2 दिसम्बर 2021 Edited By: Jagran
- महिला और वरिष्ठ नागरिक सहित अन्य कोटा के टिकिट पर अभी नहीं मिल रही है रियायत
झाँसी : कोरोना काल में किया गया स्पेशल ट्रेन संचालन अब सामान्य हो चला है, लेकिन अभी भी इन सामान्य ट्रेन में मिलने वाली राहत यात्रियों को नहीं मिल रही है। रेलवे द्वारा वरिष्ठ नागरिक व महिला यात्री अलावा विभिन्न श्रेणी के यात्रियों को आरक्षित टिकिट पर रियायत दी जाती रही है, लेकिन वर्तमान में यह सभी सुविधाएं विभाग ने बन्द कर रखी हैं। वहीं, ट्रेन संचालन सामान्य होने के बाद भी प्रतिदिन अप-डाउन करने वाले यात्रियों को राहत नहीं मिल पा रही है।
कोरोना काल की शुरूआत से लेकर अब तक रेलवे ने स्पेशल ट्रेन का संचालन ही किया है। जैसे ही संक्रमण की स्थिति में सुधार आया तो रेलवे बोर्ड ने स्पेशल ट्रेन संचालन में बदलाव कर उसे सामान्य नम्बर के साथ ही चलाने के आदेश दे दिए। बोर्ड के इस आदेश के बाद स्पेशल ट्रेन का किराया चुकाने वाले यात्रियों को काफी राहत महसूस हो रही है। वहीं, सामान्य ट्रेन संचालन के बाद अब तक विभिन्न श्रेणी में मिलने वाले रियायती कोटे का लाभ फिलहाल नहीं दिया जा रहा है। इसके अलावा अभी चल रही ट्रेन में दैनिक रूप से यात्रा करने वाले यात्रियों मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। सामान्य नम्बर से चल रहीं इन ट्रेन में अभी एमएसटी और अनारक्षित टिकिट पर यात्रा की अनुमति नहीं है। इसके चलते अप-डाउन करने वाले यात्रियों के पास अभी केवल अनारक्षित ट्रेन का ही सहारा है। वहीं, सर्दी के मौसम में यह अनारक्षित ट्रेन अपने निर्धारित समय से लेट हो जाती हैं, जिससे दैनिक यात्री अपने समय पर गन्तव्य तक नहीं पहुँच पा रहे।
इन्हें मिलती है ट्रेन में रियायत
रेलवे द्वारा सामान्य ट्रेन में यात्रा के लिए विभिन्न वर्गो को रेल टिकिट पर विभिन्न श्रेणी के कोच में रियायती किराये पर यात्रा करने की अनुमति दी जाती है। इनमें छात्र, गम्भीर बीमारी कैंसर आदि के रोगी, वरिष्ठ नागरिक, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता, युद्ध शहीद की विधवा, नियमानुसर विभिन्न प्रयोजन में शामिल होने जा रहे युवा, कृषि, औद्योगिक प्रदर्शनी में जाने वाले किसान, कलाकार, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर खेलने जाने वाले खिलाड़ी, ऐलोपैथि चिकित्सक, मान्यता प्राप्त पत्रकार के अलावा कुछ और श्रेणी के यात्रियों को रेल में नियमानुसार रियायत दी जाती है।
अभी इन्हें मिल रही रियायत
रेलवे द्वारा निर्धारित अधिकांश श्रेणी के टिकिट पर मिलने वाली रियायत फिलहाल निलम्बित है। वर्तमान में कैंसर पीड़ित यात्री को उपचार के लिए जाने और दिव्यांग यात्रियों को ही टिकिट किराये पर रियायत दी जा रही है।
इन ट्रेन में ही यात्रा कर पा रहे दैनिक यात्री
झाँसी मण्डल से वर्तमान में लगभग 7 जोड़ा अनारक्षित ट्रेन संचालन किया जा रहा है। इनमें सभी ट्रेन लगभग प्रत्येक स्टेशन पर रुकने वाली पैसिंजर ट्रेन है। इनमें झाँसी-आगरा एक्सप्रेस, आगरा-झाँसी एक्सप्रेस, झाँसी-कानपुर मेमू कानपुर-झाँसी मेमू, झाँसी-बाँदा-मानिकपुर मेमू, झाँसी-लखनऊ इण्टरसिटि शामिल हैं। प्रतिदिन अप-डाउन करने वाले एमएसटी और अनारक्षित टिकिट धारक इन्हीं ट्रेन में सफर कर सकते हैं।
जनरल कोच के लिए भी लेना पड़ रहा आरक्षित टिकिट
रेलवे ने भले ही ट्रेन संचालन और नम्बर सामान्य हो गया हो, लेकिन इन ट्रेन में पहले की तरह जनरल कोच में यात्रा के लिए मान्य होने वाली सुपरफास्ट अनारक्षित टिकिट नहीं चलेगा। यदि आप इन ट्रेन से अप-डाउन करने की सोच रहे हैं तो इन ट्रेन में न तो एमएसटी चलेगी और न ही अनारक्षित टिकिट काम आएगा।
फोटो हाफ कॉलम
:::
इन्होंने कहा
'अभी सामान्य ट्रेन संचालन में रेलवे बोर्ड की गाइडलाइन अनुसार कैंसर के मरी़ज, दिव्यांग यात्रियों को किराये में रियायत दी जा रही है। फिलहाल अन्य कोटा निलम्बित हैं।'
मनोज कुमार सिंह
मण्डल रेल जनसम्पर्क अधिकारी (झाँसी)

Total Vaccination:1,23,25,02,767
Active:99,081
Death:4,69,247
Dec 03 (07:52) रेलवे पेंशनरों के लिए ई पास की बाध्यता खत्म (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
3316 views

News Entry# 471458  Blog Entry# 5152384   
  Past Edits
Dec 03 2021 (07:52)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 🚅🚊Bundelkhand Deserve for at least 1 South train/2111393
Stations:  Jhansi Junction/JHS  
झांसी। रेलवे बोर्ड ने पेंशनरों को ऑनलाइन ई पास लेने की बाध्यता को खत्म कर दिया है। ई पास निकालने में हो रही असुविधा के कारण पेंशनर पिछले एक साल से परेशान हो रहे थे। इस सुविधा से मंडल के 20 हजार से अधिक पेंशनरों को फायदा होगा।विज्ञापनरेलवे अपने पांच साल की नौकरी पूरी करने वाले कर्मचारियों को ट्रेन में मुफ्त यात्रा करने के लिए सालाना तीन सुविधा पास व चार पीटीओ उपलब्ध कराता है। सुविधा पास में कोई किराया नहीं लगता, जबकि पीटीओ में किराए का एक तिहाई पैसा देना पड़ता है। पांच साल से कम नौकरी वाले कर्मचारियों को साल में एक सुविधा पास व चार पीटीओ मिलते हैं। इसी तरह सेवानिवृत्त ग्रुप सी कर्मचारी को साल में दो व ग्रुप डी कर्मचारी को एक पास मिलता है। पीटीओ भी आधे हो जाते हैं। कर्मचारी की मौत के बाद ग्रुप सी वाले कर्मी के आश्रित (पत्नी या पति) को...
more...
साल में एक व ग्रुप डी वाले कर्मी के आश्रित को एक साल छोड़कर एक साल पास मिलता है।पिछले साल एक नवंबर से रेलवे ने पास व पीटीओ को ऑनलाइन कर दिया था। इस सुविधा को ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम (एचआरएमएस) से जोड़ दिया गया है। मगर तभी से अधिकांश पेंशनरों को ऑनलाइन ई पास निकालने में असुविधा हो रही है। वह पास को ऑनलाइन अपलोड नहीं कर पा रहे हैं। पेंशनरों की इस समस्या को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने ई पास की बाध्यता को खत्म कर दिया है। पेंशनर पूर्व की तरह कार्यालय आकर पास ले सकते हैं। इस संबंध में जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि पेंशनरों को ऑनलाइन पास जारी करने की बाध्यता नहीं है। हां जब वह कार्यालय में पास लेने आ रहे हैं तो उनको ऑनलाइन के लिए जागरूक अवश्य किया जा रहा है।ऐसे प्राप्त करें ई-पास व पीटीओ- इंटरनेट पर एचआरएमएस एप खोलने बाद कर्मचारी को अपनी एचआरएमएस आईडी डालनी है।- टेस्ट एटदारेट ऑफ 123 से पासवर्ड को बदला जा सकता है।- आईडी डालने के बाद आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर ओटीपी नंबर आएगा।- ओटीपी डालते ही आगे की प्रक्रिया बढ़ती जाएगी।- आगे की प्रक्रिया में आप पास का हाफ या फुट सेट या पीटीओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।- पारिवारिक जानकारी भरने के बाद जिन स्टेशनों के बीच आप यात्रा करने वाले हैं, उनका कोड डालना होगा।- ब्रेक जर्नी की सुविधा भी प्राप्त कर सकते हैं।
Dec 03 (07:46) डेढ़ घंटे देर से रवाना हुई इंटरसिटी, परेशान रहे यात्री (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
2838 views

News Entry# 471455  Blog Entry# 5152381   
  Past Edits
Dec 03 2021 (07:46)
Station Tag: Jhansi Junction/JHS added by 🚅🚊Bundelkhand Deserve for at least 1 South train/2111393

Dec 03 2021 (07:46)
Train Tag: Jhansi - Lucknow Jn. Intercity Express/11109 added by 🚅🚊Bundelkhand Deserve for at least 1 South train/2111393
झांसी। झांसी से लखनऊ के बीच चलने वाली इंटरसिटी का संचालन आए दिन बिगड़ने लगा है। इस ट्रेन में प्रतिदिन तीन सौ से अधिक मुसाफिर झांसी से सफर करते हैं। बृहस्पतिवार की सुबह यह ट्रेन डेढ़ घंटे देरी से रवाना हुई। इस कारण यात्री परेशान रहे।विज्ञापनयात्रियों के लिए झांसी से लखनऊ की तरफ जाने वाली इंटरसिटी बेहद सुविधाजनक ट्रेन मानी जाती है। यह ट्रेन झांसी स्टेशन से सुबह 6.15 बजे चलकर लखनऊ दोपहर 12 बजे पहुंचती है। वापसी में यह ट्रेन लखनऊ से शाम चार बजे चलकर रात 10.35 बजे झांसी आती है। इस ट्रेन को रास्ते में मोंठ, एट, उरई, कालपी, पुखरायां, गोविंदपुरी, कानपुर सेंट्रल व उन्नाव स्टेशन पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में सिर्फ बैठने की व्यवस्था (चेयरकार) होने के कारण दूसरी एक्सप्रेस गाड़ियों की तुलना में किराया कम लगता है। इस ट्रेन का संचालन आए दिन बिगड़ा चल रहा है।बुधवार की रात यह ट्रेन लखनऊ से...
more...
ढाई घंटे की देरी से आई। ट्रेन के आने के बाद छह घंटे रख-रखाव कार्य में चले गए। इस कारण बृहस्पतिवार की सुबह यह ट्रेन डेढ़ घंटे देरी से रवाना की गई। सुबह-सुबह इस ट्रेन को पकड़ने के लिए यात्रियों में भागमभाग मची रहती है। ट्रेन से देरी से चलने के कारण तमाम यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
Page#    Showing 1 to 20 of 1544 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Desktop site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy