Full Site Search  
Wed Jul 26, 2017 10:24:31 IST
PostPostPost Stn TipPost Stn TipUpload Stn PicUpload Stn PicAdvanced Search
Large Station Board;

MBA/Mahoba Junction (3 PFs)
بنگلہ جنکشن     महोबा जंक्शन

Track: Construction - Single-Line Electrification

Type of Station: Junction
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 26
Number of Originating Trains: 1
Number of Terminating Trains: 1
Mahoba, Junction Point - Khajuraho
State: Uttar Pradesh
Elevation: 211 m above sea level
Zone: NCR/North Central
Division: Jhansi
2 Travel Tips
No Recent News for MBA/Mahoba Junction
Nearby Stations in the News

Rating: 3.3/5 (31 votes)
cleanliness - good (4)
porters/escalators - poor (3)
food - good (4)
transportation - good (4)
lodging - average (4)
railfanning - good (4)
sightseeing - good (4)
safety - good (4)

Nearby Stations

BPRA/Baripura 10 km     CHIT/Chithari Halt 11 km     CRC/Charkhari Road 11 km     KBR/Kabrai 22 km     KLAR/Kulpahar 22 km     RGLI/Raghouli 23 km     SPDM/Singhpur Dumra 30 km     BTX/Bela Tal 30 km     MTH/Mataundh 34 km    

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 22 News Items  next>>
Jun 23 2017 (08:57)  रेलवे स्टेशन में स्थापित होगी तीन टिकट बेंडिंग मशीनें (www.amarujala.com)
back to top
New Facilities/Technology

News Entry# 306213     
   Tags   Past Edits
Jun 23 2017 (08:57)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  847 news posts
रेलवे स्टेशन में टिकट लेने के लिए लंबी लाइन में लगने की झंझट से यात्रियों को जल्द निजात मिलेगी। इसके लिए रेलवे विभाग महोबा में तीन ऑटोमेटिक टिकट बेंडिंग मशीनें स्थापित कर रहा है। एक सप्ताह के अंदर मशीनें शुरू हो जाएगी। इससे एक क्लिक करने पर टिकट उपलब्ध होगा।
गौरतलब है कि रेलवे स्टेशन पर टिकट के लिए एकल खिड़की संचालित होने से यात्रियों को टिकट लेने में खासी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। लंबी लाइन में लगने के चक्कर में तमाम यात्रियाें की ट्रेनें छूट जाती थी। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए विभाग ने यात्री सुविधाओं में इजाफा करते हुए तीन ऑटोमेटिक टिकट बेंडिंग मशीनें महोबा रेलवे स्टेशन को उपलब्ध करा दी है। यह मशीनें जल्द
...
more...
ही स्थापित की जाएगी।
मशीनों की खासियत है कि मशीन में कहां से कहां जाना है इसको दर्ज करते ही टिकट का पैसा आ जाएगा। यह पैसा मशीन में रखते ही आपको टिकट मिल जाएगा। स्टेशन मास्टर वीपी पांडेय का कहना है कि तीन ऑटोमेटिक टिकट बेडिंग मशीनें आ गई है। जल्द ही इन्हें स्टेशन में स्थापित कराया जाएगा। मशीनें लगने से यात्रियों को सहूलियत होगी।
स्टेशन में लगेगी वाटर बेडिंग मशीन
रेलवे स्टेशन में अब यात्रियों को फिल्टर ठंडा पानी मिलेगा। इसके लिए रेलवे विभाग स्टेशन में वाटर बेंडिंग मशीन स्थापित करा रहा है। इस मशीन से तीन रुपये में एक लीटर व 10 रुपये में पांच लीटर ठंडा आरओ का पानी मिलेगा। मशीन स्थापित होने से यात्री स्टेशन में ट्रेन से उतरकर बेहद सस्ती दर में ठंडा पानी ले सकेंगे।
34 लाख की लागत से स्थापित होगी स्टील बैंचे
रेलवे स्टेशन में यात्री सुविधाओं के विस्तार को लेकर स्टेशन में 34 लाख की लागत से 150 स्टील बैंच स्थापित की जाएगी। ताकि रेलवे स्टेशन में यात्री ट्रेन के इंतजार में आराम से कर सके। रेलवे बोर्ड सलाहकार समिति के सदस्य हरिश्चंद्र पाटकार ने बताया कि हमीरपुर महोबा सांसद पुष्पेंद्र सिंह चंदेल द्वारा 34 लाख की लागत से 150 स्टील बैंच स्थापित कराई जाएगी। सांसद ने बजट रेलवे को उपलब्ध करा दिया है। एक माह में बैंच स्थापित हो जाएगी।
Apr 23 2017 (10:42)  महोबा में महाकौशल एक्सप्रेस का इंजन फेल, यात्री परेशान (www.jagran.com)
News Entry# 300482     
   Tags   Past Edits
Apr 23 2017 (10:42)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Apr 23 2017 (10:42)
Train Tag: Mahakaushal Express/12190 added by ये क्या हो रहा है इंडियन रेलवे में~/1469143

Posted by: The Phenomenal One~  847 news posts
मध्य प्रदेश के जबलपुर तक जाने वाली महाकौशल एक्सप्रेस का इंजन फेल हो गया। पान की नगरी महोबा में ट्रेन का इंजन फेल होने के कारण भयंकर गर्मी में यात्री परेशान हैं।
महोबा (जेएनएन)। दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से चलकर मध्य प्रदेश के जबलपुर तक जाने वाली महाकौशल एक्सप्रेस का इंजन फेल हो गया। पान की नगरी महोबा में ट्रेन का इंजन फेल होने के कारण भयंकर गर्मी में यात्री परेशान हैं।
महाकौशल एक्सप्रेस का इंजन आज दिन में करीब डेढ़ बजे हरपालपुर और बेलाताल स्टेशन के बीच फेल हो गया।
...
more...
जिसके कारण झांसी तथा महोबा के बीच रेल मार्ग प्रभावित है। रेलवे प्रशासन दूसरा इंजन मंगाने के प्रयास में लगा है।
Apr 02 2017 (13:22)  पहले झटके पर ही धीमी कर दी थी रफ्तार महाकौशल एक्स. हादसा (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 298379     
   Tags   Past Edits
Apr 02 2017 (13:22)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Apr 02 2017 (13:22)
Train Tag: Mahakaushal Express/12189 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  6153 news posts
Click here to enlarge image
जासं, महोबा : लोको पायलट की सूझबूझ से गुरुवार को बड़ा हादसा टल गया। पहले ही झटके को बाद पायलट ने ट्रेन की रफ्तार काफी धीमी कर दी थी। इससे बड़ा हादसा टल गया। महोबा से गुरुवार सुबह दो बजकर सात मिनट पर महाकौशल को रवाना किया गया था और 13 मिनट बाद दो बजकर 20 मिनट पर यह हादसे का शिकार हो गई।1महाकौशल एक्सप्रेस का सही समय महोबा स्टेशन पर पहुंचने का रात के 12 बजकर 58 मिनट है। गाड़ी लेट थी। स्टेशन पर दो मिनट ठहरने के बाद यहां से उसे रवाना किया गया। ट्रेन सूपा-लाडपुर गांव के बीच ही पुलिया के ऊपर से गुजरी तो वहां लोको पायलट जावेद को झटका महसूस हुआ। उसने
...
more...
इसकी सूचना अधिकारियों को देने के साथ ही गाड़ी की रफ्तार धीमी करनी शुरू कर दी। एक मिनट बाद ही उसे फिर से झटके लगे और वह समझ गया कि कोई अनहोनी हो गई। पुलिया से करीब एक किलोमीटर दूर जाकर उसने गाड़ी रोक दी। साथ ही हादसे की सूचना अधिकारियों को दी। जबलपुर से दिल्ली जाने वाली इस ट्रेन में अधिकांश चित्रकूट, मैहर से लौटे श्रद्धालु काफी थे। अधिकांश यात्री अपने परिवार के साथ ही थे। यात्रियों ने भी बताया कि बोगियां पलटने से पहले तीन झटके लगे थे। इंजीनियरों के अनुसार स्पीड धीमी होने से ही हादसा बड़ा नहीं हुआ। यदि गति तेज होती तो बोगियां झटके के साथ दूर जा सकती थीं या एक दूसरे पर चढ़ सकती थीं। मालूम हो कि महाकौशल ट्रेन की आठ बोगियों में चार कोच एसी थे, जो पलट गए थे। इसमें दो एसी थर्ड, एक एसी टू, व चौथा कोच आधा एसी फस्र्ट और आधा एसी सेकेंड का है। साथ ही तीन जनरल, एक कोच एसएलआर (इसमें गार्ड सवार होता है) शामिल थे। रेलवे इंजीनियरों की टीम गुरुवार देर रात तक व शुक्रवार को भी घटनास्थल पर जांच पड़ताल में जुटी है।1हादसे से पहले वहां दिखे थे दो संदिग्ध लोग: एक रेलवे कर्मचारी ने दावा किया कि रात के समय महाकौशल ट्रेन जब हादसे का शिकार हुई, ठीक उसके आधे घंटे पहले टार्च लिए दो संदिग्ध लोग पटरी के पास दिखे थे। अंधेरा होने से साफ समझ नहीं आ रहा था। उन्हें देखते ही टोका तो वह लोग खेतों की ओर भाग गए। वह भी कुछ समझ नहीं पाया और आवाज देने के बाद वहां से चला गया।क्षतिग्रस्त डिब्बों को मशीनों से हटाया गया
Mar 31 2017 (15:46)  अचानक तेज गड़गड़ाहट हुई और डिब्बे में फैल गया अंधेरा (epaper.jagran.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsKR/Konkan  -  

News Entry# 298222     
   Tags   Past Edits
Mar 31 2017 (15:46)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Mar 31 2017 (15:46)
Train Tag: Mahakaushal Express/12189 added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  6153 news posts
जांच के लिए पांच सदस्यीय कमेटी बनी
साठ किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही थी ट्रेन, पटरी से उतरे आठ कोच
Click here to enlarge image
जेएनएएन, लखनऊ : महाकौशल एक्सप्रेस का महोबा पहुंचने का निर्धारित समय रात 12.58 बजे है। गुरुवार को यह ट्रेन 02.7 बजे वहां पहुंची। यहां दो मिनट रुकने के बाद आगे निकली और साढ़े बारह किलोमीटर दूर ही
...
more...
पहुंची थी कि 2.20 बजे सूपा-लाड़पुर के पास आठ डिब्बे पटरी से उतर गए, जिसमें चार एसी के डिब्बे लुढ़क कर कुछ दूर तक चले गए और एसएलआर समेत चार जनरल डिब्बे पटरी से उतर गए। ट्रेन गार्ड जेके चौबे ने बताया कि गाड़ी करीब साठ किलोमीटर की गति से जा रही थी। अचानक गड़गड़ाहट की आवाज हुई और डिब्बे में अंधेरा छा गया। धक्का लगने से वह डिब्बे में गिर गए। चार एसी और चार जनरल कोच पटरी से उतर गए। रेलवे स्टेशन पर गार्ड ने हादसे की सूचना दी। करीब तीन बजे रेलवे इंजीनियरों की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई और राहत कार्य शुरू किया। इस बीच प्रशासनिक अमला भी पहुंच गया। सुबह साढ़े पांच बजे तक सभी घायलों को सदर अस्पताल ले जाया गया। मौके पर पहुंचे डीआरएम झांसी अशोक कुमार ने बताया कि घटना के कारणों की जांच कराई जा रही है।1दुर्घटना के कारणों की अविलंब दें जानकारी: मुख्यमंत्री1जेएनएन, लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पंडा और डीजीपी जावीद अहमद से महोबा में हुए ट्रेन हादसे के घटनाक्रम की जानकारी ली और अविलंब पूरी रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि दुर्घटना के कारणों की जानकारी प्राप्त कर अवगत कराएं। मंत्री के साथ प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अरुण कुमार सिन्हा भी घटना स्थल पर जाकर राहत कार्यो की समीक्षा की। दुर्घटना की व्यापक छानबीन रेल मंत्रलय को करानी है लेकिन, पिछली कई संदिग्ध दुर्घटनाओं को देखते हुए मुख्यमंत्री के निर्देश पर फोरेंसिक विशेषज्ञों के साथ एटीएस की टीम लगाई गयी है। मुख्यमंत्री ने प्रमुख सचिव गृह और पुलिस महानिदेशक से भी अपेक्षा की है कि घायलों के इलाज, राहत और बचाव कार्य में हर संभव मदद उपलब्ध कराएं।1एनआइए और एटीएस करेगी जांच1दोपहर साढ़े ग्यारह बजे हेलीकाप्टर से स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह महोबा पुलिस लाइन पहुंचे। वह पहले सदर अस्पताल गए और घायलों का हालचाल लिया। उन्होंने घायलों को 25-25 हजार रुपये की आर्थिक मदद की चेक दी। दो गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये का राहत चेक सौंपा। फिर घटनास्थल पर पहुंचे और अधिकारियों से बातचीत की। मंत्री ने बताया कि घटना की एनआइए और एटीएस जांच करेगी। डीआरएम अशोक कुमार ने कहा कि संभव है पटरी टेड़ी होने के कारण पटरी चटक गई हो और हादसा हो गया। राहत और बचाव कार्य के दौरान महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे इलाहाबाद अजय कुमार मिश्र, डीआइजी आरपीएफ आशीष मिश्र, मंडलायुक्त चित्रकूटधाम मंडल मुरली मनोहर, डीआइजी ज्ञानेश्वर तिवारी आदि मौजूद रहे। 1बोली एटीएस, फौरी जांच में आतंकी कनेक्शन नहीं1महोबा में महाकौशल एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने की जांच में आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) को जांच में मुस्तैद किया गया है। आतंकी कनेक्शन समेत सभी पहलुओं पर जांच चल रही है। यह जानकारी देते हुए सचिव (गृह) मणि प्रसाद मिश्र ने कहा कि एटीएस, रेलवे संरक्षा इकाई के अलावा केंद्र सरकार की एजेंसियां भी जांच में जुटी हैं। 1 आइजी एटीएस असीम अरुण का कहना है कि प्रारम्भिक जांच पूरी हो गई है, अभी तक आतंकी कनेक्शन नहीं मिला है। फोरेंसिक साक्ष्य जुटाए गए हैं, जिन्हें रसायनिक परीक्षण के लिए भेजा जा रहा है, जिसकी रिपोर्ट के बाद स्थितियां और साफ होंगी।
Mar 31 2017 (15:32)  ATS को नहीं मिले पटरी काटे जाने के सबूत PTI महोबा रेल हादसा : IG-ATS ने जांच की (epaper.navbharattimes.com)
back to top
Major Accidents/DisruptionsNCR/North Central  -  

News Entry# 298211     
   Tags   Past Edits
Mar 31 2017 (15:32)
Station Tag: Mahoba Junction/MBA added by ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~/206964

Posted by: ☆गोंडा इलेक्ट्रिक शेङ ■☆*^~  6153 news posts
•एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ
महाकौशल एक्सप्रेस हादसे की खबर मिलते ही एडीजी एलओ दलजीत सिंह चौधरी ने आतंकी साजिश की जांच के लिए आईजी एटीएस असीम अरुण को फरेंसिक टीम के साथ मौके पर भेज दिया था। दोपहर करीब डेढ़ बजे घटनास्थल पहुंचे आईजी ने फरेंसिक टीम के साथ कई सैंपल लिए। हालांकि उनका दावा है कि मौके से विस्फोटक व पटरी काटे जाने से जुड़े कोई सबूत नहीं मिले हैं।
RDSO की टीम ने भी लिए सैंपल
एटीएस
...
more...
के साथ गई फरेंसिक टीम ने पटरी पर पानी लगाकर स्वॉब लिए हैं। इसके अलावा पटरियों को काटे जाने की जांच के लिए भी नमूने लिए गए हैं। इनकी माइक्रोस्कोप से जांच होगी। वहीं रेलवे की आरडीएसओ टीम ने भी मौके से कई नमूने लिए हैं।
इसलिए आतंकी साजिश की आशंका
हाल ही में यूपी एटीएस द्वारा ध्वस्त किए गए आईएस खोरासान मॉड्यूल के कानपुर ग्रुप के पास से भी ऐसे साक्ष्य मिले थे, जो बड़े रेल हादसे करवाने की साजिश का हिस्सा थे। इसमें रेलवे ट्रैक से छेड़छाड़ करके ट्रेन हादसे करवाने की ड्रॉइंग आतिफ की एक नोटबुक से मिली थी। पुखरायां ट्रेन हादसे के पीछे भी आतंकी साजिश होने की जांच एनआईए टीम कर रही है। बीते तीन माह के दौरान यूपी के कई शहरों में रेलवे ट्रैक पर गड़बड़ियों के मामले सामने आ चुके हैं। मंगलवार को संतकबीरनगर में रेलवे ट्रैक के पास विस्फोट हुआ और तीन देसी बम भी मौके से मिले। इन सब के कारण ट्रेन हादसों के पीछे आतंकी साजिश होने की आशंका जताई जा रही है। आईजी एटीएस असीम अरुण ने ट्रेन हादसे में आतंकी साजिश होने की बात को पूरी तरह से नकारा नहीं है। उनका कहना है कि अगर फरेंसिक जांच में ऐेसे साक्ष्य मिलते हैं, जो आतंकी साजिश की ओर इशारा करेंगे तो जांच को आगे बढ़ाया जाएगा।
Page#    Showing 1 to 20 of 22 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom


Go to Desktop site
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.